On my objection,A.D.O. Panchayat Ramesh Upadhyay after 15 years in MZP transferred to Gazipur

iary No.
Year
/SCI/PIL(E)/
Diary
No.
25334/SCI/PIL(E)/2019
Application
Date
12-05-2019
Received
On
31-05-2019
Applicant
Name
MAHESH
PARATAP SINGH AND YOGI M PSINGH
Address
MOHALA
SUREKAPURAM JABLPUR ROAD DIST MIRZAPUR U P
State
UTTAR
PRADESH
Action
Taken
UNDER
PROCESS

 

 

 

 

 

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
60000190055816
आवेदक कर्ता का
नाम:
Yogi M. P. Singh
आवेदक कर्ता का
मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
Undoubtedly policies are prepared with positive motive but its
misuse cause adverse impact on the system. Matter is concerned with the abuse
of new transfer policy of the government of Uttar Pradesh. Detail of the
complaint is attached to representation.
नियत तिथि:
30 – Jun – 2019
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन
का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
लोक शिकायत अनुभाग -3( मुख्यमंत्री कार्यालय )
31 – May – 2019
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव गृह एवं गोपन
कृपया
शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।
अनमार्क

 

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
Undoubtedly policies are prepared with positive motive but its misuse cause adverse impact on the system.
1 message
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 11 May 2019 at 22:39
 

To: pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, supremecourt <supremecourt@nic.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, cmup <cmup@up.nic.in>, hgovup@up.nic.in, csup@up.nic.in, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>

 

मंडलायुक्त द्वारा दिनाक 02/05/2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है If the Hon’ble Sir is really interested in taking action, then applicant may also be informed about what action was approved on the feedback by the divisional commissioner Vindhyachal division.
Most revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Honourable Sir with due respect to the following submissions as follows.

 

1-It is submitted before the Honourable Sir that following representation was made by the applicant in regard to new transfer policy of the government of Uttar Pradesh which is attached to this representation.

 

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
60000190027147
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,
विषय:
सहायक विकास अधिकारी रमेश उपाध्याय जिनका तबादला गाजीपुर जनपद में जुलाई २०१७ को हुआ मिर्ज़ापुर में क्या कर रहे है श्री मान जी भ्रस्टाचार की भी एक सीमा होती है किन्तु यहा तो उस सीमा को भी लोग लाघ चुके है श्री मान जी आप के जिला पंचायत राज अधिकारी ने प्रार्थी को सूचित रमेश उपाध्याय सहायक विकास अधिकारी को दिनांक २७/०६/२०१७ को कार्यमुक्त कर दिया गया श्री मान जी लगभग दो वर्ष बीतने वाले है श्री मान जी जिला पंचायत राज अधिकारी मिर्ज़ापुर के पत्रांक ११३४ दिनांक ०१/०७/२०१७ जो की पत्र के साथ संलग्न है का संज्ञान ले उपरोक्त पत्र प्रार्थी को संबोधित है श्री मान जी सरकारी तंत्र में तो सही काम का पैसा लगता है है फिर स्थानान्तरण रोकना बिना घुस के तो संभव हुआ नहीं फिर किस बात की इमानदारी सिर्फ चेहरे बदले है कार्यशैली और भी बदतर हुई है श्री मान जी अब निदेशक पंचायती राज के उस आदेश का अवलोकन करे जिसके द्वारा ए. डी. . पंचायत रमेश उपाध्याय का स्थानानतरण जनपद मिर्जापूर से जनपद गाजीपुर किया गया उपरोक्त आदेश दिनांक २७/०६/२०१७ कुछ इस प्रकार है श्री मान जी अब आप अमर उजाला हिंदी दैनिक के आज के अंक की कटिंग देखे जो चीख चीख कर कह रहा है की सहायक विकास अधिकारी का कही स्थानांतरण नहीं हुआ है अभी भी वह मिर्ज़ापुर जनपद के हालिया ब्लाक में तैनात है और उत्तर प्रदेश शासन के स्थानांतरण नीति का मखौल उड़ा रहे है श्री मान जी मैं मानता हु की जिलाधिकारी कार्यालय की कोई गरिमा नहीं है निदेशक पंचायती राज पद भ्रस्टाचार की वजह से नपुंशक बन चुकाकिन्तु मेरा तो ख्याल किया जाता क्यों की वह पत्र मुझे संबोधित था श्री मान जी जिला पंचायत राज अधिकारी ने जुलाई २०१७ को ही सहायक विकास अधिकारी रमेश उपाध्याय को कार्यमुक्त कर दिया है तो वह यहा क्या कर रहे है उनका तबादला किसके आदेश से रोका गया और मामले में कितनी घुसखोरी हुई है इसकी जांच कराई जाय २३/०२/२०१९ प्रार्थी योगी एम् . पी . सिंह
नियत तिथि:
12 – Apr – 2019
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 01/05/2019को फीडबैक:- शिकायत निस्तारण की नियत तिथि १२ अप्रैल २०१९ थी और आज एक मई २०१९ है देरी का कारण स्पस्ट करे | सहायक विकास अधिकारी रमेश उपाध्याय जिनका तबादला गाजीपुर जनपद में जुलाई २०१७ को हुआ मिर्ज़ापुर में क्या कर रहे है | शिकायत संख्या-60000190027147 आवेदक कर्ता का नाम:-Yogi M P Singh निदेशक पंचायती राज के परिपत्र आदेश संख्या -2/1388/2018-2/33/2018 दिनांक 30 मई 2018 को रद्द करते हुए निदेशक पंचायती राज के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही किया जाय | महोदय क्या निदेशक पंचायती राज की इमानदारी आपको दृष्टि गोचर हो रही है इस मामले में यदि ऐसी इमानदारी योगी आदित्यनाथ की सरकार में है जिनका स्थानांतरण नीति सिर्फ पैसा कमाने का जरिया मात्र है तो ऐसी स्थान्तरण नीति से नतो देश का भला हो सकता है और नही रियाया का | योगी आदित्यनाथ सत्य ह्रदय भले मानष है जिसका दुरुपयोग नौकरशाही खुले मन से कर रही है |राष्ट्रहित के कार्य राष्ट्रहित में सहायक हो सकते है और वही सच्चा राष्ट्रवाद है जिससे राष्ट्र मजबूत हो |योगी जी के स्थानांतरण नीति का उद्देश्य तो योगी जी को मालूम ही होगा और इस केस में जो कुछ हुआ है वह स्थानांतरण नीति के बलात्कार या चीर हरण से कम नही है | किन्तु निदेशक स्तर के कर्मचारी के विरुद्ध योगी सरकार कार्यवाही की हिम्मत नही रखती है |
फीडबैक की स्थिति:
मंडलायुक्त द्वारा दिनाक 02/05/2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
लोक शिकायत अनुभाग – 1( मुख्यमंत्री कार्यालय )
13 – Mar – 2019
जिलाधिकारी
मिर्ज़ापुर,
कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।
30/04/2019
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
14 – Mar – 2019
जिला पंचायत राज अधिकारीमिर्ज़ापुर,
पंचायती राज विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें
30/04/2019
refer to attach file(उक्त शिकायत के समभंद में अवगत कराना है की रमेश चन्द्र उपाध्याय का थानांतरण मिर्ज़ापुर में किया गया है )
निस्तारित

 

2-It is submitted before the Hon’ble Sir that  51A. Fundamental duties It shall be the duty of every citizen of India (a) to abide by the Constitution and respect its ideals and institutions, the National Flag and the National Anthem;(h) to develop the scientific temper, humanism and the spirit of inquiry and reform;
(i) to safeguard public property and to abjure violence;
(j) to strive towards excellence in all spheres of individual and collective activity so that the nation constantly rises to higher levels of endeavour and achievement

 .

 

3-It is submitted before the Hon’ble Sir that how can it be justified, on one side of screen, new transfer policy of the government of Uttar Pradesh prohibits the posting of an officer more than three years and here A.D.O. Panchayat Ramesh Upadhyay remainted posted in the district Mirzapur for more than 15 years and on the complaint of the applicant, he was transferred to Gazipur and later he managed his transfer again in the Mirzapur district within one year from the date of transfer. Whether the again transfer of A.D.O. Panchayat Ramesh Upadhyay in the Mirzapur district is not against the spirit of the new transfer policy of the government?

This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos in an arbitrary manner by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer in order to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.                                                                         Yours sincerely

 

 

 

 Date-11-05-2019              Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911

,


Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001.

 

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Yogi
1 year ago

मंडलायुक्त द्वारा दिनाक 02/05/2019 को फीडबैक पर कार्यवाही अनुमोदित कर दी गयी है If the Hon'ble Sir is really interested in taking action, then applicant may also be informed about what action was approved on the feedback by the divisional commissioner Vindhyachal division.

Preeti Singh
1 year ago

Apparently it is crystal clear that government ordered through its home secretary to enquire into the matter and find the truth but nothing positive will come out and only promote corruption in the system.
आवेदन का संलग्नक संलग्नक देखें अग्रसारित विवरण-
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या स्थिति आख्या रिपोर्ट
1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग -3( मुख्यमंत्री कार्यालय ) 31 – May – 2019 अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव -गृह एवं गोपन कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। अधीनस्थ को प्रेषित
2 अंतरित अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (गृह एवं गोपन ) 04 – Jun – 2019 मंडलायुक्त मण्डल -मिर्ज़ापुर, कृपया जॉंचोपरान्त आवश्‍यक कार्यवाही करने का कष्ट करें अनमार्क

Beerbhadra Singh
1 year ago

Earlier Divisional Commissioner Vindhyachal made the mockery of the law of land in this matter and made an effort to put the carpet on the entire episode which is the reflection of the failure of the law of land moreover again enquiry by the Divisional Commissioner Vindhyachal not in accordance with the law of land is not the mockery of the law of the land. Whether cryptic approach of our public functionaries is not promoting corruption in our government machinery? It is matter of great concern that when the senior rank officers of the Yogi Adityanath government are indulged in the deep rooted corruption then how government will control growing corruption in the government machinery?