In order to maintain peace ,whether 107/16 is instrumental or redressal of grievance in accordance with law

आवेदन
का विवरण
शिकायत संख्या
40017516001834
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi
M. P. Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
What is the cause of procrastination at the
level of office of senior superintendent of police Allahabad when the farming
land is inundated into rain water 12 July 2016 0017
श्री मान जी तालाब पोखरा नाला इन सब पर कब्जा करना इनको पाटना मानवता के प्रति अपराध है ऐसी प्रवृत्ति सिर्फ समाज में
आराजकता पैदा करती है सभ्य समाज का परिचायक नही है इसकी जितनी भी निंदा की जाय
कम है क्या यह समाज सभ्य लोगो के रहने लायक है | बड़ा आश्चर्य है पुलिस संबर्धन का काम कर रही
है | With due respect your applicant wants to draw
the kind attention of the Honble Sir to the following submissions as follows 1-It
is submitted before the Honble Sir that IG Zone directed DIG Allahabad
division as
कृपया प्रकरण में शीध्र यथोचित कार्यवाही करने का कष्ट करें  and thus he performed
his duty 2-It is submitted before the Honble Sir that DIG Allahabad division
directed SSP Allahabad division as
कृपया प्रकरण में शीध्र यथोचित कार्यवाही करने का कष्ट करें  and thus he performed
his duty 3-It is submitted before the Honble Sir that
दबंगों ने नाला पाट डाला जिसमे पचास वर्षों से बरसात का पानी बहता था थानाध्यक्ष mauayima पुलिस स्टेशन तहसीलदार फूलपुर के आदेश को नजरअंदाज करते हुए
पुरे मामले में मूकदर्शक रहे और क्षेत्राधिकारी सोराओं अभी तक यही समझते है की मामला आवेदक चन्द्रबली सिंह की जमीन पर अबैध कब्जा से सम्बंधित है | This is humble request of your applicant to
you Honble Sir that It can never be justified to overlook  the rights of
citizenry by delivering services in arbitrary manner by floating all set up
norms This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap
benefit of loopholes in system and depriving poor citizens from right to
justice Therefore it is need of hour to take concrete steps in order to curb
grown anarchy in the system For this your applicant shall ever pray you
Honble Sir                  
         Yours  sincerely      
                     
Yogi M P Singh Mobile number-7379105911 Mohalla-Surekapuram, Jabalpur Road
District-Mirzap
नियत तिथि:
27
– Jul – 2016
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
नियत
दिनांक
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
12
– Jul – 2016
पुलिस महा निरीक्षक जोन इलाहाबाद
— 
20
– Nov – 2016
आख्या
अवलोकनार्थ प्रेषित है
निस्तारित
2
अंतरित
पुलिस महा निरीक्षक (पुलिस )
12
– Jul – 2016
पुलिस उप महानिरीक्षक मण्डल इलाहाबाद,पुलिस
कृपया प्रकरण में
नियमानुसार कार्यवाही करने का कष्ट करें 
20
– Nov – 2016
आख्या
अवलोकनार्थ प्रेषित है
निस्तारित
3
अंतरित
पुलिस उप महानिरीक्षक (पुलिस )
15
– Jul – 2016
वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षकइलाहाबाद,पुलिस
कृपया प्रकरण में
नियमानुसार कार्यवाही करने का कष्ट करें 
20
– Nov – 2016
आख्या
अवलोकनार्थ प्रेषित है
निस्तारित
4
आख्या
वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षक (पुलिस )
15
– Sep – 2016
क्षेत्राधिकारी सोरांव,जनपदइलाहाबाद,पुलिस
आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें आख्या अवलोकनार्थ प्रेषित है
08
– Nov – 2016
थाना
मऊआइमा से प्राप्त आख्या संस्तुति सहित सादर प्रेषित है
निस्तारित
5
आख्या
क्षेत्राधिकारी (पुलिस )
19
– Oct – 2016
थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षकमउआइमा,जनपदइलाहाबाद,पुलिस
आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें थाना मऊआइमा से प्राप्त आख्या संस्तुति सहित सादर प्रेषित है
08
– Nov – 2016
जाँच
आख्या संलग्न है
निस्तारित

2 comments on In order to maintain peace ,whether 107/16 is instrumental or redressal of grievance in accordance with law

  1. Honble Sir दबंगों ने नाला पाट डाला जिसमे पचास वर्षों से बरसात का पानी बहता था थानाध्यक्ष mauayima पुलिस स्टेशन तहसीलदार फूलपुर के आदेश को नजरअंदाज करते हुए पुरे मामले में मूकदर्शक रहे और क्षेत्राधिकारी सोराओं अभी तक यही समझते है की मामला आवेदक चन्द्रबली सिंह की जमीन पर अबैध कब्जा से सम्बंधित है | Report didn't touch the contents of grievance whether it is good governance.

  2. आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें थाना मऊआइमा से प्राप्त आख्या संस्तुति सहित सादर प्रेषित है । In this country ,there is no rule of law. Whether concerned public servants took action on the direction of Tahsildar if not why were they not made accountable?

Leave a Reply

%d bloggers like this: