Whether the pace of criminal incidences in the Mirzapur district is going down.

Here this question arises that whether our Mirzapur police will ever
succeed in tracing the criminals and recover from them looted booty. Two police
men were on duty at the site where incident of day light robbery took place but
police remained mute spectator. It has been history of Mirzapur police that
such incidences are quite common in this district but district police always
remained failed. Here most surprising is that they moved merely 50 steps from
the bank premises and robbers attacked on them and looted from them Rs
200000.00  . How the Robbers knew that
victim has just withdrew aforesaid amount so the plan can’t be instantaneous.
Please take a glance of flowing link and know the truth of law and order in the
Mirzapur district- http://yogimpsingh.blogspot.com/2013/12/rs20000000-was-stolen-from-dikki-of.html
कोतवाली चुनार इलाके के ऐबकपुर मोहाना निवासी सागर सिंह ने क्षेत्र में स्थित भारतीय स्टेट बैंक से रुपये निकालने के लिए पुत्र धीरज को भेजा था। धीरज अपने दोस्त रवि विश्वकर्मा के साथ सोमवार की सुबह करीब साढ़े दस बजे बैंक पहुंचा। लगभग साढ़े ग्यारह बजे दोनाें युवक दो लाख रुपये निकालकर बैंक से बाहर आए। जैसे ही बाइक से बमुश्किल बैंक से पचास कदम ही आगे बढ़े कि तभी एक अन्य बाइक से आए दो बदमाश उनके हाथ से रुपयों से भरा बैग लूटकर भाग निकले। जहां पर लूट हुई, वहीं पर दो पुलिस वालों की डयूटी भी लगी थी, लेकिन लुटेरे भाग जाने में कामयाब रहे। लूट की जानकारी होेते ही अपर पुलिस अधीक्षक आपरेशन सुरेश्वर फोर्स के साथ पहुंचे। उन्होंने बैंक में लगे सीसी कैमरे देखने के बाद अन्य स्थानाें का निरीक्षण कर धीरज, रवि और कर्मचारियाें से पूछताछ की। पीड़ित ने घटना की लिखित सूचना कोतवाली चुनार में दी। कोतवाल पीसी यादव ने बताया कि संदिग्ध लोगों से पूछताछ की जा रही है। गौरतलब है कि इससे पहले भी बैंक से रुपये निकालकर जा रहे लोगों से लूट की कई वारदात हो चुकी हैं, लेकिन पुलिस एक भी घटना का खुलासा नहीं कर सकी है। उधर, लोगों का कहना है कि बैंक के बाहर पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई जाती है। घटना के समय भी बैंक के पास पुलिस वाले मौजूद थे। बावजूद इसके बदमाश वारदात को अंजाम देकर आराम से भाग निकले।

2 comments on Whether the pace of criminal incidences in the Mirzapur district is going down.

  1. कोतवाली चुनार इलाके के ऐबकपुर मोहाना निवासी सागर सिंह ने क्षेत्र में स्थित भारतीय स्टेट बैंक से रुपये निकालने के लिए पुत्र धीरज को भेजा था। धीरज अपने दोस्त रवि विश्वकर्मा के साथ सोमवार की सुबह करीब साढ़े दस बजे बैंक पहुंचा। लगभग साढ़े ग्यारह बजे दोनाें युवक दो लाख रुपये निकालकर बैंक से बाहर आए। जैसे ही बाइक से बमुश्किल बैंक से पचास कदम ही आगे बढ़े कि तभी एक अन्य बाइक से आए दो बदमाश उनके हाथ से रुपयों से भरा बैग लूटकर भाग निकले। जहां पर लूट हुई, वहीं पर दो पुलिस वालों की डयूटी भी लगी थी, लेकिन लुटेरे भाग जाने में कामयाब रहे। लूट की जानकारी होेते ही अपर पुलिस अधीक्षक आपरेशन सुरेश्वर फोर्स के साथ पहुंचे। उन्होंने बैंक में लगे सीसी कैमरे देखने के बाद अन्य स्थानाें का निरीक्षण कर धीरज, रवि और कर्मचारियाें से पूछताछ की। पीड़ित ने घटना की लिखित सूचना कोतवाली चुनार में दी। कोतवाल पीसी यादव ने बताया कि संदिग्ध लोगों से पूछताछ की जा रही है। गौरतलब है कि इससे पहले भी बैंक से रुपये निकालकर जा रहे लोगों से लूट की कई वारदात हो चुकी हैं, लेकिन पुलिस एक भी घटना का खुलासा नहीं कर सकी है। उधर, लोगों का कहना है कि बैंक के बाहर पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई जाती है। घटना के समय भी बैंक के पास पुलिस वाले मौजूद थे। बावजूद इसके बदमाश वारदात को अंजाम देकर आराम से भाग निकले।

  2. How the crime graph will go down when concern will not make efforts to curb the criminal activities. ? Two policemen were on duty and day light robbery took place at the distance of 50 steps from the bank. This shows that no one is safe in this anarchy. Crime can only be contained under control if police may adopt zero percent tolerance to criminal incidents taking place.

Leave a Reply

%d bloggers like this: