If something is direct, then no need of evidence to prove it but in this anarchy everythig is contrary

amarujala.com/uttar-pradesh/varanasi/student-eat-poison-after-not-get-admission-in-college?pageId=1

Wednesday, November 22, 2017
12:35 AM
आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019917006428
आवेदक कर्ता का नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
Whether to close a post-graduate college is the prerogative of the principal of the college If yes, How many days a postgraduate college can remain closedAn application under article 51 A of the constitution of India स्नातकोत्तर महाविद्यालय के बी पी जी कॉलेज मिर्ज़ापुर महीनो से बंद चल रहा है कभी कोई कारण तो कभी कोई | क्या प्राचार्या को इतना अधिकार है की वह मनमाने तरीके से कॉलेज बंद कर दे और जिसका कोई तथ्य पुर्ण कारण नहो | Whether it is not reflecting lack of administrative skills that instead of tackling the problems of students more emphasis is made on to close the topmost prestigious college in this district which has excellent glorious past record like Home minister of this country remained the Professor in this college and former principal Mr YR Tripathi of this college was appointed as the vice-chancellor of Awadh UniversityVarious students of this college are now serving the country at the key post With great respect to revered Sir, your applicant invites the kind attention of the Hon’ble Sir to the following submissions as follows 1-It is submitted before the Hon’ble Sir that matter is concerned with the principal KBPG College, Musaffer Ganj, District-Mirzapur, Uttar Pradesh Who instead of coordinating administrative works efficiently in order to pave the way for constructive activities in the college prefers to close the college on the flimsy ground which is not only illegal but also against the public spirit and a bad game being played with the futures of our youths 2-It is submitted before the Hon’ble Sir that whether the job of principal is confined to only pecuniary matters and signature on certificates as being done in these days in this premier stalwart institution of the district Mirzapur instead of focussing on the promoting standard of education in the institution and constructive activities in the college How can the accountable public functionaries overlook the matter concerned with the larger public interest by allowing the arbitrary action on the part of lady principal 3-It is submitted before the Hon’ble Sir that there are several fees charged from the students which are arbitrarily spent by the principal of the college not subjected to scrutiny of the competent authority causes additional burden on the students and their guardians but it is unfortunate that accountable public functionaries are not paying heed to the grievances of the aggrieved How can exploitation of students be justified by the public staff in this largest democracy in the world 4-It is submitted before the Hon’ble Sir that 51A Fundamental duties It shall be the duty of every citizen of India (a) to abide by the Constitution and respect its ideals and institutions, the National Flag and the National Anthem;(h) to develop the scientific temper, humanism and the spirit of inquiry and reform; (i) to safeguard public property and to abjure violence; (j) to strive towards excellence in all spheres of individual and collective activity so that the nation constantly rises to higher levels of endeavour and achievement This is a humble request of your applicant to you Honble Sir that It can never be justified to overlook the rights of the citizenry by delivering services in an arbitrary manner by floating all set up norms This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap the benefit of loopholes in the system and depriving poor citizens of the right to justice Therefore it is need of the hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system For this, your applicant shall ever pray you, Honble Sir Yours sincerely Yogi M P Singh Mobile number-7379105911 Mohalla-Surekapuram, Jabalpur Road District-Mirzapur, Uttar Pradesh, India
नियत तिथि:
17 – Nov – 2017
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 22/11/2017को फीडबैक:- If everything is O.K. why did student swallow rat killer? Whether suicide is cheaper in this largest democracy in the world in comparison to other available options as taken by our adolescent youth? Most revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due respect to following submissions as follows. 1-It is submitted before the Hon’ble Sir that according to principal of KBPG COLLEGE MIRZAPUR, Dr, Sunita Tripathi, student attempted suicide is not the student of college as he had applied for admission in B.A. Part one and his name was shortlisted for second list but he didn’t take admission within stipulated time limit but at the same time she forgot that extreme step taken by adolescent student because concerned didn’t take his admission arbitrarily by making the mockery of law of land. Being administrative head of the college, principal madam remained failed to order enquiry in regard to allegations made by poor student in order to provide justice to aggrieved student which compelled him to take extreme step of suicide as such rampant anarchy filled sheer frustration and disappointment in him. केबीपीजी कालेज की प्राचार्य डा. सुनीता त्रिपाठी ने कहा कि अतुल दूबे कॉलेज का छात्र नहीं है। उसने बीए प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए फार्म जमा किया था। उसका नाम सेकेंड मेरिट लिस्ट में था, किंतु उसने निर्धारित तिथि के अंदर प्रवेश नहीं लिया। इससे उसका प्रवेश नहीं हो सका। 2-It is submitted before the Hon’ble Sir that both principal madam and Hon’ble coordinator may explain that what action was taken by duo in regard to allegations of student and in disappointment he took such extreme step to commit suicide but grace to God he is under treatments by a team of doctors in divisional hospital Mirzapur. जबकि समन्वयक प्रवेश समिति डा. अनिल कुमार सिंह का कहना है कि प्रवेश के लिए समिति का गठन किया गया है। संकाय एवं श्रेणीवार पटल स्थापित करके शिक्षक प्रवेश कार्य कर रहे हैं। प्राचार्य और समन्वयक का कार्य केवल यह देखना होता है कि प्रवेश में नियमों का पालन हो रहा है या नहीं। 3-It is submitted before the Hon’ble Sir that MGKVP University Varanasi through its letter dated 10-Aug-2017 has increased the 60to 80 seats per subject and in practical subjects 33 percent seats but it is unfortunate that because of mismanagement of college management, there is sheer anarchy in the college. Hon’ble Sir may be pleased to take a glance of attached documents with this representation. छात्र जिला अस्पताल में भर्ती, हालत सामान्यPC: अमर उजाला केबीपीजी कॉलेज, मिर्जापुर के मेरिट लिस्ट में नाम होने के बावजूद प्रवेश नहीं मिलने से मायूस छात्र ने बुधवार की दोपहर 12 बजे कॉलेज कैंपस में ही जहर खा लिया। छात्र को आनन फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। डीएम, एसडीएम सदर और कालेज की प्राचार्य ने अस्पताल पहुंच कर छात्र के बारे में जानकारी ली। छात्र की हालत सामान्य है। चील्ह के रामपुर गांव निवासी अतुल दूबे (21) ने केबी पीजी कॉलेज में बीए प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए फार्म भरा था। उसका नाम सूची में था। छात्र के अनुसार तीन अगस्त को वह प्रवेश लेने पहुंचा तो कॉलेज प्रशासन के लोगों ने कहा कि आज फार्म अधिक हो गया है, इसलिए चार अगस्त की सुबह प्रवेश लिया जाएगा। जब अतुल चार अगस्त की सुबह पहुंचा तो वहां मौजूद लोगों ने कहा कि प्रवेश की तिथि तीन अगस्त तक ही थी। उसने बताया कि वह तीन अगस्त को आया था, लेकिन फार्म जमा नहीं किया गया और उसे चार अगस्त को बुलाया गया था, लेकिन कॉलेज प्रशासन के लोग नहीं माने। वह निराश होकर घर लौट गया। बुधवार को छात्र फिर कॉलेज पहुंचा। दाखिले से संबधित जानकारी ली। कोई बात बनती न देख वह मायूस हो गया और कॉलेज कैंपस में चूहा मारने वाला जहर खा लिया। अचेत होने पर छात्र को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। छात्र ने जहर खाने से पहले सुसाइड नोट में लिखा था कि कॉलेज प्रशासन छात्रों के प्रवेश में मनमाना रवैया अपना रहा है। इससे सैकड़ों छात्र-छात्राएं प्रवेश लेने से वंचित हो गए हैं। इसकी जांच करा कर प्रवेश समिति के खिलाफ कार्रवाई की जाए।
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण-
क्र.स.
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
नियत दिनांक
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
02 – Nov – 2017
जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर,
21 – Nov – 2017
आख्या अपलोड है
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
03 – Nov – 2017
मुख्य विकास अधिकारी-मिर्ज़ापुर,ग्राम्‍य विकास विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें आख्या अपलोड है
21 – Nov – 2017
shiakayat karta dwara apne kathan ke sandarbh me koi sachya salagn nahi kiya gaya hai. atah shikayat niradhar hai.
निस्तारित

From <http://jansunwai.up.nic.in/TrackGraviancePopup.aspx?complainno=40019917006428&MOBNO=7379105911&IsOldNew=N&Type=2

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

Whether to close a post-graduate college is the prerogative of the principal of the college If yes, How many days a postgraduate college can remain closedAn application under article 51 A of the constitution of India स्नातकोत्तर महाविद्यालय के बी पी जी कॉलेज मिर्ज़ापुर महीनो से बंद चल रहा है कभी कोई कारण तो कभी कोई | क्या प्राचार्या को इतना अधिकार है की वह मनमाने तरीके से कॉलेज बंद कर दे और जिसका कोई तथ्य पुर्ण कारण नहो |

Preeti Singh
3 years ago

मिर्जापुर के मेरिट लिस्ट में नाम होने के बावजूद प्रवेश नहीं मिलने से मायूस छात्र ने बुधवार की दोपहर 12 बजे कॉलेज कैंपस में ही जहर खा लिया। छात्र को आनन फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। डीएम, एसडीएम सदर और कालेज की प्राचार्य ने अस्पताल पहुंच कर छात्र के बारे में जानकारी ली। छात्र की हालत सामान्य है। चील्ह के रामपुर गांव निवासी अतुल दूबे (21) ने केबी पीजी कॉलेज में बीए प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए फार्म भरा था। उसका नाम सूची में था। छात्र के अनुसार तीन अगस्त को वह प्रवेश लेने पहुंचा तो कॉलेज प्रशासन के लोगों ने कहा कि आज फार्म अधिक हो गया है, इसलिए चार अगस्त की सुबह प्रवेश लिया जाएगा। जब अतुल चार अगस्त की सुबह पहुंचा तो वहां मौजूद लोगों ने कहा कि प्रवेश की तिथि तीन अगस्त तक ही थी। उसने बताया कि वह तीन अगस्त को आया था, लेकिन फार्म जमा नहीं किया गया और उसे चार अगस्त को बुलाया गया था, लेकिन कॉलेज प्रशासन के लोग नहीं माने। वह निराश होकर घर लौट गया। बुधवार को छात्र फिर कॉलेज पहुंचा। दाखिले से संबधित जानकारी ली। कोई बात बनती न देख वह मायूस हो गया और कॉलेज कैंपस में चूहा मारने वाला जहर खा लिया। अचेत होने पर छात्र को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। छात्र ने जहर खाने से पहले सुसाइड नोट में लिखा था कि कॉलेज प्रशासन छात्रों के प्रवेश में मनमाना रवैया अपना रहा है। इससे सैकड़ों छात्र-छात्राएं प्रवेश लेने से वंचित हो गए हैं। इसकी जांच करा कर प्रवेश समिति के खिलाफ कार्रवाई की जाए।
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक विचाराधीन