On 22/12/2018 field entry is scheduled tribe and on today filled entry is scheduled caste not forgery

Grievance Status for registration number :
PMOPG/E/2019/0083506

Grievance Concerns To

Name Of Complainant Yogi M P Singh, Date of Receipt 12/02/2019

Received By Ministry/Department Prime Ministers Office

Grievance Description

आवेदन
का विवरण, शिकायत संख्या -40019918037233 आवेदक कर्ता का नाम: Yogi M P Singh श्री
मान जी निदेशक समाज कल्याण लखनऊ व समाज कल्याण अधिकारी मिर्जापुर के विरुद्ध
सार्वजनिक दस्तावेजो में हेराफेरी करने व दलित वर्ग की छात्रा को परेशान व सरकार
द्वारा प्रदान की जाने वाली छात्रवृत्ति से वंचित करने का आरोप प्रार्थी की ओर से
है श्री मान जब छात्रा द्वारा अनुसूचित जाति को अनुसूचित जनजाति बना कर शुद्ध किया
जा चुका है तो इस समय लॉक्ड डाटा में अनुसूचित जाति क्यों प्रदर्शित हो रहा है
क्योकि लॉक्ड डाटा को तो केवल उपरोक्त दोनों के अलावा तीसरा नही खोल सकता है इसलिए
उपरोक्त दोनों ने एक सगठित अपराध कारित किया जो किसी तरह से क्षम्य नही है इसलिए
भारतीय दंड विधान की धारा sections 465,466,467,468,469 and 471 of I.P.C श्री मान
जी जिला छात्रवृत्ति समिति जिसका सर्वेसर्वा जिला समाज कल्याण अधिकारी होता है
अनुसूचित जनजाति की छात्रा का आवेदन फॉर्म इस आधार पर रद कर दिया गया की एनरोल
मेंट नंबर रोल नंबर मैच नही किया विश्वविद्यालय द्वारा अप लोडेड डाटा से श्री मान
जी जो छात्रा स्नातक प्रथम वर्ष की छात्रा है उससे सम्बंधित विश्वविद्यालय कब से
डाटा अप लोड करने लगा श्री मान जी चार फ़रवरी २०१९ को प्रार्थी द्वारा इ-मेल
प्रत्यावेदन के माध्यम से प्रधान मंत्री राष्ट्रपति मुख्य न्यायाधीश राज्यपाल
मुख्यमंत्री व अन्य माननीयो को प्रत्यावेदन प्रस्तुत किया जिसका विषय वस्तु निम्न
लिखित है श्री मान जी काजल पुत्री संतोष स्नातक गणित विज्ञानं वर्ग प्रथम वर्ष की
होनहार छात्रा है जो सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली छात्रवृत्ति की हर तरह से
पात्र है उनका केटेगरी अनुसूचित जनजाति है श्री मान जी छात्रा को स्क्रूटिनी
रिजल्ट में सस्पेक्ट डाटा की श्रेणी में रखा गया है कारण -जाति प्रमाण पत्र
केटेगरी मिसमैच है स्कालरशिप फॉर्म और रेवेन्यु डाटा बेस में श्री मान जी अब आप
समाज कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर का दिनांक ०१/०१/२०१९ का पत्र देखे जो की प्रार्थी
के पत्र /प्रत्यावेदन जो की उत्तर प्रदेश सरकार के जनसुनवाई पोर्टल पर प्रस्तुत की
गई और दिनांक २५/१२/२०१८ को जिला समाज कल्याण अधिकारी को प्रेषित है के क्रम में
है जिसके द्वारा निदेशक समाज कल्याण उत्तर प्रदेश से अनुरोध किया गया है की छात्रा
द्वारा अनुसूचित जनजाति का ही चुनाव किया गया है इसलिए उसको सस्पेक्ट डाटा की
श्रेणी से सम्बंधित कार्यवाही आपके स्तर से ही समीचीन है श्री मान जी जब समाज
कल्याण अधिकारी महोदय के यहा प्रत्यावेदन व संलग्नक परीशीलनोपरांत आख्या निदेशक
समाज कल्याण उत्तर प्रदेश शासन को प्रेषित किया गया तो अब भी सस्पेक्ट डाटा क्यों
आख्या पर टालमटोल कर छात्रा को शासकीय सहायता से वंचित करने की दिशा में आगे बढना
किस तरह से उचित है प्रार्थी के समझ से परे है महत्वपूर्ण यह है अब तो सभी जान
चुके है की प्रार्थी द्वारा अनुसूचित जन जाति ही भरा गया है और वह अनुसूचित जन
जाति की ही है फिर उसे छात्र वृत्ति प्रदान करने में टाल मटोल क्यों प्रथम वरीयता
वह एक लडकी है दूसरी अनुसूचित जन जाति की है इसलिए सरकार द्वारा प्रदत्त सहायता
राशी से वंचित करना वह भी डाटा की बाजी गरी किसी भी तरह से उचित नही है

Grievance Document

Current Status Grievance Received

Date of Action 12/02/2019

Officer Concerns To , Forwarded
to
Prime
Ministers Office

Officer Name Shri Ambuj Sharma

Officer Designation Under Secretary (Public)

Contact Address Public Wing 5th Floor, Rail Bhawan New
Delhi

Email Address ambuj.sharma38@nic.in

Contact Number 011-23386447

From
<https://pgportal.gov.in/Status/Detail>

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019918037233
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
Submission is under article 51 {a} of
the constitution of India for the aggrieved student pro-Bono.
Subject-Hardship in submitting the hard copy of the online correction made by
the applicant so invites the kind attention of the Honourable Sir to the miseries
being faced by the applicant. The matter is concerned with an applicant whose
detail is as follows-
रजिस्ट्रेशन
संख्या
:-690030201800560, जिला
(
जहाँ छात्र/छात्रा
अध्ययनरत है
):Mirzapur शिक्षण संस्थान: K.B.P. G. COLLAGE MIRZAPUR वर्ग/जाति समूह:
अनुसूचित जाति, छात्र/छात्रा
का नाम
: KM KAJAL पिता का नाम:Santosh,
जन्मतिथि:17/03/2000 and more detail is attached
with representation in the form of the document . Most revered Sir –Your
applicant invites the kind attention of the Hon’ble Sir with due respect to
following submissions as follows. 1-It is submitted before the Hon’ble Sir
that during the scrutiny it was found that the candidate belongs to scheduled
tribe category not scheduled caste category so data fed kept under suspense
category but now it has been rectified. Which is quite obvious from the
attached documents with this representation. 2-It is to be submitted before
the Hon’ble Sir that everyone knows that what was gone in the college on
Saturday i.e. on 22/11/2018 which was widely circulated in most of the daily
newspapers. Both teachers and student union were on loggerheads against each
other on the issue of winter’s holiday. Whether it is feasible for a girls
student to submit the hard copy of the online submitted application for the
scholarship. 3-It is to be submitted before the Hon’ble Sir that there is one
week holiday and nowadays college remained closed most of the days of months
so scanned copy of original papers are attached with the representation may
be treated as submitted by the applicant and moreover if the student will get
chance, then she will never miss the opportunity to submit the hard copy.
नियत तिथि:
09 – Jan – 2019
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक
12/02/2019
को फीडबैक:- श्री मान जी निदेशक समाज कल्याण लखनऊ व समाज कल्याण अधिकारी मिर्जापुर
के विरुद्ध सार्वजनिक दस्तावेजो में हेराफेरी करने व दलित वर्ग की छात्रा को
परेशान व सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली छात्रवृत्ति से वंचित करने का आरोप
प्रार्थी की ओर से है
| श्री मान जब छात्रा द्वारा अनुसूचित जाति को
अनुसूचित जनजाति बना कर शुद्ध किया जा चुका है तो इस समय लॉक्ड डाटा में
अनुसूचित जाति क्यों प्रदर्शित हो रहा है

|
क्योकि लॉक्ड डाटा को तो केवल
उपरोक्त दोनों के अलावा तीसरा नही खोल सकता है
| इसलिए उपरोक्त
दोनों ने एक सगठित अपराध कारित किया जो किसी तरह से क्षम्य नही है
| इसलिए भारतीय दंड विधान की धारा
sections 465,466,467,468,469 and 471 of I.P.C
श्री मान जी जिला छात्रवृत्ति समिति जिसका सर्वेसर्वा जिला समाज कल्याण
अधिकारी होता है अनुसूचित जनजाति की छात्रा का आवेदन फॉर्म इस आधार पर रद कर
दिया गया की एनरोल मेंट नंबर रोल नंबर मैच नही किया विश्वविद्यालय द्वारा अप
लोडेड डाटा से श्री मान जी जो छात्रा स्नातक प्रथम वर्ष की छात्रा है उससे
सम्बंधित विश्वविद्यालय कब से डाटा अप लोड करने लगा
| श्री मान जी चार फ़रवरी २०१९ को प्रार्थी द्वारा इमेल
प्रत्यावेदन के माध्यम से प्रधान मंत्री राष्ट्रपति मुख्य न्यायाधीश राज्यपाल
मुख्यमंत्री व अन्य माननीयो को प्रत्यावेदन प्रस्तुत किया जिसका विषय वस्तु
निम्न लिखित है
| श्री मान जी काजल पुत्री संतोष स्नातक गणित विज्ञानं
वर्ग प्रथम वर्ष की होनहार छात्रा है जो सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली
छात्रवृत्ति की हर तरह से पात्र है उनका केटेगरी अनुसूचित जनजाति है
| श्री मान जी छात्रा को स्क्रूटिनी रिजल्ट में सस्पेक्ट डाटा की श्रेणी
में रखा गया है
| कारण
जाति प्रमाण पत्र केटेगरी मिसमैच है
स्कालरशिप फॉर्म और रेवेन्यु डाटा बेस में

|
श्री मान जी अब आप समाज कल्याण
अधिकारी मिर्ज़ापुर का दिनांक ०१
/०१/२०१९ का पत्र देखे जो की प्रार्थी के पत्र /प्रत्यावेदन
जो की उत्तर प्रदेश सरकार के जनसुनवाई पोर्टल पर प्रस्तुत की गई और दिनांक २५
/१२/२०१८
को जिला समाज कल्याण अधिकारी को प्रेषित है के क्रम में है जिसके द्वारा निदेशक
समाज कल्याण उत्तर प्रदेश से अनुरोध किया गया है की छात्रा द्वारा अनुसूचित
जनजाति का ही चुनाव किया गया है इसलिए उसको सस्पेक्ट डाटा की श्रेणी से सम्बंधित
कार्यवाही आपके स्तर से ही समीचीन है

|
श्री मान जी जब समाज कल्याण अधिकारी
महोदय के यहा प्रत्यावेदन व संलग्नक परीशीलनोपरांत आख्या निदेशक समाज कल्याण
उत्तर प्रदेश शासन को प्रेषित किया गया तो अब भी सस्पेक्ट डाटा क्यों
| आख्या पर टालमटोल कर छात्रा को शासकीय सहायता से वंचित करने की दिशा में
आगे बढना किस तरह से उचित है प्रार्थी के समझ से परे है
| महत्वपूर्ण यह है अब तो सभी जान चुके है की प्रार्थी द्वारा अनुसूचित जन
जाति ही भरा गया है और वह अनुसूचित जन जाति की ही है फिर उसे छात्र वृत्ति
प्रदान करने में टाल मटोल क्यों

|
प्रथम वरीयता वह एक लडकी है दूसरी
अनुसूचित जन जाति की है इसलिए सरकार द्वारा प्रदत्त सहायता राशी से वंचित करना
वह भी डाटा की बाजी गरी किसी भी तरह से उचित नही
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त

आवेदन का संलग्नक

अग्रसारित विवरण-
क्र.स.
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
25 – Dec – 2018
जिला समाज कल्याण अधिकारी-मिर्ज़ापुर,समाज कल्‍याण विभाग
01/01/2019
letter no 2261-62 date 01-01-2019———————–
निस्तारित

From
<http://jansunwai.up.nic.in/TrackGraviancePopup.aspx?complainno=40019918037233&MOBNO=7379105911&IsOldNew=N&Type=2>

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

आवेदन का विवरण, शिकायत संख्या -40019918037233 आवेदक कर्ता का नाम: Yogi M P Singh श्री मान जी निदेशक समाज कल्याण लखनऊ व समाज कल्याण अधिकारी मिर्जापुर के विरुद्ध सार्वजनिक दस्तावेजो में हेराफेरी करने व दलित वर्ग की छात्रा को परेशान व सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली छात्रवृत्ति से वंचित करने का आरोप प्रार्थी की ओर से है श्री मान जब छात्रा द्वारा अनुसूचित जाति को अनुसूचित जनजाति बना कर शुद्ध किया जा चुका है तो इस समय लॉक्ड डाटा में अनुसूचित जाति क्यों प्रदर्शित हो रहा है क्योकि लॉक्ड डाटा को तो केवल उपरोक्त दोनों के अलावा तीसरा नही खोल सकता है इसलिए उपरोक्त दोनों ने एक सगठित अपराध कारित किया जो किसी तरह से क्षम्य नही है इसलिए भारतीय दंड विधान की धारा sections 465,466,467,468,469 and 471 of I.P.C श्री मान जी जिला छात्रवृत्ति समिति जिसका सर्वेसर्वा जिला समाज कल्याण अधिकारी होता है अनुसूचित जनजाति की छात्रा का आवेदन फॉर्म इस आधार पर रद कर दिया गया की एनरोल मेंट नंबर रोल नंबर मैच नही किया विश्वविद्यालय द्वारा अप लोडेड डाटा से श्री मान जी जो छात्रा स्नातक प्रथम वर्ष की छात्रा है उससे सम्बंधित विश्वविद्यालय कब से डाटा अप लोड करने लगा श्री मान जी चार फ़रवरी २०१९ को प्रार्थी द्वारा इ-मेल प्रत्यावेदन के माध्यम से प्रधान मंत्री राष्ट्रपति मुख्य न्यायाधीश राज्यपाल मुख्यमंत्री व अन्य माननीयो को प्रत्यावेदन प्रस्तुत किया

Preeti Singh
1 year ago

It is confirmed that no one will ever consider the submitted feedback.Whether is not showing that action is deliberately overlooked in order to conceal corruption.
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक प्राप्त आवेदन का संलग्नक संलग्नक देखेंnअग्रसारित विवरण-
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या स्थिति आख्या रिपोर्ट
1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 25 – Dec – 2018 जिला समाज कल्याण अधिकारी-मिर्ज़ापुर,समाज कल्‍याण विभाग — 01/01/2019 letter no 2261-62 date 01-01-2019———————– निस्तारित

Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

They must explain it how the scheduled caste take the place of schedule tribe when the schedule tribe was filled by the applicant itself and after locking by the applicant only two officers can open the account which where social welfare officer and director department of social welfare Government of Uttar Pradesh. Here this question arises that why government is adopting a lackadaisical approach in the matter in taking action against the director social welfare department in accordance with the law as he manipulated the cast of the girl student belonging to the schedule tribe whether the rights of weaker and down transaction is safe in this era of corruption where anarchy is rampant in the government machinery and corruption is prevailed from higher rank of Administrative hierarchy to lower.