आधार कार्ड से आधार नंबर मिलाइये और पासबुक से बैंक सम्बन्धी सूचना और देखिये कही गलत है क्या छात्रा के खिलाफ साजिस

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
40019918010191
आवेदक कर्ता का
नाम:
सबा
परवीन
आवेदक कर्ता का
मोबाइल न०:
8004126790,8004126790
विषय:
श्री मान जिलाधिकारी महोदय जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर के पत्र पत्रांक ५०
दिनांक २८०४२०१८ का सन्दर्भ | श्री मान जी
क्या जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर, बिनोद कुमार जैसवाल के
आंग्ल भाषा का ज्ञान शून्य है
अन्यथा वे
उन्ही सारहीन बातो को
क्यों दुहरा रहे है
जिनका हमारी पुत्री के
आवेदन में बिन्दुवार खंडन है | खंडन के साथ साक्ष्य के तौर पर दस्तावेजी सबूत भी
प्रस्तुत किये गये है
| श्री मान जी
उपरोक्त अधिकारी की अखंडता खुद संदिग्ध है कई
वर्षो से
झूठा कारण बता कर
मेरी बेटी को छात्रवृत्ति से वंचित कर रहा है | श्री मान जी आप
को आश्चर्य होगा की
मेरी पुत्री ने कुछ भी गलत ऑनलाइन आवेदन नही भरा है | श्री मान जी सिर्फ जो कुछ भी है
संबंधितो के
खुराफाती दिमाग की उपज है जो
हमारी पुत्री को छात्रवृत्ति से वंचित करना चाहते है | पिछले वर्ष मुझे और
मेरी पुत्री को कार्यालय बुलाया गया और कहा गया जब
पैसा ही
नही तो
कहा से
छात्रवृत्ति मिल पायेगी इसलिए परेशान मत
हो | और हम लोगो ने
शिकायत बंद कर दिए सोचिये इस
वर्ष भी
नही दे
रहे है
जब की
कोई त्रुटी है ही
नही |हम कहते है जब
पैसा था
तो आप
मलाई काटे और अंत में पैसा नही है
कह कर
जिम्मेदारी से
बच निकलते है | श्री मान जी इस
वर्ष भी
उपरोक्त अधिकारी महोदय कह
रहे की
उन्होंने मुझे वस्तु स्थित से अवगत करा दिए सोचिये जिसको यह नही मालूम की
उसके सभी बातो खंडन खुद ही
शिकायत पत्र में ही
है वह
मुझे वस्तु स्थित से
अवगत करा रहा है
| श्री मान जी
उपरोक्त अधिकारी अपने आख्या के द्वारा सभी को
गुमराह कर
रहे है
इस लिए उनके खिलाफ अनुशासन हीनता की कार्यवाही की जानी चाहिए सोचिये शिकायत का
खंडन फोन पर कर
रहे है
| अर्थात उन्होंने ने
अपने बचाने का रास्ता खोजा |नतो आधार नंबर गलत भरा है
नही बैंक सम्बन्धी जानकारी गलत है
हा अगर कुछ गड़बड़ है तो
उपरोक्त अधिकारी की नियत गड़बड़ है
| दिनांक०१०५२०१८ प्रार्थी गुलाम मोहम्मद प्रार्थी सबा परवीन के
पिता श्री मान जी
अल्पसंख्यक अधिकारी महोदय को
प्रतीत होता हैअंतरराष्ट्रीय आंग्ल भाषा से
एलर्जी है
इसलिए उन्होंने ने संलग्न पत्र का
परिशीलननही किया या उन्हें आती ही
नही | श्री मान जी ऑनलाइन आवेदन में भी आधारसख्या सही भरा है और
स्पस्ट भी
है और
संलग्नक के
तौर पर
मूल आधार कास्कैन्ड कॉपी और ऑनलाइन आवेदन का
स्कैन कॉपी संलग्न है
| अब उन्होंने कुछनई आपत्तिया जोड़ी है जो
उन्ही की
तरह झूठी है जैसे छात्रा का
अनुक्रमांक वनामांकन संख्या विश्विद्यालय द्वारा अपलोड डाटा से
मेल नही खाता यह
भी झूठाहै क्यों की
छात्रा का
महात्मा गाँधी विद्या पीठ द्वारा प्रदत्त स्नातक गणित तृतीयवर्ष का
अंक पत्र संलग्न है
और छात्रा द्वारा ऑनलाइन किये छात्रवृत्ति आवेदन कीप्रति भी संलग्न है ऑनलाइन भरी हुई प्रबिष्टिया और
अंक पत्र की प्रविष्टिया एक हीहै | जो सिद्ध करता है की
अल्पसंख्यक अधिकारी की नियति अच्छी नही है क्योंकी अपने उद्देश्य को पूरा करने हेतु वह इतने बुरे स्तर तक जा
सकते है
| श्री मानजी अल्पसंख्यक अधिकारी महोदय खुद को
बचाने के
लिए बैंक का सहारा ले रहे हैजो की
कदापि उचित नही है
श्री मान जी उनका कहना है
की प्रार्थी का बैंक खाता हीअस्तित्व में नही है जो
की सरासर गलत है
क्यों की
प्रार्थी द्वारा जो बैंक खाता औरउससे सम्बंधित सूचना प्रार्थी द्वारा भरे ऑनलाइन छात्रवृत्ति आवेदन में दर्ज है वहीप्रविष्टिया संलग्न बैंक पासबुक में भी दर्ज है | श्री मान जी बैंक स्टाफ द्वारा दिनांक०९०४२०१८ का
अपडेट देखे जो सिद्ध करता है
की अल्पसंख्यक अधिकारी किसीभी तरह से
विश्वसनीय नही है जो
की बहुत ही खतरनाक संकेत है
सरकारी तंत्र केलिए | श्री मान जी इस
प्रकार गलत ढंग जैसा की पूर्व के वर्षो में भी
अल्पसंख्यकअधिकारी ने
प्रार्थी की
छात्रवृत्ति रोकी है इस
वर्ष भी
रोक रहे है यदि इनके खिलाफदंडात्मक कार्यवाही हुई तो इस
वर्ष भी
प्रार्थी को
छात्रवृत्ति नही दी जायेगी |सविनयअनुरोध है की
प्रार्थी जो
की लड़की है सरकार लड़कियों को
शिक्षा के
लिए प्रोत्साहितकरने हेतु कटिबद्ध है इस
वर्ष छात्रवृत्ति प्रदान की
जाय जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्रीमान जी का
आभारी रहेगी |
Yours sincerely Saba Parveen Daughter of Gulam Mohammad
नियत तिथि:
16 – May – 2018
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 20/05/2018को फीडबैक:- श्री मान जी
आप के
अधिकारी महोदय का कहना है की
०५/०३/२०१८ तक
डाटा सस्पेक्ट रहा किन्तु प्रार्थी को
कैसे मालूम हो की
उसके द्वारा सही भरा गया डाटा सस्पेक्ट बता रहा है
कुछ खुराफाती तत्वों की
वजह से
|श्री मान जी
पिछले वर्ष के. बी. पी. जी.कॉलेज के
नोटिस बोर्ड पर यह
प्रकाशित किया की इन
छात्रो के
डाटा को
निक डॉट इन का
कंप्यूटर संदिग्ध बता रहा है इस
लिए सभी छात्र जिनका डाटा संदिग्ध है या
अशुद्ध है
कृपया निश्चित तिथि तक
शुद्ध करा ले अन्य्रथाछात्रवृत्ति से वंचित होना पड़ेगा किन्तु इस
वर्ष ऐसा कुछ भी
नही हुआ |महत्वपूर्ण तथ्य यह
है की
प्रार्थी द्वारा भरी गयी सभी प्रविष्टिया करेक्ट है
तो क्या कारण है
की निक डॉट इन
का कंप्यूटर डाटा को
अशुद्ध बताया इसमें बहुत बड़ी भ्रस्टाचार की साजिश है |जिसमे अधिकारी महोदय खुद संलिप्त है
अन्यथा इतनी सीधी बात का वह
गोल मटोल जवाब क्यों दे रहे इसलिए मामले की जाँच होनी चाहिए और भ्रस्टाचारिओं के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही होनी चाहिए | सोचिए किसी को
उसके छात्रवृत्ति के अधिकार से वंचित किया जा
सकता है
बिना उपयुक्त मौका दिए कितु यहां तो लोग अपने जेब भरने के
लिए कुछ भी करने को तैयार थे |यही कारण है की
इस वर्ष के. बी. पी. जी.कॉलेज के
नोटिस बोर्ड पर कोई संदिग्ध छात्रो की या
शुद्ध करने के लिए कोई नोटिस चस्पा नही की गयी |
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक
प्राप्त
आवेदन
का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
01 – May – 2018
जिलाधिकारीमिर्ज़ापुर,
17/05/2018
आख्या
अपलोड है
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
02 – May – 2018
जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारीमिर्ज़ापुर,अल्पसंख्यक
कल्याण एवं वक्फ
नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें आख्या अपलोड है
17/05/2018
scholarship and fee remburshment not disbursed due to bank
detail not verified by bank through PFMS

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

श्री मान जी आप के अधिकारी महोदय का कहना है की ०५/०३/२०१८ तक डाटा सस्पेक्ट रहा किन्तु प्रार्थी को कैसे मालूम हो की उसके द्वारा सही भरा गया डाटा सस्पेक्ट बता रहा है कुछ खुराफाती तत्वों की वजह से |श्री मान जी पिछले वर्ष के. बी. पी. जी.कॉलेज के नोटिस बोर्ड पर यह प्रकाशित किया की इन छात्रो के डाटा को निक डॉट इन का कंप्यूटर संदिग्ध बता रहा है इस लिए सभी छात्र जिनका डाटा संदिग्ध है या अशुद्ध है कृपया निश्चित तिथि तक शुद्ध करा ले अन्य्रथाछात्रवृत्ति से वंचित होना पड़ेगा किन्तु इस वर्ष ऐसा कुछ भी नही हुआ |महत्वपूर्ण तथ्य यह है की प्रार्थी द्वारा भरी गयी सभी प्रविष्टिया करेक्ट है तो क्या कारण है की निक डॉट इन का कंप्यूटर डाटा को अशुद्ध बताया इसमें बहुत बड़ी भ्रस्टाचार की साजिश है |जिसमे अधिकारी महोदय खुद संलिप्त है अन्यथा इतनी सीधी बात का वह गोल मटोल जवाब क्यों दे रहे इसलिए मामले की जाँच होनी चाहिए और भ्रस्टाचारिओं के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही होनी चाहिए |

Preeti Singh
2 years ago

महत्वपूर्ण तथ्य यह है की प्रार्थी द्वारा भरी गयी सभी प्रविष्टिया करेक्ट है तो क्या कारण है की निक डॉट इन का कंप्यूटर डाटा को अशुद्ध बताया इसमें बहुत बड़ी भ्रस्टाचार की साजिश है |जिसमे अधिकारी महोदय खुद संलिप्त है अन्यथा इतनी सीधी बात का वह गोल मटोल जवाब क्यों दे रहे इसलिए मामले की जाँच होनी चाहिए और भ्रस्टाचारिओं के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही होनी चाहिए | सोचिए किसी को उसके छात्रवृत्ति के अधिकार से वंचित किया जा सकता है बिना उपयुक्त मौका दिए कितु यहां तो लोग अपने जेब भरने के लिए कुछ भी करने को तैयार थे |यही कारण है की इस वर्ष के. बी. पी. जी.कॉलेज के नोटिस बोर्ड पर कोई संदिग्ध छात्रो की या शुद्ध करने के लिए कोई नोटिस चस्पा नही की गयी |