Truth of polythene ban, clean and sanitation campaign and shelters of cow mother

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
Truth of polythene ban, clean and sanitation campaign and shelters of cow mother.
1 message
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 15 March 2019 at 12:47

To: pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, supremecourt <supremecourt@nic.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, cmup <cmup@up.nic.in>, hgovup@up.nic.in, csup@up.nic.in, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, lokayukta@hotmail.com


Undoubtedly government is not serious in
order to upgrade the deteriorating conditions of cow mother quite obvious from
the dealings of its accountable public functionaries. Because of mismanagement
and negligence of the public staff, cows are dying of infectious serious
disease Hoof and mouth disease which spread
like an epidemic because of dereliction of
the concerned public staff.
With due respect and regard to Hon’ble Sir, the appellant invites
the kind attention of the Hon’ble Sir to the following submissions as
follows.
An enquiry under article 51 A of the constitution of India as a
step towards the
betterment of the Society. 
1-It is submitted
before the Hon’ble Sir that  51A. Fundamental duties 
It shall be the
duty of every citizen of India (a) to abide by the 
Constitution and
respect its ideals and institutions, the National Flag 
and the National
Anthem;(h) to develop the scientific temper,
humanism 
and the spirit of
inquiry and reform;
(i) to safeguard public property and to
abjure violence;
(j) to strive towards excellence in all
spheres of individual and collective 
activity so that the nation constantly rises to higher levels of
endeavour 
and achievement
2-It is submitted before the Hon’ble Sir that growing number
of cows death was taken seriously by the
apex court of India so its staff diarised the matter but it seems that its
effect would be void in this anarchy where lawlessness, anarchy and tyranny are rampant in the government machinery.
Diary No.
13149/SCI/PIL(E)/2019
Application Date
23-02-2019
Received On
08-03-2019
Applicant Name
MAHESH PRATAP SINGH YOGI M P SINGH
Address
E-MAIL
State
9999
Action Taken
UNDER PROCESS
3-It is submitted before the Hon’ble
Sir that so called these shelters of the cow mother is only on papers
nothing else. When these cows are travelling on roads congregating at four
corner road and in various mohallas which means entire claims of state
government functionaries are hollow and they are only sounding like drums. Hundreds
of cows are collecting in the Mohalla Surekapuram quite obvious from the
attached pictures.
गोवंश आश्रय स्थलों का हाल बेहाल
वाराणसी ब्यूरो Updated Fri, 15 Mar 2019 01:00 AM IST
मिर्जापुर। पशु आश्रय स्थलों में रखे गए पशु आश्रय स्थलों का हाल
बेहाल है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि पशुओं को चारा नहीं दिया जा रहा है। भूसा
की जगह पुआल का प्रयोग किया जा रहा है। ऐसे में कई पशुओं की मौत भी होने की बात
कही जा रही है।
विज्ञापन
जिले में अस्थायी रूप से एक दर्जन पशु आश्रय स्थलों की व्यवस्था की
गई है। इन जगहों पर घूम रहे छुट्टा पशुओं को पकड़कर रखने की व्यवस्था की गई है।
नगर में भी दो पशु आश्रय स्थल बनवाए गए हैं। एक एएसजे इंटर कालेज के सामने
कांजीहाउस में तथा दूसरा गैबी घाट में। इन दोनों ही जगहों पर रखे गए पशुओं का हाल
बेहाल है। आसपास के लोगों का आरोप है कि पशुओं को जब कोई छुड़ाने जाता है तो उससे
70 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से खुराक
चार्ज लिया जाता है। जबकि पशुओं को पुआल खिलाया जा रहा है। इससे कई पशुओं के जीवन
पर संकट आ गया है। नागरिकों का तो यहां तक आरोप है कि पुआल के चलते ही कई पशुओं की
मौत हो चुकी है। अब भी इसी तरह से काम चलाया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से
इसके लिए बजट जारी करने की बात कही जा रही है। मौके पर एकाध कर्मचारी ही दिखाई दे
रहे हैं।

जारी कर दिया गया है बजट
इन पशु आश्रय स्थलों के लिए जिला प्रशासन की ओर से 16 लाख 34 हजार चार सौ रुपये का बजट जारी कर
दिया गया है। आठ पशु आश्रय स्थलों के लिए बजट जारी किया गया है। इसमें से नगर
क्षेत्र के पशु आश्रय स्थल के लिए चार लाख
51 हजार आठ सौ रुपये का बजट जारी किया
गया है।

पशु आश्रय स्थलों की देखभाल अच्छी तरह से की जा रही है। नागरिकों
की सहायता से उनको चारा
, भूसा व हरी सब्जियां भी दी जा रही हैं। कोई परेशानी नहीं है। –
रामजी उपाध्याय
, प्रभारी ईओ, नगर पालिका परिषद मिर्जापुर

नपाध्यक्ष, डीएम और अन्य ने किया था निरीक्षण
मिर्जापुर। लगातार आ रही इन्हीं शिकायतों के चलते बुधवार को नगर
पालिकाध्यक्ष मनोज जायसवाल
, जिलाधिकारी और अन्य ने पशु आश्रय स्थलों का निरीक्षण किया था।
आवश्यक कार्रवाई के लिए कई निर्देश भी दिए गए थे।

This is a humble
request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to
withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos
in an arbitrary manner by making the mockery of law of land? This is the need
of the hour to take harsh steps against the wrongdoer in order to win the
confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and
prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble
Sir.                                                         
   
                     
                     
                     
                     
    Yours sincerely
Date-15-03-2019 
                     
                    Yogi M.
P. Singh, Mobile number-7379105911, Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road,
District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001


2 attachments
Vulnerability of the mother cow.pdf
680K
Vulnerability of the mother cow.docx
1552K

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Yogi
1 year ago

Undoubtedly government is not serious in order to upgrade the deteriorating conditions of cow mother quite obvious from the dealings of its accountable public functionaries. Because of mismanagement and negligence of the public staff, cows are dying of infectious serious disease Hoof and mouth disease which spread like an epidemic because of dereliction of the concerned public staff.

Beerbhadra Singh
1 year ago

There are many cow Shelters in this district but cows and their families are running on streets in miserable conditions and the fund mean to them is flowing into the packets of corrupt executive and bureaucrats such is the poor condition of this state and it is unfortunate that no one is taking action on representations if some public spirited person is making efforts in this direction which is the reflection of sheer lawlessness and Anarchy in the function of state machinery such aristocratic approach must be stopped but who will stop is a question in itself because most are corrupt in our society. Illiteracy and the little knowledge are our main foe which are eating this largest democracy in the world.

Preeti Singh
1 year ago

Following is the real fact and entire fund is flowing into the pockets of the corrupt public functionaries.
जिले में अस्थायी रूप से एक दर्जन पशु आश्रय स्थलों की व्यवस्था की गई है। इन जगहों पर घूम रहे छुट्टा पशुओं को पकड़कर रखने की व्यवस्था की गई है। नगर में भी दो पशु आश्रय स्थल बनवाए गए हैं। एक एएसजे इंटर कालेज के सामने कांजीहाउस में तथा दूसरा गैबी घाट में। इन दोनों ही जगहों पर रखे गए पशुओं का हाल बेहाल है। आसपास के लोगों का आरोप है कि पशुओं को जब कोई छुड़ाने जाता है तो उससे 70 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से खुराक चार्ज लिया जाता है। जबकि पशुओं को पुआल खिलाया जा रहा है। इससे कई पशुओं के जीवन पर संकट आ गया है। नागरिकों का तो यहां तक आरोप है कि पुआल के चलते ही कई पशुओं की मौत हो चुकी है। अब भी इसी तरह से काम चलाया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से इसके लिए बजट जारी करने की बात कही जा रही है। मौके पर एकाध कर्मचारी ही दिखाई दे रहे हैं।