Undoubtedly Supply inspector procrastinated on the matter but finally God accompanied with luck of handicapped

Licensee is Panchu Pasi but control rate shopkeeper is Bijay Bahadur Singh and his son, is not corruption.
Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh <yogimpsingh@outlook.com>
Wed 15-04-2020 04:06 PM

  •  pmosb <pmosb@pmo.nic.in>;
  •  presidentofindia@rb.nic.in <presidentofindia@rb.nic.in>;
  •  supremecourt <supremecourt@nic.in>;
  •  urgent-action <urgent-action@ohchr.org>;
  •  cmup <cmup@up.nic.in>;
  •  csup@up.nic.in <csup@up.nic.in>;
  •  hgovup@up.nic.in <hgovup@up.nic.in>;
  •  uphrclko@yahoo.co.in <uphrclko@yahoo.co.in>
2 attachments (2 MB)
Corruption in DSO Mirzapur.pdf; grievanceDocument (1).pdf;

महोदय क्या प्रार्थी को यह बताया जाएगा की जब GOVUP/E/2019/36415 के साथ समस्त आधार कार्ड संलग्न है तो पूर्ति निरीक्षक द्वारा लॉक –डाउन पीरियड में विकलांग महबूब अली से आधार कार्ड माँगने का औचित्य क्या था | श्री मान जी जिस नंबर से महबूब अली को फोन किया गया उस पर व्हाट्स अप एक्टिव नही है | अर्थात महबूब अली जो की एक बिकलांग है उनसे अपेक्षा की गयी वे जिला मुख्यालय स्थित तहसील सदर आये जो की किसी तरह से संभव नही है | और उसी को आधार बना कर आपने ब्यथा को निस्तारित मान लिया | श्री मान जी कब तक झूठ के सहारे इस सरकार को चलायेगे | १२ यूनिट के स्थान पर आप चार यूनिट दे रहे है बताइए इस लॉक डाउन में उनके परिवार का भरण पोषण कैसे होगा |

पूर्ति निरीक्षक पूरे तहसील को भ्रस्टाचार का अड्डा बना रखे जिला पूर्ति अधिकारी को विश्वास में ले कर और इसी तरह मनमाना जवाब लगा कर शिकायतों का निस्तारण करा देते है | ऐसे ही अधिकारियों के सहारे अनाज वितरण हो रहा है | कौन सी ऐसी गड़बड़ी है जो जिलापूर्ति कार्यालय मिर्ज़ापुर में नही है | खुद प्रार्थी के दर्जनों प्राथना पत्र जिसमे मिट्टी के तेल से डीजल बनाने तक शामिल है सरकार द्वारा कोई कारवाही नही किया गया |

और ण आज तक कोई कार्यवाही रिपोर्ट दिया गया | यह वही विभाग है जिसका पूर्ति निरीक्षक मेरा हलफनामा लगा कर ब्यथा निवारण कर दिया और मुझे तब मालुम हुआ जब रिपोर्ट जनसुनवाई पोर्टल पर आया | और जब मैंने बिरोध किया तब भी सरकार द्वारा कोई कार्यवाही नही किया गया | इस प्रत्यावेदन के साथ समस्त आधार कार्ड लगे है |

पांचू पासी लॉक डाउन में आये  है और दूकान देख रहे है क्यों की कैश फॉर इंडिया बंद है अब विजय बहादुर और उनके लड़के को कैश फॉर इंडिया में भेजिए. अन्यथा दूकान के लिए टेंडर इनवाईट करिए | दूकान में केयर टेकर नही licensee/लाइसेंस धारक बैठता है | आपकी व्यवस्था के अनुसार एक व्यक्ति कई दूकान का लाइसेंस लेकर केयर टेकर नियुक्त कर देगा जैसा की पुर्तिनिरीक्षक छानवे कर रहे है |

Most revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due respect to the following submissions as follows.

1-It is submitted before the Hon’ble Sir that  51A. Fundamental duties It shall be the duty of every citizen of India (a) to abide by the Constitution and respect its ideals and institutions, the National Flag and the National Anthem;(h) to develop the scientific temper, humanism and the spirit of inquiry and reform;

(i) to safeguard public property and to abjure violence;

(j) to strive towards excellence in all spheres of individual and collective activity so that the nation constantly rises to higher levels of endeavour and achievement.

2-It is submitted before the Hon’ble Sir that following is the स्टेटस of the grievance submitted by the applicant GOVUP/E/2019/36415 के साथ समस्त आधार कार्ड संलग्न है and entire Aadhar cards are also attached to this representation.

 

Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2019/36415

Grievance Concerns To

Name Of Complainant-Yogi M. P. Singh

Date of Receipt-07/11/2019

Received By Ministry/Department-Uttar Pradesh

Grievance Description-An application under article 51 A of the constitution of India on behalf of Mahboob Ali name of the father Abdul Sattar Mobile number 7393995322 also containing his hand written signed submission with attached documents to the this representation. There is complete irregularity in the distribution of ration in the Control rate shop in village panchayat Adampur Post Nibee Gaharwar district Mirzapur development block Chhanvey. Here matter is concerned with Mahboob Ali name of the father Abdul Sattar who was provided ration card of 7 units but later he was only provided the ration of the five units and later which means now he is only provided ration of the 4 units, how can it be justified sir. Mahboob  Ali has made the allegations to the senior rank officers in the district Mirzapur that control rate ration shop has been allotted to the Panchu Pasi but this control rate ration shop is being operated by the elder brother Vijay Bahadur Pasi of the Panchu  Pasi who is the elder brother of Panchu Pasi which is illegal and must not be allowed. According to him this illegal practice is continued since 20 years and no officer is taking cognizance of it. According to him whether he may be provided ration card of 9 units or his two matured sons may be provided ration cards separately as required by the law. Along with this representation Aadhar card of all the nine members of the family  are attached for the convenience of the public staff so that unusual procrastination may not be made by the concerned public staffs in order to increase the units of the ration card. In other words it can be said that they may restore the original condition of the ration cards containing 7 units. plus two additional new units. It is quite obvious from the attached documents Mahboob Ali is handicapped quite obvious from the certificate provided by the Chief medical officer of the Mirzapur district attached to the representation  so his torture being perpetrated by government staff tantamount to the violation of human rights which must not be promoted. Here this question arises that whether the arbitrariness and tyranny of the public staffs may be tolerated by the government in providing the public assistance to the weaker and downtrodden section. Undoubtedly behind this irregularity there is rampant corruption which is prevailed throughout the government machinery.

Grievance Document

Current Status-Case closed

Date of Action-30/03/2020

Remarksअधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित आख्या अपलोड है उक्त प्रकरण की जांच पूर्ति निरीक्षक द्वारा करायी गयी पूर्ति निरीक्षक की जांच आख्या अनुसार शिकायतकर्ता श्री योगी एम पी सिंह ने महबूब अली द्वारा यूनिट कट जाने के संबंध में शिकायत की है उक्त के संबंध में अवगत कराना है कि महबूब अली के मोबाइल नम्बर 7393995322 पर 30.03.2020 को 08 बजकर 21 मिनट पर संपर्क किया गया तो उन्होंने आधार कार्ड की छायाप्रति देने से मना कर दिया तथा कहते है कि 20 वर्षों से आदमपुर ग्राम सभा का जो कोटे की दुकान संचालन करता है वह फर्जी है लेकिन उनको बताया गया कि विजय बहादुर पासी कोटेदार को सहयोगी है परन्तु वे सहमत नहीं है इसलिये ये बार बार शिकाकत करते रहेंगे अतः शिकायत को निस्तारण करने का कष्ट करे आख्या सेवा में सादर प्रेषित

Reply Document

Rating

Poor

Rating Remarks

Whether in this locked-down, Supply inspector is not hatching a conspiracy to teach a lesson to poor handicapped as police will beat mercilessly. Sir whether the supply inspector is a layman cannot understand the language of the submitted application. Whether he does not know the submitted application contains the attached PDF documents in which all the Aadhar cards have been submitted and he told that Mahboob Ali did not provide photocopy instead he had to take the perusal of those Aadhar cards attached to representation. Moreover, now he is taking recourse that aggrieved applicant Mahboob Ali is not providing Aadhar card how much surprising and he is making stupid not only handicapped Mahboob Ali and complainant Yogi M. P. Singh but also senior rank officers who are incompetent to understand the conning approach of the subordinate officer that is Supply Inspector who is colluding with the wrongdoer Control rate shopkeepers in the area.

Officer Concerns To

Officer Name-Shri Arun Kumar Dube

Officer Designation-Joint Secretary

Contact Address-Chief Minister Secretariat U.P. Secretariat, Lucknow

Email Address Contact Number-05222215127

3-It is submitted before the Hon’ble Sir that following is the status of the second grievance submitted by the applicant on behalf of Mahboob Ali.

Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2020/00765

Grievance Concerns To

Name Of Complainant-Yogi M. P. Singh

Date of Receipt-07/01/2020

Received By Ministry/Department-Uttar Pradesh

Grievance Description

An application under article 51 A of the constitution of India. This representation is on behalf of Mahboob Ali who is a handicapped sufferer of atrocity of public staffs. Detail is attached to representation.
सरकारी सस्ते गल्ले की दूकान पंचू पासी के नाम किन्तु उनका बड़ा भाई विजय बहादुर और विजय बहादुर का लड़का चलाता है सारी कार्यवाही उन्ही के द्वारा किया जाता है क्या यह जालसाजी नही है पंचू पासी तो कैश फॉर इंडिया में सर्विस करता है ग्यारह यूनिट का कार्ड चार यूनिट का बन गया क्या यह भ्रष्टाचार नही है महबूब अली प्रार्थी खुद एक विकलांग है कहा है न्यायशोषक कभी न्यायी नही हो सकता

Grievance Document

Current Status

Case closed

Date of Action

17/03/2020

Remarks

उक्त प्रकरण की जांच पूर्ति निरीक्षक द्वारा करायी गयी पूर्ति निरीक्षक की जांच आख्या अनुसार सन्दर्भ संख्या 60000200003252 का संदर्भ ग्रहण करने का कष्ट करें जिसमें शिकायतकर्ता श्री योगी एम पी सिंह द्वारा दुकान विक्रेता द्वारा न संचालित होने के सम्बन्ध में शिकायत की है द्य उक्त के संबंध में अवगत कराना है कि विक्रेता पंचू पासी के बड़े भाई तथा उनका लड़का विक्रेता के सहयोगी है तथा ये विक्रेता का सहयोग करने के लिए है और जिन कार्ड के यूनिट में आधार नहीं लगा है वह यूनिट कट गया है यदि आधार कार्ड उपलब्ध करा दे तो यूनिट पुनः जोड़ा जा सकता है आख्या सेवा में सादर प्रेषित

Reply Document

Rating

Poor

Rating Remarks

Think about the gravity of the situation that matter is concerned with the deep-rooted corruption and there is substantial evidence to cheat government but, unfortunately, concerned public functionaries are colluding with the wrongdoers in the fraudulent activities. Whether it is good governance as being claimed by accountable politicians? How the human rights of a handicapped is secure if his rights are being encroached by the corrupt public functionaries and submitting false reports which are being accepted by the accountable public functionaries by keeping their eyes closed?

Officer Concerns To

Officer Name-Shri Arun Kumar Dube

Officer Designation-Joint Secretary

Contact Address-Chief Minister Secretariat U.P. Secretariat, Lucknow

Email Address Contact Number-05222215127

खुदा भी आसमाँ से जब जमी पे देखता होगा |

इस मेरे प्यारे देश को क्या हुआ सोचता होगा||

This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos arbitrarily by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.

Date-15/04/2020           Yours sincerely

Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911, Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
6 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Arun Pratap Singh
3 months ago

पांचू पासी लॉक डाउन में आये है और दूकान देख रहे है क्यों की कैश फॉर इंडिया बंद है अब विजय बहादुर और उनके लड़के को कैश फॉर इंडिया में भेजिए. अन्यथा दूकान के लिए टेंडर इनवाईट करिए | दूकान में केयर टेकर नही licensee/लाइसेंस धारक बैठता है | आपकी व्यवस्था के अनुसार एक व्यक्ति कई दूकान का लाइसेंस लेकर केयर टेकर नियुक्त कर देगा जैसा की पुर्तिनिरीक्षक छानवे कर रहे है |
Under which law, control rate shop is being operated by the elder brother Vijay Bahadur and Licensee is the employee of Cash for India a financial institution.

Yogi M. P. Singh
3 months ago

सरकारी सस्ते गल्ले की दूकान पंचू पासी के नाम किन्तु उनका बड़ा भाई विजय बहादुर और विजय बहादुर का लड़का चलाता है सारी कार्यवाही उन्ही के द्वारा किया जाता है क्या यह जालसाजी नही है पंचू पासी तो कैश फॉर इंडिया में सर्विस करता है ग्यारह यूनिट का कार्ड चार यूनिट का बन गया क्या यह भ्रष्टाचार नही है महबूब अली प्रार्थी खुद एक विकलांग है कहा है न्याय, शोषक कभी न्यायी नही हो सकता

Vandana Singh
Vandana Singh
3 months ago

लॉक –डाउन पीरियड में विकलांग महबूब अली से आधार कार्ड माँगने का औचित्य क्या था | श्री मान जी जिस नंबर से महबूब अली को फोन किया गया उस पर व्हाट्स अप एक्टिव नही है | अर्थात महबूब अली जो की एक बिकलांग है उनसे अपेक्षा की गयी वे जिला मुख्यालय स्थित तहसील सदर आये जो की किसी तरह से संभव नही है | और उसी को आधार बना कर आपने ब्यथा को निस्तारित मान लिया | श्री मान जी कब तक झूठ के सहारे इस सरकार को चलायेगे | १२ यूनिट के स्थान पर आप चार यूनिट दे रहे है बताइए इस लॉक डाउन में उनके परिवार का भरण पोषण कैसे होगा |

Pratima Parihar
Pratima Parihar
3 months ago

संलग्न दस्तावेजों से यह काफी स्पष्ट है कि महबूब अली के प्रत्यावेदन से जुड़े मिर्जापुर जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रदान किए गए प्रमाण पत्र से काफी स्पष्ट है की वे विकलांग हैं, इसलिए उनकी यातना सरकारी कर्मचारियों द्वारा मानव अधिकार के उल्लंघन के रूप में लिया जा रहा है जो कि नजर अंदाज नहीं होना चाहिए यहाँ यह प्रश्न उठता है कि क्या सरकार द्वारा कमजोर और दलित वर्ग को सार्वजनिक सहायता प्रदान करने में सार्वजनिक कर्मचारियों की मनमानी और अत्याचार को सहन किया जा सकता है। निस्संदेह इस अनियमितता के पीछे व्याप्त भ्रष्टाचार है जो पूरे सरकारी तंत्र में व्याप्त है।

Preeti Singh
3 months ago

If the Aadhar card was attached to the grievance why are they procrastinating on the matter since one year and poor family of the handicapped was kept on the verge of hunger? Whether it is the reflection of the good governance in the government of Uttar Pradesh. To be honest on the public fora and to be actually honest in its working both are different. Our political masters are pseudo honest and its advertisement is made by rumour mongering media of this country which hypnotize the weaker mindset.