Why D.M. Mirzapur is violating the provisions of Right to Information Act 2005?


D.M. Mirzapur didn’t provide the sought information within time as prescribed under subsection 1 of section 7 of R.T.I. Act 2005.

yogimpsingh@gmail.com

Attachments6:35 PM (10 minutes ago)

to pmosbsupremecourtcmupcsupurgent-actionhgovupsic

An appeal under subsection 1 of section 19 of Right to Information Act 2005.
सेवा में

                                 जिलाधिकारी

                           जनपद-मिर्ज़ापुर   (उत्तर प्रदेश )

विषय –प्रार्थी को सभी सूचनाए विंदुवार जनसूचना अधिकार की धारा ७ उपधारा १ में निर्धारित समय सीमा के भीतर उपलब्ध कराइ जाय |

महोदय-जनसूचना  अधिकारी COLLECTORATE को निर्देशित किया जाय वे सभी सम्बंधित विभागों से सूचना collect करके प्रार्थी को विंदुवार सूचनाए इस प्रकार उपलब्ध कराइ जाय १-DPRO मिर्ज़ापुर द्वारा दिनांक २१/०१/२०१५ और ०६/०२/२०१५ को BDO छानबे मिर्ज़ापुर को पत्र भेजा गया जो की ANNEXURE १ व ANNEXURE २ के रूप में इस जनसूचना आवेदन के साथ संलग्न हैं |

१-क –उपरोक्त के पश्चात संदर्भ में की कार्यवाही की minutes ऑफ proceedings उपलब्ध कराये |तथा जो आदेश पास हुए हो उनकी प्रतिया उपलब्ध कराये |

२-श्री कृष्ण त्रिपाठी ,ओम प्रकाश दुबे  व सुरेश सिंह सभी निवासी ग्राम पंचायत –नीबी गहरवार पोस्ट-नीबी गहरवार विकाश खंड –छानबे जिला –मिर्ज़ापुर पुलिस स्टेशन –विन्ध्याचल दिनांक -०२/०७/२०१५ को बिन्दुवार प्रार्थना पत्र दिया जिस पर डिप्टी कमिश्नर  MGNREGA मिर्ज़ापुर ने जांच कि तिथि ०९/०७/२०१५ रखी और वे PD मिर्ज़ापुर और BDO छानबे ने मौके पर जाँच की | श्री मान जी ANNEXURE ३ ,४ और ५ का अवलोकन करे|

२ क – श्री मान जी जाँच अधिकारी द्वारा प्रस्तुत जाँच आख्या की प्रतिलिपि जो की श्री मान जी को प्रस्तुत की गई है  प्रार्थी को यथा शीध्र उपलब्ध कराइ जाय |

३-श्री मान जी प्रार्थी द्वारा दिनांक १५/०६/२०१५ को आप व SP मिर्ज़ापुर को पत्र लिख कर एक जनपद स्तर के अधिकारी द्वारा रूपया १००००० रिश्वत का जिक्र किया गया | श्री मान जी ANNEXURE ६ व ७ का अवलोकन करे |

३ क – आप व SP मिर्ज़ापुर द्वारा की गई कार्यवाही की minutes ऑफ proceedings उपलब्ध कराये | तथा जो आदेश पास हुए हो उनकी प्रतिया उपलब्ध कराये |

श्री मान जी से सविनय अनुरोध है की उपरोक्त विंदुवार सूचना जनसूचनाधिकारी मिर्ज़ापुर / CRO मिर्ज़ापुर द्वारा यथाशीघ्र या जनसूचना अधिकार की धारा ७ उपधारा १ में निर्धारित समय सीमा के भीतर उपलब्ध कराइ जाय | जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी आभारी रहेगा |

                                                आपका

दिनांक -१८/०८/२०१५             श्री कृष्ण त्रिपाठी         

पुत्र श्री मातादिहल त्रिपाठी  निवासी ग्राम पंचायत –नीबी गहरवार पोस्ट-नीबी गहरवार विकाश खंड –छानबे जिला –मिर्ज़ापुर पुलिस स्टेशन –विन्ध्याचल|

Enclosures are in seven pages along with a postal orders of Rs.20.00 of which Rs.10.00 as RTI fee and rest of 10.00 as Rs.2.00 per page is charged for copy of letters/orders provided under Right to Information Act 2005.

Serial number of postal orders-

Valuation –        ………Serial number-          ……………

RTI Communique in two pages well signed by information seeker.

Sent from Windows Mail

2 comments on Why D.M. Mirzapur is violating the provisions of Right to Information Act 2005?

  1. महोदय-जनसूचना अधिकारी COLLECTORATE को निर्देशित किया जाय वे सभी सम्बंधित विभागों से सूचना collect करके प्रार्थी को विंदुवार सूचनाए इस प्रकार उपलब्ध कराइ जाय १-DPRO मिर्ज़ापुर द्वारा दिनांक २१/०१/२०१५ और ०६/०२/२०१५ को BDO छानबे मिर्ज़ापुर को पत्र भेजा गया जो की ANNEXURE १ व ANNEXURE २ के रूप में इस जनसूचना आवेदन के साथ संलग्न हैं |
    १-क –उपरोक्त के पश्चात संदर्भ में की कार्यवाही की minutes ऑफ proceedings उपलब्ध कराये |तथा जो आदेश पास हुए हो उनकी प्रतिया उपलब्ध कराये |

  2. Here this question arises that if district magistrate like officer is not providing Information, then think about junior officers at the district level. This anarchy is feasible because of weak government in the state. Think about the quantum of corruption in the system that wrongdoers are shielded by making mockery of Law of land. Since most of public functionaries are indulged in corrupt activities so they are supporting each other.

Leave a Reply

%d bloggers like this: