Rape victim first gang raped and then charred to kiln in order to kill her.


उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में पैंतीस साल की महिला के साथ गैंगरेप के बाद ईंट के भट्ठे में जला देने का मामला सामने आया है।Whether this is signal good governance or anarchy in this largest
populous state of India where first young woman is raped and then burnt by
putting into bricks kiln .
दोहरे जुल्म का शिकार हुई ये महिला जिस ईंट के भट्ठे पर मजदूरी करती थी, उसी भट्ठे के सुपरवाइजर ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर उसकी अस्‍मत लूट ली।
Victim used to earn livelihood as labourer on the bricks kiln where
the supervisor of kiln gang raped the victim with his friends.
इतने भयानक जुर्म को अंजाम देने के बाद भी जब उसका जी नहीं भरा तो उसने महिला को जलते हुए ईंट के भट्ठे में फेंक दिया। Here more horrific
is that crime perpetrators not only raped the victim but also put the victim
into the kiln.
महिला नब्बे प्रतिशत तक जल चुकी है। वो दिल्‍ली के सफदरगंज अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है। इस मामले में उसने अपना बयान पुलिस को दे दिया है।Victim has 90% burnt injuries and being cured in Safdarganj hospital
New Delhi. Still victim is making efforts to overcome death. In Uttar Pradesh ,
no one is secure as there is no fear of law of land. Here judges in lower
courts and police both cooperative to wrongdoers as obvious from the
functioning. Stick of penal action ,no longer exists in this state and
wrongdoers are tortured initially in order to collect more bribe but
latter  they are treated like guests.

2 comments on Rape victim first gang raped and then charred to kiln in order to kill her.

  1. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में पैंतीस साल की महिला के साथ गैंगरेप के बाद ईंट के भट्ठे में जला देने का मामला सामने आया है।

    दोहरे जुल्म का शिकार हुई ये महिला जिस ईंट के भट्ठे पर मजदूरी करती थी, उसी भट्ठे के सुपरवाइजर ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर उसकी अस्‍मत लूट ली।

    इतने भयानक जुर्म को अंजाम देने के बाद भी जब उसका जी नहीं भरा तो उसने महिला को जलते हुए ईंट के भट्ठे में फेंक दिया।

    महिला नब्बे प्रतिशत तक जल चुकी है। वो दिल्‍ली के सफदरगंज अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है। इस मामले में उसने अपना बयान पुलिस को दे दिया है।

  2. I think that this is rarest of rare case but police personnel will not act swiftly.Whether human rights are safe and secure in this country. Here many such cases are covered under blanket and only few come out which by the mistake comes to public domain.

Leave a Reply

%d bloggers like this: