Whether it is not exploitation of student belonging to weaker section in the great Modi regime?

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
15199170016849
आवेदक कर्ता का नाम:
महेश प्रताप सिंह
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
9598603518,0
विषय:
date of exams of three papers of medieval and modern history coincides with corresponding papers of ancient history.
नियत तिथि:
17 – Sep – 2017
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 11/11/2018को फीडबैक:- श्री मान जी यदि कोई ऐसा लोकसेवक जो मेरे प्रत्यावेदनो पर कार्यवाही करने में सक्षम हो सिर्फ १५मिनट मेरी बात सुने और इमानदारी से उस पर कार्यवाही करे प्रार्थी शुल्क वापसी के लिए कभी भी नहीकहेगा अन्यथा इस आराजकता से मृत्यु पर्यन्त संघर्ष जारी रहेगा गोरे तो चले गये काले अंग्रेज अभी भी बाकीहै | जो देश को और देश की संपत्ति को अपना समझते है | श्री मान जी प्रार्थी जिन विषयों में परीक्षा में सम्मिलित हुआ है उसमे पास हुआ है अर्थात यदि छूटे हुए विषयों में परीक्षा दी होती तो आज स्नातक अंतिम वर्ष का छात्र होता | सिर्फ प्रार्थी के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया है और अभी तक फीस भी वापस नही की गई इससे बड़ी आराजकता क्या होगी | श्री मान जी प्रार्थी को जिन विषयो में एडमिट कार्ड जारी किया गया उनमे एग्जाम की व्यवस्था क्योंनही की गई जब की प्रार्थी के द्वारा ५० से भी ज्यादा आवेदन प्रार्थना पत्र भेजे गये श्री मान जी प्रार्थी कोधोखा दिया गया और उसके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया क्यों की प्रार्थी दलित वर्ग का है बहुतआश्चर्य है की वर्ष भर तक प्रार्थी के किसी भी शिकायत का जवाब तक नही दिया गया यह है भ्रस्टाचारका आलम श्री मान जी प्रार्थी कर्ज ले कर फीस जमा किया था किन्तु प्रार्थी अब वह फीस वापस चाहताहै यदि लेशमात्र भी इमानदारी है तो प्रार्थी का कम से कम शुल्क तो वापस कर दी जिए | श्री मान जीएडमिट कार्ड जारी करने वाला महात्मा गाँधी कशी विद्यापीठ का वह स्टाफ क्यों दोषी नही है जिसने एकऐसा फॉर्म स्वीकार किया जो यूनिवर्सिटी द्वारा तय मानदंडो को पूरा नही कर रहा था महात्मा गाँधीकशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय का वेबसाइट वह फॉर्म और एंट्रीज़ और पूर्व फील्ड एंट्रीज़ उपलब्ध करायाजो इसके मानक को पूरा नही कर रहा था जो वेबसाइट पर उपलब्ध थे स्टूडेंट ने उन्ही का चुनाव कियाथा श्री मान जी भरा हुआ फॉर्म मानक के अनुसार नही था तो फीस क्यों स्वीकार की गई जो की विद्यार्थीद्वारा दो दिन पश्चात जमा की गई थी
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
आख्या
अजय कुमार सिंह(विशेष कार्याधिकारी मुख्यमंत्री कार्यालय )
18 – Aug – 2017
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण
पृष्ठांकित पूर्व में पत्र त्रुटिवश प्र00 उच्च शिक्षा को प्रेषित हो गया था (पूर्व में पत्र त्रुटिवश प्र00 चिकित्‍सा शिक्षा को प्रेषित हो गया थाउछ शिक्षा विभाग को प्रेषित कर दिया जाय
05/09/2017
यह प्रकरण विभाग से सम्बंधित नहीं है
निस्तारित
2
आख्या
अजय कुमार सिंह(विशेष कार्याधिकारी मुख्यमंत्री कार्यालय )
18 – Aug – 2017
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण
पृष्ठांकित पूर्व में पत्र त्रुटिवश प्र00 उच्च शिक्षा को प्रेषित हो गया था (पूर्व में पत्र त्रुटिवश प्र00 चिकित्‍सा शिक्षा को प्रेषित हो गया था
14/05/2018
कृपया अवगत होना चाहे की प्रश्नगत प्रकरण पर विभाग के स्तर से कोई कार्यवाही संभव नहीं है
निस्तारित
3
अंतरित
अजय कुमार सिंह(विशेष कार्याधिकारी मुख्यमंत्री कार्यालय )
26 – Oct – 2018
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव उच्‍च शिक्षा विभाग
पृष्ठांकित
31/10/2018
अनुमोदित
निस्तारित
4
अंतरित
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (उच्‍च शिक्षा विभाग )
31 – Oct – 2018
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
31/10/2018
Answer already given by university matter solved
निस्तारित

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
Vice Chancellor M.G.K.V.P. University, Varanasi may take concrete steps in order to provide justice to your applicant.
3 messages
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 9 March 2017 at 19:57
To: vcmgkvp@gmail.com, Registrar MGKVP <registrarmgkvp@gmail.com>, hgovup@up.nic.in, cmup <cmup@up.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, “csup@up.nic.in” <csup@up.nic.in>, supremecourt <supremecourt@nic.in>, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>

To
                                                            Vice Chancellor, M.G.K.V.P. Varanasi
                                                        and Chancellor of state universities/His Excellency
                                                                 Government of Uttar Pradesh
Subject-Date of exams of three papers of medieval and modern history coincides with corresponding papers of ancient history.

With due respect, your applicant wants to draw the kind attention of the Hon’ble Sir to the following submissions as follows.
1-It is to be submitted before the Hon’ble Sir that the applicant is Kuldeep Kumar Chaudhary S/O Rambabu Chaudhary, College name-405, K.B.P.G. College Mirzapur, Exam centre – 405 , K.B.P.G. College Mirzapur is the student of B.A. Part (1), Art group appearing in the annual exam as private student being conducted by M.G.K.V.P. University, Varanasi. For details, take a glance of the attached scanned copy of admit card with this representation.
2-It is submitted before the Hon’ble Sir that please take a glance of revised timetable for first-year students attached with this representation. Ipso facto obvious that date of exam of ancient history first paper is on 19/04/2017, unfortunately, date of exam of medieval history first paper is also on 19/04/2017 and the applicant is not a Yogi that he may appear in both the exam papers at the same instant of time through its Yogic powers.
3-It is submitted before the Hon’ble Sir that Ipso facto obvious that date of exam of ancient history second paper is on 21/04/2017, unfortunately, date of exam of medieval history second paper is also on 21/04/2017.
   This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that It can never be justified to overlook the rights of the citizenry by delivering services in an arbitrary manner by floating all set up norms. This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap the benefit of loopholes in the system and depriving poor citizens of the right to justice. Therefore it is the need of the hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.
                                                                 Yours  sincerely
Kuldeep Kumar Chaudhary Mobile number – 9695657211, 8545992921, 9598603518
Mohalla-Sabari, Bhagauti Chaudhary ke bagel ki gali, District-Mirzapur.


2 attachments
img487.jpg
821K
Kuldeep Chaudhary B.A. Part one Time table.pdf
67K
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 26 March 2017 at 00:17
To: vcmgkvp@gmail.com, Registrar MGKVP <registrarmgkvp@gmail.com>, hgovup@up.nic.in, cmup <cmup@up.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, “csup@up.nic.in” <csup@up.nic.in>, supremecourt <supremecourt@nic.in>, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>

Hon’ble Sir undoubtedly the raised issue invites the utmost care and due attention of concerned accountable public functionaries of M.G.K.V.P. Varanasi. Whether this is not reflection of insolence that they are not considering the gravity of situation that they are playing game with the future of a student. 
25 March 2017
23:49

With due respect your applicant wants to draw the kind attention of the Hon’ble Sir to the following submissions as follows.
1-It is submitted before the Hon’ble Sir that

आवेदन काविवरण
शिकायतसंख्या
40019717000763
आवेदक कर्ताका नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ताका मोबाइलन०:
7237849131,7237849131
विषय:
How is it feasible than an examinee may appear in two papers at the same time Please consider following submissions under article 51 A constitution of IndiaYour applicants enrolment number is KA2K17405015126 Vice Chancellor MGKVP University, Varanasi may take concrete steps in order to provide justice to your applicant 10 March 2017 1956 To                                                             Vice Chancellor ,MGKVP Varanasi                                                         and Chancellor of state universitiesHis excellency                                                                  Government of Uttar Pradesh Subject-Date of exams of three papers of medieval and modern history coincides with corresponding papers of ancient history With due respect your applicant wants to draw the kind attention of the Honble Sir to the following submissions as follows 1-It is submitted before the Honble Sir that  your applicant is Kuldeep Kumar Chaudhary SO Rambabu Chaudhary , College name-405 , KBPG College Mirzapur , Exam centre – 405 , KBPG College Mirzapur is the student of BA Part (1), Art group appearing in the annual exam as private student being conducted by MGKVP University ,Varanasi For details ,take a glance of attached scanned copy of admit card with this representation 2-It is submitted before the Honble Sir that please take a glance of revised time table for first year students attached with this representation Ipso facto obvious that date of exam of ancient history first paper is on 19042017 unfortunately date of exam of medieval history first paper is also on 19042017 and your applicant is not a Yogi that he may appear in both the exam papers at the same instant of time through its Yogic powers 3-It is submitted before the Honble Sir that Ipso facto obvious that date of exam of ancient history second paper is on 21042017 unfortunately date of exam of medieval history second paper is also on 21042017    This is humble request of your applicant to you Honble Sir that It can never be justified to overlook  the rights of citizenry by delivering services in arbitrary manner by floating all set up norms This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap benefit of loopholes in system and depriving poor citizens from right to justice Therefore it is need of hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system For this your applicant shall ever pray you Honble Sir                                                                  Yours  sincerely Kuldeep Kumar Chaudhary Mobile number -9695657211 , 8545992921, 9598603518 Mohalla-Sabari ,Bhagauti Chaudhary ke bagal ki gali ,District-Mirzapur
नियत तिथि:
12 – Apr – 2017
शिकायत कीस्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ काप्रकार
आदेश देनेवाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी कोप्रेषित
आदेश
आख्यादिनांक
आख्या
नियत दिनांक
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइनसन्दर्भ
13 – Mar – 2017
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधीकाशीविद्यापीठ,वाराणसी
लंबित
2-It is submitted before the Hon’ble Sir that it is their obligatory duty consider the problem of every student and find an amicable solution. Whether two papers of an examinee should coincide , then why your applicant facing such difficulty and still concerned accountable public functionaries of MGKVP University Varanasi are keeping closed their eye and ears. 
[Quoted text hidden]

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 31 March 2017 at 01:17
To: vcmgkvp@gmail.com, Registrar MGKVP <registrarmgkvp@gmail.com>, hgovup@up.nic.in, cmup <cmup@up.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, “csup@up.nic.in” <csup@up.nic.in>, supremecourt <supremecourt@nic.in>, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>

श्री मान जी स्मरण पत्र का कोई असर नही हो रहा है क्या आप का कोई सगा सम्बन्धी होता तो भी आप यही करते | श्री मान जी पार्थी द्वारा मोटी रकम शुल्क के रूप में जमा की गई है जो किसी छात्रवृत्ति से नही प्राप्त हुई है मेरे पिता की गाढ़ी कमाई का है |
श्री मान जी आपने अर्थात आपकी परीक्षा समिति प्रार्थी के दो विषयों के प्रथम व द्वितीय प्रश्न पत्रों को १९ अप्रैल व २१ अप्रैल को एक ही समय पर रख कर प्रार्थी के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है जो किसी भी तरह विधि सम्मत नही है अनुरोध है की प्रार्थी के प्रत्यावेदनो को गंभीरता से लिया जाय |
श्री मान जी प्रार्थी का प्रवेश पत्र व टाइम टेबल संलग्न है कृपया अवलोकन करे क्या संगतता है यदि नही तो प्रार्थी कैसे एक ही समय में दोनों प्रश्न पत्रों का उत्तर देगा | क्या परीक्षा समिति की भूलो के लिए प्रार्थी का भविष्य अंधकारमय किया जा सकता है क्या प्रार्थी को न्याय नही मिलेगा | कहा है सामाजिक न्याय | गरीब और न्याय में इतनी दूरी है की वह दूरी सामीप्य में बदल ही नही सकती |
श्री मान प्रार्थी द्वारा जमा शुल्क वापस करना पड़ सकता है यदि परीक्षा समिति यथोचित समय तक निर्णय लेने में विफल रहती है | 
[Quoted text hidden]


2 attachments
img487.jpg
266K
Time table Kuldeep Kumar Chaudhary.pdf
67K
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी प्रार्थी का प्रवेश पत्र व टाइम टेबल संलग्न है कृपया अवलोकन करे क्या संगतता है यदि नही तो प्रार्थी कैसे एक ही समय में दोनों प्रश्न पत्रों का उत्तर देगा | क्या परीक्षा समिति की भूलो के लिए प्रार्थी का भविष्य अंधकारमय किया जा सकता है क्या प्रार्थी को न्याय नही मिलेगा | कहा है सामाजिक न्याय | गरीब और न्याय में इतनी दूरी है की वह दूरी सामीप्य में बदल ही नही सकती |
श्री मान प्रार्थी द्वारा जमा शुल्क वापस करना पड़ सकता है यदि परीक्षा समिति यथोचित समय तक निर्णय लेने में विफल रहती है |

Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

Who is accountable for such anarchy every one knows and citizenry will teach them lesson certainly. ENTIRE FAULT IS ON THE PART OF the staffs of the university who first overlooked the grievances of the aggrieved student belonging oppressed section and now crying as usual because they are well known for crocodile tears.

Arun Pratap Singh
2 years ago

Think about the gravity of situation that feedback was submitted on 11-11-2018 but they didn't consider it and still procrastinating.
फीडबैक : दिनांक 11/11/2018को फीडबैक:- श्री मान जी यदि कोई ऐसा लोकसेवक जो मेरे प्रत्यावेदनो पर कार्यवाही करने में सक्षम हो सिर्फ १५मिनट मेरी बात सुने और इमानदारी से उस पर कार्यवाही करे प्रार्थी शुल्क वापसी के लिए कभी भी नहीकहेगा अन्यथा इस आराजकता से मृत्यु पर्यन्त संघर्ष जारी रहेगा गोरे तो चले गये काले अंग्रेज अभी भी बाकीहै | वह फॉर्म और एंट्रीज़ और पूर्व फील्ड एंट्रीज़ उपलब्ध करायाजो इसके मानक को पूरा नही कर रहा था जो वेबसाइट पर उपलब्ध थे स्टूडेंट ने उन्ही का चुनाव कियाथा श्री मान जी भरा हुआ फॉर्म मानक के अनुसार नही था तो फीस क्यों स्वीकार की गई जो की विद्यार्थीद्वारा दो दिन पश्चात जमा की गई थी
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक प्राप्त