Grievance against corruption of Sudarsan Maurya is being overlooked by the concerned government staff

Grievance Status for registration number: PMOPG/E/2020/0908346

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
सुदर्सन मौर्या
Date of Receipt
11/10/2020
Received By Ministry/Department
Prime Ministers Office
Grievance Description
प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत सन्दर्भ कुछ इस प्रकार है – सेवा में जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर जिला –मिर्ज़ापुर, उत्तर प्रदेश विषय –मंगला प्रसाद दूबे गैर जनपद स्थानांतरण के सम्बन्ध में सम्बंधित प्राधिकारी उस लेखपाल का स्थानांतरण बसही से तरकापुर कर दिये जो की और मलाई दार पोस्ट है और घर और तहसील दोनों नजदीक हो गयी प्रार्थी अपनी माता राजकुमारी के डूडा से मिलने वाले आवास के सम्बन्ध में जानकारी चाहता है किन्तु वे किसी भी जानकारी को देने के बजाय उन शब्दों का इस्तेमाल किये जो प्रार्थी लिखने में ही मर्यादा विरुद्ध समझता है सन्दर्भ संख्या:- 40019920016968 में लेखपाल द्वारा गोलमटोल मनमाना जवाब दिया गया जिसे तहसीलदार सदर और उपजिलाधिकारी सदर द्वारा स्वीकार किया गया किन्तु हद तो तब हो गयी जब प्रार्थी द्वारा आपत्ति की गयी तो भी लेखपाल द्वारा वही आख्या पुनः संलग्न की गयी जो की अनुशासन हीनता की कोटि में आता है श्री मान जी प्रार्थी द्वारा अपनी माता राजकुमारी के डूडा से मिलने वाले आवास के सम्बन्ध में जानकारी चाहता है जो की संलग्नको से स्पस्ट है जो आरोप लगे है वे स्वतः सिद्ध है उनके तानाशाही रवैये से
प्रार्थी द्वारा निम्न दो शिकायते जनसुनवाई पोर्टल पर प्रस्तुत की गई
जनसुनवाई समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश सन्दर्भ संख्या:- 40019920016968 नाम सुदर्सन मौर्या पिता/पति का नाम ब्रिजलाल मौर्या मोबइल नंबर 9455024500

जनसुनवाई समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश सन्दर्भ संख्या:- 40019920019428 नाम-सुदर्सन मौर्या पिता/पति का नाम ब्रिजलाल मौर्या मोबइल नंबर 9455024500
श्री मान जी पोर्टल फीडबैक नही ले रहा है इसलिए आवेदन को नया करने की आवश्यकता है प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत सन्दर्भ कुछ इस प्रकार है – सेवा में जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर जिला –मिर्ज़ापुर, उत्तर प्रदेश विषय –मंगला प्रसाद दूबे गैर जनपद स्थानांतरण के सम्बन्ध में प्रार्थी अपनी माता राजकुमारी के डूडा से मिलने वाले आवास के सम्बन्ध में जानकारी चाहता है किन्तु वे किसी भी जानकारी को देने के बजाय उन शब्दों का इस्तेमाल किये जो प्रार्थी लिखने में ही मर्यादा विरुद्ध समझता है तहसीलदार सदर द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट कुछ इस प्रकार है तहसील सदर द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट मनमाना है और विषय वस्तु से हट कर है यह प्रकरण भ्रष्टाचार और लेखपाल के कदाचार से सम्बंधित है प्राथी के प्रत्यावेदन को गलत ढंग से निस्तारित किया गया है जो की अन्याय पूर्ण है महोदय प्रार्थी का अनुरोध है की तहसीलदार सदर को कारण बताओं नोटिस जारी किया जाय क्योकि उनका जवाब अमर्यादित और भ्रष्टाचार पूर्ण है संदर्भ संख्या : 40019920016968 , दिनांक – 16 Sep 2020 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण :शिकायत संख्या:-40019920016968 आवेदक का नाम- सुदर्सन मौर्या विषय- सेवा में जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर जिला –मिर्ज़ापुर, उत्तर प्रदेश विषय –मंगला प्रसाद दूबे गैर जनपद स्थानांतरण के सम्बन्ध में महोदय आप को ज्ञात हो की मगला प्रसाद दूबे जी अपने जनपद मिर्ज़ापुर में कई वर्षो से जमे हुए है और गुट बंदी करते है तृतीय श्रेणी के कर्मचारी लेकिन जीवनशैली अधिकारयों के मात देने वाली है संपत्ति इतनी की पड़ोसी इर्ष्या के कारण सो नही पाता है श्री मान सामान्य बातचीत में भी साथ चल रहे दलाल मारपीट करने पर उतारू हो जाते है महत्वपूर्ण तथ्य यह है खुद दूबे जी उन लोगो से मना नही करते और किसी भी बात का समुचित उत्तर नही देते है उनकी कार्यशैली जनपद में बहुत ही संदिग्ध है महोदय उनका गैर जनपद स्थानांतरण बहुत जरुरी है क्योकि उन्होंने प्रार्थी का अपमान किया है और प्रार्थी के साथ असंसदीय भाषा का प्रयोग किया जो की उचित नही है प्रार्थी अपनी माता राजकुमारी के डूडा से मिलने वाले आवास के सम्बन्ध में जानकारी चाहता है किन्तु वे किसी भी जानकारी को देने के बजाय उन शब्दों का इस्तेमाल किये जो प्रार्थी लिखने में ही मर्यादा विरुद्ध समझता है लेखपाल महोदय प्रति आवास ३००० रुपये लेते है रिपोर्ट लगाने के लिए किन्तु जो नही देता उसमे रिपोर्ट ही नही लगता और उनकी सूची डूडा पहुचती ही नही श्री मान जी मामले की जांच उच्च स्तरीय अधिकारी द्वारा कराया जाय और जांच में पारदर्शिता बरती जाय जिससे की जवाबदेही तय हो और इनकी जनपद मिर्ज़ापुर में तैनाती / पोस्टिंग का विवरण की समीक्षा उत्तर प्रदेश सरकार की नई स्थानान्तरण नीति के अनुसार आख्या प्रार्थी को उपलब्ध कराया जाय लेखपाल लिस्ट

Grievance Document
Current Status
Grievance Received
Date of Action
11/10/2020
Officer Concerns To
Forwarded to
Prime Ministers Office
Officer Name
Shri Ambuj Sharma
Officer Designation
Under Secretary (Public)
Contact Address
Public Wing 5th Floor, Rail Bhawan New Delhi
Email Address
ambuj.sharma38@nic.in
Contact Number
011-23386447

Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2020/25268

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Yogi M P Singh
Date of Receipt
18/08/2020
Received By Ministry/Department
Uttar Pradesh
Grievance Description
An application under Article 51 A of the constitution of India on behalf of Maurya S/O Mr Brijlal Maurya whose representation under his sign attached to this grievance for the perusal of the honourable sir.
The matter is concerned with the misconduct cum misbehaviour of a Lekhpal Mr Mangala Prasad Dubey of the Tahsil-Sadar, Mirzapur city District-Mirzapur with the Sudarsan Maurya S/O Mr Brijlal Maurya. Here Sudarsan Maurya enquired the Lakhpal aforementioned regarding Prime minister Avas as the list was not available in the list DUDA as concerned officer DUDA told Sudarsan that list is unavailable in the office because Lekhpal did not send it to office. Here Lekhpal not only misled the Sudarsan but his company humiliated him by ridiculing the poor aggrieved person. Which is sheer unjustified and humanitarian. Such unconstitutional treatment can not be promoted in this largest democracy in the world.
Grievance Document
Current Status
Under process
Date of Action
18/08/2020
Remarks
Grievance received by Subordinate Organisation from Web API
Officer Concerns To
Officer Name
Shri Arun Kumar Dube
Officer Designation
Joint Secretary
Contact Address
Chief Minister Secretariat U.P. Secretariat, Lucknow
Email Address
sushil7769@gmail.com
Contact Number
0522 2226349

5 comments on Grievance against corruption of Sudarsan Maurya is being overlooked by the concerned government staff

  1. प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत सन्दर्भ कुछ इस प्रकार है – सेवा में जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर जिला –मिर्ज़ापुर, उत्तर प्रदेश विषय –मंगला प्रसाद दूबे गैर जनपद स्थानांतरण के सम्बन्ध में सम्बंधित प्राधिकारी उस लेखपाल का स्थानांतरण बसही से तरकापुर कर दिये जो की और मलाई दार पोस्ट है और घर और तहसील दोनों नजदीक हो गयी प्रार्थी अपनी माता राजकुमारी के डूडा से मिलने वाले आवास के सम्बन्ध में जानकारी चाहता है किन्तु वे किसी भी जानकारी को देने के बजाय उन शब्दों का इस्तेमाल किये जो प्रार्थी लिखने में ही मर्यादा विरुद्ध समझता है

  2. Undoubtedly it is factual position of the development and public concerned is only crying in the state of Uttar Pradesh.Here Lekhpal not only misled the Sudarsan but his company humiliated him by ridiculing the poor aggrieved person. Which is sheer unjustified and humanitarian. Such unconstitutional treatment can not be promoted in this largest democracy in the world.

  3. Think about the transparency and accountability and credibility of public functionaries who are playing cryptic role in maintaining its pseudo honesty what ever is claimed by the government of Uttar Pradesh but it is most ridiculous that accountable public functionaries in the Government of Uttar Pradesh are claiming to provide transparent and accountable government but the actual fact is that there is rampant corruption in the government departments of Uttar Pradesh and most surprising is that no action is taken against the wrongdoer staff in the state of Uttar Pradesh.

  4. From the post it is quite obvious that whatever attachment was submitted to redress the grievance by the concerned public a staff of the Government of Uttar Pradesh is not relevant to the submissions of the grievance which is quite injustice to the aggrieved who has submitted the grievance. Undoubtedly such practices must be curbed at any cost but because of rampant corruption in the government machinery it is not feasible.

  5. New transfer policy was framed by the government when Yogi government came into power and became lead item of electronic and print media but latter same role was played in the posting and transfer of employees. Still there many state government staffs who are posted at same place where they got the first posting and now reached at the stage of retirement. Whether it is not mockery of new transfer policy of the government of Uttar Pradesh.

Leave a Reply

%d bloggers like this: