Whether poor are getting their rights protected if they are deprive of public support even BPL and Antyoday

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019918033068
आवेदक कर्ता का नाम:
हरिश्चंद
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7054703028,7054703028
विषय:
प्रार्थी हरिश्चंद पासी पुत्र श्री छेदी लाल पासी ग्राम आदमपुर पोस्ट नीबी गहरवार जिला मिर्ज़ापुर पिन कोड २३१३०३ मोबाइल नंबर७०५४७०३०२८ जो की एक दलित है अनुसूचित जाति का है उसको अन्त्योदय के स्थान पर बी. पी. एल. जारी किया गया है और उसमे भी दो यूनिट कम कर दिया गया | क्या यही इस लोकतंत्र की न्याय व्यवस्था है और क्या गरीबो को न्याय इसी तरह मिलता है की उन्हें भूखो मार डाला जाय | गुंजन/GUNJAN महिला बहु यदि कार्ड धारक की बहू है तो उसका पति दीनानाथ/DINANATH क्या कार्ड धारक का लड़का नही है | बहू कार्ड की यूनिट बढ़ा सकती है तो बेटा क्यों नही |सत्यम भारतीया जो की कार्ड धारक का नाती है वह कहा जाएगा | श्री मान जी बेरोजगारी और भुखमरी अपने चरम पर है और परिवार का कोई ठोस इनकम स्रोत नही है ऐसे में भूख से कोई मर जाय तो कोई आश्चर्य की बात नही है | श्री मान जी प्रार्थी श्री मान जी का ध्यान परम श्रद्धा पूर्वक निम्न बिन्दुओं पर आकृष्ट करता है | श्री मान जी प्रार्थी को कोई कार्ड तो उपलब्ध नही कराया गया क्यों की कार्ड तो कोटेदार के यहा जमा रहता है | इसलिए प्रार्थी उत्तर प्रदेश सरकार की वेबसाइट पर जो डाटा उपलब्ध है उसी को साक्ष्य रूप में प्रस्तुत कर रहा है |श्री मान जी इस प्रत्यावेदन के साथ प्रार्थी का हाथ से लिखा पत्र भी संलग्न है जिसमे परिवार के सभी सदस्यों का आधार संख्या लिखा है उसका अवलोकन करे और छूटे हुए यूनिट को कार्ड में शामिल करे जिससे प्रार्थी को न्याय मिले | जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी का आभारी रहेगा | श्री मान जी इस प्रत्यावेदन के साथ अन्त्योदय और बी. पी. एल. दोनों की सूची संलग्न है यदि बेईमानी परखना चाहते है तो जांच का आदेश दे हर चीज प्रार्थी जांच के समय स्पस्ट कर देगा और आधे कार्ड बोगस सिद्ध हो जाए गे और जो वास्तव में पात्र है उन्हें लाभ प्राप्त होगा यदि सरकार वास्तव में पात्रो को सुबिधा देना चाहती है तब | यहां तो शांति ब्यवस्था के लिए हर ताकतवर को सुबिधाए दे दी जाती है वह भी समस्त नियम कानून को दरकिनार करके तो फिर नियम कानून की वैल्यू ही क्या रही | श्री मान जी किसी इमानदार अधिकारी द्वारा जांच कराये दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा |प्रार्थी की मदद करे जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी का आभारी रहेगा | प्रार्थी हरिश्चंद पासी पुत्र छेदी लाल पासी चल भाष ७०५४७०३०२८ ग्राम आदमपुर ,पोस्ट नीबी गहरवार पिनकोड २३१३०३ जिला मिर्ज़ापुर , उत्तर प्रदेश
नियत तिथि:
13 – Dec – 2018
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 03/12/2018को फीडबैक:- क्यों शिकायत निक्षेपित किये जाने योग्य है | क्या प्रार्थी की पत्नी के नाम छः यूनिट का कार्ड जारी कर दिया गया यदि नही जारी किया गया तो क्यों ? क्या अपात्र राशन कार्ड धारको की जांच की गई यदि नही तो गोल मटोल जवाब लगा कर शिकायत को क्यों बंद किया जा रहा है | यदि प्रार्थी अन्त्योदय का पात्र है तो उसका हक अमीरों को क्यों दिया जा रहा है |सरकार नियम सही बनाती किन्तु उनका पालन करवाने वाले भ्रष्ट है क्यों की वे कार्यालय छोड़ कर फिल्ड में जाना ही नही चाहते है | इतना जरुर है फील्ड के नाम पर साहब आवास पर जा कर आराम फरमाते है | श्री मान जी पूर्ति निरीक्षक द्वारा कोई जाँच नही की गई है | प्रस्तुत जांच आख्या मनगढ़ंत है जिसका कोई आधार नही है | प्रार्थी को कोई राशन कार्ड नही जारी किया गया है जो प्रार्थी को उपलब्ध हो इसके अतिरिक्त प्रार्थी की पत्नी के नाम जारी राशन कार्ड कोटेदार के कब्जे में है है | कोटेदार चार यूनिट से छः यूनिट कराने वास्ते कार्ड को अपने यहा जमा कर लिया और आज तक तो छः यूनिट का राशन कार्ड उपलब्ध कराया और ही जमा कार्ड वापस ही किया | श्री मान जी शिकायत का विषय वस्तु पढ़ कर, शिकायत का निस्तारण किया जाता है किन्तु यह मनमाना जवाब है जिसका प्रकरण की विषय वस्तु से दूर तक कोई सम्बन्ध नही है | श्री मान जी इस वाक्य को देखे जिसके अवलोकन से स्पस्ट है की इस प्रत्यावेदन के साथ अन्त्योदय और बी. पी. एल. दोनों की सूची संलग्न है यदि बेईमानी परखना चाहते है तो जांच का आदेश दे हर चीज प्रार्थी जांच के समय स्पस्ट कर देगा और आधे कार्ड बोगस सिद्ध हो जाए गे और जो वास्तव में पात्र है उन्हें लाभ प्राप्त होगा यदि सरकार वास्तव में पात्रो को सुबिधा देना चाहती है तब |अगर सरकार वास्तव में गरीबो को अन्त्योदय राशन कार्ड उपलब्ध कराना चाहती है तो समस्त अन्त्योदय राशन कार्ड धारको नाम ग्राम सभा की खुली बैठक में बुलवा दे सब कुछ स्पस्ट हो जाएगा | आधे से ज्यादा राशन कार्ड बोगस है |
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
13 – Nov – 2018
जिला पूर्ति अधिकारीमिर्ज़ापुर,खाद्य एवं रसद विभाग
16/11/2018
प्रस्तुत
प्रकरण की जांच पूर्ति निरीक्षक के द्वारा करायी गयी पूर्ति निरीक्षक की जांच आख्या के अनुसार आवेदक श्री हरिश्चन्द्र पासी पुत्र छेदी लाल पासी निवासी ग्रामसभा आदमपुर पो० नीबीगहरवार द्वारा अन्त्योदय राश्न कार्ड की मांग की गयी थी जिसकी फीडिंग शतप्रतिशत पूर्ण कराया जा चुका है जिसके कारण से आवेदक को अन्त्योदय कार्ड दिया जाना सम्भव नहीं है आवेदक को पात्र गृहस्थी की सूची में शामिल कर राशन कार्ड जारी कर दिया गया है। अतः उक्तानुसार प्रकरण निक्षेपित करने काकष्ट करें।
निस्तारित

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

दिनांक 03/12/2018को फीडबैक:- क्यों शिकायत निक्षेपित किये जाने योग्य है | क्या प्रार्थी की पत्नी के नाम छः यूनिट का कार्ड जारी कर दिया गया यदि नही जारी किया गया तो क्यों ? क्या अपात्र राशन कार्ड धारको की जांच की गई यदि नही तो गोल मटोल जवाब लगा कर शिकायत को क्यों बंद किया जा रहा है | यदि प्रार्थी अन्त्योदय का पात्र है तो उसका हक अमीरों को क्यों दिया जा रहा है |सरकार नियम सही बनाती किन्तु उनका पालन करवाने वाले भ्रष्ट है क्यों की वे कार्यालय छोड़ कर फिल्ड में जाना ही नही चाहते है | इतना जरुर है फील्ड के नाम पर साहब आवास पर जा कर आराम फरमाते है | श्री मान जी पूर्ति निरीक्षक द्वारा कोई जाँच नही की गई है | प्रस्तुत जांच आख्या मनगढ़ंत है जिसका कोई आधार नही है |

Arun Pratap Singh
1 year ago

Why feedback is not being considered by the concerned public functionaries? Undoubtedly they deliberately and in planned manner are bungling the public fund.
फीडबैक : दिनांक 03/12/2018को फीडबैक:- क्यों शिकायत निक्षेपित किये जाने योग्य है | क्या प्रार्थी की पत्नी के नाम छः यूनिट का कार्ड जारी कर दिया गया यदि नही जारी किया गया तो क्यों ? क्या अपात्र राशन कार्ड धारको की जांच की गई यदि नही तो गोल मटोल जवाब लगा कर शिकायत को क्यों बंद किया जा रहा है | यदि प्रार्थी अन्त्योदय का पात्र है तो उसका हक अमीरों को क्यों दिया जा रहा है |आधे से ज्यादा राशन कार्ड बोगस है |
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक प्राप्त

Preeti Singh
1 year ago

In two weeks, they have only received the feedback and not taken any action which shows the lackadaisical approach of concerned
फीडबैक : दिनांक 03/12/2018को फीडबैक:- क्यों शिकायत निक्षेपित किये जाने योग्य है | क्या प्रार्थी की पत्नी के नाम छः यूनिट का कार्ड जारी कर दिया गया यदि नही जारी किया गया तो क्यों ? क्या अपात्र राशन कार्ड धारको की जांच की गई यदि नही तो गोल मटोल जवाब लगा कर शिकायत को क्यों बंद किया जा रहा है | यदि प्रार्थी अन्त्योदय का पात्र है तो उसका हक अमीरों को क्यों दिया जा रहा है |सरकार नियम सही बनाती किन्तु उनका पालन करवाने वाले भ्रष्ट है क्यों की वे कार्यालय छोड़ कर फिल्ड में जाना ही नही चाहते है | इतना जरुर है फील्ड के नाम पर साहब आवास पर जा कर आराम फरमाते है |
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक प्राप्त