योगेंद्र यादव के मुंह पर इंक फेंकी गई Whether this is signal of frustration and disappointment of opposition parties


आम आदमी पार्टी के नेता योगेंद्र
यादव के मुंह पर इंक फेंकी गई
.Here this question arises
that why corrupt politicians are adopting this path and targeting the Aam Aadmi
Prty leaders . According to them this party has no existence outside Delhi but
seems that all are afraid of this whistle blower party.  
ये घटना उस वक़्त हुई जब योगेंद्र यादव महिला दिवस
के मौक़े पर नई दिल्ली के जंतर
मंतर
पर एक कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे थे
. To throw ink on
the face of AAP leader is only showing the frustration and disappointment of
other parties. Now it has proved fact that polarization of common people is
towards this anti-corruption party. Truth is after all truth so the misdeeds of
corrupt public functionaries is coming out in public domain because of this
whistle blower anti-corruption party.
संबंधित समाचार
घटना के बाद योगेंद्र यादव ने कहा, “मैं देख भी नहीं पाया कि कौन व्यक्ति था
और उसका क्या इरादा था
. मैं बिनादेखे जाने उस पर कोई आरोप लगा दूँ तो इसका कोई
मतलब नहीं होगा
.”This is showing the greatness of
the AAP leader and narrow mind of opposition leaders who are conspiring.
उन्होंने कहा, “मैं समझता हूँ कि जब आप राजनीति करने निकलते हैं,
बड़ीबड़ी
शक्तियों के सामने खड़े होते हैं तो कुछ क़ीमत देने के लिए तो तैयार होना ही चाहिए
.” The power devil is momentary but the truth remains eternal
and this is with Arvind Kejrival and AAP not with the opposition parties who
are looting the public exchequer since the date India became independent
republic .
उन्होंने कहा कि उन्हें अपने ऊपर स्याही फेंके जाने
पर कोई शर्मिंदगी नहीं है
. उन्होंने
कहा
, “ये जो भी मेरे चेहरे पर
लगा है कम से कम मुझे इसके लिए शर्मिंदगी नहीं हैं
. हमने कोई ऐसा काम नहीं किया है जिसके लिए हमे शर्मिंदगी हो. जिस भाई ने ये किया है भगवान उसे सदबुद्धि दे.” This was exactly articulated that if a man is of clean image
,then whatever wrong is done or made efforts to malign the image cause adverse
impact on those who perpetrate such crime. 

3 comments on योगेंद्र यादव के मुंह पर इंक फेंकी गई Whether this is signal of frustration and disappointment of opposition parties

  1. आम आदमी पार्टी के नेता योगेंद्र यादव के मुंह पर इंक फेंकी गई. ये घटना उस वक़्त हुई जब योगेंद्र यादव महिला दिवस के मौक़े पर नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर एक कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे थे. योगेंद्र यादवः हमारी पार्टी इन तिकड़मों में नहीं उलझेगी नहीं लडूंगा लोकसभा का चुनाव: केजरीवाल घटना के बाद योगेंद्र यादव ने कहा, "मैं देख भी नहीं पाया कि कौन व्यक्ति था और उसका क्या इरादा था. मैं बिना-देखे जाने उस पर कोई आरोप लगा दूँ तो इसका कोई मतलब नहीं होगा."उन्होंने कहा, "मैं समझता हूँ कि जब आप राजनीति करने निकलते हैं, बड़ी-बड़ी शक्तियों के सामने खड़े होते हैं तो कुछ क़ीमत देने के लिए तो तैयार होना ही चाहिए." उन्होंने कहा कि उन्हें अपने ऊपर स्याही फेंके जाने पर कोई शर्मिंदगी नहीं है. उन्होंने कहा, "ये जो भी मेरे चेहरे पर लगा है कम से कम मुझे इसके लिए शर्मिंदगी नहीं हैं. हमने कोई ऐसा काम नहीं किया है जिसके लिए हमे शर्मिंदगी हो. जिस भाई ने ये किया है भगवान उसे सदबुद्धि दे."

  2. How much shameless act of those politicians who conspired this act which will remain blot on this democracy for many years. What is the fault of this leader of Aam Aadmi Party ? Whether to talk of honesty in this system is curse. If all the accused who conspired Gujarat communal riots were convicted ,then no one dares to take law in its hand.

  3. Whether it is not cruel and indiscipline political atmosphere which is promoting in this largest democracy in the world? Where is our slogan of fraternity i.e. universal brotherhood and we are known for our ideals and principles.

Leave a Reply

%d bloggers like this: