Whether it is justified that Staffs of UPPCL demanding Rs.2000 for correcting faulty wire and pole

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
60000190116940
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M. P. Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
Undoubtedly the
matter is serious as few staffs of the department of electricity, Government
of Uttar Pradesh had visited the site on Saturday 17/08/2019 and instead of
fixing the raised issue, threatening the son of Mr. Pappu Maurya named
Chandra Prakash Maurya. They were saying that instead of writing the
representations to prime minister and chief minister, deposit Rs.2000 as
expenses to the office otherwise you will have to face the dire consequences.
They said that it seems that you have read more than you deserve so writing
the useless letters instead of paying the charges fixed by the office Rs.2000
per pole. Sir may be pleased to take the perusal of the attached letter
addressed to chief minister of Uttar Pradesh.
नियत तिथि:
12 – Sep – 2019
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
प्राप्त अनुस्मारक
क्र..
अनुस्मारक
प्राप्त
दिनांक
1
श्री मान जी यदि पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० रुपये लिए बिना नहीं लगाएंगे तो अपना तार कही और से खींच ले क्यों की उस तार से गरीब पप्पू मौर्या को तो कोई फायदा नहीं है सोचिये अपनी गलती सुधारने के लिए पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० रूपये मांग रहे है और प्रत्यावेदन पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है जब की प्रकरण पिछले वर्ष से ही लंबित है शिकायत संख्या-60000190114549 आवेदक कर्ता का नामYogi M P Singh नियत तिथि28 – Aug – 2019 
शिकायत की स्थितिलम्बित श्री मान जी प्रकरण का निस्तारण दिनांक २८अगस्त २०१९ तक हो जाना चाहिए था किन्तु आज तो १४सितम्बर २०१९ है अर्थात इसका मतलब तो आप समझते ही है जनसुनवाई पोर्टल पर मानकों को नजरअंदाज लोकसेवकों के लिए कोई गंभीर मसला नहीं है शिकायत संख्या-60000190116940 आवेदक कर्ता का नाम-Yogi M P Singh नियत तिथि12 – Sep – 2019  शिकायत की स्थितिलम्बित इस प्रकरण  में भी पावर कारपोरेशन के अधिकारी ने पुरानी वाली ही टाल  मटोल की कार्यशैली अपनाई | क्या यह  कार्यशैली उचित है जब की प्रकरण रिश्वत खोरी से सम्बंधित है श्री मान जी पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० पर पोल अबैध उत्कोच चाहते है पर यहां पर पप्पू मौर्या को क्या फायदा है हां घाटा जरूर है क्योकि तार टूटने पर दुर्घटना की आशंका है | श्री मान जी दो दुर्घटनाए हो चुकी है जिसमे एक ट्रेक्टर के चारो टायर बोल गए इस हाई टेंशन टायर के टच होने से और दूसरी घटना में एक नवयुवक गंभीर रूप से घायल हो गया  इस ढीले वायर के संपर्क में आने पर ईश्वर की कृपा है अभी कोई मरा नहीं
14 Sep 2019
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
लोक शिकायत अनुभाग -3( मुख्यमंत्री कार्यालय )
28 – Aug – 2019
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव ऊर्जा विभाग
कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।
अधीनस्थ को प्रेषित
2
अंतरित
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (ऊर्जा विभाग )
28 – Aug – 2019
प्रबन्ध निदेशक,पूर्वांचल विद्युत वितरण  निगम विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
3
अंतरित
प्रबन्ध निदेशक,पूर्वांचल विद्युत वितरण  निगम (विद्युत )
28 – Aug – 2019
मुख्य अभियन्ता मण्डल मिर्ज़ापुर,विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
4
अंतरित
मुख्य अभियन्ता (विद्युत )
28 – Aug – 2019
अधीक्षण अभियन्ता मिर्ज़ापुर,विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
5
अंतरित
अधीक्षण अभियन्ता (विद्युत )
30 – Aug – 2019
अधिशासी अभियंता , खंड – 2-मिर्ज़ापुर,विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
कार्यालय
स्तर पर लंबित
आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
60000190114549
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M. P. Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
Matter is
concerned with the engineer Mr. A. K. Singh department of electricity,
District Mirzapur Uttar Pradesh who remained failed in acting in accordance
with the assurance given by him in his report concerned with the proceedings
of Tahsil divas and wide public interest quite obvious from the attached
representation.
नियत तिथि:
28 – Aug – 2019
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
प्राप्त अनुस्मारक
क्र..
अनुस्मारक
प्राप्त
दिनांक
1
श्री मान जी यदि पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० रुपये लिए बिना नहीं लगाएंगे तो अपना तार कही और से खींच ले क्यों की उस तार से गरीब पप्पू मौर्या को तो कोई फायदा नहीं है सोचिये अपनी गलती सुधारने के लिए पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० रूपये मांग रहे है और प्रत्यावेदन पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है जब की प्रकरण पिछले वर्ष से ही लंबित है शिकायत संख्या-60000190114549 आवेदक कर्ता का नामYogi M P Singh नियत तिथि28 – Aug – 2019 
शिकायत की स्थितिलम्बित श्री मान जी प्रकरण का निस्तारण दिनांक २८अगस्त २०१९ तक हो जाना चाहिए था किन्तु आज तो १४सितम्बर २०१९ है अर्थात इसका मतलब तो आप समझते ही है जनसुनवाई पोर्टल पर मानकों को नजरअंदाज लोकसेवकों के लिए कोई गंभीर मसला नहीं है शिकायत संख्या-60000190116940 आवेदक कर्ता का नाम-Yogi M P Singh नियत तिथि12 – Sep – 2019  शिकायत की स्थितिलम्बित इस प्रकरण  में भी पावर कारपोरेशन के अधिकारी ने पुरानी वाली ही टाल  मटोल की कार्यशैली अपनाई | क्या यह  कार्यशैली उचित है जब की प्रकरण रिश्वत खोरी से सम्बंधित है श्री मान जी पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० पर पोल अबैध उत्कोच चाहते है पर यहां पर पप्पू मौर्या को क्या फायदा है हां घाटा जरूर है क्योकि तार टूटने पर दुर्घटना की आशंका है | श्री मान जी दो दुर्घटनाए हो चुकी है जिसमे एक ट्रेक्टर के चारो टायर बोल गए इस हाई टेंशन टायर के टच होने से और दूसरी घटना में एक नवयुवक गंभीर रूप से घायल हो गया  इस ढीले वायर के संपर्क में आने पर ईश्वर की कृपा है अभी कोई मरा नहीं
14 Sep 2019
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
लोक शिकायत अनुभाग -3( मुख्यमंत्री कार्यालय )
13 – Aug – 2019
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव ऊर्जा विभाग
कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।
अधीनस्थ को प्रेषित
2
अंतरित
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (ऊर्जा विभाग )
13 – Aug – 2019
प्रबन्ध निदेशक,पूर्वांचल विद्युत वितरण  निगम विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
3
अंतरित
प्रबन्ध निदेशक,पूर्वांचल विद्युत वितरण  निगम (विद्युत )
13 – Aug – 2019
मुख्य अभियन्ता मण्डल मिर्ज़ापुर,विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
4
अंतरित
मुख्य अभियन्ता (विद्युत )
27 – Aug – 2019
अधीक्षण अभियन्ता मिर्ज़ापुर,विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
5
अंतरित
अधीक्षण अभियन्ता (विद्युत )
30 – Aug – 2019
अधिशासी अभियंता , खंड – 2-मिर्ज़ापुर,विद्युत
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
कार्यालय
स्तर पर लंबित

3 comments on Whether it is justified that Staffs of UPPCL demanding Rs.2000 for correcting faulty wire and pole

  1. श्री मान जी यदि पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० रुपये लिए बिना नहीं लगाएंगे तो अपना तार कही और से खींच ले क्यों की उस तार से गरीब पप्पू मौर्या को तो कोई फायदा नहीं है सोचिये अपनी गलती सुधारने के लिए पावर कारपोरेशन के कर्मचारी २००० रूपये मांग रहे है और प्रत्यावेदन पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है जब की प्रकरण पिछले वर्ष से ही लंबित है |

  2. Undoubtedly such contaminated dealing are the parts of daily business of the staffs of the workshop of the department of the electricity at District-Mirzapur and when complaints are made then concerned accountable government functionaries don't take any action in the matter. Most sensitive point is that executive engineer of the workshop doesn't pick up the phone of the aggrieved people.

  3. Undoubtedly it is reflection of the corruption in the department of electricity but it is unfortunate that our accountable public functionaries are keeping their eyes and ears shut instead of taking any concrete action in this matter they are throwing away these representations in the dustbin whether it is justified? Here this question arises that why they are demanding Rs 2,000 as bribe and moreover if they are corrupt why our accountable public functionaries are adopting lackadaisical approach in taking action against Evildoers? Whether it is not surprising fact that for faults they had committed had to be punished but they are demanding Rs 2,000 as bribe for its own mistake. Where is the justice in this largest democracy in the world for The deprived section? Undoubtedly poor people are crushing in this ruthless TYRANNY.

Leave a Reply

%d bloggers like this: