What a justice delivery system, two sold its land, house and land of third grabbed forcibly

Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2020/0448095

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Anita Mishra
Date of Receipt
24/05/2020
Received By Ministry/Department
Prime Ministers Office
Grievance Description
Your applicant has already apprised you, Hon’ble Sir, that matter is sub judice and concerned with rights of vulnerable lady Anita Mishra.
श्री मान जी सतेन्द्र पुत्र नागेन्द्र निवासी –ग्राम –जिगनी तहसील –भाटपाररानी जनपद –देवरिया , उत्तर प्रदेश का हिस्सा जो की प्रार्थिनी –अनीता मिश्रा के पति है उनका हिस्सा तो नही बिका है और यदि किसी ने बेचा है तो अपराध कारित किया फिर भटनी पुलिस कैसे कह सकती है की प्रार्थीनी के पति का जहा हिस्सा हो वह वहा जा कर ले श्री मान क्या यह गैर जिम्मेदाराना पूर्ण वाक्य नही है आप उपरोक्त दस्तावेज को देखे उनका हिस्सा तो अभी भी सलामत है
श्री मान जी क्या भटनी पुलिस की जिम्मेदारी नही बनती मुम्बई लॉक डाउन में फसी अनीता मिश्रा का घर जो की पूर्ण रूप से अबिबादित है भू माफियाओं के कब्जे से रोके
श्री मान जी प्रार्थिनी के लगातार प्रस्तुत प्रत्यावेदन के बावजूद यदि भू माफियाओं द्वारा प्राथिनी का कमरा ताला तोड़ कर कब्जा किया जाता है तो यह स्वतः सिद्ध है की भटनी पुलिस का दामन स्वच्छ नही और पुलिस भ्रस्टाचार की सारी हदे पार कर गयी है
श्री मान जी प्रार्थिनी के पतिदेव पैत्रिक सम्पति आधे हिस्से के स्वामी है पिता की मृत्यु के पश्चात किन्तु यदि माता का हिस्सा लगाया जाय तो भी सतेन्द्र मिश्रा का एक तिहाई कही नही गया है फिर कहा न्याय ब्यवस्था जब भटनी पुलिस को विश्वास में लेकर प्राथिनी के कमरे का ताला तोड़ कर समस्त जमीन और घर को जबरन कब्जा का प्रयास भू माफियाओं द्वारा किया जा रहा है और प्रार्थिनी लॉक डाउन के कारण मुंबई में पडी हुई है
Hon’ble Sir, Law order is the state subject and it is obligatory duty of the police concerned to take appropriate action in the matter to safeguard the property of the Satendra Mishra so that land and house of Anita Mishra and children may be ensured safe. Think about the gravity of situation that entire family of the vulnerable lady Anita Mishra is being thrown on the road because of the dereliction of the duty of the concerned police.
Two sold their property and the property of the third is being grabbed forcibly through means of corruption whether it is justified? Where is justice in this largest democracy in the world? Anita Mishra took shelter in the court through his husband  and matter is sub judice but who is awaiting the court judgement if police will provide more speedy justice.
Grievance Document
Current Status
Grievance Received
Date of Action
24/05/2020
Officer Concerns To
Forwarded to
Prime Ministers Office
Officer Name
Shri Ambuj Sharma
Officer Designation
Under Secretary (Public)
Contact Address
Public Wing 5th Floor, Rail Bhawan New Delhi
Email Address
ambuj.sharma38@nic.in
Contact Number
011-23386447

Where is the share of Satendra Mishra in the ancestors property if opposition took its possession forcibly?

Sunday, May 24, 2020

6:57 PM

Subject

RE: Where is the share of Satendra Mishra in the ancestors property if opposition took its possession forcibly?

From

yogimpsingh@outlook.com

To

yogimpsingh@outlook.com; presidentofindia@rb.nic.in; pmosb; supremecourt; cmup; hgovup@up.nic.in; csup@up.nic.in; ‘uphrclko@yahoo.co.in’

Sent

Sunday, May 24, 2020 6:52 PM

Your applicant has already apprised you, Honble Sir, that matter is sub judice and concerned with rights of vulnerable lady Anita Mishra.

श्री मान जी सतेन्द्र पुत्र नागेन्द्र निवासी ग्राम जिगनी तहसील भाटपाररानी जनपद देवरिया , उत्तर प्रदेश का हिस्सा जो की प्रार्थिनी अनीता मिश्रा के पति है उनका हिस्सा तो नही बिका है और यदि किसी ने बेचा है तो अपराध कारित किया फिर भटनी पुलिस कैसे कह सकती है की प्रार्थीनी के पति का जहा हिस्सा हो वह वहा जा कर ले | श्री मान क्या यह गैर जिम्मेदाराना पूर्ण वाक्य नही है| आप उपरोक्त दस्तावेज को देखे उनका हिस्सा तो अभी भी सलामत है |

श्री मान जी क्या भटनी पुलिस की जिम्मेदारी नही बनती मुम्बई लॉक डाउन में फसी अनीता मिश्रा का घर जो की पूर्ण रूप से अबिबादित है भू माफियाओं के कब्जे से रोके |

श्री मान जी प्रार्थिनी के लगातार प्रस्तुत प्रत्यावेदन के बावजूद यदि भू माफियाओं द्वारा प्राथिनी का कमरा ताला तोड़ कर कब्जा किया जाता है तो यह स्वतः सिद्ध है की भटनी पुलिस का दामन स्वच्छ नही और पुलिस भ्रस्टाचार की सारी हदे पार कर गयी है |

श्री मान जी प्रार्थिनी के पतिदेव पैत्रिक सम्पति आधे हिस्से के स्वामी है पिता की मृत्यु के पश्चात किन्तु यदि माता का हिस्सा लगाया जाय तो भी सतेन्द्र मिश्रा का एक तिहाई कही नही गया है फिर कहा न्याय ब्यवस्था जब भटनी पुलिस को विश्वास में लेकर प्राथिनी के कमरे का ताला तोड़ कर समस्त जमीन और घर को जबरन कब्जा का प्रयास भू माफियाओं द्वारा किया जा रहा है और प्रार्थिनी लॉक डाउन के कारण मुंबई में पडी हुई है |

Hon’ble Sir, Law order is the state subject and it is obligatory duty of the police concerned to take appropriate action in the matter to safeguard the property of the Satendra Mishra so that land and house of Anita Mishra and children may be ensured safe. Think about the gravity of situation that entire family of the vulnerable lady Anita Mishra is being thrown on the road because of the dereliction of the duty of the concerned police.

Two sold their property and the property of the third is being grabbed forcibly through means of corruption whether it is justified? Where is justice in this largest democracy in the world? Anita Mishra took shelter in the court through his husband  and matter is sub judice but who is awaiting the court judgement if police will provide more speedy justice.

From: Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

Sent: Wednesday, May 20, 2020 2:12 PM

To: presidentofindia@rb.nic.in; pmosb; supremecourt; cmup; hgovup@up.nic.in; csup@up.nic.in; uphrclko@yahoo.co.in

Subject: Where is the share of Satendra Mishra in the ancestors property if opposition took its possession forcibly?

An application on behalf of Anita Mishra W/O Satendra Mishra थाना भटनी, जनपद-देवरिया, उत्तर प्रदेश Mobile number-9621742593  |

An application under Article 32 of the constitution of India to direct state government Uttar Pradesh to save our constitutional rights.

To

                                         Chief Justice of India/ Companion Judges of the apex court

                                            Supreme Court of India, New Delhi

Prayer-Whether it is not the reflection of anarchy and failure of law order machinery in the state of Uttar Pradesh where rights of younger brother snatched arbitrarily by colluding with the staffs of government. Undoubtedly this incidence is the mockery of the law of land.

महोदय कांस्टेबल कृष्ण कुमार पाल थाना भटनी, जनपद-देवरिया, उत्तर प्रदेश की रिपोर्ट बेबुनियाद है |क्योकि अनीता मिश्रा पत्नी सतेन्द्र मिश्रा खुद कई बार पुलिस थाना भटनी का चक्कर लगाई तो फिर कांस्टेबल के बुलवाने पर घटना स्थल पर क्यों न जाती | श्री मान जी मामला सिविल जज जूनियर डिवीज़न देवरिया के यहा विचाराधीन है जो की संलग्न प्रश्नोत्तरी से स्पस्ट है |

श्री मान जी कैसा न्याय ब्यवस्था है क्या सतेन्द्र का कही कोई हिस्सा नही है पैत्रिक संपत्ति में और क्या उपरोक्त न्यायालय में वाद जो की प्रार्थिनी पति द्वारा अपने हिस्से के लिए दाखिल किया गया अभी तक कोई निर्णय नही हुआ तो किस आधार पर समस्त पैत्रिक सम्पति पर विपक्षियों द्वारा की जा रही है |

क्या थानाध्यक्ष भटनी का यह निर्णय की जाओ जहा तुम्हारा हो लो आराजकता को नही दर्शाता है |

श्री मान जी पैत्रिक संपत्ति का बटवारा सिविल मामला है और प्रार्थिनी पति द्वारा इस देश के कानून का पालन किया गया किन्तु विपक्षियो द्वारा प्रार्थिनी व उसके पति का हिस्सा न सिर्फ जबरदस्ती कब्ज़ा करके यूज करना बल्कि बेचना अपराधिक मामला है और पुलिस को रोकने के बजाय प्राथिनी से कहना जाओ जहा तुम्हारा हो लो बहुत बड़ी आराजकता को दरशा रहा है | क्या प्रदेश की योगी सरकार इसी तरह कानून का शासन स्थापित करती है |

Most revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due respect to the following submissions as follows.

1-It is submitted before the Hon’ble Sir that  51A. Fundamental duties It shall be the duty of every citizen of India (a) to abide by the Constitution and respect its ideals and institutions, the National Flag and the National Anthem;(h) to develop the scientific temper, humanism and the spirit of inquiry and reform;

(i) to safeguard public property and to abjure violence;

(j) to strive towards excellence in all spheres of individual and collective activity so that the nation constantly rises to higher levels of endeavour and achievement.

2-It is submitted before the Hon’ble Sir that following is the status of the complaint submitted on the Jansunwai portal of the government of Uttar Pradesh by आवेदक का नामअनीता मिश्रा, विषय-पुरानी मकान में 1/3 के बटवारे एवं नव निर्माण को रोकने के सम्बन्ध में

संदर्भ संख्या : 40019019020344 , दिनांक – 20 May 2020 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-

40019019020344

आवेदक का नामअनीता मिश्रा

विषयपुरानी मकान में 1/3 के बटवारे एवं नव निर्माण को रोकने के सम्बन्ध में

विभाग पुलिस

शिकायत श्रेणी

नियोजित तारीख22-12-2019

शिकायत की स्थिति

स्तर थाना स्तर

पद थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक

प्राप्त रिमाइंडर

प्राप्त फीडबैक

दिनांक25-02-2020 को फीडबैक:-पुलिस द्वारा आवश्यक कार्यवाही कि गई।

फीडबैक की स्थिति

पुलिस उप महानिरीक्षक/पुलिस महा निरीक्षक द्वारा दिनाक25-02-2020 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है

संलग्नक देखें

Click here

नोट अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र..

सन्दर्भ का प्रकार

आदेश देने वाले अधिकारी

आदेश/

आपत्ति दिनांक

आदेश/

आपत्ति

आख्या देने

वाले अधिकारी

आख्या दिनांक

आख्या

स्थिति

1

अंतरित

ऑनलाइन सन्दर्भ

22-11-2019

थानाध्‍यक्ष/प्रभारी

नि‍रीक्षकभटनी,

जनपददेवरिया,

पुलिस

21-12-2019

का0 कृष्ण कुमार

पाल द्वारा मौके

पर जाकर के

घटना की जाँच

की गयी ।जाँच

आख्या प्रेषित है

निस्तारित

3-It is submitted before the Hon’ble Sir that undoubtedly the matter is civil if concerned with partition only but to grab the land and house and unauthorized construction and selling it to others without partition makes it a criminal matter. Negligence of police in dealing the matter itself raising question on the accountability of the government machinery. Specially police. Consistent document is attached to this representation for the perusal of the respected sir.

                                खुदा भी आसमाँ से जब जमी पे देखता होगा |

             इस मेरे प्यारे देश को क्या हुआ सोचता होगा||

This is a humble request of your applicant to you Honble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos arbitrarily by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Honble Sir.

Date-20/05/2020           Yours sincerely

                              Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911, Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
5 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Bhoomika Singh
6 months ago

What is the credibility of such public offices where corruption is rampant and no action is taken on the genuine representations of the citizens of the state which is reflection of mockery of the law of land as well as failure of the government machinery in the Uttar Pradesh. Ruthless behaviour of the public functionaries in the state is the cause of resentment among the citizenry in the state.

Beerbhadra Singh
6 months ago

Here this question arises that whether the rights of the common people in the state of Uttar Pradesh are safe where there is lawlessness and Anarchy in the government offices and no file is moving without greasing the palm of the concerned public functionaries which shows that corruption is rampant in the government offices and more surprising is that no accountable public functionaries are taking interest to control this lawlessness and Anarchy.

Arun Pratap Singh
6 months ago

श्री मान जी क्या भटनी पुलिस की जिम्मेदारी नही बनती मुम्बई लॉक डाउन में फसी अनीता मिश्रा का घर जो की पूर्ण रूप से अबिबादित है भू माफियाओं के कब्जे से रोके | Undoubtedly corruption has crossed every limit in this largest democracy in the world and government of Uttar Pradesh. is two steps forward.

Preeti Singh
6 months ago

महोदय कांस्टेबल कृष्ण कुमार पाल थाना –भटनी, जनपद-देवरिया, उत्तर प्रदेश की रिपोर्ट बेबुनियाद है |क्योकि अनीता मिश्रा पत्नी सतेन्द्र मिश्रा खुद कई बार पुलिस थाना भटनी का चक्कर लगाई तो फिर कांस्टेबल के बुलवाने पर घटना स्थल पर क्यों न जाती | श्री मान जी मामला सिविल जज जूनियर डिवीज़न देवरिया के यहा विचाराधीन है जो की संलग्न प्रश्नोत्तरी से स्पस्ट है | It is quite obvious that matter is sub judice but nothing will be left for judge to decide.