Why Vindhyachal police is not lodging F.I.R.?

Grievance Status

Print || Logout
Status as on 26 May 2015

Registration Number : DORLD/E/2015/00515
Name Of Complainant : ओम प्रकाश दुबे
Date of Receipt : 26 May 2015
Received by : Department of Rural Development
Officer name : Shri Rajesh Bhushan
Officer Designation : Joint Secretary (PG & CVO)
Contact Address : Room No. 249, 2nd floor,
Krishi Bhawan
New Delhi110001
Contact Number : 23383553
Grievance Description : Why Vindhyachal police is not lodging F.I.R. . 26 May 2015 12:12 विन्ध्याचल के संतरी ने प्रार्थी को अपनी ब्यथा सुनाने का अवसर देने के बजाय डी. एम् . मिर्ज़ापुर के पास नियमानुसार कार्यवाही हेतु भेज दिया जब डिप्टी कमिश्नर मनरेगा कार्यवाही करने के बजाय प्रार्थी से है क्या आप अनुसूचित हो और मुस्करा रहे थे जांच से सम्बंधित विडियो इन्टरनेट पर अपलोड है कृपया आवेदन के साथ संलग्न समस्त दस्तावेजो का अवलोकन करे और नियमानुसार आदेश पारित करे Matter is concerned with the O.M. Prakash Dubey S/O Aditya Narayan Dubey Village -Post Office -Nibee Gaharwar , Police station-Vindhyachal, District-Mirzapur . Subject-Forgery of public documents and siphoning of public fund by including the name of applicant in the list of MGNREGA workers. Here applicant raises the following queries before competent authorities as follows. 1-My foremost question is why Vindhyachal police didn’t lodge F.I.R. Against wrongdoers when your applicant made efforts on 20/04/2015 . 2-साहब हमें भय हैं की कही सी बी आई जाँच में प्रार्थी से वसूली न हो जब की प्रार्थी किसी प्रकार इस जालसाजी और घपले में नहीं शामिल हैं ३-प्रार्थी को जनरल ब्राह्मण से अनुसूचित बना दिया गया हैं जिसका लोग मजाक उड़ाते हैं प्रार्थी को बताया जाय की हमारे नाम का कोई अनुसूचित हैं ग्राम प्रधान तो अपने सगे भाई को विष्णु धर पुत्र शिवनाथ को औनुसूचित बना दिया वो कुछ भी कर सकते हैं This is humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that It can never be justified to overlook  the rights of citizenry by delivering services in arbitrary manner by floating all set up norms. This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap benefit of loopholes in system and depriving poor citizens from right to justice. Therefore it is need of hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system. For this your applicant shall ever pray you Hon’ble Sir.                            ‘Yours  sincerely                            ओम प्रकाश दुबे पुत्र -आदित्य नारायण दुबे ग्राम पंचायत व् पोस्ट – नीबी गहरवार पुलिस स्टेशन -विन्ध्याचल डिस्ट्रिक्ट -मिर्ज़ापुर
Current Status : RECEIVED THE GRIEVANCE

Grievance Status

Print || Logout
Status as on 26 May 2015

Registration Number : GOVUP/E/2015/01499
Name Of Complainant : ओम प्रकाश दूबे
Date of Receipt : 26 May 2015
Received by : Government of Uttar Pradesh
Officer name : Shri Jawahar Lal
Officer Designation : Deputy Secretary
Contact Address : Chief Minister Secretariat
U.P. Secretariat,
Lucknow226001
Contact Number : 05222215137
Grievance Description : Why Vindhyachal police is not lodging F.I.R. . 26 May 2015 12:12 विन्ध्याचल के संतरी ने प्रार्थी को अपनी ब्यथा सुनाने का अवसर देने के बजाय डी. एम् . मिर्ज़ापुर के पास नियमानुसार कार्यवाही हेतु भेज दिया जब डिप्टी कमिश्नर मनरेगा कार्यवाही करने के बजाय प्रार्थी से है क्या आप अनुसूचित हो और मुस्करा रहे थे जांच से सम्बंधित विडियो इन्टरनेट पर अपलोड है कृपया आवेदन के साथ संलग्न समस्त दस्तावेजो का अवलोकन करे और नियमानुसार आदेश पारित करे Matter is concerned with the O.M. Prakash Dubey S/O Aditya Narayan Dubey Village -Post Office -Nibee Gaharwar , Police station-Vindhyachal, District-Mirzapur . ग्रामीड़ो में जिला प्रशासन के प्रति ब्यापक असंतोष हैं कृपया नियमानुसार कर्यवाही करे Subject-Forgery of public documents and siphoning of public fund by including the name of applicant in the list of MGNREGA workers. Here applicant raises the following queries before competent authorities as follows. 1-My foremost question is why Vindhyachal police didn’t lodge F.I.R. Against wrongdoers when your applicant made efforts on 20/04/2015 . 2-साहब हमें भय हैं की कही सी बी आई जाँच में प्रार्थी से वसूली न हो जब की प्रार्थी किसी प्रकार इस जालसाजी और घपले में नहीं शामिल हैं ३-प्रार्थी को जनरल ब्राह्मण से अनुसूचित बना दिया गया हैं जिसका लोग मजाक उड़ाते हैं प्रार्थी को बताया जाय की हमारे नाम का कोई अनुसूचित हैं ग्राम प्रधान तो अपने सगे भाई को विष्णु धर पुत्र शिवनाथ को औनुसूचित बना दिया वो कुछ भी कर सकते हैं This is humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that It can never be justified to overlook  the rights of citizenry by delivering services in arbitrary manner by floating all set up norms. This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap benefit of loopholes in system and depriving poor citizens from right to justice. Therefore it is need of hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system. For this your applicant shall ever pray you Hon’ble Sir.                            ‘Yours  sincerely                            ओम प्रकाश दुबे पुत्र -आदित्य नारायण दुबे ग्राम पंचायत व् पोस्ट – नीबी गहरवार पुलिस स्टेशन -विन्ध्याचल डिस्ट्रिक्ट -मिर्ज़ापुर
Current Status : RECEIVED THE GRIEVANCE

2 comments on Why Vindhyachal police is not lodging F.I.R.?

  1. 2-साहब हमें भय हैं की कही सी बी आई जाँच में प्रार्थी से वसूली न हो जब की प्रार्थी किसी प्रकार इस जालसाजी और घपले में नहीं शामिल हैं ३-प्रार्थी को जनरल ब्राह्मण से अनुसूचित बना दिया गया हैं जिसका लोग मजाक उड़ाते हैं प्रार्थी को बताया जाय की हमारे नाम का कोई अनुसूचित हैं ग्राम प्रधान तो अपने सगे भाई को विष्णु धर पुत्र शिवनाथ को औनुसूचित बना दिया वो कुछ भी कर सकते हैं

  2. Corrupts don't come from out side but already remains in the system. Here looters are wrongdoers of the system. Crores of public fund have been siphoned and no wrongdoers subjected to penal proceedings whether it is not proving that wrongdoers them selves are not operating the system and total control of the system in their hand.

Leave a Reply

%d bloggers like this: