शादी अनुदान में बहुत बड़ी धाधली है सरकार जांच कराने से हिचक रही है |

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
40019919016667
आवेदक कर्ता का
नाम:
पान
कुमारी
आवेदक कर्ता का
मोबाइल न०:
9795410978,9795410978
विषय:
दिनांक 17/03/2019को फीडबैक:- शिकायतकर्ता से संतुष्टि परिक्षण के
लिये संपर्क किया गया शिकायतकर्ता की
गयी कार्यवाही से सहमत है| श्री मान जी
प्रार्थी को
जो की
पात्र है
उसको शासकीय सहायता से
वंचित किया जा रहा है सिर्फ भ्रस्टाचार की
वजह से
वह कैसे कह सकता है की
वह संतुष्ट है | श्री मान जी प्रार्थी की सतर्कता ही है
नही तो
बिना बताये ही समाज कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ने
प्रार्थी के
आवेदन पत्र प्रभावहीन कर
दिया |श्री मान सहायक विकास अधिकारी समाज कल्याण किससे मिले | श्री मान जी प्रार्थी द्वारा शिकायत पत्र में खुद लिखा गया है की उसने ०३ जुलाई २०१८ को आवेदन किया और १०जुलाई २०१८ को हार्ड कॉपी समस्त
संलग्नको समेत रिसीव कराया गया
| श्री मान जी प्राथी द्वारा प्रस्तुत जन सुनवाई पोर्टल पर
शिकायत का
परिशीलन करे |श्री मान जी
प्राथी द्वारा प्रस्तुत जन
सुनवाई पोर्टल पर शिकायत में समाज कल्याण अधिकारी की आख्या का का
परिशीलन करे | जो देखने से
ही लग
रहा है
की समाज कल्याण अधिकारी कितनी गैर जिम्मेदारी से
एक रटा रटाया आख्या दे कर
मामले को
बंद करा दिया | सोचिये जिसके पास घुस देने को
हो
उसको सरकारी सहायता मिले | खुले आम घुसखोरी है कोई रोकने वाला नही है
|किसी भी जांच का आधार शिकायत के
विन्दु होते है | श्री मान प्रार्थी ने
२०० रूपया दे कर
आन लाइन आवेदन करवाया इस उद्देश्य से की
उसको २०००० रुपये सरकारी अनुदान मिलेगा वह विकास खंड कार्यालय में क्यों नही जमा
करेगा
|मोदी सर अब
आप के
ऊपर भरोषा है | श्री मान इसी शैली से प्रदेश सरकार के
अधिनस्थो द्वारा गरीबो के
धन के
साथ बन्दर बाट किया जा रहा है | श्री मान मोदी सर
कुछ तो
करे जिससे की गरीबो को उनके हक़ प्राप्त हो |श्री मान जी गरीबो को दी
जाने वाली सहायता उन
तक नही पहुच रही है फर्जी नाम भर
भर के
उनका पैसा निकाल लिया जा रहा है |जिसका एक उदाहरण आप
के समक्ष है | श्री मान जी प्रार्थी की मदद करे | प्रार्थी
पान कुमारी पति प्रदीप कुमार मोबाइल नंबर
९१९८३२७०५५
, ग्राम व पोष्ट –तिलठी जिला मिर्ज़ापुर उत्तर प्रदेश
नियत तिथि:
01 – Apr – 2019
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 18/03/2019को फीडबैक:- खण्ड विकास अधिकारी कोन के
कार्यालय पत्र संख्या 212 A दिनांक 21-02-2019 द्वारा उपलब्ध कराये गये आवेदनपत्र में सूची क्रमांक 77 एवं 78 पर अपात्र चिन्हित किया गया है जिसकी सूची श्री गुलाब चन्द सहायक विकास अधिकारी 00 विकास खण्ड कोन के पास उपलब्ध है। श्री मान जी को ज्ञात हो की प्रार्थी के परिवार का वार्षिक आय ४५००० रुपये
है जो की तहसील द्वारा जारी आय प्रमाण पत्र से स्पस्ट है और जिसकी कॉपी हार्ड
कॉपी के साथ जमा है और जिसका प्रमाण पत्र क्रमांक
६९११८१०२४१५५ ऑनलाइन आवेदन में प्रविष्ट किया गया है | प्रार्थी का शपथ पूर्वक बयान है की
प्रार्थी के
घर में तो
कोई निजी क्षेत्र में और नही सार्वजनिक क्षेत्र कार्यरत है
हा प्रार्थी के पति दिहाड़ी मजदूर है वह
भी मनरेगा में जिससे दो जून की रोटी के भी
लाले पड़े रहते है
| वे लोग जो
अपात्र है
उन्हें सब
से पहले सरकारी सहायता प्राप्त हो
जाती है
और जो
पात्र है
उनके पास साहब को
देने के
लिए कुछ है ही
नही | श्री मान जी प्रार्थी अनुसूचित जाति से है
और अति गरीबी में जीवन यापन कर रही है | श्री मान जी हमे मोदी और
योगी सर
पर पूरा भरोसा है
वही हम
लोगो को
न्याय दिलवायेगे | श्री मान एक
बार प्रधान मंत्री कार्यालय या मुख्य मंत्री कार्यालय से जाच निकली तो
कई लोग नप जायेगे |सोचिये समाज कल्याण अधिकारी कितनी बाते दो
दिन में बदले | पहले तो उन्होंने सीधे इनकार कर
दिया की
प्रार्थी द्वारा हार्ड कॉपी ही नही जमा किया गया फिर क्या प्रार्थी द्वारा खुद स्वीकार किया गया की
उसने हार्ड कॉपी नही जमा किया गया और
निस्तारण से
संतुष्ट है
अब क्या कह रहे है प्रार्थी अपात्र है
है | श्री मान जी माननीय उच्चतम न्यायायलय द्वारा अपने अपने कई
निर्णयों में कारण जानने का अधिकार का जम
कर वकालत किया गया है किन्तु यह क्या समाज कल्याण अधिकारी ने
फिर अपना रहस्यमयी निर्णय सुना दिया जिससे प्रार्थी के दिल की धड़कने थम रही है क्यों की कर्ज ले कर
शादी की
गई और
स्थानीय लोगो का ब्याज दर तो
आप जानते ही है
इसलिए रिश्तेदारो से सहयोग लिया गया इस उम्मीद से की
सरकार २००००रुपये देगी तो
सब का
वापस हो
जाएगा |
फीडबैक की स्थिति:
फीडबैक
प्राप्त

आवेदन
का संलग्नक

अग्रसारित विवरण

क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
17 – Mar – 2019
जिला समाज कल्याण अधिकारीमिर्ज़ापुर,समाज कल्‍याण विभाग
18/03/2019
खण्ड विकास अधिकारी कोन के
कार्यालय पत्र संख्या 212 A दिनांक 21-02-2019 द्वारा उपलब्ध कराये गये आवेदनपत्र में सूची क्रमांक 77 एवं 78 पर अपात्र चिन्हित किया गया है जिसकी सूची श्री गुलाब चन्द सहायक विकास अधिकारी स00 विकास खण्ड कोन के पास उपलब्ध है।
निस्तारित

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Yogi
1 year ago

श्री मान जी को ज्ञात हो की प्रार्थी के परिवार का वार्षिक आय ४५००० रुपये है जो की तहसील द्वारा जारी आय प्रमाण पत्र से स्पस्ट है और जिसकी कॉपी हार्ड कॉपी के साथ जमा है और जिसका प्रमाण पत्र क्रमांक-६९११८१०२४१५५ ऑनलाइन आवेदन में प्रविष्ट किया गया है | प्रार्थी का शपथ पूर्वक बयान है की प्रार्थी के घर में न तो कोई निजी क्षेत्र में और नही सार्वजनिक क्षेत्र कार्यरत है हा प्रार्थी के पति दिहाड़ी मजदूर है वह भी मनरेगा में जिससे दो जून की रोटी के भी लाले पड़े रहते है | वे लोग जो अपात्र है उन्हें सब से पहले सरकारी सहायता प्राप्त हो जाती है और जो पात्र है उनके पास साहब को देने के लिए कुछ है ही नही | श्री मान जी प्रार्थी अनुसूचित जाति से है और अति गरीबी में जीवन यापन कर रही है |

Arun Pratap Singh
1 year ago

जिलाधिकारी मिर्जापुर ने इस आख्या को अनुमोदित कर दिया सोचिये हर किसी को कारण जानने का हक है किन्तु मोदी की इस सरकार ने लोगो को यह भी नही बताया जाता है | जब की सभी जानते है की घुस न देने के कारण पात्र अपात्र बन रहे है और जो घुस दे रहे है उन अपात्रो कोभी पात्र बना दिया जा रहा है |
आवेदक द्वारा आनलाइन किये गये शादी अनुदान आवेदन–पत्र को खण्ड विकास अधिकारी, काेन द्वारा अस्वीकृत करते हुये कार्यालय पत्र संख्या– 212 दिनांक 21-02-2019 द्वारा आख्या पषित की गयी है। आवेदक को नियमानुसार शादी अनुदान देय नहीं है।

Beerbhadra Singh
1 year ago

Whether it is justified to deprive the weaker and downtrodden section from the public aid and using that fund for their private uses. Goverment staff is going to be richer and richer and Non governmental staff is on the verge of hunger.

Undoubtedly there is rampant corruption in the government machinery but it is unfortunate that our accountable Public functionaries are adopting lackadaisical approach in order to curb this Anarchy from the government machinery that is why everyone is busy in filling its own packet. There is great resentment among the electro rates of the country which will be shown when the outcome of the election result will be declared. It is well established fact that at our country men are divided into two categories one category of 10% people and other category is of 90% people and 10% people are using entire infrastructure of this country and 90% people are on the verge of Hunger.