Whether False imputations against a soldier is justified who is pursuing his civil duties

Whether false imputations made by B.D.O. Chhanbey can’t be taken into account or such imputations made by taking accountable public functionaries in good faith?

आवेदन का विवरण
 
शिकायत संख्या
15199170261659
आवेदक कर्ता का नाम:
अंकित सिंह
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
8350889728,0
विषय:
जांच कराये जाने के संबंध में।
नियत तिथि:
18 – Sep – 2017
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
 
फीडबैक :
 
फीडबैक की स्थिति:
 

आवेदन का संलग्नक

अग्रसारित विवरण

क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
नियत दिनांक
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
श्री जिन्नूरैन अहमद खां(संयुक्त सचिव मुख्यमंत्री कार्यालय )
13 – Apr – 2017
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव ग्राम्‍य विकास
विभाग
पृष्ठांकित
06 – Sep – 2017
 
निस्तारित
 
 
2
आख्या
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (ग्राम्‍य विकास विभाग )
21 – Aug – 2017
मुख्य विकास अधिकारीमिर्ज़ापुर,ग्राम्‍य विकास विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें
25 – Aug – 2017
ok
निस्तारित
 
 
3
आख्या
मुख्य विकास अधिकारी (ग्राम्‍य विकास विभाग )
22 – Aug – 2017
खण्‍ड वि‍कास अधि‍कारीकोण,जनपदमिर्ज़ापुर,ग्राम्‍य विकास विभाग
आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें ok
25 – Aug – 2017
शिकायतकर्ता द्वारा किये गए शिकायत निराधार है ग्राम पंचायत के कार्यो का स्थलीय सत्यापन में सभी कार्य संतोषजनक मिले है किसी भी प्रकार की बित्तीय अनियमितता नही की गयी है
 
 
 

 

Whether False imputations against a soldier is justified who is pursuing his civil duties as prescribed under constitution.

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh yogimpsingh@gmail.com

Attachments7 Apr

to presidentofind., pmosb, urgent-action, supremecourt, cmup, uphrclko, csup, hgovup
ग्राम पंचायत में स्वच्छता अभियान चलाने वाला सेना का जवान अंकित सिंह किस निम्न स्तर से ग्राम प्रधान द्वारा लांछित किया जा रहा है | यदि अंकित सिंह भयाक्रांत होता तो अखिलेश सरकार में स्वच्छता की बात व जिला majistrate के कार्यक्रम की बात न करता |
श्री मान जी प्रार्थी बहुत विनम्रता के साथ निम्न लिखित विन्दुओं पर श्री मान जी का ध्यान आकृष्ट करना चाहता है |
१-श्री मान जी प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत शिकायत संख्या    40019917000471 जो की प्रमुख सचिव महोदय की सुस्ती से अभी तक कार्यवाही का इन्तजार कर रहा है हमे समझ में नही आ रहा है सम्बन्धितो को थोडा भी शर्म नही आई इतना बड़ा लांछन लगते वक्त और बड़े अधिकारिओं की बात क्या करे वे भी सिर्फ हा में हां मिलाते रहे | कृपया शिकायत का परिशीलन करे |
आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या  40019917000471
आवेदक कर्ता का नाम:   Ankit Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:    8350889728,8350889728               
विषय:  Notice to 1- प्रमुख सचिवसचिव -ग्राम्यP विकास विभाग 2- आयुक्त -ग्राम्य विकास 3- मुख्य विकास अधिकारी-मिर्ज़ापुर,ग्राम्या विकास विभाग 4-खण्डम वि‍कास अधि‍कारी-छानवे,जनपद-मिर्ज़ापुर,ग्राम्य विकास विभाग For making false making false imputations against your applicant whistle blower Ankit Singh SO Hriday Narayan Singh Village panchaayt -Aniruddh pur paschim patti Post-Pakhawaiya ,Development block-Kone District-Mirzapur , Uttar Pradesh ,India Subject-Concerned may explain the cause , why defamation proceedings may not be initiated against them for hatching conspiracy to demoralize your applicant and making scandalous approach towards your applicant causing extreme mental torture to your applicant With due respect your applicant wants to draw the kind attention of the Honble Sir to the following submissions as follows 1-It is submitted before the Honble Sir that your applicant submitted two grievances on jansunwai portal of government of Uttar Pradesh शिकायत संख्या 40019916001826 and शिकायत संख्या    40019917000125 Contents of both the grievances and reports on the ground of which these grievances were disposed by accountable public functionaries of government of Uttar Pradesh are attached documents with this notice 2-It is submitted before the Hon’ble Sir that they made allegation against your applicant that your applicant is a broker I am too much surprised that your applicant is being demoralized by those incredible people who themselves are not of impeccable integrity 3-It is submitted before the Hon’ble Sir that all the concerned who made incredible remarks against your applicant in their reports and concerned who blindly accepted such reports from those people who are not concerned with the matter be directed to apologize unconditionally otherwise face the defamation proceedings for lowering the dignity of your applicant 4-It is submitted before the Hon’ble Sir that matter is concerned with the Kon block and VDA SUBMITTED its report before BDO Chhanbey block that your applicant demanded Rs50 thousand from the husband of gram pradhan whether such reports are not cryptic and consequent of hatched conspiracy of aforementioned officers of government of Uttar Pradesh in order to demoralize your applicant This is humble request of your applicant to you Honble Sir that It can never be justified to overlook the rights of citizenry by delivering services in arbitrary manner by floating all set up norms This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap benefit of loopholes in system and depriving poor citizens from right to justice Therefore it is need of hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system For this your applicant shall ever pray you Honble Sir Yours sincerely Ankit Singh SO Hriday Narayan Singh Village panchaayt -Aniruddh pur paschim patti Post-Pakhawaiya ,Development block-Kone District-Mirzapur , Uttar Pradesh ,India
नियत तिथि:    16 – Apr – 2017
शिकायत की स्थिति:     लम्बित
रिमाइंडर :     
फीडबैक :      
आवेदन का संलग्नक    
संलग्नक देखें
 अग्रसारित विवरण-
क्र.स.   सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक   अधिकारी को प्रेषित      आदेश  आख्या दिनांक   आख्या       नियत दिनांक   स्थिति  आख्या रिपोर्ट
1              अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 17 – Mar – 2017  प्रमुख सचिव/सचिव -ग्राम्‍य विकास विभाग  —                   लंबित
२-श्री मान जी प्रार्थी जानना चाहता है की इस देश की कौन सी प्रथा है जिसमे जांच अधिकारी चोरी से ग्राम पंचायत में जाता है और कहता है शिकायत कर्ता के सभी आरोप निराधार है क्या शिकायतकर्ता को सूचना भेजे बगैर और शिकायत करता की अनुपस्थिति में किया गया जांच नियम सम्मत है |
३-श्री मान जी प्रार्थी जानना चाहता है की प्रार्थी का विकास खंड कोन है और प्रार्थी के ऊपर आरोप खंड विकास अधिकारी छानवे के द्वारा लगाया गया | प्रार्थी कभी भी विकास खंड छानवे में गया भी नही | क्या अंकित सिंह हिमांचल प्रदेश में सेना के बैरक से उड़ के चला आया रिश्वत मांगने आरोप लगाने की भी कोई सीमा होती है |
               श्री मान जी जो कुछ भी मिर्जापुर जनपद में हो रहा है वह राक्षसी प्रवृत्ति का द्योतक है एक तो चोरी दुसरे सीना जोरी यह कहावत खूब चरितार्थ हो रही है इस जनपद में | प्रार्थी के खिलाफ लगे आरोप पूर्ण रूपेड़ घ्रणित किस्म के है जिसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए जिसमे उपरोक्त सभी अधिकारिओं के जिम्मेदारी तय होनी चाहिए | इश्वर को धन्यवाद देता हु की सेना इन विमारियों से अछूत है |
                                  आप का आज्ञाकारी
                             अंकित सिंह S/O Hriday Narayan Singh Village panchaayt -Aniruddh pur paschim patti Post-Pakhawaiya ,Development block-Kone District-Mirzapur , Uttar Pradesh ,India

yogimpsingh@gmail.com

23 May

to presidentofind., pmosb, urgent-action, supremecourt, cmup, uphrclko, csup, hgovup
विषय –इतना फूहड़ आरोप लगाने के पश्चात भी सम्बंधित सरकारी कर्मचारी प्रार्थी से अभी तक माफी नही मांगे क्या यही सुशासन है | जितने भी स्मरण पत्र भेजे जा रहे है उन पर कोई कार्यवाही नही हो रही है |
Most revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due respect to following submissions as follows.
1-It is submitted before the Hon’ble Sir that आप सरकारी मुलाजिम है और बिकास कार्य का पैसा जनता का है आप के कर्मचारी जो चाहे करे चाहे एक भी पैसा मत खर्च करे हमारा काम था नागरिक कर्तव्यों का पालन करना न की इतना घिनौना आरोप बर्दास्त करना | खुद शीर्ष अदालत अपने निर्णय में कहा है की यदि हम लोकपद पर आसीन है तो हमे जनता की आलोचनाओं के लिए तैयार रहना चाहिए लेकिन यहा एक तरफ चोरी दूसरी तरफ सीना जोरी वाली कहावत खूब चरितार्थ हो रही है |
-It is submitted before the Hon’ble Sir that जब से आप के स्टाफ द्वारा प्रार्थी पर आरोप लगाया गया तब से आप लोग प्प्रार्थी के किसी भी पत्र पर कोई कार्यवाही नही किये |क्या यह आश्चर्य चकित करने वाला नही है | आरोप की भी एक सीमा और मर्यादा होती है साथ ही उसमे थोड़ी बहुत सच्चाई हो किन्तु एकदम निराधार आरोप सिर्फ घबराहट को इंगित करता है |
-It is submitted before the Hon’ble Sir that श्री मान जी कितना हस्यास्पद है की जिलाधिकारी महोदय कहते है की नागरिको की समस्याए ग्राम पंचायत स्तर पर निस्तारित कराई जाएगी किन्तु अफसोस की बात है की जब ब्यथा का निवारण खुद मुख्यमंत्री कार्यालय नही करा पा रहा है तो ग्राम पंचायत स्तर पर कर्मचारिओं का बैठना कौन सुनिश्चित करेगा |
                   This is humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos in arbitrary manner by making mockery of law of land? There is need of hour to take harsh steps against wrongdoer in order to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this your applicant shall ever pray you Hon’ble Sir.
                                                         Yours sincerely
                                     अंकित सिंह पुत्र ह्रदय नारायण सिंह ,ग्राम-अनिरुद्ध्पुर पश्चिम पट्टी ,विकास खंड –कोन , जिला –मिर्ज़ापुर
 
 
Sent from Mail for Windows 10

 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी क्या जांच की सूचना चलभाष पर दी जाती है क्या प्रार्थी के ऊपर लगाए गए आरोपों की जाँच की गई यदि नही तो क्यों | क्या जनसुनवाई पोर्टल की गरिमा इतनी गिर चुकी है की यहां शिकायतकर्ताओं पर विकास खंड अधिकारी छानबे गंभीर आरोप लगाते रहते है |
Whether false imputations made by B.D.O. Chhanbey can't be taken into account or such imputations made by taking accountable public functionaries in good faith?

Whether False imputations against a soldier is justified who is pursuing his civil duties as prescribed under constitution.

Preeti Singh
3 years ago

Undoubtedly allegation is of serious nature.Concerned may order enquiry and fix accountability.
श्री मान जी प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत शिकायत संख्या 40019917000471 जो की प्रमुख सचिव महोदय की सुस्ती से अभी तक कार्यवाही का इन्तजार कर रहा है हमे समझ में नही आ रहा है सम्बन्धितो को थोडा भी शर्म नही आई इतना बड़ा लांछन लगते वक्त और बड़े अधिकारिओं की बात क्या करे वे भी सिर्फ हा में हां मिलाते रहे | कृपया शिकायत का परिशीलन करे |