Why police is not lodging F.I.R. AND giving free hand to land grabbers ipso facto obvious?atrocity on women

जनसुनवाई
समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश
Complaint No:-40019917000370
   
     
APPLICANT DETAILS :
Name : OM PRAKASH DUBEY Father Name : ADITYA NARAYAN DUBEY   Gender : MALE
Mobile-1 : 7874945283 Mobile-2 : 7874945283 Email : yogimpsingh@gmail.com
Area : Rural State : उत्तर प्रदेश District : मिर्ज़ापुर
Tehsil : सदर Block : छानवे Gram Panchayat : नीबी गहरवार
Thana : विन्ध्याचल Address : Gram Panchayat-NIBI GAHARWAR, Block-CHHANVEY, Tahsil-Sadar, District-Mirzapur
GRIEVANCE AREA DETAILS :
Area : Rural State : उत्तर प्रदेश District : मिर्ज़ापुर
Tehsil : सदर Block : छानवे Gram Panchayat : नीबी गहरवार
Village : नीबी गहरवार Thana : विन्ध्याचल
APPLICATION DETAILS :
Application Detail : श्री मान जी प्रकरण में विन्ध्याचल पुलीस द्वारा मात्र लीपा पोती की जा रही है और अभी तक प्रथम सूचना रिपोर्ट तक दर्ज नही की गई श्री मान जी मड़हा मेरा था मेरे भाई के कहने से उन् लोगो ने कैसे हटा दिया | श्री मान जी मेरी औरत ग्राम में अकेली रहती है और मई गुजरात में रहता हु विन्ध्याचल पुलिस की लचर ब्यवस्था मन में भय पैदा कर रहा है यदि सह नही है तो बीबादित स्थल पर बिना तहसील प्रशाशन की अनुमति के ढोका क्यों रखा जा रहा है | 21 February 2017 2137 श्री मान जी थाना विन्ध्याचल थाना प्रभारी की आख्या और उनके उपनिरीक्षक की आख्या में क्या अंतर है थाना प्रभारी द्वारा उपनिरीक्षक के आख्या की कापी कराइ गई कॉपी के समय सफ़ेद कागज लगा कर हस्ताक्षर व अन्य स्थानों को साफ कर दिया गया यही वजह है की आख्या पर्याप्त गन्दा होने के कारण की जगहों पर अपठनीय है जब की उनकी आख्या उन्ही की जाँच रिपोर्ट पर आधारित होनी चाहिए | उपनिरीक्षक की आख्या का शिकायत संख्या कूट रचना करके बदल कर नई शिकायत संख्या डाली गई जिससे यह सिद्ध होता है की शिकायत संख्या – 40019917000237 की ही आख्या 237 जो टंकित था को कूट रचना कर उसके स्थान पर हाथ से 279 बना दिया गया जो की अनुशाशन हीनता की श्रेणी में आता है और और वरिष्ठ अधिकारिओं के आदेशो का उल्लंघन भी है | श्री मान जी शांति ब्यवस्था बनाये रखने के लिए १०७ ११६ किया गया लेकिन विपक्षी दो दिन से धोका गिरा रहा है बिबदित जमीन पर | श्री मान जी मै गुजरात रहता हूँ और मेरी औरत बच्चो के साथ गाँव में रहती है और प्राइवेट विद्यालय में पढ़ाती है दो दिन से धोका रख रहे है कोई रोकने वाला नही है यदि प्रशाशन का भय होता तो क्यों रखते धोका | कहते है मैने उनकी जमीन पर कब्ज़ा किआ यदि मै इतना दबंग होता तो क्या बिना नाप जोख के बिबादित स्थल पर ढोका रखते |
Relief Type : Complaint Address To Officer : पुलिस अधीक्षक / वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक Department Name : पुलिस
Category Name : संपत्ति /भूमि/रास्ता/नाली आदि सम्बन्धी विवाद Application Old Reference No : 40019917000279
Attachment : Yes

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
40019917000370
आवेदक कर्ता का नाम:
OM PRAKASH DUBEY
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7874945283,7874945283
विषय:
श्री मान जी प्रकरण में विन्ध्याचल पुलीस द्वारा मात्र लीपा पोती की जा रही है और अभी तक प्रथम सूचना रिपोर्ट तक दर्ज नही की गई श्री मान
जी मड़हा मेरा था मेरे भाई के कहने से उन्
लोगो ने कैसे हटा दिया | श्री मान जी मेरी औरत ग्राम में अकेली रहती है और मई गुजरात में रहता हु विन्ध्याचल पुलिस की लचर ब्यवस्था मन में भय पैदा कर रहा
है यदि
सह नही
है तो बीबादित स्थल पर बिना तहसील प्रशाशन की अनुमति के ढोका क्यों रखा
जा रहा
है | 21 February 2017 2137 श्री मान जी थाना विन्ध्याचल थाना प्रभारी की
आख्या और उनके उपनिरीक्षक की आख्या में क्या अंतर है थाना प्रभारी द्वारा
उपनिरीक्षक के आख्या की कापी कराइ गई कॉपी के समय सफ़ेद कागज लगा कर हस्ताक्षर व
अन्य स्थानों को साफ कर दिया गया यही वजह है की आख्या पर्याप्त गन्दा होने के
कारण की जगहों पर अपठनीय है जब की उनकी आख्या उन्ही की जाँच रिपोर्ट पर आधारित
होनी चाहिए
| उपनिरीक्षक की आख्या का शिकायत संख्या कूट
रचना करके बदल कर नई शिकायत संख्या डाली गई जिससे यह सिद्ध होता है की शिकायत संख्या – 40019917000237
की ही आख्या 237 जो टंकित था को कूट रचना कर उसके स्थान पर हाथ से 279 बना दिया गया जो की अनुशाशन हीनता की श्रेणी में आता है और और वरिष्ठ
अधिकारिओं के आदेशो का उल्लंघन भी है
| श्री मान
जी शांति ब्यवस्था बनाये रखने के लिए १०७ ११६
किया गया
लेकिन विपक्षी दो दिन
से धोका गिरा रहा
है बिबदित जमीन पर | श्री मान जी मै गुजरात रहता हूँ और मेरी औरत बच्चो के साथ
गाँव में
रहती है और प्राइवेट विद्यालय में पढ़ाती है दो दिन से धोका रख रहे
है कोई
रोकने वाला नही है यदि प्रशाशन का भय होता तो क्यों रखते धोका | कहते है मैने उनकी जमीन पर कब्ज़ा किआ यदि
मै इतना दबंग होता तो क्या बिना नाप
जोख के बिबादित स्थल पर ढोका रखते |
नियत तिथि:
08 – Mar – 2017
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
आवेदन
का
संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
नियत दिनांक
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
21 – Feb – 2017
वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षकमिर्ज़ापुर,पुलिस
लंबित

2 comments on Why police is not lodging F.I.R. AND giving free hand to land grabbers ipso facto obvious?atrocity on women

  1. श्री मान जी प्रकरण में विन्ध्याचल पुलीस द्वारा मात्र लीपा पोती की जा रही है और अभी तक प्रथम सूचना रिपोर्ट तक दर्ज नही की गई श्री मान जी मड़हा मेरा था मेरे भाई के कहने से उन् लोगो ने कैसे हटा दिया | श्री मान जी मेरी औरत ग्राम में अकेली रहती है और मई गुजरात में रहता हु विन्ध्याचल पुलिस की लचर ब्यवस्था मन में भय पैदा कर रहा है यदि सह नही है तो बीबादित स्थल पर बिना तहसील प्रशाशन की अनुमति के ढोका क्यों रखा जा रहा है |

  2. आवेदन का विवरण
    शिकायत संख्या 40019917000370
    आवेदक कर्ता का नाम: OM PRAKASH DUBEY
    आवेदक कर्ता का मोबाइल न०: 7874945283,7874945283
    विषय: श्री मान जी प्रकरण में विन्ध्याचल पुलीस द्वारा मात्र लीपा पोती की जा रही है और अभी तक प्रथम सूचना रिपोर्ट तक दर्ज नही की गई श्री मान जी मड़हा मेरा था मेरे भाई के कहने से उन् लोगो ने कैसे हटा दिया | श्री मान जी मेरी औरत ग्राम में अकेली रहती है और मई गुजरात में रहता हु विन्ध्याचल पुलिस की लचर ब्यवस्था मन में भय पैदा कर रहा है यदि सह नही है तो बीबादित स्थल पर बिना तहसील प्रशाशन की अनुमति के ढोका क्यों रखा जा रहा है | 21 February 2017 2137 श्री मान जी थाना विन्ध्याचल थाना प्रभारी की आख्या और उनके उपनिरीक्षक की आख्या में क्या अंतर है थाना प्रभारी द्वारा उपनिरीक्षक के आख्या की कापी कराइ गई कॉपी के समय सफ़ेद कागज लगा कर हस्ताक्षर व अन्य स्थानों को साफ कर दिया गया यही वजह है की आख्या पर्याप्त गन्दा होने के कारण की जगहों पर अपठनीय है जब की उनकी आख्या उन्ही की जाँच रिपोर्ट पर आधारित होनी चाहिए | उपनिरीक्षक की आख्या का शिकायत संख्या कूट रचना करके बदल कर नई शिकायत संख्या डाली गई जिससे यह सिद्ध होता है की शिकायत संख्या – 40019917000237 की ही आख्या 237 जो टंकित था को कूट रचना कर उसके स्थान पर हाथ से 279 बना दिया गया जो की अनुशाशन हीनता की श्रेणी में आता है और और वरिष्ठ अधिकारिओं के आदेशो का उल्लंघन भी है | श्री मान जी शांति ब्यवस्था बनाये रखने के लिए १०७ ११६ किया गया लेकिन विपक्षी दो दिन से धोका गिरा रहा है बिबदित जमीन पर | श्री मान जी मै गुजरात रहता हूँ और मेरी औरत बच्चो के साथ गाँव में रहती है और प्राइवेट विद्यालय में पढ़ाती है दो दिन से धोका रख रहे है कोई रोकने वाला नही है यदि प्रशाशन का भय होता तो क्यों रखते धोका | कहते है मैने उनकी जमीन पर कब्ज़ा किआ यदि मै इतना दबंग होता तो क्या बिना नाप जोख के बिबादित स्थल पर ढोका रखते |
    नियत तिथि: 08 – Mar – 2017
    शिकायत की स्थिति: लम्बित
    रिमाइंडर :
    फीडबैक :
    आवेदन का संलग्नक
    अग्रसारित विवरण-
    क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या नियत दिनांक स्थिति आख्या रिपोर्ट
    1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 21 – Feb – 2017 वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षक-मिर्ज़ापुर,पुलिस — अधीनस्थ को प्रेषित
    2 आख्या वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षक (पुलिस ) 22 – Feb – 2017 थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक-विन्ध्याचल,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें लंबित

Leave a Reply

%d bloggers like this: