Government provides huge salary to its staffs for better governance but they are encroaching its interest

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
40020017000993
आवेदक कर्ता का नाम:
सूरज
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
8858869171,8858869171
विषय:
श्री मान जी आवेदन का विवरण इस प्रकार है शिकायत संख्या-40020017000684, आवेदक कर्ता का नाम-Suraj श्री मान जी उपरोक्त शिकायत में
लगी सहायक पंचायत विकास अधिकारी की रिपोर्ट मनगढ़ंत और झूठा है | जो की इस शिकायत के साथ
पीडीऍफ़ फॉर्म में संलग्न है | श्री मान जी चौकाने वाला सत्य यह है की सहायक पंचायत विकास अधिकारी ग्राम पंचायत में पहुचे ही नही
उन्होंने ग्राम प्रधान से समझ कर विकास खंड पर ही रिपोर्ट तैयार कर ली | श्री मान
जी उपरोक्त शिकायत का पाचवा विन्दु कुछ
इस प्रकार है प्रार्थी जानना चाहता है की जो कुछ
भी पैसा आहरण ग्राम पंचायत के नाम पर आहरण हुआ है उसका लेखा पंचायत भवन पर अंकित क्यों नही
किया जाता है | क्या पंचायत निधि सेक्रेटरी और ग्राम प्रधान की होती है | कृपया प्रकरण की गंभीरता को समझे और उपयुक्त कार्यवाही करे
| जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी का आभारी रहेगा | श्री मान जी आश्चर्य की बात
है की वाल पेंटिंग के लिए शासनादेश जारी है और जिसकी प्रति आवेदन के साथ
संलग्न है |किन्तु भ्रस्टाचार का आलम यह है की कही कोई
वाल पेंटिंग नही कराई जा रही
है यदि
उपरोक्त अधिकारी ग्राम पंचायत में गये
थे तो बताये कोई वाल
पेंटिंग ग्राम पंचायत सभागार पर हुई
है | श्री मान जी पंचायत भवन तो मधका में है जब की ग्राम प्रधान करसोता के है और प्रार्थी मधका का है कैसी जांच अधिकारी है जो ग्राम पंचायत भवन
तक आये
ही नही
| सच तो यह है की उन्होंने प्रॉपर इनटिमेसन नही भेजा क्यों की सारी जांच उन्होंने विकास खंड
घोरावल में
ही पूरी कर ली | If public itself, wants
that Government Order must be strictly pursued by the concerned, then why
after eight months no officer made any step forward in this direction
विषय शासनादेश संख्या -722016261133-3-2016-142016 दिनांक-07-अक्टूबर -2016 पंचायती राज अनुभाग -3 जो की समस्त मंडलायुक्त उत्तर प्रदेश समस्त जिलाधिकारी उत्तर प्रदेश शासन को संबोधित है | उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रो में
निर्मित पंचायत भवनों पर विकास परक योजनाओं के कार्यकलापो को वाल
पेंटिंग के माध्यम से प्रदर्शित किए जाने के सम्बन्ध में | Most revered Sir –Your applicant invites the
kind attention of Hon’ble Sir with due respect to following submissions as
follows
-It is submitted before the
Hon’ble Sir that
शासनादेश संख्या -722016261133-3-2016-142016
दिनांक-07-अक्टूबर -2016 के अनुपालन में उपरोक्त दोनों अधिकारी साथ ही जनपद का कोई
भी अधिकारी जनपद में
किसी भी पंचायत भवन पर कोई पेंटिंग कराया हो तो हम अपने लगाए समस्त आरोप को वापस लेंगे | हमारा किसी से व्यक्तिगत शत्रुता नही
है | -It is
submitted before the Hon’ble Sir that
जनता का पैसा है और सरकार तनख्वाह देती है की आप उसकी सुरक्षा करे
| मै अपने संबिधान में वर्णित नागरिक कर्तव्यों का जैसा की आर्टिकल ५१ वर्णित का पालन कर लू यही बहुत है | -It is submitted before the Hon’ble Sir that श्री मान जी इतनी अच्छी तनख्वाह तो सरकार खुद दे रही है फिर
भी रहस्यमयी कार्यशैली | सहायक पंचायत विकास अधिकारी कहते है 1 उपरोक्त के सम्बन्ध में सादर अवगत कराना है कि उक्त प्रकरण की जाॅच सहायक विकास अधिकारी (पं0), घोरावल द्वारा ग्राम मधका में
दिनंाक-04062017 को की गयी। शिकायतकर्ता को फोन पर सूचना दिये जाने के बावजूद उपस्थित नही
हुए। ग्रामवासियों द्वारा बताया गया कि शिकायतकर्ता सूरज मिर्जापुर में रहकर पढ़ता है तथा उसके पिता शिवकरन ओबरा में अध्यापक हैं। पिछले माह अप्रैल में ही ग्राम सभा की बैठक हुयी है।
अतः शिकायतकर्ता की शिकायत जांच में
सत्य नही
पायी गयी। अतः प्रकरण निस्तारित किया जाता है।
श्री मान
जी क्या इस प्रदेश में जांच रिपोर्ट इसी
प्रकार तैयार की जाती है जाॅच सहायक विकास अधिकारी (पं0), की हर बात
मनगढ़ंत है बहुत आश्चर्य की बात है वह प्रधान की खुशामदी कर रहे
है और सरकार के साथ
गद्दारी कर रहे है व्यक्तिगत स्वार्थो के चलते | उपरोक्त जांच अधिकारी सिर्फ यह बताये की क्या संदर्भित शासनादेश का पालन ग्राम पंचायत में हुआ
है या नही | प्रार्थी की जन्म कुंडली बताने से अपने ऊपर के आरोप नही हटते और इस रिपोर्ट से आरोप और पूखता हुआ है |
नियत तिथि:
26
– Jun – 2017
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
नियत
दिनांक
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
11
– Jun – 2017
जिलाधिकारीसोनभद्र,
लंबित

3 comments on Government provides huge salary to its staffs for better governance but they are encroaching its interest

  1. प्रार्थी जानना चाहता है की जो कुछ भी पैसा आहरण ग्राम पंचायत के नाम पर आहरण हुआ है उसका लेखा पंचायत भवन पर अंकित क्यों नही किया जाता है | क्या पंचायत निधि सेक्रेटरी और ग्राम प्रधान की होती है | कृपया प्रकरण की गंभीरता को समझे और उपयुक्त कार्यवाही करे | जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी का आभारी रहेगा | श्री मान जी आश्चर्य की बात है की वाल पेंटिंग के लिए शासनादेश जारी है और जिसकी प्रति आवेदन के साथ संलग्न है |किन्तु भ्रस्टाचार का आलम यह है की कही कोई वाल पेंटिंग नही कराई जा रही है यदि उपरोक्त अधिकारी ग्राम पंचायत में गये थे तो बताये कोई वाल पेंटिंग ग्राम पंचायत सभागार पर हुई है | श्री मान जी पंचायत भवन तो मधका में है जब की ग्राम प्रधान करसोता के है और प्रार्थी मधका का है कैसी जांच अधिकारी है जो ग्राम पंचायत भवन तक आये ही नही | सच तो यह है की उन्होंने प्रॉपर इनटिमेसन नही भेजा क्यों की सारी जांच उन्होंने विकास खंड घोरावल में ही पूरी कर ली |

  2. नियत तिथि: 26 – Jun – 2017
    शिकायत की स्थिति: लम्बित
    रिमाइंडर :
    फीडबैक :
    आवेदन का संलग्नक
    संलग्नक देखें
    अग्रसारित विवरण-
    क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या नियत दिनांक स्थिति आख्या रिपोर्ट
    1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 11 – Jun – 2017 जिलाधिकारी-सोनभद्र, — अधीनस्थ को प्रेषित
    2 आख्या जिलाधिकारी ( ) 13 – Jun – 2017 जिला पंचायत राज अधिकारी-सोनभद्र,पंचायती राज विभाग आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें आख्या लंबित

  3. It is burning truth that that such practices are quite common in our government machinery and whatever fund is being provided by the government for the development same is flowing into the pockets of corrupt public functionaries of the government and what ever development is taking place that is only on the paper not on the ground.

Leave a Reply

%d bloggers like this: