Whether Illegal bribe one crore per day from trucks in the name of overloading can be justified ?

आवेदन
का विवरण
शिकायत संख्या
60000190012178
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi
M P Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
केन्द्रीय
मंत्रालय के तीन पत्रों के बावजूद ट्रांसपोर्ट आयुक्त लखनऊ ने अभी तक प्रार्थी
को सूचनाए क्यों नही उपलब्ध कराई ? क्या यही सुशासन है श्री मान जी प्रार्थी की
शिकायत में आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर की टिप्पणी कुछ इस प्रकार है इस संबंध में
शिकायतकर्ता द्वारा उठाई गयी आपत्तियां मान्य नही है क्योंकि परिवहन विभाग
द्वारा पारदर्शिता लाने के उद्देश्यय से इस पूरी प्रक्रिया में मानवीय
हस्त‍क्षेप को पूरी तरह समाप्तह कर दिया गया है। श्री मान जी प्रार्थी का कथन
कुछ इस प्रकार है १-यदि हर कुछ जायज है तो आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर दलालों से भरा
क्यों है ऐसा क्या उस बीराने में रखा है जो की कार्यालय तो ११ बजे खुलता है
किन्तु लोगो की भीड़ ८ बजे से होनी शुरू हो जाती है २-श्री मान जी २०० रुपये के
स्थान पर २००० की वसूली राजस्व बढाने के लिए नही की गई है बल्कि दलाली और
भ्रस्टाचार बढाने के लिए की गई है ३-श्री मान जी मानवीय हस्तक्षेप से जिम्मेदारी
बढ़ती है किन्तु पारदर्शिता के नाम पर सारथी सारथी चिल्लाना और उसके आड़ में
भ्रस्टाचार करना कहा तक जायज है श्री मान जी आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर का काम समस्त
इनफार्मेशन को सारथी वेबसाइट पर फीड करके आवेदन वेबसाइट के माध्यम से ही लेना
नकी स्लॉट जारी करना और चरण बद्ध तरीके से वसूली करना ४-यदि विभाग में ईमानदारी
है तो समस्त ड्राइविंग लाइसेंसों को निर्वाचन कार्ड की तरह ऑनलाइन कर दे तथा
उनकी वैलिडिटी वेबसाइट पर डिस्प्ले हो यहा तो हर इनफार्मेशन रहस्मयी तरीके से आर.टी.ओ.
मिर्ज़ापुर के कब्जे में है जिसके साथ जो चाहे वह छेड़ छाड़ करे कौन बोलने वाला है
५-सरकार का बाहुबली आधार कार्ड भी इसमें कोई रोल नही अदा कर रहा है क्यों की
सरकार नही चाहती है की भर्स्ट इकॉनमी पर रोक लगे ६-श्री मान जी बैकलॉग को टाइमली
बनाना सिर्फ स्लॉट में मामूली तिथि में फेर बदल करना पड़ता है किन्तु यह फेर बदल
दलाल करा सकता है या स्टाफ हमारे जैसे लोगो को तो नियम का पाठ पढ़ाया जाता जिसमे
खुद आर.टी.ओ. महोदय की जबान लडखडाती रहती है ७-श्री मान जी १०० रुपये है
ड्राइविंग लाइसेंस का लेट पेमेंट फीस लेकिन २००० रुपये की वसूली किस तरह जायज है
श्री मान जी यदि कोई ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेन्स के लिए आवेदन कर ही नही सकता
केवल कुछ साइबर कैफे जिनको विभाग का बरद हस्त प्राप्त है वही ऑनलाइन आवेदन कर
सकते है तो इससे बड़ा भ्रस्टाचार क्या हो सकता है इससे तो विभाग की क्रेडिबिलिटी
ही ख़त्म हो गयी तो ट्रांसपरेंसी कैसी यह तो ठीक उसी प्रकार है जैसे गरल भरा मुख
अमृत टपकाने की बात करे ८-आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर में पग पग पर पैसा मागा जाता है और
शिकायत करने पर कोई कार्यवाही नही होती 9-It is submitted before the Hon’ble
Sir that how can it be justified that the error made by the staffs of the
R.T.O. Mirzapur causing mental trauma for 20 years now instead of correcting
it R.T.O. Mirzapur is seeking additional Rs.200 for correction and if I opt
for a change of address, then more Rs.200 will be additionally charged which
is genuine in his eyes. Since the website is showing internal server error if
I am making efforts to pay the fee which means I will have to pay Rs. 100 to
computer operator of the department. 10-It is submitted before the Hon’ble
Sir that whether Rs.2000 being charged by the Yogi Aditya Nath Government at
the place of Rs. 200 for the renewal of Driving license of two-wheelers is
justified when already suffered a loss of Rs.350 in sending application
offline for renewal of the driving license which was arbitrarily rejected by
the R.T.O. Mirzapur.
नियत तिथि:
प्रक्रिया में है
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन का संलग्नक

From
<http://jansunwai.up.nic.in/TrackGraviancePopup.aspx?complainno=60000190012178&MOBNO=7379105911&IsOldNew=N&Type=2>

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी प्रार्थी का कथन कुछ इस प्रकार है १-यदि हर कुछ जायज है तो आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर दलालों से भरा क्यों है ऐसा क्या उस बीराने में रखा है जो की कार्यालय तो ११ बजे खुलता है किन्तु लोगो की भीड़ ८ बजे से होनी शुरू हो जाती है २-श्री मान जी २०० रुपये के स्थान पर २००० की वसूली राजस्व बढाने के लिए नही की गई है बल्कि दलाली और भ्रस्टाचार बढाने के लिए की गई है ३-श्री मान जी मानवीय हस्तक्षेप से जिम्मेदारी बढ़ती है किन्तु पारदर्शिता के नाम पर सारथी सारथी चिल्लाना और उसके आड़ में भ्रस्टाचार करना कहा तक जायज है

Arun Pratap Singh
1 year ago

Why R.T.O. Mirzapur is seated on the representations of the applicant? If media is making allegations that such a huge amount is taken as bribe per day then matter is serious and subjected to enquiry by an independent body.
नियत तिथि: 06 – Mar – 2019 शिकायत की स्थिति: लम्बित
रिमाइंडर : फीडबैक : फीडबैक की स्थिति: आवेदन का संलग्नक संलग्नक देखें अग्रसारित विवरण-
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या स्थिति आख्या रिपोर्ट
1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग – 1(मुख्यमंत्री कार्यालय ) 04 – Feb – 2019 जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर, कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। अधीनस्थ को प्रेषित
2 आख्या जिलाधिकारी ( ) 05 – Feb – 2019 सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी-मिर्ज़ापुर,परिवहन विभाग नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें कार्यालय स्तर पर लंबित

Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

Undoubtedly Regional Transport Office Mirzapur is always surrounded by brokers as well as SCORES OF brokers are seated inside the office which is reflection of rampant corruption in the office. Hear this question arises that when the matter is under the cognizance of senior accountable public functionary why the action is not being taken against the wrongdoers which is the need of the hour. Whether it is not precarious situation being faced by the citizenry of the state.