Thanks to God for saving me to be beaten up mercilessly by closing the gate.


Thanks to God for saving me to be beaten up mercilessly by closing the gate.

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh yogimpsingh@gmail.com

12:05 PM (0 minutes ago)

to urgent-actionsupremecourtpmosbhgovupcmupcsupsecypgddpg2-arpglokayukta
Hon’ble Sir, This was the grace of God that that even after suffering from huge scarcity of gas cylinder ,your applicant didn’t go to store house of Asmita Gas agency when on last Sunday they asked me to come on store house and cylinder will be made available. Why, Government provides petrol pumps and gas agencies to criminals. Sir now I will never go to store house of Asmita gas agency otherwise goons of agency will become barbaric on your applicant and your applicant will be beaten up mercilessly by the henchmen of Gas agency by closing the gate of store house and police of Akhilesh Government will remain mute spectators. Please direct the gas agency to arrange home delivery as booking was made for home delivery.
Refill order of 31-January -2014 still awaiting delivery which is eighth booking 
Keshav Pratap Singh , Surekapuram ,Bathua , Mirzapur my younger brother is customer of gas agency Asmita Gas service whose card serial no. 100 C 2886411 , Customer’s No. AGS 8769
SV No.2916673  No. of cylinders-2 Deposits 1900 ,cylinders1800 regulator 100 .
गैस एजेंसी कर्मियों ने उपभोक्ताओं को पीटा
मिर्जापुर। लोहंदी स्थित गैस एजेंसी पर रविवार की सुबह सिलेंडर लेने पहुंचेउपभोक्ताओं और कर्मियाें के बीच वितरण को लेकर विवाद हो गया। मामलाबढ़ने पर एजेंसी कर्मी कुछ उपभोक्ताओं को गोदाम में बंद कर पीटने लगे। इसकीजानकारी होते ही बाहर खड़े अन्य ग्राहेकों ने गोदाम में जमकर तोड़फोड़ की।
देहात कोतवाली क्षेत्र के लोहंदी स्थित गैस एजेंसी पर रविवार की सुबह काफीसंख्या में उपभोक्ता सिलेंडर लेने पहुुंचे थे। लाइन में खड़े कुछ लोग काफी देर तकगैस का वितरण नहीं होने पर नारेबाजी करने लगे। इसी बात को लेकर एजेंसीकर्मियाें  उपभोक्ताओें के बीच तूतूमैंमैं होने लगी। ग्राहकों के अनुसार काफीदेर तक चली बहस के बाद कर्मियाें ने लाइन में खड़े कुछ लोगाें को परची लेकरगोदाम के अंदर गैसे लेने के लिए बुलाया। गोदाम के अंदर जाते ही कर्मियाें ने गेटको बंद कर लिया और उनको दौड़ा दौड़ा कर पीटने लगे। उपभोक्ताओं के शोर परबाहर खड़े लोगाें ने दरवाजे से झांक कर देखा तो कर्मचारी अंदर लोगाें की पिटाईकर रहे थे। यह देखते ही अन्य उपभोक्ता भड़क गए और हंगामा मचाते हुएगोदाम में तोड़फोड़ करने लगे। उधरकुछ उपभोक्ताओं ने बताया कि घटना कीसूचना देहात कोतवाली पुलिस को दी गई तो जवाब मिला कि इन सब बाताें केलिए उनके पास समय नहीं है। इस पर लोगाें ने उच्चाधिकारियाें को घटना कीसूचना दी तो उनके निर्देश पर काफी देर बाद पुलिस पहुंची। उपभोक्ताओं नेबताया कि लगन  त्यौहार को देखते हुए एजेंसी धारक काला बाजारी कर रहे हैंजिससे उनको तीनतीन महीने बाद सिलेंडर मिल पा रहा है। तीन महीने बादसिलेंडर वितरण का कारण पूछने पर एजेंसी धारक का कहना था कि सिलेंडर कीडिलेवरी नहीं हो रही है।
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh yogimpsingh@gmail.com
3:28 PM (9 minutes ago)
    to pmosbsecypgddpg2-arpgcmupcsuphgovupurgent-action
Hon’ble Sir, Yesterday I had talk with the Asmita Gas agency on Mob No. 9235730303 ,they assured me to deliver the cylinder today but today when I had mad contact with them through my Mob No. 7379105911 at 2:13 P.M. ,they told me I have no staff so come on distribution centre and take the cylinder. Here this question arises that when the cylinder is available ,then why deliberately, you harassed me.Whether you had no staff since one month when the refill order was booked. Here this question arises that when booking was made for home delivery ,then why distributor  is crying unavailability of staff ? When the service provider is inefficient to provide the service ,then why government functionaries are not providing licence to those who can provide excellent services. Whether it is proper to go on distribution centre in order to become part of anarchist crowed who are going to be crazy because scarcity of gas cylinders. Who are creator of anarchy ,Hon’ble Sir meditate on it. We need justice. Whether system is not failed as it couldn’t be instrumental in providing services within due time and system is failed because of inefficient staff. Please take a glance of following link-http://yogimpsingh.blogspot.com/2014/03/black-marketing-of-domestic-gas_1.html

2 comments on Thanks to God for saving me to be beaten up mercilessly by closing the gate.

  1. गैस एजेंसी कर्मियों ने उपभोक्ताओं को पीटा
    मिर्जापुर। लोहंदी स्थित गैस एजेंसी पर रविवार की सुबह सिलेंडर लेने पहुंचे उपभोक्ताओं और कर्मियाें के बीच वितरण को लेकर विवाद हो गया। मामला बढ़ने पर एजेंसी कर्मी कुछ उपभोक्ताओं को गोदाम में बंद कर पीटने लगे। इसकी जानकारी होते ही बाहर खड़े अन्य ग्राहेकों ने गोदाम में जमकर तोड़फोड़ की।
    देहात कोतवाली क्षेत्र के लोहंदी स्थित गैस एजेंसी पर रविवार की सुबह काफी संख्या में उपभोक्ता सिलेंडर लेने पहुुंचे थे। लाइन में खड़े कुछ लोग काफी देर तक गैस का वितरण नहीं होने पर नारेबाजी करने लगे। इसी बात को लेकर एजेंसी कर्मियाें व उपभोक्ताओें के बीच तू-तू-मैं-मैं होने लगी। ग्राहकों के अनुसार काफी देर तक चली बहस के बाद कर्मियाें ने लाइन में खड़े कुछ लोगाें को परची लेकर गोदाम के अंदर गैसे लेने के लिए बुलाया। गोदाम के अंदर जाते ही कर्मियाें ने गेट को बंद कर लिया और उनको दौड़ा दौड़ा कर पीटने लगे। उपभोक्ताओं के शोर पर बाहर खड़े लोगाें ने दरवाजे से झांक कर देखा तो कर्मचारी अंदर लोगाें की पिटाई कर रहे थे। यह देखते ही अन्य उपभोक्ता भड़क गए और हंगामा मचाते हुए गोदाम में तोड़फोड़ करने लगे। उधर, कुछ उपभोक्ताओं ने बताया कि घटना की सूचना देहात कोतवाली पुलिस को दी गई तो जवाब मिला कि इन सब बाताें के लिए उनके पास समय नहीं है। इस पर लोगाें ने उच्चाधिकारियाें को घटना की सूचना दी तो उनके निर्देश पर काफी देर बाद पुलिस पहुंची। उपभोक्ताओं ने बताया कि लगन व त्यौहार को देखते हुए एजेंसी धारक काला बाजारी कर रहे हैं जिससे उनको तीन-तीन महीने बाद सिलेंडर मिल पा रहा है। तीन महीने बाद सिलेंडर वितरण का कारण पूछने पर एजेंसी धारक का कहना था कि सिलेंडर की डिलेवरी नहीं हो रही है।

  2. Here most important question is that why police don't take proper action in order to lower the morale of criminals. Whether it is justified to deprive the people from their rights by mercilessly beating them. Congress government is making election rhetoric that it will provide 12 cylinders in one year but only seven seven cylinders has been provided. and year is about to be passed. This is misleading to countrymen.

Leave a Reply

%d bloggers like this: