जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी के सभी दावों की पोल खुद उनके द्वारा उपलब्ध दस्तावेज कर रहे है

अपने ही दस्तावेज जो संलग्नक के रूप में लगे है क्यों भाग रहे है अर्थात इस बात का पूर्ण आभाष है की हमारे दस्तावेजो की पोल खुल गई है इसलिए किसी प्रकार शिकायत कर्ता को चुप कराया जाय |

आवेदन का विवरण
  
शिकायत संख्या
40019918009769
आवेदक कर्ता का नाम:
शिवम वर्मा
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
8687094297,8687094297
विषय:
तेवारी के मिर्ज़ापुर पोस्टिंग कुल धन सम्पदा की जांच हो जो उन्होंने अपने सेवा काल में बनाया है मैडम आपका कहना है की प्रार्थी द्वारा वरिष्ठ सहायक तेवारी पर द्वेष बस आरोप लगाया जा रहा है और अनावश्यक आवेदन दिया जा रहा है किन्तु प्रार्थी द्वारा जो भी बिन्दुवार प्रश्न किये गये है उनका सम्यक उत्तर विभाग के पास नही है जो की आपके रिपोर्ट से स्पस्ट है मैडम प्रमाण दो तरह के होते है एक सीधे प्रमाण दूसरे परिस्थित जन्य प्रमाण और परिस्थितिया चीख चीख कर कह रही है की छात्रवृत्ति वितरण में घोटाला ही नही महाघोटाला है जिस प्रकार आप प्रार्थी का विरोध कर रही है आप की भी अखंडता संदेहास्पद हो गयी क्या जितने छात्रो का आपने सुधार करके पैसा दे दिया उसमे किसी नियम का पालन किया गया और क्या कोई गलत काम बिना घुस लिए कर सकता है आज तो सही काम के लिए भी घुस लगता है | तेवारी के पोस्टिंग का बिबरण आप से अच्छा कौन जान सकता है एक दो महीने गोरखपुर रह कर पूरा सेवा काल गृह जनपद में बिता दिए क्या उनकी पोस्टिग उनके गृह जनपद में सम्यक है तेवारी के नौकरी से पहले क्या था उन्ही से पूछ ली जिए आज उनके पास अकूत की संपत्ति है आप भी तो जांच करा सकती है विभाग प्रमुख होने के नाते लेकिन आप तो स्थानांतरण तक भी नही चाहती है मैडम क्या आप नई स्थानांतरण नीति से परिचित नही कहिये पूरा शासनादेश भेजे विषय श्री मान जी क्या पिछड़ा वर्ग छात्रवृत्ति वितरण समाज कल्याण अधिकारी का क्षेत्र है क्यों की समाज कल्याण विभाग को तो अनुसूचित जाति सामान्य जाति की छात्रवृत्ति का क्षेत्राधिकार प्राप्त है इस सम्बन्ध में जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी इलाहाबाद, इन्द्रसेन सरोज का दिनांक ११०४२०१८ का पत्र देखे जिसके अनुसार पिछड़ा वर्ग का अधिकारी ही पिछड़े वर्ग के छात्र का आवेदन पत्र निस्तारित कर कोई निर्णय ले सकता है | किसी भी सामान्य जाति या अनुसूचित जाति के छात्र का छात्रवृत्ति सम्बन्धी शिकायत का निस्तारण समाज कल्याण अधिकारी ही कर सकते है |इसी प्रकार पिछड़े वर्ग के छात्र की छात्रवृत्ति सम्बन्धी प्रकरण का निस्तारण जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ही करेंगे| श्री मान जी जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी का पत्रांक २७६ पत्र दिनांक १६फ़रवरी २०१८ दिव्या शुक्ला जी का जो की जिला विद्यालय निरीक्षक मिर्ज़ापुर को संबोधित है जिसके अनुसार उपरोक्त अधिकारी से १२७०८ संदिग्ध डाटा वाले छात्रो की सूची जिनका डाटा निक डॉट इन के कंप्यूटर द्वारा सस्पेक्ट पाया गया पुनर जांच करा के सत्यापन हेतु दिया गया अर्थात सत्यापन की जिम्मेदारी जिला विद्यालय निरीक्षक की थी |उपरोक्त कार्य संपादन की अंतिम तिथि २०फ़रवरी२०१८ तय की गई थी | श्री मान जी कृष्णावती निजी औद्योगिक संसथान के प्रधानाचार्य दिनांक २६फ़रवरी२०१८ को समाज कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर को संबोधित पत्र लिखा है की जिला विद्यालय निरीक्षक या आप को संबोधित अर्थात उनका पत्र अनुसूचित जाति या सामान्य जाति से सम्बंधित था की पिछड़ी जाति से |पत्र की स्कैन्ड कॉपी संलग्न है जिसका अवलोकन करे |श्री मान जी आप द्वारा तय समय सीमा भी समाप्त हो चूका था | समाज कल्याण अधिकारी को संबोधित पत्र जिसमे कही भी राम कुमार मौर्या का नाम नही है और नियमानुसार हो भी नही सकता क्या आप प्रार्थी को गुमराह नही कर रहे है | श्री मान जी संलग्न संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी दिनांक का जिक्र नही है एक जिला स्तरीय समिति का निर्णय आपसी विचार मंथन के उपरांत होता है आप द्वारा प्रस्तुत दस्तावेज संगत नही है और संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी भी अधिकारी का जैसे जिला विद्यालय निरीक्षक या जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी का हस्ताक्षर नही है अर्थात विश्वसनीय नही है | कोई भी निर्णय वह भी समिति द्वारा तिथि बिना नही हो सकती है क्यों की समिति के सदस्य निश्चित तिथि को उपस्थित हो कर ही निर्णय लेंगे और उस तिथि का जिक्र और समिति के सदस्यों का हस्ताक्षर होना चाहिए |
नियत तिथि:
11 – May – 2018
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 05/05/2018को फीडबैक:- श्री मान जिलाधिकारी महोदय ने निर्देश दिया की संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करे किन्तु जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ने ऐसा नही किया क्यों की वे जानती है की ऐसा करने से उनका कलम फस सकता है कहा गया है की काजल की कोठरी में कितनो भी सयानो जाय एक बूद काजल की लगिहौ आय के| जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर का रिपोर्ट जो अनुमोदन हेतु प्रेषित है संलग्न है और जिसमे किसी भी संलग्नक का जीक्र नही है सिर्फ यही चाहती है की शिवम वर्मा उनके भय से छात्रवृत्ति मागना बंद कर दे और वे छात्र वृत्ति को मनमाना रेवड़ी और टाफी की तरह बाटे| ऐसा प्रतीत होता है जैसे संबैधानिक ब्यवस्था ही ख़त्म हो गयी है | जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर का कहना है प्रार्थी उन्हें परेशान कर रहा है उसी का एक लाख से ज्यादा पर मंथ तनख्वाह लेती है | श्री मान जी मुझ गरीब का पाच हजार से ज्यादा निगल रहे है और हम आवाज उठाते है तो इन्हें परेशानी होती है और खुद गोल मटोल जवाब दे कर मामले को और संदेहास्पद बना देती है | सोचिये आप के निर्देश के बावजूद इन्होने संलग्नको को नजर अंदाज किया अर्थात इनकी कार्यशैली में पारदर्शिता और जवाबदेही का पूर्ण अभाव है | समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश, सन्दर्भ संख्या-40019918009968, नाम शिवम वर्मा पितापति का नाम राजेंद्र प्रसाद वर्मा लिंग पुरुष, मोबाइल नंबर-1 8687094297 सन्दर्भ का प्रकार शिकायत अधिकारी जिलाधिकारी, विभाग पिछड़ा वर्ग कल्याोण विभाग, सन्दर्भ श्रेणी भ्रष्टाचार वित्तीय अनियमितताकार्योंविभागीय योजनाओं में लापरवाहीजांच, Application Old Reference No 40019918009335, संलग्नक है | 3 आख्या जिलाधिकारी ( ) 01 – May – 2018 जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर,पिछड़ा वर्ग कल्याखण विभाग नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 02-05-2018 कृपया संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करें आख्या प्राप्तप्रेषितअनुमोदन लंबित
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
26 – Apr – 2018
जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर,पिछड़ा वर्ग कल्‍याण विभाग
28/04/2018
कृपया संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करें
निस्तारित
आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019918009968
आवेदक कर्ता का नाम:
शिवम वर्मा
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
8687094297,8687094297
विषय:
तेवारी के मिर्ज़ापुर पोस्टिंग कुल धन सम्पदा की जांच हो जो उन्होंने अपने सेवा काल में बनाया है मैडम आपका कहना है की प्रार्थी द्वारा वरिष्ठ सहायक तेवारी पर द्वेष बस आरोप लगाया जा रहा है और अनावश्यक आवेदन दिया जा रहा है किन्तु प्रार्थी द्वारा जो भी बिन्दुवार प्रश्न किये गये है उनका सम्यक उत्तर विभाग के पास नही है जो की आपके रिपोर्ट से स्पस्ट है मैडम प्रमाण दो तरह के होते है एक सीधे प्रमाण दूसरे परिस्थित जन्य प्रमाण और परिस्थितिया चीख चीख कर कह रही है की छात्रवृत्ति वितरण में घोटाला ही नही महाघोटाला है जिस प्रकार आप प्रार्थी का विरोध कर रही है आप की भी अखंडता संदेहास्पद हो गयी क्या जितने छात्रो का आपने सुधार करके पैसा दे दिया उसमे किसी नियम का पालन किया गया और क्या कोई गलत काम बिना घुस लिए कर सकता है आज तो सही काम के लिए भी घुस लगता है | तेवारी के पोस्टिंग का बिबरण आप से अच्छा कौन जान सकता है एक दो महीने गोरखपुर रह कर पूरा सेवा काल गृह जनपद में बिता दिए क्या उनकी पोस्टिग उनके गृह जनपद में सम्यक है तेवारी के नौकरी से पहले क्या था उन्ही से पूछ ली जिए आज उनके पास अकूत की संपत्ति है आप भी तो जांच करा सकती है विभाग प्रमुख होने के नाते लेकिन आप तो स्थानांतरण तक भी नही चाहती है मैडम क्या आप नई स्थानांतरण नीति से परिचित नही कहिये पूरा शासनादेश भेजे विषय श्री मान जी क्या पिछड़ा वर्ग छात्रवृत्ति वितरण समाज कल्याण अधिकारी का क्षेत्र है क्यों की समाज कल्याण विभाग को तो अनुसूचित जाति सामान्य जाति की छात्रवृत्ति का क्षेत्राधिकार प्राप्त है इस सम्बन्ध में जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी इलाहाबाद, इन्द्रसेन सरोज का दिनांक ११०४२०१८ का पत्र देखे जिसके अनुसार पिछड़ा वर्ग का अधिकारी ही पिछड़े वर्ग के छात्र का आवेदन पत्र निस्तारित कर कोई निर्णय ले सकता है | किसी भी सामान्य जाति या अनुसूचित जाति के छात्र का छात्रवृत्ति सम्बन्धी शिकायत का निस्तारण समाज कल्याण अधिकारी ही कर सकते है |इसी प्रकार पिछड़े वर्ग के छात्र की छात्रवृत्ति सम्बन्धी प्रकरण का निस्तारण जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ही करेंगे| श्री मान जी जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी का पत्रांक २७६ पत्र दिनांक १६फ़रवरी २०१८ दिव्या शुक्ला जी का जो की जिला विद्यालय निरीक्षक मिर्ज़ापुर को संबोधित है जिसके अनुसार उपरोक्त अधिकारी से १२७०८ संदिग्ध डाटा वाले छात्रो की सूची जिनका डाटा निक डॉट इन के कंप्यूटर द्वारा सस्पेक्ट पाया गया पुनर जांच करा के सत्यापन हेतु दिया गया अर्थात सत्यापन की जिम्मेदारी जिला विद्यालय निरीक्षक की थी |उपरोक्त कार्य संपादन की अंतिम तिथि २०फ़रवरी२०१८ तय की गई थी | श्री मान जी कृष्णावती निजी औद्योगिक संसथान के प्रधानाचार्य दिनांक २६फ़रवरी२०१८ को समाज कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर को संबोधित पत्र लिखा है की जिला विद्यालय निरीक्षक या आप को संबोधित अर्थात उनका पत्र अनुसूचित जाति या सामान्य जाति से सम्बंधित था की पिछड़ी जाति से |पत्र की स्कैन्ड कॉपी संलग्न है जिसका अवलोकन करे |श्री मान जी आप द्वारा तय समय सीमा भी समाप्त हो चूका था | समाज कल्याण अधिकारी को संबोधित पत्र जिसमे कही भी राम कुमार मौर्या का नाम नही है और नियमानुसार हो भी नही सकता क्या आप प्रार्थी को गुमराह नही कर रहे है | श्री मान जी संलग्न संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी दिनांक का जिक्र नही है एक जिला स्तरीय समिति का निर्णय आपसी विचार मंथन के उपरांत होता है आप द्वारा प्रस्तुत दस्तावेज संगत नही है और संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी भी अधिकारी का जैसे जिला विद्यालय निरीक्षक या जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी का हस्ताक्षर नही है अर्थात विश्वसनीय नही है | कोई भी निर्णय वह भी समिति द्वारा तिथि बिना नही हो सकती है क्यों की समिति के सदस्य निश्चित तिथि को उपस्थित हो कर ही निर्णय लेंगे और उस तिथि का जिक्र और समिति के सदस्यों का हस्ताक्षर होना चाहिए |
नियत तिथि:
13 – May – 2018
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 05/05/2018को फीडबैक:- श्री मान जिलाधिकारी महोदय ने निर्देश दिया की संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करे किन्तु जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ने ऐसा नही किया क्यों की वे जानती है की ऐसा करने से उनका कलम फस सकता है कहा गया है की काजल की कोठरी में कितनो भी सयानो जाय एक बूद काजल की लगिहौ आय के| जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर का रिपोर्ट जो अनुमोदन हेतु प्रेषित है संलग्न है और जिसमे किसी भी संलग्नक का जीक्र नही है सिर्फ यही चाहती है की शिवम वर्मा उनके भय से छात्रवृत्ति मागना बंद कर दे और वे छात्र वृत्ति को मनमाना रेवड़ी और टाफी की तरह बाटे| ऐसा प्रतीत होता है जैसे संबैधानिक ब्यवस्था ही ख़त्म हो गयी है | जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर का कहना है प्रार्थी उन्हें परेशान कर रहा है उसी का एक लाख से ज्यादा पर मंथ तनख्वाह लेती है | श्री मान जी मुझ गरीब का पाच हजार से ज्यादा निगल रहे है और हम आवाज उठाते है तो इन्हें परेशानी होती है और खुद गोल मटोल जवाब दे कर मामले को और संदेहास्पद बना देती है | सोचिये आप के निर्देश के बावजूद इन्होने संलग्नको को नजर अंदाज किया अर्थात इनकी कार्यशैली में पारदर्शिता और जवाबदेही का पूर्ण अभाव है | समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश, सन्दर्भ संख्या-40019918009968, नाम शिवम वर्मा पितापति का नाम राजेंद्र प्रसाद वर्मा लिंग पुरुष, मोबाइल नंबर-1 8687094297 सन्दर्भ का प्रकार शिकायत अधिकारी जिलाधिकारी, विभाग पिछड़ा वर्ग कल्याोण विभाग, सन्दर्भ श्रेणी भ्रष्टाचार वित्तीय अनियमितताकार्योंविभागीय योजनाओं में लापरवाहीजांच, Application Old Reference No 40019918009335, संलग्नक है | 3 आख्या जिलाधिकारी ( ) 01 – May – 2018 जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर,पिछड़ा वर्ग कल्याखण विभाग नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 02-05-2018 कृपया संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करें आख्या प्राप्तप्रेषितअनुमोदन लंबित
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
28 – Apr – 2018
जिलाधिकारीमिर्ज़ापुर,
02/05/2018
आख्या अपलोड है
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
28 – Apr – 2018
जिला समाज कल्याण अधिकारीमिर्ज़ापुर,समाज कल्‍याण विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
01/05/2018
आपका प्रकरण इस कार्यालय से सम्बन्धित नही है। आपका प्रकरण जिला पिछडावर्ग कल्याण अधिकारी कार्यालय से सम्बन्धित है। कृपया जिला पिछडावर्ग कल्याण अधिकारी कार्यालय से सम्पर्क स्थापित करें।
निस्तारित
3
आख्या
जिलाधिकारी ( )
01 – May – 2018
जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर,पिछड़ा वर्ग कल्‍याण विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें आख्या अपलोड है
02/05/2018
कृपया संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करें
निस्तारित

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी आप द्वारा तय समय सीमा भी समाप्त हो चूका था | समाज कल्याण अधिकारी को संबोधित पत्र जिसमे कही भी राम कुमार मौर्या का नाम नही है और नियमानुसार हो भी नही सकता क्या आप प्रार्थी को गुमराह नही कर रहे है | श्री मान जी संलग्न संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी दिनांक का जिक्र नही है एक जिला स्तरीय समिति का निर्णय आपसी विचार मंथन के उपरांत होता है आप द्वारा प्रस्तुत दस्तावेज संगत नही है और संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी भी अधिकारी का जैसे जिला विद्यालय निरीक्षक या जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी का हस्ताक्षर नही है अर्थात विश्वसनीय नही है | कोई भी निर्णय वह भी समिति द्वारा तिथि बिना नही हो सकती है क्यों की समिति के सदस्य निश्चित तिथि को उपस्थित हो कर ही निर्णय लेंगे और उस तिथि का जिक्र और समिति के सदस्यों का हस्ताक्षर होना चाहिए |

Arun Pratap Singh
2 years ago

समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश, सन्दर्भ संख्या-40019918009968, नाम शिवम वर्मा पितापति का नाम राजेंद्र प्रसाद वर्मा लिंग पुरुष, मोबाइल नंबर-1 8687094297 सन्दर्भ का प्रकार शिकायत अधिकारी जिलाधिकारी, विभाग पिछड़ा वर्ग कल्याोण विभाग, सन्दर्भ श्रेणी भ्रष्टाचार वित्तीय अनियमितताकार्यों-विभागीय योजनाओं में लापरवाहीजांच, Application Old Reference No 40019918009335, संलग्नक है | 3 आख्या जिलाधिकारी ( ) 01 – May – 2018 जिला पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी -मिर्ज़ापुर,पिछड़ा वर्ग कल्याखण विभाग नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 02-05-2018 कृपया संलग्नक के अनुसार निस्तारित करने का कष्ट करें आख्या प्राप्तप्रेषितअनुमोदन लंबित