Department of electricity provided four times electricity bill arbitrarily and on complaint partly reduced

जनसुनवाई
समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश
सन्दर्भ संख्या:-  40019919035748
लाभार्थी
का
विवरण
नाम
Yogi M P Singh
पिता/पति का
नाम
मोबइल नंबर()
7379105911
मोबइल नंबर()
आधार कार्ड .
मेल
yogimpsingh@gmail.com
पता
Surekapuram Jabalpur Road Mirzapur city Pin
code 231001
आवेदन
पत्र का ब्यौरा
आवेदन
पत्र का संक्षिप्त ब्यौरा
संदर्भ संख्या : 40019919034897 , दिनांक – 07 Nov 2019 तक की
स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-40019919034897 आवेदक का नाम-Yogi M P Singh श्री मान जी किसी भी शिकायत का निस्तारण शिकायत में वर्णित विन्दुओं के आधार पर किया जाता है
किन्तु सम्बंधित अधिकारियों कर्मचारिओं ने मनमाने तरीके से
बिना शिकायत सामग्री को
पढ़े ही
निस्तारण कर
दिया जो
की विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया के
प्रतिकूल है
| श्री मान जी
जब प्रार्थी द्वारा नियमित रूप से
बिल अदा किया गया तो बकाया कहा से
गया | श्री मान जी
प्रार्थी सविनय अनुरोध करता है चुकि प्रस्तुत आख्या शिकायत के
विन्दुओं के
असंगत है
इसलिए पुनः आख्या प्रस्तुत करे जो
की प्रश्न गत प्रकरण के अनुसार हो | श्री मान जी प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत निवेदन तार्किक दस्तावेजी सबूतों पर
आधारित है
इसलिए उनका निस्तारण गैर जिम्मेदाराना तरीके से करने का प्रयास किया जाय | श्री मान जी प्रार्थी सिर्फ एक
ग्राम या
कस्बे की
बात नही कह रहा है श्री मान जी
कटिया से
बिजली जला रहे है
और हर
महीने विभागीय कर्मचारिओं द्वारा पर कटिया २०० रूपये वसूला जाता है और
जो आटा चक्की चलाते है उनसे १००० रूपये वसूला जाता है क्या यह भ्रष्टाचार नही जिस ट्रांसफार्मर को
वर्ष भर
चलना चाहिए वह एक
महीने भी
नही चलता है क्योकि कटिया का
लोड तो
लोड समझा नही जाता और चोरी की शिकायत करने पर
टाल मटोल करके शिकायत को कूड़ेदान में दाल दिया जाता है इसी को आप
लो सुशासन कहते है
गावो में एक भी
उपभोक्ता के
यह मीटर नही लगा है किन्तु सरकारी दस्तावेजो में हर
उपभोक्ता के
परिसर में मीटर लगा है क्या यह भ्रस्टाचार नही है
और इससे बड़ा धोखा क्या होगा | इतनी अच्छी तनख्वाह मिल रही है फिर भी यह
घुशखोरी क्यों | श्री मान जी
जब प्रार्थी द्वारा हर
महीने बिल जमा किया जा रहा था तो
बिल में जानबूझ कर
छेडखानी करके यह स्थिति क्यों पैदा क्यों की
गयी | यदि शिकायतों का निस्तारण मनमाने तरीके से होगा और जवाबदेही तय नही होगी तो
निश्चित रूप से हम
इस महान राष्ट्र के
पतन को
आमंत्रित कर
रहे है
| निश्चित रूप से
विद्युत् विभाग में व्याप्त आराजकता को
ख़त्म करने के लिए प्रयास होना चाहिए और
उसके लिए ठोस कदम भी उठाने होंगे | उपरोक्त शिकायत और उपखंड अधिकारी की
आख्या प्रत्यावेदन के साथ संलग्न है
| प्रदेश सरकार लोकल इंटेलीजेंस यूनिट की मदद से क्यों नही जानना चाहती है
की विजली चोरी की
स्थिति क्या है और
बिजली विभाग के कर्मचारी कितना धनाढ्य होते जा
रहे है
|
संदर्भ
दिनांक
07-11-2019
पूर्व सन्दर्भ(यदि कोई है
तो)
0,0
विभाग
ऊर्जा विभाग
शिकायत
श्रेणी
विद्युत चोरी।
लाभार्थी का विवरण/शिकायत क्षेत्र का
शिकायत
क्षेत्र का पता
राजस्व ग्रामनीबी गहरवार, ग्राम पंचायतनीबी गहरवार, विकास खण्डछानवे, तहसीलसदर, जिलामिर्ज़ापुर
नोटअंoतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है
संदर्भ संख्या : 40019919034897
,
दिनांक – 07 Nov 2019 तक की स्थिति
आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-40019919034897
आवेदक का नामYogi
M P Singh
विषयAn
application under article 51 A of the constitution of India on behalf of my
father Rajendra Pratap Singh Name of the father Mr Dev Raj Singh, Village and
Post Nibee Gaharwar PIN code-231303 District Mirzapur and power station is
Jigna and electricity connection detail is as follows.  Rajendra
Pratap 
स्वयं बिल बनाने के लिए सहायक निर्देश My
Accounts Account Number Name Service Status Due Date Bill Amount Net Payable
Amount Payment Status 751731768786 RAJENDRA PRATAPO SING LIVE 27-OCT-2019 4587.00
 4577.29 PENDING
Please click on consumer Number for
trust billing and other services Total Amount Due     4577.29 Herewith
two bills of the department of electricity are attached in the form of
PDF format, one of them is the current bill and the other is the
electricity bill of the last month. Both are not only self explanatory but
according to U.P.PC.L. self bill generator. Applicant itself pays the bills so
since three years not a single bill was delayed on the part of the applicant.
Whether assistant engineer will explain that in the month of September when Rs.
765 was due on the department of electricity of the applicant, then elaborate
the reason of bill amount of month of October-2019 as Rs.446, Rs.3877 and Rs.213,
Rs.50 of this month thus total is Rs.4587. Here decimal digits have been
left. Meter informed defective as reported in the entire bill but who
installed the meter in the compound? Provide the name and designation of the
staff. Provide the date and time of the installation of the electricity meter.
Undoubtedly it is reflection of rampant corruption in the department of
electricity. Every thing is online and bill was deposited in advance but such
cheating is being by the corrupt staffs of the government. It is most
unfortunate that concerned accountable staffs are mute spectators of such
cheating activities of the subordinates.
 
विभाग विद्युत शिकायत श्रेणी नियोजित तारीख28-10-2019
शिकायत की स्थितिस्तर जनपद स्तर
पद अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत
प्राप्त रिमाइंडरप्राप्त फीडबैक फीडबैक की स्थिति
संलग्नक देखें
नोट– अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!
अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश/आपत्ति दिनांक
आदेश/
आपत्ति
आख्या देने वाले 
अधिकारी
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
संल
गनक
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
21-10-2019
अधिशासी अभियन्‍ता,
विघुतमिर्ज़ापुर,विद्युत
06-11-2019
सन्दर्भ संख्या 4001991
9034897 का
निस्तारित आख्या पोर्तल पर
अपलोद किया गया है.
निस्तारित

4 comments on Department of electricity provided four times electricity bill arbitrarily and on complaint partly reduced

  1. निश्चित रूप से विद्युत् विभाग में व्याप्त आराजकता को ख़त्म करने के लिए प्रयास होना चाहिए और उसके लिए ठोस कदम भी उठाने होंगे | उपरोक्त शिकायत और उपखंड अधिकारी की आख्या प्रत्यावेदन के साथ संलग्न है | प्रदेश सरकार लोकल इंटेलीजेंस यूनिट की मदद से क्यों नही जानना चाहती है की विजली चोरी की स्थिति क्या है और बिजली विभाग के कर्मचारी कितना धनाढ्य होते जा रहे है |

  2. विभाग –
    विद्युत
    शिकायत श्रेणी –
    नियोजित तारीख-
    06-12-2019
    शिकायत की स्थिति-
    स्तर –
    जनपद स्तर
    पद –
    अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत
    प्राप्त रिमाइंडर-
    प्राप्त फीडबैक –
    फीडबैक की स्थिति –
    संलग्नक देखें –
    Click here
    नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!
    अग्रसारित विवरण :
    क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति
    1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 07-11-2019 06-12-2019 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत कार्यालय स्तर पर लंबित

  3. Whether it is not reflection of the rampant corruption that concerned are procrastinating on the serious issue of corruption? Yet they are claiming to be honest.
    नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!
    अग्रसारित विवरण :
    क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति
    1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 07-11-2019 06-12-2019 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत कार्यालय स्तर पर लंबित

  4. निश्चित रूप से बिजली विभाग की अराजकता खत्म करने का प्रयास करना चाहिए इंटेलिजेंस के द्वारा यूनिट का पता क्यों नहीं करती है बिजली विभाग के अधिकारी धनवान होते जा रहे हैं जो बिल देता है उसी के ऊपर ज्यादा चपत पड़ती है

Leave a Reply

%d bloggers like this: