Time has come to show loyalty and serve the country at the cost of life maintenance

चोर चोर मौसेरे भाई Who will provide us justice if we are facing scarcity of honest public functionaries?

Monday, May 11, 2020

2:29 PM

Subject

चोर चोर मौसेरे भाई Who will provide us justice if we are facing scarcity of honest public functionaries?

From

Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

To

pmosb; presidentofindia@rb.nic.in; supremecourt; urgent-action; cmup; hgovup@up.nic.in; csup@up.nic.in; uphrclko; SBI Contact Centre; gm.customer@sbi.co.in; sbi.12731@sbi.co.on; sbi.12731@sbi.co.in; sbi.07806@sbi.co.in

Sent

Monday, May 11, 2020 2:27 PM

Attachments

Anarchy in SBI .pdf

SBI illogical and unnatural reply.pdf

श्री मान जी सच्चाई और ड्रामा में क्या कोई अंतर नही होता है? कहा से दो दो लाख तीन लाख रपये पर व्यक्ति तनख्वाह आयेगी | जिस ब्यवस्था ने आप को यह ऐश्वर्य की जिन्दगी दी है जिसको आप ने मनमाने तरीके से चलाया संबिधान की धज्जिया उड़ा के आज वही आप से त्याग चाहता अब आप लोगो को देश की सेवा निःस्वार्थ भाव से करनी होगी और मोदी सर से कंधे से कन्धा मिला कर चलना होगा | अब समय आ गया है आप स्वार्थ परक बातो से ऊपर उठ कर देश के बारे में सोचे और अब नमक अदा करने का समय आ गया |

इस कोरोना के लिए इस देश का भ्रस्टाचार जिम्मेदार और इस समय स्थिति बेकाबू हो चुकी है |धैर्य, सामर्थ्य और बुद्धि से समाज की रक्षा होती है जो हमसे कोसो दूर है इसी लिए पतन की चरम सीमा पर है | कल भी दो जून की रोटी नही मिलती थी आज भी वही है सोचना उन लोगो को है जिन्हें दो महीने पश्चात चार चार पाच पाच लाख तनख्वाह नसीब होगा की  नही |

पौराणिक कथा अंधेर नगरी चौपट राजा की कथा खूब चरितार्थ होती है | टका सेर भाजी टका सेर खाझा ||

1 message

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>

3 September 2018 at 14:04

To: pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, supremecourt <supremecourt@nic.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, cmup <cmup@up.nic.in>, hgovup@up.nic.in, csup@up.nic.in, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, SBI Contact Centre <contactcentre@sbi.co.in>, gm.customer@sbi.co.in, sbi.12731@sbi.co.on, sbi.12731@sbi.co.in, sbi.07806@sbi.co.in

मोदी सर इस लोकतंत्र जो भी आराजकता है उसे रोकने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी यदि किसी की है तो उसे आप जानते है और शायद अपने नजरिये से रोकने का भी प्रयास कर रहे होंगे | इस आराजकता की और प्रार्थी आपका ध्यान आक्रिस्ट करना चाहता है |

१-प्रार्थी द्वारा दिनांक ०१ / ०५ /२०१८ को डिमांड ड्राफ्ट / बैंकर्स चेक रूपया २००  के लिए ऑनलाइन आवेदन किया गया जिस पर स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा रूपया ८४ कमीशन चार्ज किया गया |

२-भारतीय स्टेट बैंक जो की भारत सरकार का सब से दुलारा बैंक है उपरोक्त चेक एक हप्ते के बजाय तीन हप्ते से भी ज्यादा समय लिया गया प्रार्थी को उपलब्ध कराया गया जिसका स्कैन कॉपी पीडीऍफ़ फॉर्म में संलग्न है |

३-दिनांक २६-०६-२०१८ को RTO कार्यालय मिर्ज़ापुर ने ऑफलाइन आवेदन लेने से इनकार कर और डिमांड ड्राफ्ट / बैंकर्स चेक रूपया २०० वापस कर दिया जिसका स्कैन कॉपी संलग्नक के रूप में प्रत्यावेदन के साथ लगी हुई है |

४-प्रार्थी द्वारा उपरोक्त चेक को भारतीय स्टेट बैंक की मिर्ज़ापुर शहर शाखा को उपलब्ध कराया गया जिससे की रूपया २०० प्रार्थी के खाते में वापस हो सके काफी हीला हवाली के उपरांत शाखा प्रबंधक भारतीय स्टेट बैंक ने रुपया २३६ प्रोसेसिंग फीस निर्धारित किया है | जिसको जमा करने के उपरांत ही हमारा रूपया २०० हमारे खाते में अंतरित हो सकेगा | अर्थात अपना रूपया २०० पाने वास्ते रुपया २३६ अपने जेब से देना होगा

५- श्री मान जी जो पैसा RTO कार्यालय मिर्ज़ापुर के लेने से इनकार करने पर स्वतः ही प्रार्थी के खाते में अंतरित हो जाना चाहिए रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के नयी गाइड लाइन के अनुसार उसी पैसे को खाते में अंतरित करने वास्ते उससे भी ज्यादा प्रोसेसिंग फीस की माग की जा रही है और आप की सरकार मूक दर्शक बन कर तमाशा देख रही है |

६-श्री मान जी यह वही बैंक है जो ५० रुपये पेमेंट पर भी ५७ रुपये कमीशन लेती है विद्यार्थियों से १०० रुपये पर भी ५७ रुपये कमीशन लेती है २०० रुपये पर भी ५७ रुपये लेती है और तीन सौ  पर भी ५७ रूपये कमीशन लेता है | जिसको ख़त्म करने के लिए मैंने एडी चोटी का जोर लगाया और मामला कमीशन तक गया किन्तु कोई हल नही निकला | किन्तु आप की नजर सब कुछ सही है और आप से अच्छी सरकार किसी ने दी ही नही आज तक

आप की सरकार के लिए पौराणिक कथा अंधेर नगरी चौपट राजा की कथा खूब चरितार्थ होती है |अंधेर नगरी  चौपट राजा | टकासेर भाजी टका सेर खाझा ||

Most revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due respect to the following submissions as follows.

1-It is submitted before the Hon’ble Sir that  51A. Fundamental duties It shall be the duty of every citizen of India (a) to abide by the Constitution and respect its ideals and institutions, the National Flag and the National Anthem;(h) to develop the scientific temper, humanism and the spirit of inquiry and reform;

(i) to safeguard public property and to abjure violence;

(j) to strive towards excellence in all spheres of individual and collective activity so that the nation constantly rises to higher levels of endeavour and achievement.

2-It is submitted before the Hon’ble Sir that आवेदन का विवरण शिकायत संख्या40019919022742, आवेदक कर्ता का

नाम: Yogi M. P. Singh. Following is the status of the grievance.

संदर्भ संख्या : 40019919022742, दिनांक – 11 May 2020 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:--40019919022742

आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singh

विषय- आवेदन का विवरण शिकायत संख्या-40019918015567 आवेदक कर्ता का नाम:-Yogi M P Singh आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:7379105911, विषय: Why did RTO Mirzapur not make available the renewed driving licence in itself a mystery Following Signed request was sent on 19-05-2018 to RTO Office Mirzapur along with the requisite documents addressed as follows but it is unfortunate that concerned didn’t take any action on the matter while the documents were delivered to RTO Office Mirzapur on 22-05-2018 ipso facto obvious from the speed post tracking of the concerned mail attached to this application. And more. आख्या-जिलाधिकारी 22 – Jun – 2018 सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी-मिर्ज़ापुर,परिवहन विभाग कृपया जॉंचोपरान्त आवश्‍यक कार्यवाही करने का कष्ट करें 27/06/2018 शिकायत में उल्लिखित डीएल के संबंध में आख्‍या संलग्‍न कर प्रेषित है। निस्तारित श्री मान जी उपरोक्त प्रकरण का सारांश कुछ इस प्रकार है | प्रार्थी ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत करना चाहा सारथी पोर्टल लैपटॉप के स्क्रीन पर मैसेज डिस्प्ले हुआ चालक लाइसेंस सा सम्बंधित सूचना फीड नहीं है तो प्रार्थी इनके यहां फॉर्म फॉर्म ९ भर कर ऑफ़ लाइन रिन्यूअल के लिए अनुनय विनय किया गया किन्तु सम्बंधित कर्मचारी द्वारा सीधे आवेदन लेने से मना कर दया गया | अब प्रार्थी के पास कोई विकल्प नहीं था क्योकि वे लोग उस समय १५०० रुपये की मांग कर रहे थे | और यह १५०० रूपये के अतिरिक्त कुछ नही लग रहा था | इसलिए मैंने स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया से २०० रुपये का ड्राफ्ट बनवाया और जिसके प्रोसेस में लगभग १ महीने लगा | फिर प्रार्थी द्वारा फॉर्म ९ को पुनः स्पीड रजिस्टर्ड डाक से आर. टी. ओ. मिर्ज़ापुर के पास भेजा किन्तु इन्होने उसे भी बैंक ड्राफ्ट के साथ वापस कर दिया | जैसा की संलग्नक संख्या ५ से स्पष्ट है | श्री मान जी आप संलग्नको का अवलोकन करे देखिये आर. टी. ओ. मिर्ज़ापुर ने वित्तीय वर्ष २०१८-२०१९ में ४६५ चालक लाइसेंस का शुल्क कैश के रूप में लिया है | और इस तरह से ९७५५० रुपये शुल्क कॅश के रूप में कलेक्ट किया गया | अर्थात उपरोक्त आवेदनों को ऑफ़ लाइन प्रोसेस किया गया और यह तब किया गया जब की प्रार्थी से न तो शुल्क कैश के रूप में लिया गया और नहीं बैंक ड्राफ्ट के रूप में लिया गया | और चौकाने वाले तथ्य उपरोक्त से स्पष्ट है की औसत प्रति चालक लाइसेंस शुल्क -२०९ रुपये ७९ पैसे है और आज के तिथि में प्रार्थी से ३००० रुपये दो पहिया वाहन चालक नवीनीकरण शुल्क मांगा जा रहा है | श्री मान जी क्या यह महान लोकतंत्र गरीबो मजलूमों का इसी तरह शोषण करता है और लोकतंत्र के रक्षक मूक दर्शक हो कर तमाशा देखते है |

विभाग – परिवहन विभाग

शिकायत श्रेणी – नियोजित तारीख- 17-06-2019

शिकायत की स्थिति- स्तर –

जनपद स्तर पद – सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी

प्राप्त रिमाइंडर- प्राप्त फीडबैक –

दिनांक15-06-2019 को फीडबैक:- श्री मान जी आप की आख्या है और व्यथा निस्तारित हो गयी यही कारण है सरकार के हर कार्यालय में भ्रष्टाचार का बोलबाला है क्योकि भ्र्ष्टाचार को देख कर हमारे लोकसेवक आँख बंद कर लेते है | लेट फीस माफी के परिवहन आयुक्तक महोदय के पत्र दिनांक 29-04-2019 प्राप्त हुये है। अत: आप ऑन लाइन फीस जमा कर नियत तिथि को कार्यालय में उपस्थित होकर बायोमैट्रिक करा सकते है। क्या उपरोक्त आख्या शिकायत के बिंदुओं से मेल खाती है | यदि नहीं तो कैसा निस्तारण | श्री मान जी आप संलग्नको का अवलोकन करे देखिये आर. टी. ओ. मिर्ज़ापुर ने वित्तीय वर्ष २०१८-२०१९ में ४६५ चालक लाइसेंस का शुल्क कैश के रूप में लिया है | और इस तरह से ९७५५० रुपये शुल्क कॅश के रूप में कलेक्ट किया गया | अर्थात उपरोक्त आवेदनों को ऑफ़ लाइन प्रोसेस किया गया और यह तब किया गया जब की प्रार्थी से न तो शुल्क कैश के रूप में लिया गया और नहीं बैंक ड्राफ्ट के रूप में लिया गया | और चौकाने वाले तथ्य उपरोक्त से स्पष्ट है की औसत प्रति चालक लाइसेंस शुल्क -२०९ रुपये ७९ पैसे है और आज के तिथि में प्रार्थी से ३००० रुपये दो पहिया वाहन चालक नवीनीकरण शुल्क मांगा जा रहा है | इस व्यथा में मैंने आप से जानना चाहा है की उपरोक्त जंगल राज का कारण क्या है और क्या आप के जिम्मेदार अधिकारी भी इस घोटाले में शामिल है जिस प्रकार आरोप भी प्रमाण के साथ लगाए जाते है उसी तरह जवाब भी प्रमाण के साथ कर खंडन किया जाता है | क्यों की किसी भी चालक लाइसेंस में १५०० से कम तो लिया ही नहीं जाता है | पूरा मिर्ज़ापुर जानता है की चालक लाइसेंस बनवाने का खर्च ३००० रुपये से कम तो हो ही नहीं सकता और श्री मान सरकारी खजाने में सिर्फ २०९ रुपये ७९ पैसे ही क्यों पहुंच रहा है खजाने को इतना बड़ा चूना कौन लगा रहा है | There is no interference of personnel in the processing of the driving license as entire process is online. I will apprise each stage to the competent accountable public functionaries. Appl No.: 1574512519, Appl Date: 03-06-2019, RTO Name: RTO, MIRZAPUR Name: MAHESH PRATAP SINGH DOB: 22-06-1971, Father’s Name: RAJENDRA PRATAP SINGH, S.NO -1, Transactions Applied -DL BACKLOG ENTRY, Class of vehicles- MCWG, Reference Licence Number- UP63 19981633749, Details of the Flows Completed By the Applicant, Transaction Name- DL BACKLOG ENTRY, Action Name- DL BACKLOG DATA ENTRY, Status- Completed, Processed On-03-06-2019 Current Status- Application is under processing at RTO Level. Transaction Name–DL BACKLOG ENTRY, Application Processing Stage- APPROVAL OF DL BACKLOG, Counter -RTOAUTH1. श्री मान जी जब चालक लाइसेंस बैकलॉग का अनुमोदन ही नहीं किया जा रहा है सड़क परिवहन कार्यालय मिर्ज़ापुर द्वारा तो प्रार्थी शुल्क कैसे जमा करेगा उपरोक्त स्टेटस का अवलोकन आप क्यों नहीं करते |

फीडबैक की स्थिति –

जिलाधिकारी द्वारा दिनाक05-07-2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है

संलग्नक देखें –

Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र..

सन्दर्भ का प्रकार

आदेश देने वाले अधिकारी

आदेश/आपत्ति दिनांक

आदेश/आपत्ति

आख्या देने

वाले अधिकारी

आख्या

दिनांक

आख्या

स्थिति

1

अंतरित

ऑनलाइन सन्दर्भ

10-06-2019

सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी-मिर्ज़ापुर,परिवहन विभाग

14-06-2019

लेट फीस माफी के परिवहन आयुक्तक महोदय के पत्र दिनांक 29-04-2019 प्राप्त हुये है। अत: आप ऑन लाइन फीस जमा कर नियत तिथि को कार्यालय में उपस्थित होकर बायोमैट्रिक करा सकते है।

C-श्रेणीकरण

2

आख्या

जिलाधिकारी( मिर्ज़ापुर)

01-07-2019

कृपया प्रकरण का गंभीरता से पुनः परीक्षण कर नियमानुसार कार्यवाही करते हुए 15 दिवस में आख्या उपलब्ध कराए जाने की अपेक्षा की गई है

सहायक

संभागीय

परिवहन

अधिकारी-

मिर्ज़ापुर,

परिवहन

विभाग

04-

07-

2019

आपका डी0एल0 संबंधित एजेन्सी के माध्यम से आगामी दिनों में आपके पते पर उपलब्ध हो जायेगा।

निस्ता

रित

3-It is submitted before the Hon’ble Sir that जिलाधिकारी द्वारा दिनाक05-07-2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है

Whether government through District Magistrate Mirzapur Uttar Pradesh approved the corruption prevalent in the regional transport office Mirzapur ipso facto obvious from the position of the feedback? Please take a glance of the attached document to the representation.

                                 खुदा भी आसमाँ से जब जमी पे देखता होगा |

             इस मेरे प्यारे देश को क्या हुआ सोचता होगा||

This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos arbitrarily by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.

Date-11/05/2020           Yours sincerely

                              Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911, Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001. 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
5 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Arun Pratap Singh
6 months ago

प्रार्थी द्वारा उपरोक्त चेक को भारतीय स्टेट बैंक की मिर्ज़ापुर शहर शाखा को उपलब्ध कराया गया जिससे की रूपया २०० प्रार्थी के खाते में वापस हो सके काफी हीला हवाली के उपरांत शाखा प्रबंधक भारतीय स्टेट बैंक ने रुपया २३६ प्रोसेसिंग फीस निर्धारित किया है | जिसको जमा करने के उपरांत ही हमारा रूपया २०० हमारे खाते में अंतरित हो सकेगा | अर्थात अपना रूपया २०० पाने वास्ते रुपया २३६ अपने जेब से देना होगा |
Modi Government is honest because already they have charged Rs.80 as processed fee to provide bank draft and now wants Rs.236 as processing fee to en cash the bank draft to seeker as R.T.O. denied to accept this mode because of corruption.

Preeti Singh
6 months ago

There is steep hike in the number of Corona Virus Pandemic patients in this country. There is 68 thousand patients and per day near about four thousand patients are increasing which is alarming. Time has come when public staffs may take only life maintenance as emoluments of salary.
इस कोरोना के लिए इस देश का भ्रस्टाचार जिम्मेदार और इस समय स्थिति बेकाबू हो चुकी है |धैर्य, सामर्थ्य और बुद्धि से समाज की रक्षा होती है जो हमसे कोसो दूर है इसी लिए पतन की चरम सीमा पर है | कल भी दो जून की रोटी नही मिलती थी आज भी वही है सोचना उन लोगो को है जिन्हें दो महीने पश्चात चार चार पाच पाच लाख तनख्वाह नसीब होगा की नही |

Bhoomika Singh
Bhoomika Singh
6 months ago

Whether to charge 236 rupees by the State Bank of India to pay the 200 rupees in order to encash the bank draft which was provided by the State Bank of India to the applicant and when State Bank of India had already charged 80 Rupees how can it be justified? In regard to coronavirus Pandemic new patients are Rising alarmingly which is showing that lockdown will never be relaxed so our public functionaries will have to co-operate the government is their obligatory duty and they must serve the country in this hour of crisis without satisfying their selfish motives.

Beerbhadra Singh
Beerbhadra Singh
6 months ago

Undoubtedly, Cortana Virus Pandemic has broken our backbone in regard to economy of the country. Medium class Industrial units have been closed because of the lockdown and most of the labourers have come on the Street. But the concern of the government functionaries is not these labourers but these functionaries are worried about revenue gain from these units. Labourers love of the government is quite obvious from the fact that they are not sent to native place and compelled to die on the Railway tracks.