Yogi Sir it can never be justified if your government is charging Rs.3000 at place of Rs.200 for D.L. renewal

Yogi Sir it can never be justified if the government headed by you Hon’ble Sir is charging fees Rs.3000 at place of Rs.200 for  the Driving License renewal by misinterpreting the notification issued by the central government which ipso facto proves that state government functionary is acting in caucus with central functionary and cheating innocent and gullible citizenry. 

 Why have I paid this bank draft to R.T.O. Mirzapur ? Still it is not refunded by the bank because its cancellation charge is Rs.236 and for Rs.200 no one can pay Rs.236 so it must be easily understood about the anarchy of the R.T.O. Mirzapur.

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
60000190042750
आवेदक कर्ता का
नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का
मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
Now R.T.O. Mirzapur is demanding Rs.3000 as driving license
renewal fee for two wheelers at the place Rs.200 as prescribed by the govt of
India. Thus they are seeking 15 times the actual fee to be charged by the
government for the renewal of Driving License fee. Whether the applicant is
an offender if not why is he being charged such a huge penalty by the R.T.O.
Mirzapur. Respected Sir be informed that the applicant is being treated like
a criminal in this government without any fault. The applicant was informed
that higher level team is coming in the R.T.O. Mirzapur so I was directed to
remain present in the office at 11 O clock on the next day i.e. on
16-Mach-2019 and I reached the R.T.O. Mirzapur next day at half past10 o
clock in the morning but there was no such signal of enquiry and at half-past
11 O clock, I was called by R.T.O. Mirzapur division and the applicant
submitted the documents of 50 pages and oral submissions one page written by
R.T.O. itself and the second page was written by A.R.T.O. It is unfortunate
that what is the outcome of the enquiry still it is unknown to the applicant.
नियत तिथि:
18 – May – 2019
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 25/04/2019को फीडबैक:- श्री मान जी
संलग्नक संलग्नक और
संलग्नक जो की जांच आख्या के
अखंड हिस्से है उनकी स्पष्ट प्रतिया प्रार्थी को
उपलब्ध कराई जाय क्यों यह जांच प्रार्थी के
अनुरोध पर
संस्थित की
गई है
| क्यों की उनके पक्ष को
हमारे समक्ष नही सुना गया है
लेकिन इस
पर हमे कोई आपत्ति नही है
क्यों की
मूल प्रकरण उनसे सम्बंधित है ही
नही | लेकिन उपरोक्त संलग्नक उनकी तरफ से
आये है
उन्हें जानने का हमे पूरा हक़
है | और यदि उनसे हमारी अस्मिता पर
आघात होता है तो
हमे खुद को सुरक्षित रखने का
पूर्ण अधिकार है | प्रार्थी के ड्राइविंग लाइसेंस की वैलिडिटी ०६फ़रवरी २०१८ को ख़त्म हो गया | ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यूअल शुल्क रुपया २०० ०८जनवरी २०१८ से ०६फ़रवरी २०१८ तक | ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यूअल शुल्क रुपया ५०० ०६फ़रवरी २०१८ से ०७मार्च२०१८ तक इसको अनुकम्पा अवधि कहा
जाता है
| इसमें २०० रुपये रिन्यूअल फीस और अनुकम्पा अवधि का
२०० रुपये रिन्यूअल फीस और १०० रुपये पेनाल्टी इस अनुकम्पा अवधि में अर्थात इस
अवधि में प्रार्थी अपराधी बन चूका था तभी तो पेनाल्टी लग रही है | वाह योगी जी आप
का अनुकम्पा भी ऐसी की ३०० रुपये अतिरिक्त दंड धन्यवाद | दिनांक ०८ मार्च २०१८ को १००० रुपये पेनाल्टी अतिरिक्त अर्थात ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यूअल शुल्क इस समय कुल १५०० रुपये अर्थात हमने जघन्य से जघन्यतम अपराध कारित कर दिया | इतनी बड़ी आराजकता की १००० रूपये एक
वर्ष का
विलम्ब दंड है अर्थात वर्ष के
अंतिम दिन या पार्ट के हिसाब से लेना चाहिए किन्तु वर्ष के
पहले ही
दिन ले
लेते है
किन्तु फिर श्री मान जी आप
इमानदार है
| अगर समय हो
तो किसी पढ़े लिखे स्टाफ से
लगे हुए संलग्नको को
पढवा देते तो बहुत अनुकम्पा होती | उस दिन क्या हुआ जिस दिन बयान नोट हो
रहा जांच अधिकारी महोदय थक गये एक ही
पेज में महिला .आर.टी.. को लगा दिए उसके बाद ४५ पेज का हस्ताक्षर युक्त लिखित प्रत्यावेदन प्रस्तुत किये थे
|
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक
विचाराधीन

आवेदन
का संलग्नक

अग्रसारित विवरण

क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
लोक शिकायत अनुभाग – 1(मुख्यमंत्री कार्यालय )
18 – Apr – 2019
जिलाधिकारीमिर्ज़ापुर,
कृपया
शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।
24/04/2019
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
18 – Apr – 2019
सहायक संभागीय परिवहन अधिकारीमिर्ज़ापुर,परिवहन विभाग
नियमनुसार
आवश्यक कार्यवाही करें
22/04/2019
शिकायत
में उल्लिखित बिन्‍दुओं पर आख्‍या संलग्‍न कर प्रेषित है।
निस्तारित

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Yogi
1 year ago

Yogi Sir it can never be justified if the government headed by you Hon'ble Sir is charging fees Rs.3000 at place of Rs.200 for the Driving License renewal by misinterpreting the notification issued by the central government which ipso facto proves that state government functionary is acting in caucus with central functionary and cheating innocent and gullible citizenry.

Arun Pratap Singh
1 year ago

हमने जघन्य से जघन्यतम अपराध कारित कर दिया | इतनी बड़ी आराजकता की १००० रूपये एक वर्ष का विलम्ब दंड है अर्थात वर्ष के अंतिम दिन या पार्ट के हिसाब से लेना चाहिए किन्तु वर्ष के पहले ही दिन ले लेते है किन्तु फिर श्री मान जी आप इमानदार है | अगर समय हो तो किसी पढ़े लिखे स्टाफ से लगे हुए संलग्नको को पढवा देते तो बहुत अनुकम्पा होती | उस दिन क्या हुआ जिस दिन बयान नोट हो रहा जांच अधिकारी महोदय थक गये एक ही पेज में महिला ए.आर.टी.ओ. को लगा दिए उसके बाद ४५ पेज का हस्ताक्षर युक्त लिखित प्रत्यावेदन प्रस्तुत किये थे |
फीडबैक की स्थिति: मंडलायुक्त द्वारा दिनाक 02/05/2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है

Beerbhadra Singh
1 year ago

What action was approved by the divisional commissioner on the feedback of the applicant must be told by him to the applicant as he has right to know about it. Now entire public functionaries of the Government of India now have been apprised with the fact that central government notification has been mis interpreted by the accountable public functionaries of the state government government of Uttar Pradesh and most surprising thing is that they are silent on this important issue.