Test of the students will be held on 4-May-2018 but the textbooks are still not available. Anarchy

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019918010136
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
Subject -Think about the gravity of the situation that the test of the students will be held on 4-May-2018 but the textbooks are still not available because of lawlessness and anarchy in the government machinery even when the matter is raised since three years in regard to the selling of books by the school management With due respect, your applicant wants to draw the kind attention of the Honble Sir to the following submissions as follows 1-It is submitted before the Honble Sir that last Friday, the applicant had visited the Anil Bookstore before Arykanya Girls Inter college Mirzapur city, bookseller asked that books will be available on Saturday Next day, the applicant again visited the aforementioned bookshop but the senior individual was not present at the bookstore but collaborators cooperated me and provided me with the set of books of sixth and seventh standards of Saint BBL School but when I said to sort out three books out of 13 and two books out of thirteen from the sets as already available, then they expressed inability and told me school has made available the books in the set and we are allowed to sell books in the set When I enquired them whether you dont purchase these books, they replied no 2-It is submitted before the Honble Sir that how much cryptic is the working style of the concerned staffs and school management who were claiming that books are not sold by the school management and books are not changed every year while the burning truth is that yesterday agent of the Britannica publication had made contact on my Mobile phone to ask me whether I need sixth and seventh standard for school or bookshop and when I told him I am a guardian and books needed for my children, then phone was disconnected from the other side Which explicitly shows that books are purchased by the school through the order and sold among the students in the sets and concerned bookshop is the only showpiece 3-It is submitted before the Honble Sir that in regard to removal of CCE pattern by CBSE as claimed by the school management will soon be exposed as I have sought information from the CPIO CBSE in this regard under the right to information act 2005 When school itself was the sole body indulged in the selling of the books, then why was your applicant physically and mentally tormented by telling the name of the bookseller
नियत तिथि:
31 – May – 2018
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
01 – May – 2018
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव बेसिक शिक्षा विभाग
अधीनस्थ को प्रेषित
2
अंतरित
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (बेसिक शिक्षा विभाग )
01 – May – 2018
जिलाधिकारीमिर्ज़ापुर,
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
अधीनस्थ को प्रेषित
3
आख्या
जिलाधिकारी ( )
01 – May – 2018
बेसिक शिक्षा अधिकारीमिर्ज़ापुर,बेसिक शिक्षा विभाग
कृपया जॉंचोपरान्त आवश्‍यक कार्यवाही करने का कष्ट करें 
अनमार्क
आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019918010137
आवेदक कर्ता का नाम:
योगी एम पी सिंह
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
विषयश्री मान जी बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा मीडिया को बुला कर एन सी आर टी की पुस्तकों की कमी का रोना क्यों रोया जा रहा है क्योकि सभी जानते है की वह एक जटिल प्रक्रम है वह हमेशा लगभग जुलाई तक होता है| सरकार का ध्यान सही मुद्दों से भटकाने का अच्छा तरीका है| श्री मान जी प्रार्थी आप का ध्यान निम्न विन्दुओं पर आकृष्ट करता है | श्री मान जी सरकार एन सी आर टी की पुस्तकों को चला सकती है किन्तु प्राइवेट अंग्रेजी माध्यम के स्कूल नही चला सकते है | क्यों की ये विद्यालय गुड़वत्ता से समझौता नही करते| मै अपनी बच्ची को एक प्रश्न का आंसर बता दिया था मेरी बच्ची दूसरे दिन कहती है आपने जो आंसर बताया उसे क्लास टीचर ने गलत कर दिया यह सुन कर मै आश्चर्यचकित रह गया | किसी ढंग से रात बीती दूसरे दिन ही पहुचे स्कूल और मैडम से पूछा कैसे आंसर गलत है तो प्रधानाध्यापिका महोदया जवाब देती है की आंसर गलत नही है इसलिए काटा गया है की बच्ची ने वह नही लिखा है जो टीचर ने बताया| हमने कहा मैडम जिस शिक्षक शिक्षिका को यह नही मालूम की विद्यार्थी सही आंसर लिखा है की गलत वह पढाता कैसे होगा| श्री मान जी नये शुल्क नियमन में राज्य सरकार ने कहा है की हर वर्ष प्रवेश शुल्क नही लिया जाएगा किन्तु मैडम ने इस वर्ष भी प्रवेश शुल्क लिया है किन्तु मैंने इस बात का विरोध नही किया और इस वजह से हमारे ऊपर १००० रुपये अतिरिक्त बोझ पड़ा | इस समय मेरा परिवार भुखमरी के कगार पर है किन्तु मै चुप रहा क्यों की बच्चो को वही पढना है क्यों की आवास से नजदीक है दूर जायेगे तो सुरक्षा की भी चिंता होगी और पैदल चले जाते है तो रिक्शे का भाडा बच जाता है| श्री मान जी मै तीन वर्षो से मांग कर रहा हु की हर वर्ष किताबे बदली जाय क्यों अनावश्यक रूप से मुझे अपने लड़के की किताब खरीदनी पड़ती है किन्तु कौन सुने | बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में आराजकता का राज है कुछ भी लिख कर शिकायत का निस्तारण करा लेते है | इस बार तो हद ही हो गयी विद्यालय में भी किताब का सेट लेने पर सम्बंधित बुक सेलर का नाम बताया गया और वह भी सेट लेने पर किताब बेचने से मना कर दिया एक बहाना बना कर | क्या यह मोनोपोली नही है | यह भ्रष्टाचार नही बल्कि भ्रस्टाचार का राज है और निरीह जनता इसमें पिस रही है | इसका असर २०१९ के चुनाव में दिखाई देगा जब एक तरफ से पार्टी का सफाया हो जाएगा | खुले आम भ्रस्टाचार को प्रश्रय दिया जा रहा है और भ्रष्टाचारियो के खिलाफ कार्यवाही नही हो रही है | कार्यवाही करने का आप के पास समय ही नही है | This is a humble request of your applicant to you Honble Sir that It can never be justified to overlook the rights of the citizenry by delivering services in an arbitrary manner by floating all set up norms This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap the benefit of loopholes in the system and depriving poor citizens of the right to justice Therefore it is need of the hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system For this, your applicant shall ever pray you, Honble Sir Yours sincerely Yogi M P Singh Mobile number-7379105911 Mohalla-Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, India
नियत तिथि:
31 – May – 2018
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
01 – May – 2018
निदेशक बेसिक शिक्षा निदेशालय
अधीनस्थ को प्रेषित
2
अंतरित
निदेशक (बेसिक शिक्षा निदेशालय )
01 – May – 2018
बेसिक शिक्षा अधिकारीमिर्ज़ापुर,बेसिक शिक्षा विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
कार्यालय स्तर पर लंबित

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी सरकार एन सी ई आर टी की पुस्तकों को चला सकती है किन्तु प्राइवेट अंग्रेजी माध्यम के स्कूल नही चला सकते है | क्यों की ये विद्यालय गुड़वत्ता से समझौता नही करते| मै अपनी बच्ची को एक प्रश्न का आंसर बता दिया था मेरी बच्ची दूसरे दिन कहती है आपने जो आंसर बताया उसे क्लास टीचर ने गलत कर दिया यह सुन कर मै आश्चर्यचकित रह गया | किसी ढंग से रात बीती दूसरे दिन ही पहुचे स्कूल और मैडम से पूछा कैसे आंसर गलत है तो प्रधानाध्यापिका महोदया जवाब देती है की आंसर गलत नही है इसलिए काटा गया है की बच्ची ने वह नही लिखा है जो टीचर ने बताया| हमने कहा मैडम जिस शिक्षक शिक्षिका को यह नही मालूम की विद्यार्थी सही आंसर लिखा है की गलत वह पढाता कैसे होगा|

Arun Pratap Singh
2 years ago

प्रबंधन को निर्देशित किया गया की विद्यालय में एन.सी.आर.टी. की पुस्तके चलाई जाय |
आवेदन का संलग्नक संलग्नक देखें अग्रसारित विवरण-
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या स्थिति आख्या रिपोर्ट
1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 01 – May – 2018 अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव -बेसिक शिक्षा विभाग — 03/05/2018 आख्‍याअपलोड है निस्तारित
2 अंतरित अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (बेसिक शिक्षा विभाग ) 01 – May – 2018 जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर, नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 03/05/2018 आख्‍याअपलोड है निस्तारित
3 आख्या जिलाधिकारी ( ) 01 – May – 2018 बेसिक शिक्षा अधिकारी-मिर्ज़ापुर,बेसिक शिक्षा विभाग कृपया जॉंचोपरान्त आवश्‍यक कार्यवाही करने का कष्ट करें आख्‍याअपलोड है 03/05/2018 पत्रांक: बेसिक/१५९2/२०१८-१९ दिनांक ०२-०५-२०१८ द्वारा प्रकरण निस्तारित (आख्या संलग्न है)