Life imprisonment to rapists within reasonable time by the court must be followed by other courts.

Undoubtedly this judgement is applauding and
timely but whether this judgement will be taken by other courts as precedent.
This judgement came within one year but there are several such cases which are
languishing in various courts of this country. This shows that in order to
reform the system ,we need firm resolve instead of legislation full of baskets
but useless. 
मुंबई की शक्ति मिल में एक 18 साल की टेलीफ़ोन ऑपरेटर के साथ बलात्कार के
मामले में स्थानीय अदालत ने शुक्रवार को चार दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा
सुनाई है
.This may be considered as beginning of
reformatory steps and other courts may also pursue this path . In state of
Uttar Pradesh, such victims are spinning around the courts but Judges have no
time to proceed in the case . If a criminal will move in the society openly
,then how security of society can be guaranteed? And even case witnesses can
remain secure.  
सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने बीबीसी को यह जानकारी
दी
. यह घटना पिछले साल जुलाई महीने
की है
.
संबंधित समाचार
टॉपिक
टेलीफ़ोन ऑपरेटर बलात्कार मामले के चार दोषियों में
से तीन को शक्ति मिल मेंएक महिला पत्रकार के साथ सामूहिक बलात्कार के मामले में भी
दोषी पाया गया है
.These people are sheep in the form of
human and cruelty has overshadowed their discretion so such people may not be
allowed to remain in society any longer. 
सत्र अदालत ने गुरुवार को पिछले साल अगस्त में एक
महिला पत्रकार से बलात्कार के मामले में चार अभियुक्तों को दोषी पाया था
. महिला पत्रकार मामले का एक अन्य अभिुयक्त
नाबालिग है
. नाबालिग अभियुक्त पर
अलग से मुक़दमा चलाया जा रहा है
.This judgement must be
exemplary for others as the need of hour.
मुंबई की शक्ति मिल के पास 22 अगस्त 2013 को पाँच लोगों ने 22 वर्षीय महिला पत्रकार का बलात्कार किया था जब वह अपने एक पुरुष सहकर्मी के साथ एक असाइनमेंट पर गई थी.

2 comments on Life imprisonment to rapists within reasonable time by the court must be followed by other courts.

  1. दोनों मामलों में दोषी
    उज्ज्वल निकम ने बताया कि टेलीफ़ोन ऑपरेटर से बलात्कार के मामले में 31 गवाहों और महिला पत्रकार के बलात्कार के मामले में 44 गवाहों की गवाही हुई है.
    महिला पत्रकार बलात्कार मामले में अदालत दोषियों को 24 मार्च को सज़ा सुनाएगी.
    अदालत ने विजय जाधव(19 वर्ष), मोहम्मद क़ासिम शेख (21 वर्ष) और मोहम्मद अंसारी (28 वर्ष) को दोनों मामलों में दोषी माना है.
    मुंबई की शक्ति मिल के पास 22 अगस्त 2013 को पाँच लोगों ने 22 वर्षीय महिला पत्रकार का बलात्कार किया था जब वह अपने एक पुरुष सहकर्मी के साथ एक असाइनमेंट पर गई थी.

  2. Whether this judgement will be followed or only a trick to conceal its lacunae if our courts will follow this sacred path then it is admirable but it they think that they will mislead the countrymen and world community by mongering such news and will remain as such ,then such evil design will never be allowed to succeed because this amount to cheating and which must be curbed. Undoubtedly the credibility of judiciary has gone down in these days because it remained failed to provide justice to common men of country. It colluded with other organs of government. The irksome delay in delivery of justice is the prime cause of concern and this happened because of inefficiency and grown anarchy in the institution.

Leave a Reply

%d bloggers like this: