Why did government not reveal information sought under RTI concerned with appointment of Lokpal

सोचिये भारत सरकार जो की ईमानदार प्रधान मंत्री माननीय नरेंद्र मोदी सर के नेतृत्व में ईमानदारी का डंका दुनिया के कोने कोने में पंहुचा रही है जिसने भारत को लोकपाल दे कर ऐतिहासिक काम किया वह यह नहीं बताना चाहती है की लोकपाल पद के लिए कितने आवेदन स्वतः और सीधे किये गए थे और कितने नाम सिफारिश किये गए थे और हमारे लोकपाल महोदय सिफारिश से आये है अर्थात प्रस्तावित अभ्यर्थी है या अर्हता आवेदन खुद प्रस्तुत किये थे | अगर नहीं बताना चाहते है तो कुछ तो दाल में काला है या पूरी की पूरी दाल ही काली है | इस देश का नागरिक होने के नाते हमारा विचार है सभी को समान अवसर मिलना चाहिए और यही मूल भुत  भावना है हमारे संबिधान का | एक पी चिदंबरम के जेल जाने से ईमानदारी नहीं सिद्ध होती उसके लिए सिस्टम में भ्र्स्टाचार का ग्राफ गिरना चाहिए  वह भी झूठे आकड़ो से नहीं | जनता भ्रष्टाचार से इतनी पीड़ित है वह विलाप कर रही और आप है मीडिया का मिसयूज करके खुश हो रहे है | बेरोजगारी ,गरीबी, असुरक्षा और भुखमरी हमारे समाज को निगल रहे है | बुद्धजीवी वर्ग रोज कमा खा रहा है और परेशानी और ऊबन से  आत्म हत्या कर रहा है |  


Sir if the matter is not concerned with you, then it should be
transferred under subsection 3 of section 6 as done by PMO. How the
application can be considered disposed if the sought information was
not made available. I am not seeking confidential information but an
efforts to check whether setup norms were followed.
Sought information –
1-Provide total number of direct applicants. 

2-Any of the members of the anti-corruption panel selected
from the direct applicants. 

3-Whether the notification was issued and advertised for
direct applicants if yes provide the detail. 

4-Provide the name of department which did the processing of
inviting direct application with a number of total applications
and screened applications. 

5-Provide the information regarding the Lokpal whether he is
the direct applicant or nominated applicant.

Enter Registration Number
DOP&T/A/2019/60634
Name
Yogi
M P Singh
Date of filing
30/07/2019
Public Authority
Department
of Personnel & Training
Status
APPEAL
DISPOSED OF
Date of action
28/08/2019
Reply :- Appeal Order has been sent to the appellant
vide this Department letter No.407/01/2019-AVD-IV(LP)Pt.1 dated 27-08-2019.
View Document
Nodal
Officer Details :-
Telephone Number
23040247
Email Id
sorti-dopt@nic.in
Online RTI Appeal Form Details 
RTI Appeal Details :-
RTI Appeal Registration number
DOP&T/A/2019/60634
Public Authority
Department
of Personnel & Training
Personal Details of Appellant:-
Request Registration Number
DOP&T/R/2019/81496
Request Registration Date
29/05/2019
Name
Yogi
M P Singh
Gender
Male
Address
Mohalla
Surekapuram , Jabalpur Road, District Mirzapur
Pincode
231001
Country
India
State
Uttar
Pradesh
Status
Urban
Educational Status
Literate
Above
Graduate
Phone Number
Details
not provided
Mobile Number
+91-7379105911
Email-ID
yogimpsingh[at]gmail[dot]com
Appeal Details :-
Citizenship
Indian
Is the Requester Below Poverty Line ?
No
Ground For Appeal
Refused
access to Information Requested
CPIO of Public Authority approached
AK
Roy (Lokpal) through LO
CPIO’s Order/Decision Number
Details
not provided
CPIO’s Order/Decision Date
(Description
of Information sought (upto 500 characters)
Prayer or Relief Sought
Appeal
is attached.
Supporting document (only pdf
upto 1 MB)

3 comments on Why did government not reveal information sought under RTI concerned with appointment of Lokpal

  1. एक पी चिदंबरम के जेल जाने से ईमानदारी नहीं सिद्ध होती उसके लिए सिस्टम में भ्र्स्टाचार का ग्राफ गिरना चाहिए वह भी झूठे आकड़ो से नहीं | जनता भ्रष्टाचार से इतनी पीड़ित है वह विलाप कर रही और आप है मीडिया का मिसयूज करके खुश हो रहे है | बेरोजगारी ,गरीबी, असुरक्षा और भुखमरी हमारे समाज को निगल रहे है | बुद्धजीवी वर्ग रोज कमा खा रहा है और परेशानी और ऊबन से आत्म हत्या कर रहा है |

  2. They will not reveal the truth because they know that it will expose them. Undoubtedly we are ruled by the corrupt.
    अगर नहीं बताना चाहते है तो कुछ तो दाल में काला है या पूरी की पूरी दाल ही काली है | इस देश का नागरिक होने के नाते हमारा विचार है सभी को समान अवसर मिलना चाहिए और यही मूल भुत भावना है हमारे संबिधान का | एक पी चिदंबरम के जेल जाने से ईमानदारी नहीं सिद्ध होती उसके लिए सिस्टम में भ्र्स्टाचार का ग्राफ गिरना चाहिए वह भी झूठे आकड़ो से नहीं | जनता भ्रष्टाचार से इतनी पीड़ित है वह विलाप कर रही और आप है मीडिया का मिसयूज करके खुश हो रहे है | बेरोजगारी ,गरीबी, असुरक्षा और भुखमरी हमारे समाज को निगल रहे है | बुद्धजीवी वर्ग रोज कमा खा रहा है और परेशानी और ऊबन से आत्म हत्या कर रहा है |

  3. Undoubtedly situation is too much serious that accountable public functionaries don't want to provide information regarding to his activities in regard to public decisions whether it is justified? When The Right to Information act 2005 has been framed by the parliament of this country why our accountable public functionaries in order to conceal the wrongdoings are not providing the information under Right to Information Act 2005. Whether it is SK fight that Commission takes up the cases concerned with the providing certain formation this API after 3 years from the depth of seeking information whether it is not a reflection of the knocking in our government machinery and our accountable public functionaries are silent spectators as such Ram doings which are taking place in the government machinery.

Leave a Reply

%d bloggers like this: