Misdeeds exposed in the implementation of MGNREGA in block-Chhanbey,Mirzapur.

Whether this ambitious scheme of Government of India reaped any fruit or only remained means to fill the pockets of corrupt public functionaries. Most of the government staff concerned with this scheme are facing allegations of corruption but no one is taking action against them. Premier investigating agency of the country is carrying out inquiry but process is so slow that nothing can be expected from. अब पछताए क्या होतहैं जब चिड़िया चूंग गयी खेत पूर्ण रूपेड़ चरितार्थ हो रहा हैं |

2 comments on Misdeeds exposed in the implementation of MGNREGA in block-Chhanbey,Mirzapur.

  1. Whether this ambitious scheme of Government of India reaped any fruit or only remained means to fill the pockets of corrupt public functionaries. Most of the government staff concerned with this scheme are facing allegations of corruption but no one is taking action against them. Premier investigating agency of the country is carrying out inquiry but process is so slow that nothing can be expected from. अब पछताए क्या होतहैं जब चिड़िया चूंग गयी खेत पूर्ण रूपेड़ चरितार्थ हो रहा हैं |

  2. खुले आम भ्रस्टाचार का गंदा खेल चल रहा हैं लेकिन किसी को कुछ भी मालूम नहीं हैं क्या इसी को इमानदारी कहते हैं |विश्व की सब से बड़े जनतंत्र में इसी प्रकार की आराजकता रहती हैं |यह तब हो रहा हैं जब देश में मोदी का शासन हैं और उन्होंने देश की जनता को आश्वासन दिया हैं की वे भ्रष्टाचार कम करेंगे | उसी क्रम में लोकपाल की नियुक्ति होनी हैं लेकिन कब होगी समझ में नहीं आता हैं |कांग्रेस कम से कम नियुक्ति तो कर रही थी |क्या ये नेता हम मतदाताओं को मुर्ख समझते हैं |सोचिये हर जगह लूट खसोट मची हुई है फिर भी साहब इमानदार हैं |प्रेस और मीडिया के माध्यम से झूठी इमानदारी दिखाना आसान हैं |अब कड़ी परीक्षा हैं | क्या कोई चोर अपने आप को ईमान दार कह सकता हैं |संभव हैं कुछ पल के लिए |

Leave a Reply

%d bloggers like this: