Both commissioner, housing and development council and commissioner Nagar denied to entertain applications

Registration Number COLKW/R/2020/60020
Name Yogi M P Singh
Date of Filing 06/10/2020
Status RTI REQUEST RECEIVED as on 06/10/2020
  Nodal Officer Details  
Telephone Number 9454416480
Email-ID commluc@nic.in

Online RTI Request Form Details

Public Authority Details :-
* Public Authority COMMISSIONER OFFICE LUCKNOW
Personal Details of RTI Applicant:-
Registration Number COLKW/R/2020/60020
Date of Filing 06/10/2020
* Name Yogi M P Singh
Gender Male
* Address Mohalla Surekapuram , Sangmohal post office
Pincode 231001
Country India
State Uttar Pradesh
Status Details not provided
Pincode Literate
Phone Number Details not provided
Mobile Number +91-7379105911
Email-ID myogimpsingh[at]gmail[dot]com
Request Details :-
Citizenship Indian
* Is the Applicant Below Poverty Line ? No
((Description of Information sought (upto 500 characters) )
* Description of Information Sought आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-40015719059911आवेदक का नाम-Yogi M P Singh अंतरितऑनलाइन सन्दर्भ11-09-2019 को मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा अधीक्षण अभियंतामण्डल -लखनऊ,उ.प्र. आवास एवं विकास परिषद को प्रेषित और जिसका नियत तिथि 26-09-2019 थी श्रेणीकरण पूर्व निक्षेपित अधीक्षण अभियंता उ.प्र. आवास एवं विकास परिषद दिनांक 17-09-2019 को उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण को प्रेषित और जिसका नियत तिथि 26-09-2019 थी कृपया प्रकरण में नियमानुसार कार्यवाही करने का कष्ट करें C-श्रेणीकरण मंडलायुक्त दिनांक 29-09-2020 को उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण को प्रेषित और जिसका नियत तिथि 31-08-2020 थी कृपयाकृपया प्रकरण का गंभीरता से पुनः परीक्षण कर नियमानुसार कार्यवाही करते हुए 07 दिवस में आख्या उपलब्ध कराए जाने की अपेक्षा की गई है आख्या प्रेषित, अनुमोदन लंबित Public information officer may provide the following information point wise as sought.

1- The date fixed to dispose of the aforementioned grievance is 31/08/2020 and today is 05/10/2020 which means more than one month five days passed. Please provide the cause of undue delay even when the matter is concerned with the serious allegations of corruption.

2- It is quite obvious that L.D.A. submitted its report in the matter but not attached to the grievance as a complainant it is natural to provide the report to the complainant but not done by them. Please provide the copy of the report and reason for not providing the report to the complainant cum information seeker.

3- Please provide the certified and legible copies of the documents exchanged during the processing of the grievance by the public authority Lucknow development authority.

4- Provide the minutes of the proceedings during the processing of the grievance.

5- Whatever documents sought as reported through earlier communications must be provided in detail and detail of staff verified them.

* Concerned PIO Nodal Officer
Supporting document ((only pdf upto 1 MB))
संदर्भ संख्या : 40015720057734 , दिनांक – 07 Oct 2020 तक की स्थिति
आवेदनकर्ता का विवरण :
शिकायत संख्या:-
40015720057734
आवेदक का नाम-
दिनेश प्रताप सिंह
विषय-
प्रस्तुत प्रकरण सन्दर्भ संख्या:- 40015720057601 और संदर्भ संख्या : 40015720054268 आयुक्त आवास विकास की आख्या के अनुसार आप द्वारा निस्तारण योग्य महोदय आप द्वारा ही निम्न प्रकरण को लखनऊ विकास प्राधिकरण को भेजा गया है तो आप का आचरण दो मुहा साप जैसा है क्योकि वही प्रकरण आप आगे बढ़ाने से कतरा रहे है जब की मामला मलाई काटने से सम्बंधित है | अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 11092019 26 09 2019अधीक्षणअभियंतामण्डल लखनऊ,उ.प्र. आवास एवं विकास परिषद श्रेणीकरण पूर्व निक्षेपित अंतरित अधीक्षण अभियंता उ.प्र. आवास एवं विकास परिषद 17 09 2019 26 09 2019 उपाध्यक्षलखनऊ, विकास प्राधिकरण कृपया प्रकरणमें नियमानुसारकार्यवाही करने का कष्ट करें Cश्रेणीकरण 3 आख्या मंडलायुक्त 24 082020 31 082020 उपाध्यक्षलखनऊ, विकास प्राधिकरण कृपया प्रकरण कगंभीरता से पुनः परीक्षण कर नियमानुसार कार्यवाही करते हुए 07 दिवस में आख्या उपलब्ध कराए जाने की अपेक्षा की गई है कार्यालय स्तरपर लंबित Order passed by the Lucknow bench of the High court of Judicature at Allahabad in the Writ Petition Number 135 HC Year 2006 as follows It is simply ordered that the respondent number 4 to 7 shall open the lock of the staircase so that Smt Anuradha Singh the petitioner may come out of the house and take the proper and appropriate remedy in the competent court and after that, she may have the liberty to go anywhere. Since it is not a case in the strict sense of illegal detention, therefore, no direction can be issued to the respondent to produce the detenue in the court and allow her to live free at her home but since she can not take necessary steps for taking the remedy in the competent court, therefore it is simply ordered that the alleged detenue Smt Anuradha Singh shall be allowed to go out of the house and respondent number 4 to 7 shall open the lock of the door and open the door so that Smt Anuradha Singh may come out and take appropriate remedy. Dated 07032006 Signed by the concerned Honourable Justices of Division bench of Lucknow.महोदय उपरोक्त आदेश प्रत्यावेदन के साथ संलग्न है | संलग्नक के प्रथम व द्वितीय पेज में प्रार्थी द्वारा दिनांक १५/ ०३ /२००७ तथा २६/०६ /२००७ को विपक्षियों के पक्ष में निबंधन किये जाने का विरोध किया गया जिसके कारण दिनांक १३/०८/२००७ को लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा अपने तत्कालीन संपत्ति अधिकारी के. के. सिंह द्वारा नोटिस जारी किया गया | पक्ष विपक्ष को सुनने के लिए उपरोक्त अधिकारी द्वारा तिथि दिनांक २५/०८/२००७ समय प्रातः ११ बजे तय किया | अफ़सोस की बात है की पक्ष अर्थात प्रार्थी दिनेश प्रताप सिंह उपस्थित हुए किन्तु पांचो विपक्ष उपस्थित नहीं हुए | प्रार्थी निम्न उक्त बिंदुओं को पुनः श्री मान के संज्ञान में लाना चाहता है | १- क्या बिपक्षी टाइटल बिबाद को निबंधन के समय तक सक्षम न्यायालय के माध्यम से हल कर चुके थे | २- सक्षम न्यायालय का विवरण उपलब्ध कराये | ३- सक्षम न्यायालय द्वारा पारित आदेश की प्रति उपलब्ध कराये | ४-श्री मान जी यदि मूल दस्तावेज प्रार्थी के पास है तो लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा निबंधन की कार्यवाही किस आधार पर सम्पादित की गयी | ५- प्रार्थी के उपरोक्त प्रत्यावेदन पर तत्कालीन संपत्ति अधिकारी के. के. सिंह द्वारा क्या निर्णय लिया गया उसकी प्रति उपलब्ध कराया जाय |
विभाग –
नगर निगम
शिकायत श्रेणी –
नियोजित तारीख-
04-11-2020
शिकायत की स्थिति-
स्तर –
नगर निगम
पद –
नगर आयुक्त
प्राप्त रिमाइंडर-
प्राप्त फीडबैक –
दिनांक को फीडबैक:-
फीडबैक की स्थिति –
संलग्नक देखें –
नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र.

स.

सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश/आपत्ति दिनांक आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति
1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 05-10-2020 नगर आयुक्त 06-10-2020 प्रकरण का सम्बन्ध लखनऊ नगर निगम से नहीं है, कृपया सम्बन्धित विभाग को अग्रसारित करने का कष्ट करें। निस्ता

रित

 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
6 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Arun Pratap Singh
1 month ago

प्रकरण का सम्बन्ध लखनऊ नगर निगम से नहीं है, कृपया सम्बन्धित विभाग को अग्रसारित करने का कष्ट करें। निस्तारित
Undoubtedly if the matter is not concerned with the Nagar commissioner how can he entertain it but it is obligatory duty of the concerned accountable public functionaries to forward the matter to the concerned mandate.Our motive is to promote transparency and accountability in the public offices but it is unfortunate that departmental heads in the government of Uttar Pradesh are overlooking representations concerned with the serious allegations of corruption.

Vandana Singh
Vandana Singh
1 month ago

चूंकि यह अवैध हिरासत के सख्त अर्थों में मामला नहीं है, इसलिए, प्रतिवादी को न्यायालय में कोई निर्देश जारी करने के लिए कोई निर्देश जारी नहीं किया जा सकता है और उसे अपने घर पर मुक्त रहने की अनुमति दे सकता है लेकिन चूंकि वह सक्षम अदालत में उपाय करने के लिए आवश्यक कदम नहीं उठा सकता है, इसलिए यह केवल आदेश दिया जाता है कि कथित जासूस श्रीमती अनुराधा सिंह को घर से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी और प्रतिवादी संख्या 4 से 7 दरवाजे का ताला खोलकर दरवाजा खोला जाएगा ताकि श्रीमती अनुराधा सिंह बाहर आ सकें और उचित उपाय कर रही

Preeti Singh
1 month ago

प्रकरणका सम्बन्ध लखनऊ नगर निगम से नहीं है, कृपया सम्बन्धित विभाग को अग्रसारित करने का कष्ट करें।Since it is not a case in the strict sense of illegal detention, therefore, no direction can be issued to the respondent to produce the detenue in the court and allow her to live free at her home but since she can not take necessary steps for taking the remedy in the competent court, In which competent court, remedy was taken by Anuradha Singh?

Bhoomika Singh
Bhoomika Singh
1 month ago

Think about the quantum of corruption in the government machinery in the state of Uttar Pradesh that accountable public functionaries are running away from the representations of the people in the state whether it is not the failure of the government machinery in the state here this question arises that why Government of India is mute spectators of this Anarchy which is going on in the state.

God Man
1 month ago

How much ridiculous that on the one side of the screen our accountable public functionaries are claiming to provide corruption free government unfortunately on the other side of the screen they are promoting corruption through the back door how can such cryptic practices may be justified? Whether it is not cheating with the citizens of the state here this question arises that why our accountable public functionaries are not taking action on the representations concerned with the serious allegations of corruption?