This is truth of MGNREGA .

1 comment on This is truth of MGNREGA .

  1. खुले आम भ्रस्टाचार का गंदा खेल चल रहा हैं लेकिन किसी को कुछ भी मालूम नहीं हैं क्या इसी को इमानदारी कहते हैं |विश्व की सब से बड़े जनतंत्र में इसी प्रकार की आराजकता रहती हैं |यह तब हो रहा हैं जब देश में मोदी का शासन हैं और उन्होंने देश की जनता को आश्वासन दिया हैं की वे भ्रष्टाचार कम करेंगे | उसी क्रम में लोकपाल की नियुक्ति होनी हैं लेकिन कब होगी समझ में नहीं आता हैं |कांग्रेस कम से कम नियुक्ति तो कर रही थी |क्या ये नेता हम मतदाताओं को मुर्ख समझते हैं |सोचिये हर जगह लूट खसोट मची हुई है फिर भी साहब इमानदार हैं |प्रेस और मीडिया के माध्यम से झूठी इमानदारी दिखाना आसान हैं |अब कड़ी परीक्षा हैं | क्या कोई चोर अपने आप को ईमान दार कह सकता हैं |संभव हैं कुछ पल के लिए |

Leave a Reply

%d bloggers like this: