चकबंदी में भी भ्रष्टाचार अरे इस लोकतंत्र में कोई तो स्थान ऐसा हो जहा भ्रस्टाचार नहो हर जगह भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार |

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40019918012704
आवेदक कर्ता का नाम:
Sarash Chandra Tripathi
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7860034939,7860034939
विषय:
Assistant consolidation officer overlooking the set up norms by taking illegal gratification and awarding precious land to those who are providing illegal gratificationSubject -Matter is concerned with the Village-Magarvila, Village panchayat-Purvaausan Singh, Tahsil-Lalganj, Block-Haliya, Post-Pavaari Kalan in which process of consolidation is being carried out by Assistant consolidation officer Hatheda Haliya Mirzapur Aggrieved is Sarash Chandra Tripathi SO Late Matadeehal Tripathi, address as aforementioned Aggrieved is the holder of seven beegha of land which is the hereditary property of the aggrieved from his father Matadeehal Tripathi Most revered Sir –Your appellant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due respect to following submissions as follows 1-It is submitted before the Hon’ble Sir that whether the land is not valued during the process of consolidation as assistant consolidation officer has completely overlooked the norm of valuation when on 26-05-2018 he provided two pieces of land, one of them is barren land and the other is water logging area in which still there is water of depth 1 feet Think about the gravity of the situation that in the name of consolidation, my farming land has been converted into the infertile land ie non-forming land without thing about the fate of my family 2-It is submitted before the Hon’ble Sir that this is not consolidation but daylight robbery in the name of consolidation in which assistant consolidation officer Hatheda Haliya Mirzapur is disbursing precious land to those who are providing illegal gratification to him through his agents or directly to him Because of such mysterious and corrupt activities of the assistant consolidation officer Hatheda Haliya Mirzapur, not only the aggrieved applicant is traumatised but there is resentment at large scale among the villagers which can be easily checked by visiting any responsible officer in the aforementioned village 3-It is submitted before the Hon’ble Sir that Honble Sir if the working of the assistant consolidation officer Hatheda Haliya Mirzapur is not subjected to proper scrutiny by the senior rank officers, then it would be fatal to our family If the evaluation of work of assistant consolidation officer Hatheda Haliya Mirzapur in respect of me be made, then in one sentence it can be said that he has snatched my seven Beega lands as the land provided by him is of zero value The applicant was not there so he made decision arbitrarily about me and my brother made representation in his office today then every one denied to take the representation and when he made the repeated request, then one of them named Om Prakash Mali took my representation but on condition, he will not provide the receipt The scanned copy of the representation is attached to this application of the aggrieved This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos in an arbitrary manner by making the mockery of law of land This is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer in order to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir Yours sincerely Sarash Chandra Tripathi SO Shree Mata Deehal Tripathi, Mobile number–9793724720, gram panchayat-Purva Avsaan, Village-Magarvila, Development block-Haliya, District-Mirzapur, Pincode Number 231211, Uttar Pradesh, Magarvila is situated in the village panchayat of Purwa Ausan Singh, Halia Block, Mirzapur District, Uttar-Pradesh State, India
नियत तिथि:
12 – Jun – 2018
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 16/06/2018को फीडबैक:- श्री मान जी सहायक चकबंदी अधिकारी का यह कहना की मै बाहर रहता हू अक्षरसः सच है किन्तु इसका मतलब यह नही की प्रार्थी का एक चक कूशा और काश से भरा हो और दूसरा जलमग्न हो |श्री कृष्ण त्रिपाठी मेरे बड़े भाई पिता तुल्य है सहायक चकबंदी अधिकारी ने उनके परामर्श से मुझे शून्य मालियत वाले चक प्रदान किये मेरे गले से नीचे नही उतर रहा है | क्योकि उन्होंने ही हमें बताया की मुझे चकबंदी अधिकारी द्वारा कुषा काश वाला और जलमग्न चक प्रदान किया गया है | श्री मान जी सड़क का महत्व वहां पर होता है जब भूमि कृषि योग्य हो बंजर भूमि के बगल से सड़क का महत्व तभी है जब वह बाजार हो | श्री मान जी एक पल में सहायक चकबंदी अधिकारी ने हमे कंगाल बना दिया और कह रहे है अधिकतम चकदारो की अधिकतम संतुष्टि की कुछ चकदारो की सम्पूर्ण संतुष्टि | श्री मान जी सहायक चकबंदी अधिकारी की आख्या पूर्ण रूप से मनगढ़ंत और वास्तविकता से परे है | पैसा लेकर मनमाना चक दिए है आज भी वही सब कर रहे है क्यों की भाई साहब श्री कृष्ण जी से वस्तुस्थिति से अवगत होता रहता हू | श्री मान जी यह कोई जरुरी है की कोई मौके पर हो तो उसे लूट लिया जाय किन्तु सहायक चकबंदी अधिकारी ने प्रार्थी को सिर्फ लूटा है | हमारा दिल टूट गया है इस भ्रष्ट व्यवस्था से | श्री मान जी यदि थोड़ी भी पारदर्शिता और जिम्मेदारी बची हो तो क्यों नही किसी इमानदार अधिकारी से जांच करा दी जाय दूध का दूध पानी का पानी हो जाय |
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक प्राप्त
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
28 – May – 2018
जिलाधिकारीमिर्ज़ापुर,
13/06/2018
आख्या अपलोड हैं
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
28 – May – 2018
उप जिलाधि‍कारी लालगंज,
जनपदमिर्ज़ापुर,राजस्व एवं आपदा विभाग
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें 
12/06/2018
प्रकरण चकबंदी विभाग से सम्बंधित है , आवेदक अवगत हो कि सम्बंधित विभाग में प्रत्यावेदन देकर अनुतोष प्राप्त करें
निस्तारित
3
आख्या
उप जिलाधि‍कारी (राजस्व एवं आपदा विभाग )
29 – May – 2018
तहसीलदार लालगंज,जनपदमिर्ज़ापुर,राजस्व एवं आपदा विभाग
कृपया जॉंचोपरान्त आवश्‍यक कार्यवाही करने का कष्ट करें प्रकरण चकबंदी विभाग से सम्बंधित है , आवेदक अवगत हो कि सम्बंधित विभाग में प्रत्यावेदन देकर अनुतोष प्राप्त करें
12/06/2018
प्रकरण चकबंदी विभाग से सम्बंधित है , आवेदक अवगत हो कि सम्बंधित विभाग में प्रत्यावेदन देकर अनुतोष प्राप्त करें
निस्तारित
4
आख्या
जिलाधिकारी ( )
12 – Jun – 2018
बंदोबस्त 
अधिकारी, चकबंदीमिर्ज़ापुर,चकबंदी
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें आख्या अपलोड हैं
13/06/2018
श्री सरसचन्द्र त्रिपाठी ग्राम मगरविला विकास खण्ड हलिया तहसील लालगंज के शिकायती प्रार्थना का निस्तारण कर विस्तृत आख्या संलग्न करते हुए सेवा में प्रेषित की जा रही है।
निस्तारित

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी सहायक चकबंदी अधिकारी का यह कहना की मै बाहर रहता हू अक्षरसः सच है किन्तु इसका मतलब यह नही की प्रार्थी का एक चक कूशा और काश से भरा हो और दूसरा जलमग्न हो |श्री कृष्ण त्रिपाठी मेरे बड़े भाई व पिता तुल्य है सहायक चकबंदी अधिकारी ने उनके परामर्श से मुझे शून्य मालियत वाले चक प्रदान किये मेरे गले से नीचे नही उतर रहा है | क्योकि उन्होंने ही हमें बताया की मुझे चकबंदी अधिकारी द्वारा कुषा काश वाला और जलमग्न चक प्रदान किया गया है | श्री मान जी सड़क का महत्व वहां पर होता है जब भूमि कृषि योग्य हो बंजर भूमि के बगल से सड़क का महत्व तभी है जब वह बाजार हो | श्री मान जी एक पल में सहायक चकबंदी अधिकारी ने हमे कंगाल बना दिया और कह रहे है अधिकतम चकदारो की अधिकतम संतुष्टि न की कुछ चकदारो की सम्पूर्ण संतुष्टि | श्री मान जी सहायक चकबंदी अधिकारी की आख्या पूर्ण रूप से मनगढ़ंत और वास्तविकता से परे है | पैसा लेकर मनमाना चक दिए है आज भी वही सब कर रहे है क्यों की भाई साहब श्री कृष्ण जी से वस्तुस्थिति से अवगत होता रहता हू | श्री मान जी यह कोई जरुरी है की कोई मौके पर न हो तो उसे लूट लिया जाय किन्तु सहायक चकबंदी अधिकारी ने प्रार्थी को सिर्फ लूटा है | हमारा दिल टूट गया है इस भ्रष्ट व्यवस्था से | श्री मान जी यदि थोड़ी भी पारदर्शिता और जिम्मेदारी बची हो तो क्यों नही किसी इमानदार अधिकारी से जांच करा दी जाय दूध का दूध पानी का पानी हो जाय |

Arun Pratap Singh
2 years ago

फीडबैक : दिनांक 16/06/2018को फीडबैक:- श्री मान जी यह कोई जरुरी है की कोई मौके पर न हो तो उसे लूट लिया जाय किन्तु सहायक चकबंदी अधिकारी ने प्रार्थी को सिर्फ लूटा है | हमारा दिल टूट गया है इस भ्रष्ट व्यवस्था से | श्री मान जी यदि थोड़ी भी पारदर्शिता और जिम्मेदारी बची हो तो क्यों नही किसी इमानदार अधिकारी से जांच करा दी जाय दूध का दूध पानी का पानी हो जाय |
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक विचाराधीन