Repeated reminders and e-mails from central ministry but no action on part of transport commissioner Lucknow

Grievance
Status for registration number : MORTH/P/2019/00169

Grievance Concerns To

Name Of Complainant –Sh. Yogi M.P. Singh Date of Receipt –04/06/2019

Received By Ministry/Department Road Transport
and Highways

Grievance Description –Please see attached
Grievance.

Grievance Document -Current Status –Case closed

Date of Action –14/06/2019

Remarks

We
have forwarded the issues raised to the Transport Commissioner of State of UP
for initiating necessary action and with intimation to the complainant. Hope
the grievance is redressed soon. Thank you. Jai Hind

Officer Concerns To , Officer Name –Dr. Piyush Jain, Officer Designation –Director

Contact Address –Address 1, Parliament Street,
Transport Bhawan, New Delhi

Email Address –piyush.jain70@gov.in, Contact Number –23714974

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
MORTH/P/2019/00169 dt. 04/06/2019
1 message
Piyush Jain <director-morth@gov.in> 13 June 2019 at 10:26

To: Transport Commissioner Lucknow <tc-up@nic.in>
Cc: yogimpsingh@gmail.com

Sir

Kindly look into the issues raised in the online grievance received as attached.  Kindly intimate the Ministry as well as the complainant of the action taken.

Thank you
With regards,

Director(MVL)
Ministry of Road Transport & Highways
Transport Bhawan,
1 Parliament Street, New Delhi- 110001
Tele:- 23714974


2 attachments
MORTHP201900169.pdf
79K
MORTH_P_2019_00169.pdf
67K
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
Whether the renewal of driving license is binding on the D.L. holder if he is not driving scooter if apply for renewal Govt is charging Rs,3000 at the place of Rs.200?
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 21 May 2019 at 22:03

To: dircord-morth@gov.in, geeva.sk@nic.in, dharkat@nic.in, tc-up@nic.in, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, supremecourt <supremecourt@nic.in>, cmup <cmup@up.nic.in>, Anjali Anand Srivastava <secy-cic@nic.in>, “sec. sic” <sec.sic@up.nic.in>

निस्संदेह ट्रांसपोर्ट कमिश्नर लखनऊ को इस बात पर गहन चिंतन करना चाहिए उनके कार्यालय में यह कैसी आराजकता है की जिस सारथि वेबसाइट के नाम पर और केंद्र सरकार के अधिसूचना की गलत व्याख्या करके सीधे साधे  नागरिको को बलि का बकरा बनाया जा रहा है और कुछ को इतनी ज्यादा  तनख्वाह के बावजूद कोई संतोष नहीं है | 
केन्द्रीय मंत्रालय के तीन पत्रों के बावजूद ट्रांसपोर्ट आयुक्त लखनऊ ने अभी तक प्रार्थी को सूचनाए क्यों नही उपलब्ध कराई ? क्या यही सुशासन है | महोदय क्या आप की ऑफिस में आराजकता  का राज नहीं है | यदि आप ईमानदार है तो चारो विन्दुओं का जवाब  क्यों नहीं देते पिछले एक वर्ष से  मटोल  क्यों कर रहे है | आप के जनसूचना अधिकारी की लापरवाही  के वजह से केंद्र सरकार के मंत्रालय समक्ष पुनः जन सूचना प्रार्थना पत्र देना पड़ा | उसका परिशीलन करे | 
Online RTI Request Form Details
RTI Request Details :-
RTI Request Registration number
MORTH/R/2019/51424
Public Authority
Ministry of Road Transport & Highways
Personal Details of RTI Applicant:-
Name
Yogi M P Singh
Gender
Male
Address
Mohalla Surekapuram , Jabalpur Road, District Mirzapur
Pincode
231001
Country
India
State
Uttar Pradesh
Status
Urban
Educational Status
Literate
Above Graduate
Phone Number
Details not provided
Mobile Number
+91-7379105911
Email-ID
yogimpsingh[at]gmail[dot]com
Request Details :-
Citizenship
Indian
Is the Requester Below Poverty Line ?
No
(Description of Information sought (upto 500 characters)
Description of Information Sought
Please take a reference of R.T.I. Application MORTH/R/2018/51822 subsequent appeal MORTH/A/2018/60284 and order dated 20/08/2018 passed by First Appellate Authority whose details are attached.
As claiming a remedy under subsection 3 of section 19 is time-barred so provide the same sought information under this R.T.I. Communique as Transport commissioner did not provide sought information even after a prolonged delay.
Concerned CPIO
D.R.Luikang (MVL)
Supporting document (only pdf upto 1 MB)
Online RTI Status Form
Note:Fields marked with * are Mandatory.
Enter Registration Number
MORTH/R/2019/51424
Name
Yogi M P Singh
Date of filing
14/05/2019
Public Authority
Ministry of Road Transport & Highways
Status
REQUEST DISPOSED OF
Date of action
21/05/2019
Reply :- Please see attachment
View Document
CPIO Details :-
D.R.Luikang (MVL)
Phone:
First Appellate Authority Details :-
Piyush Jain (MVL)
Phone:
Nodal Officer Details :-
Telephone Number
23739250
Email Id

श्री मान जी केंद्रीय जन सूचना अधिकारी का पत्र  जो प्रार्थी  को सम्बोधित है उसका भी परिशीलन करे | 

ट्रांसपोर्ट कमिश्नर महोदय आप को अविलम्ब सूचनाएं उपलब्ध कराने  को कहा गया है  और आशा है इस बार ताल मटोल नहीं करेंगे | यहा  इतनी ज्यादा ईमानदारी है की कोई जन  सूचना अधिकार के तहत मांगे गए सूचनाओं को उपलब्ध नहीं कराना  चाहता है | 

श्री मान ट्रांसपोर्ट कमिश्नर महोदय क्या  आप को यह पत्र  अभी तक समझ में नहीं आया है | ०३-जुलाई -२०१८ का यह पत्र और आज २१-मई-२०१९ है जब की जन सूचना अधिकार २००५ की धारा  ७ उपधारा  १ के अनुसार आप को समस्त सूचनाए ०२-अगस्त -२०१८  तक दे देना चाहिए था | 
श्री मान ट्रांसपोर्ट कमिश्नर महोदय उपरोक्त के अनुसार आप चाहते तो तय फीस उसी के अनुसार स्वीकार करते या उससे कम रखते | किन्तु  आप ने इतनी चालाकी दिखाई की केंद्र अधिसूचना की आत्मा ही मरणासन्न  हो गयी | 
    श्री मान जी इस बार टाल मटोल न करे | जिसके लिए प्रार्थी श्री मान जी का सदैव आभारी रहेगा | 
      दिनांक-२१-०५-२०१९                                                                              योगी एम्.पी. सिंह 

On Mon, 13 May 2019 at 16:01, Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> wrote:
Whether misinterpretation of central ministry notification by the office of transport commissioner and indulging in illegal activities is justified if not, how can it not be subject of scrutiny by the central government? If the central notification is issued which is explicit and not ambiguous, thereafter deliberate misinterpretation by the staffs of department of transport, Govt of Uttar Pradesh is not tantamount criminal breach of trust? Undoubtedly, there is sheer insolence on the part transport commissioner Lucknow who did not provide the sought information to applicant despite the repeated requests by the central ministry under subsection 3 of section 6 of the Right to Information Act 2005.

केन्द्रीय मंत्रालय के तीन पत्रों के बावजूद ट्रांसपोर्ट आयुक्त लखनऊ ने अभी तक प्रार्थी को सूचनाए क्यों नही उपलब्ध कराई ? क्या यही सुशासन है |
श्री मान जी प्रार्थी की शिकायत में आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर की टिप्पणी कुछ इस प्रकार है |

इस संबंध में शिकायतकर्ता द्वारा उठाई गयी आपत्तियां मान्य नही है क्योंकि परिवहन विभाग द्वारा पारदर्शिता लाने के उद्देश्यय से इस पूरी प्रक्रिया में मानवीय हस्त‍क्षेप को पूरी तरह समाप्तह कर दिया गया है।
श्री मान जी प्रार्थी का कथन कुछ इस प्रकार है |
१-यदि हर कुछ जायज है तो आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर दलालों से भरा क्यों है | ऐसा क्या उस बीराने में रखा है जो की कार्यालय तो ११ बजे खुलता है किन्तु लोगो की भीड़ ८ बजे से होनी शुरू हो जाती है |
२-श्री मान जी २०० रुपये के स्थान पर 3000 रुपये की वसूली राजस्व बढाने के लिए नही की गई है बल्कि दलाली और भ्रस्टाचार बढाने के लिए की गई है |
३-श्री मान जी मानवीय हस्तक्षेप से जिम्मेदारी बढ़ती है किन्तु पारदर्शिता के नाम पर सारथी सारथी चिल्लाना और उसके आड़ में भ्रस्टाचार करना कहा तक जायज है |श्री मान जी आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर का काम समस्त इनफार्मेशन को सारथी वेबसाइट पर फीड करके आवेदन वेबसाइट के माध्यम से ही लेना नकी स्लॉट जारी करना और चरण बद्ध तरीके से वसूली करना |
४-यदि विभाग में ईमानदारी है तो समस्त ड्राइविंग लाइसेंसों को निर्वाचन कार्ड की तरह ऑनलाइन कर दे तथा उनकी वैलिडिटी वेबसाइट पर डिस्प्ले हो | यहा तो हर इनफार्मेशन रहस्मयी तरीके से आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर के कब्जे में है जिसके साथ जो चाहे वह छेड़ छाड़ करे कौन बोलने वाला है | 
५-सरकार का बाहुबली आधार कार्ड भी इसमें कोई रोल नही अदा कर रहा है क्यों की सरकार नही चाहती है की भर्स्ट इकॉनमी पर रोक लगे |
६-श्री मान जी बैकलॉग को टाइमली बनाना सिर्फ स्लॉट में मामूली तिथि में फेर बदल करना पड़ता है किन्तु यह फेर बदल दलाल करा सकता है या स्टाफ | हमारे जैसे लोगो को तो नियम का पाठ पढ़ाया जाता जिसमे खुद आर.टी.ओ. महोदय की जबान लडखडाती रहती है |
७-श्री मान जी १०० रुपये है ड्राइविंग लाइसेंस का लेट पेमेंट फीस लेकिन 3000 रुपये की वसूली किस तरह जायज है |श्री मान जी यदि कोई ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेन्स के लिए आवेदन कर ही नही सकता केवल कुछ साइबर कैफे जिनको विभाग का बरद हस्त प्राप्त है वही ऑनलाइन आवेदन कर सकते है तो इससे बड़ा भ्रस्टाचार क्या हो सकता है | इससे तो विभाग की क्रेडिबिलिटी ही ख़त्म हो गयी तो ट्रांसपरेंसी कैसी यह तो ठीक उसी प्रकार है जैसे गरल भरा मुख अमृत टपकाने की बात करे |
८-आर.टी.ओ. मिर्ज़ापुर में पग पग पर पैसा मागा जाता है और शिकायत करने पर कोई कार्यवाही नही होती |
9-It is submitted before the Hon’ble Sir that how can it be justified that the error made by the staffs of the R.T.O. Mirzapur causing mental trauma for 20 years now instead of correcting it R.T.O. Mirzapur is seeking additional Rs.200 for correction and if I opt for a change of address, then more Rs.200 will be additionally charged which is genuine in his eyes. Since the website is showing internal server error if I am making efforts to pay the fee which means I will have to pay Rs. 100 to computer operator of the department.
 10-It is submitted before the Hon’ble Sir that whether Rs.3000 being charged by the Yogi Aditya Nath Government at the place of Rs. 200 for the renewal of Driving license of two-wheelers is justified when already suffered a loss of Rs.350 in sending application offline for renewal of the driving license which was arbitrarily rejected by the R.T.O. Mirzapur.
                    This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness, and chaos in an arbitrary manner by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer in order to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.                                                         
                                                                                                                             Yours sincerely

Date-13-05-2019              Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911, Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001.

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
60000190042750
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
Now R.T.O. Mirzapur is demanding Rs.3000 as driving license renewal fee for two wheelers at the place Rs.200 as prescribed by the govt of India. Thus they are seeking 15 times the actual fee to be charged by the government for the renewal of Driving License fee. Whether the applicant is an offender if not why is he being charged such a huge penalty by the R.T.O. Mirzapur. Respected Sir be informed that the applicant is being treated like a criminal in this government without any fault. The applicant was informed that higher level team is coming in the R.T.O. Mirzapur so I was directed to remain present in the office at 11 O clock on the next day i.e. on 16-Mach-2019 and I reached the R.T.O. Mirzapur next day at half past10 o clock in the morning but there was no such signal of enquiry and at half-past 11 O clock, I was called by R.T.O. Mirzapur division and the applicant submitted the documents of 50 pages and oral submissions one page written by R.T.O. itself and the second page was written by A.R.T.O. It is unfortunate that what is the outcome of the enquiry still it is unknown to the applicant.
नियत तिथि:
18 – May – 2019
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 25/04/2019को फीडबैक:- श्री मान जी संलग्नक संलग्नक और संलग्नक जो की जांच आख्या के अखंड हिस्से है उनकी स्पष्ट प्रतिया प्रार्थी को उपलब्ध कराई जाय क्यों यह जांच प्रार्थी के अनुरोध पर संस्थित की गई है | क्यों की उनके पक्ष को हमारे समक्ष नही सुना गया है लेकिन इस पर हमे कोई आपत्ति नही है क्यों की मूल प्रकरण उनसे सम्बंधित है ही नही | लेकिन उपरोक्त संलग्नक उनकी तरफ से आये है उन्हें जानने का हमे पूरा हक़ है | और यदि उनसे हमारी अस्मिता पर आघात होता है तो हमे खुद को सुरक्षित रखने का पूर्ण अधिकार है | प्रार्थी के ड्राइविंग लाइसेंस की वैलिडिटी ०६फ़रवरी २०१८ को ख़त्म हो गया | ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यूअल शुल्क रुपया २००, ०८जनवरी २०१८ से ०६फ़रवरी २०१८ तक | ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यूअल शुल्क रुपया ५००, ०६फ़रवरी २०१८ से ०७मार्च२०१८ तक इसको अनुकम्पा अवधि कहा जाता है | इसमें २०० रुपये रिन्यूअल फीस और अनुकम्पा अवधि का २०० रुपये रिन्यूअल फीस और १०० रुपये पेनाल्टी इस अनुकम्पा अवधि में अर्थात इस अवधि में प्रार्थी अपराधी बन चूका था तभी तो पेनाल्टी लग रही है | वाह योगी जी आप का अनुकम्पा भी ऐसी की ३०० रुपये अतिरिक्त दंड धन्यवाद | दिनांक ०८ मार्च २०१८ को १००० रुपये पेनाल्टी अतिरिक्त अर्थात ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यूअल शुल्क इस समय कुल १५०० रुपये अर्थात हमने जघन्य से जघन्यतम अपराध कारित कर दिया | इतनी बड़ी आराजकता की १००० रूपये एक वर्ष का विलम्ब दंड है अर्थात वर्ष के अंतिम दिन या पार्ट के हिसाब से लेना चाहिए किन्तु वर्ष के पहले ही दिन ले लेते है किन्तु फिर श्री मान जी आप इमानदार है | अगर समय हो तो किसी पढ़े लिखे स्टाफ से लगे हुए संलग्नको को पढवा देते तो बहुत अनुकम्पा होती | उस दिन क्या हुआ जिस दिन बयान नोट हो रहा जांच अधिकारी महोदय थक गये एक ही पेज में महिला .आर.टी.. को लगा दिए उसके बाद ४५ पेज का हस्ताक्षर युक्त लिखित प्रत्यावेदन प्रस्तुत किये थे |
फीडबैक की स्थिति:
मंडलायुक्त द्वारा दिनाक 02/05/2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
लोक शिकायत अनुभाग – 1(मुख्यमंत्री कार्यालय )
18 – Apr – 2019
जिलाधिकारीमिर्ज़ापुर,
कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।
24/04/2019
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
18 – Apr – 2019
सहायक संभागीय परिवहन अधिकारीमिर्ज़ापुर,परिवहन विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें
22/04/2019
शिकायत में उल्लिखित बिन्‍दुओं पर आख्‍या संलग्‍न कर प्रेषित है।
निस्तारित
 श्री मान जी प्रार्थी का २०० रुपये का बैंक ड्राफ्ट जो की आरटीको देय था किन्तु उन्होंने स्वीकार नही किया और मामला जनसुनवाई पोर्टल पर भी प्रस्तुत किया गया अभी तक प्रार्थी को वापस नही हुआ है क्यों की वह प्राथी को तभी प्राप्त हो सकता है जब प्रार्थी २३६ रुपये कैंसलेशन चार्ज जमा करे अर्थात ८४ रुपये कमीशन और ४२ रुपये भेजने का खर्च कुल ३२६ रुपये खर्च कर चुका हूँ | पूर्व में भी तो इन्होने फरवरी में ही पैसा मागा था जिसकी वजह से हमे डिमांड ड्राफ्ट बनवा कर देना पड़ा किन्तु स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने महीनो लगा दिया ड्राफ्ट बनाने में उसका लाभ उठा कर इन्होने ने नियम का सहारा ले लिया है | कितु अभी हार हमने नही मानी है क्योकि इन्होने केंद्र सरकार के नियम की गलत ब्याख्या करके भोली भाली जनता को लूटने का काम कर रहे है | श्री मान जी यदि विभाग इमानदार है तो ट्रांसपोर्ट आयुक्त लखनऊ प्रार्थी को सूचना प्रदान करने से क्यों भाग रहे है |केंद्र सरकार के मंत्रालय से आये पत्रों को जिसमे प्रार्थी को सूचना उपलब्ध कराने को कहा गया है शिकायत के साथ संलग्न है |अगर लेश मात्र भी इमानदारी होती तो समस्त सूचनाए आवेदक को उपलब्ध करा दी जाती | एक दुसरे की कमी दिखा कर जनता को लूटना कहा तक जायज है | केंद्र सरकार की अधिसूचना में ड्राइविंग लाइसेंस के केस में सिर्फ १०० रुपये लेट पेमेंट का प्रावधान है जोकि जायज है किन्तु इसकी ब्याख्या खुद की जेब भरने के लिए असंबैधानिक ढंग से कर दी है जो देखने से ही अप्राकृतिक लग रहा है | सोचिये मुझसे इस समय ३००० रुपये माग रहे है |

Sought Information is as follows.
1-The additional fee at the rate of one thousand rupees for delay of each year or part thereof reckoned from the date of expiry of the grace period shall be levied. That explicitly explains one thousand rupees penalty of one year delay and this delay will be counted from the date of expiry of the grace period.

Please provide access to information, R.T.O. Mirzapur levies the delay charges of Rs.1000 on the first day as grace period ends. The aforementioned statement does not support the stand of R.T.O. Mirzapur. Consequently, providing the circular exchanged from the Government of Uttar Pradesh supporting the illegal stand of R.T.O. Mirzapur.

 2-According to R.T.O. Mirzapur, for renewal of Driving Licence fee after the grace period, is Rs.300 which means Rs.200 Driving Licence fee and Rs.100 is a penalty for delay. Please provide access to information of imposing two penalties for delay i.e. Rs.100 and Rs.1000 simultaneously on the Driving Licence holder ironically.
3-Penalties are imposed for committing illegal acts, if somebody delays in submitting a request for renewal of Driving Licence because of some reasons, then he will be considered guilty of committing illegal acts. Please provide the law under which renewal of a licence is binding on driving licence holder if he is not driving any vehicle.
4-Please, provide access to information, under which law or provision of the constitution, extortion of Rs.1500 at the place of Rs.200 in the name of renewal of Driving Licence is justified.

Status of the R.T.I. Application submitted by the applicant and annexure as aforementioned with other details.
Online RTI Status Form
Note:Fields marked with * are Mandatory.
Enter Registration Number
MORTH/R/2018/51822
Name
Yogi M P Singh
Date of filing
23/06/2018
Public Authority
Ministry of Road Transport & Highways
Status
REQUEST DISPOSED OF
Date of action
04/07/2018
Reply :- Please see attachment
View Document
CPIO Details :-
D.R.Luikang (MVL)
Phone:
First Appellate Authority Details :-
Piyush Jain (MVL)
Phone:
Nodal Officer Details :-
Telephone Number
23739250
Email Id
Online RTI Request Form Details
RTI Request Details :-
RTI Request Registration number
MORTH/R/2018/51822
Public Authority
Ministry of Road Transport & Highways
Personal Details of RTI Applicant:-
Name
Yogi M P Singh
Gender
Male
Address
Mohalla Surekapuram , Jabalpur Road, District Mirzapur
Pincode
231001
Country
India
State
Uttar Pradesh
Status
Urban
Educational Status
Literate
Above Graduate
Phone Number
Details not provided
Mobile Number
+91-7379105911
Email-ID
yogimpsingh[at]gmail[dot]com
Request Details :-
Citizenship
Indian
Is the Requester Below Poverty Line ?
No
(Description of Information sought (upto 500 characters)
Description of Information Sought
RTI Application is attached in PDF Form.
Concerned CPIO
D.R.Luikang (MVL)
Supporting document (only pdf upto 1 MB)
 Status of the first appeal submitted by the applicant.
Online RTI First Appeal Status Form
Note:Fields marked with * are Mandatory.
Enter Registration Number
MORTH/A/2018/60284
Name
Yogi M P Singh
Date of filing
05/08/2018
Public Authority
Ministry of Road Transport & Highways
Status
APPEAL DISPOSED OF
Date of action
20/08/2018
Reply :- The information is as per attached letter
View Document
Nodal Officer Details :-
Telephone Number
23739250
Email Id
Online RTI Appeal Form Details
RTI Appeal Details :-
RTI Appeal Registration number
MORTH/A/2018/60284
Public Authority
Ministry of Road Transport & Highways
Personal Details of Appellant:-
Request Registration Number
MORTH/R/2018/51822
Request Registration Date
23/06/2018
Name
Yogi M P Singh
Gender
Male
Address
Mohalla Surekapuram , Jabalpur Road, District Mirzapur
Pincode
231001
Country
India
State
Uttar Pradesh
Status
Urban
Educational Status
Literate
Above Graduate
Phone Number
Details not provided
Mobile Number
+91-7379105911
Email-ID
yogimpsingh[at]gmail[dot]com
Appeal Details :-
Citizenship
Indian
Is the Requester Below Poverty Line ?
No
Ground For Appeal
Refused access to Information Requested
CPIO of Public Authority approached
D.R.Luikang (MVL)
CPIO’s Order/Decision Number
Details not provided
CPIO’s Order/Decision Date
(Description of Information sought (upto 500 characters)
Prayer or Relief Sought
Here the matter is concerned with the misinterpretation of circular issued by the central ministry and amassing huge wealth flowing into the pockets of the corrupt public staffs. Neither CPIO nor PIO made available sought information.
Supporting document (only pdf upto 1 MB)

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Yogi
1 year ago

Piyush Jain
13 June 2019 at 10:26
To: Transport Commissioner Lucknow
Cc: yogimpsingh@gmail.com
Sir

Kindly look into the issues raised in the online grievance received as attached. Kindly intimate the Ministry as well as the complainant of the action taken.

Thank you

With regards,

Director(MVL)
Ministry of Road Transport & Highways
Transport Bhawan,
1 Parliament Street, New Delhi- 110001
Tele:- 23714974

Arun Pratap Singh
1 year ago

श्री मान ट्रांसपोर्ट कमिश्नर महोदय क्या आप को यह पत्र अभी तक समझ में नहीं आया है | ०३-जुलाई -२०१८ का यह पत्र और आज २१-मई-२०१९ है जब की जन सूचना अधिकार २००५ की धारा ७ उपधारा १ के अनुसार आप को समस्त सूचनाए ०२-अगस्त -२०१८ तक दे देना चाहिए था |
श्री मान ट्रांसपोर्ट कमिश्नर महोदय उपरोक्त के अनुसार आप चाहते तो तय फीस उसी के अनुसार स्वीकार करते या उससे कम रखते | किन्तु आप ने इतनी चालाकी दिखाई की केंद्र अधिसूचना की आत्मा ही मरणासन्न हो गयी |

Beerbhadra Singh
1 year ago

Right to Information act 2005 was brought up by the government of India to promote transparency and accountability in the working of various departments and not working according to our desires and setup goal because of the rampant corruption in the government machinery. Here in this case transport commissioner Lucknow is procrastinating on the the application submitted under subsection 1 of section 6 of The Right to Information act 2005 in order to seek information concerned with the rampant corruption in the road transport offices in the Government of Lucknow Uttar Pradesh.