MGKVP University Varanasi will ever curb its anarchy, lawlessness and chaos. Lawlessness

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
40019918033881
आवेदक कर्ता का
नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का
मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
फीडबैक की स्थिति: अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव द्वारा दिनाक 31/10/2018
को प्राप्त आख्या अनुमोदित कर दी
गयी है
Answer already
given no any answer required.
श्री मान जी उपरोक्त जवाब महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ स्टाफ द्वारा दिया जा रहा है | उपरोक्त आंग्ल वाक्य का
हिन्दी रूपांतरण है जवाब पहले ही दिया जा चुका कोई और
जवाब शेष नही है
| श्री मान जी
अब इनका जवाब देखे अवगत कराना है
विश्वविद्यालय से
सम्बद्ध महाविद्यालयों के माध्यम से व्यक्तिगत परीक्षार्थियो परीक्षा आवेदन पत्र अग्रसारित कराया जाता है
शिकायतकर्ता इंटरमीडिएट में लिए गये विषयों के आधार पर स्नातक स्तर पर
विषयों का
चयन करता है | इंटरमीडिएट
स्तर पर
केवल इतिहास विषय के
रूप में एक ही
विषय का
चयन किया जा सकता है | उच्च शिक्षा में आवेदन करने के
पूर्व विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की गाइड लाइन के
अनुसार किसी भी पाठ्यक्रम या संस्था में प्रवेश लेने के
पूर्व इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करने की जिम्मेदारी परीक्षार्थी की
होगी | हस्ताक्षरित सहायक कुलसचिव / नोडल कोऑर्डिनेटर डा
राकेश मिश्र दिनांक ०१
फ़रवरी २०१८ आख्या संलग्न है | उपरोक्त द्वारा ०३जनवरी २०१८ को
प्रस्तुत आख्या अवगत कराना है
की विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित विषय पुंज के द्वारा कोई भी
परीक्षार्थी बी. . में इतिहास प्राचीन इतिहास और
मध्यकालीन और
आधुनिक इतिहास में से
कोई एक
विषय का
ही चयन कर सकता है | श्री मान जी अब
प्रार्थी का
जवाब देखे श्री मान जी
रागिनी पाण्डेय का महाविद्यालय द्वारा अग्रसारित विश्वविद्यालय द्वारा स्वीकृत परीक्षा फॉर्म प्रत्यावेदन के
साथ संलग्न है | रागिनी पाण्डेय को बी.एस. सी. प्रथम वर्ष में जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और
रसायन विज्ञान दिया गया है जब
की रागिनी पाण्डेय इंटरमीडिएट में गणित की छात्रा थी और
उन्होंने कभी भी इंटरमीडिएट जीव विज्ञान और वनस्पति विज्ञान में उत्तीर्ण नही की है
| बहुत हास्यास्पद है
की महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ में योग्य स्टाफ का इस
कदर अकाल पड गया है की
आंग्ल भाषा में लिखे प्रत्यावेदनो की
विषय वस्तु तक नही समझ पाते है| भगवान भरोसे विश्वविद्यालय चला रहे है |
नियत तिथि:
08 – Dec – 2018
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 25/11/2018को फीडबैक:- श्री मान जी
कुलदीप कुमार चौधरी ने
व्यक्तिगत परीक्षा २०१४ हेतु आवेदन नही किया था
उन्होंने ब्यक्तिगत परीक्षा २०१७ हेतु आवेदन किया था
जब यह
संभव था
की विश्विद्यालय अपने तय
मानको के
अनुसार वेबसाइट पर फीडबैक देता जो
करने में महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ पूर्ण रूप से फ़ैल रहा |आपकी रिपोर्ट -Please find attachment for Private Students Nirdesh of University
श्री मान जी आपके इस २०१४ के दिशा निर्देश से
यह पूर्ण रूप से
सिद्ध हो
चुका है
की आप
ने व्यक्तिगत परीक्षा २०१७ का आयोजन करते समय कोई भी
दिश निर्देश जारी नही किया और
आपका एक
सूत्री कार्यक्रम रहा की
कितना ज्यादा से ज्यादा शुल्क विद्यार्थियों से वसूल अपनी जेबे भरी जाय | अन्यथा ३००० रुपये शुल्क और
२०० रुपये अग्रसारण शुल्क के अलावा आप विद्यार्थिओं की परेशानी पर भी
ध्यान देते | श्री मान जी
कुलपति महोदय आप अपने दिशा निर्देश में हिटलर की तरह आदेश कर
रहे है
की किसी भी त्रुटी के लिए विद्यार्थी खुद जिम्मेदार होगा किन्तु जो
त्रुटि आप
के स्टाफ द्वारा किया गया उसके लिए भी
विद्यार्थी ही
जिम्मेदार है
| श्री मान जी
रागिनी पाण्डेय का परिक्षा फॉर्म में विषय जो
की नियमित छात्रा है
महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ की जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और
रसायन विज्ञान भरा गया जो की
छात्रा द्वारा नही भरा गया है
महाविद्यालय द्वारा विश्वविद्यालय से
अनुमति के
पश्चात भरा गया है
| जिसको बदलने की
इजाजत छात्र या छात्रा को नही है | अब मेरा महान कुलपति को और
उनके रजिस्ट्रार को चुनौती है की
वे पूरे भारत वर्ष में ऐसे एक छात्र का नाम बताये जो
इंटर गणित वर्ग का
हो और
उसे स्नातक स्तर पर
जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और रसायन विज्ञान दिया गया हो
| यह सच है
की आप
लोगो ने
दलित छात्र कुलदीप कुमार चौधरी भविष्य चौपट कर
दिया क्यों की जिन विषयों में वह परीक्षा दिया है
उसमे वह
उत्तीर्ण हुआ है | कहने के लिए लोकतंत्र है किन्तु यहा हिटलर और मुसोलिनी से भी
बड़े तानाशाह है | हे ईश्वर आप ही
न्याय करे |
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक
प्राप्त
आवेदन
का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
23 – Nov – 2018
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी
24/11/2018
Please find attachment for Private Students Nirdesh of
University
निस्तारित

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी कुलदीप कुमार चौधरी ने व्यक्तिगत परीक्षा २०१४ हेतु आवेदन नही किया था उन्होंने ब्यक्तिगत परीक्षा २०१७ हेतु आवेदन किया था जब यह संभव था की विश्विद्यालय अपने तय मानको के अनुसार वेबसाइट पर फीडबैक देता जो करने में महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ पूर्ण रूप से फ़ैल रहा |आपकी रिपोर्ट -Please find attachment for Private Students Nirdesh of University श्री मान जी आपके इस २०१४ के दिशा निर्देश से यह पूर्ण रूप से सिद्ध हो चुका है की आप ने व्यक्तिगत परीक्षा २०१७ का आयोजन करते समय कोई भी दिश निर्देश जारी नही किया और आपका एक सूत्री कार्यक्रम रहा की कितना ज्यादा से ज्यादा शुल्क विद्यार्थियों से वसूल अपनी जेबे भरी जाय | अन्यथा ३००० रुपये शुल्क और २०० रुपये अग्रसारण शुल्क के अलावा आप विद्यार्थिओं की परेशानी पर भी ध्यान देते |

Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

Undoubtedly there is sheer anarchy in the working of the staffs of MGKVP Varanasi and most surprising is that accountable public functionaries are mute spectators of it. छात्रा द्वारा नही भरा गया है महाविद्यालय द्वारा विश्वविद्यालय से अनुमति के पश्चात भरा गया है | जिसको बदलने की इजाजत छात्र या छात्रा को नही है | अब मेरा महान कुलपति को और उनके रजिस्ट्रार को चुनौती है की वे पूरे भारत वर्ष में ऐसे एक छात्र का नाम बताये जो इंटर गणित वर्ग का हो और उसे स्नातक स्तर पर जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और रसायन विज्ञान दिया गया हो | यह सच है की आप लोगो ने दलित छात्र कुलदीप कुमार चौधरी भविष्य चौपट कर दिया क्यों की जिन विषयों में वह परीक्षा दिया है उसमे वह उत्तीर्ण हुआ है | कहने के लिए लोकतंत्र है किन्तु यहा हिटलर और मुसोलिनी से भी बड़े तानाशाह है | हे ईश्वर आप ही न्याय करे |

Arun Pratap Singh
1 year ago

They must take action swiftly on feedback but it seems that they are procrastinating on the matter ipso facto obvious from their working style.
फीडबैक : दिनांक 25/11/2018को फीडबैक:- श्री मान जी कुलदीप कुमार चौधरी ने व्यक्तिगत परीक्षा २०१४ हेतु आवेदन नही किया था उन्होंने ब्यक्तिगत परीक्षा २०१७ हेतु आवेदन किया था जब यह संभव था की विश्विद्यालय अपने तय मानको के अनुसार वेबसाइट पर फीडबैक देता जो करने में महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ पूर्ण रूप से फ़ैल रहा |