जनसुनवाई पोर्टल गवर्नमेंट ऑफ़ उत्तर प्रदेश जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ने मजाक बना दिया

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
शिकायत संख्या-40019918010600 जनसुनवाई पोर्टल गवर्नमेंट ऑफ़ उत्तर प्रदेश जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी मिर्ज़ापुर ने मजाक बना दिया
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 12 May 2018 at 01:15
To: presidentofindia@rb.nic.in, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, cmup <cmup@up.nic.in>, hgovup@up.nic.in, 
urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, csup@up.nic.in, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, supremecourt 
<supremecourt@nic.in>, lokayukta@hotmail.com

सर इस देश में कोई इमानदार हो गरीबी और गरीबो को समझता हो तो उसी को आवेदन प्रस्तुत किया जाय| जो
 कम से कम सुने तो |सर नियम कुछ रह ही नही गया है हर जगह जबरदस्ती जब पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी
 मिर्ज़ापुर ने  खुद सुनियोजित तरीके से गलत कार्यो को अंजाम दिया है तो वे तो भागे गी ही प्रार्थी द्वारा प्रथम
 एप्लीकेशन ११-फ़रवरी-२०१८ को दिया गया जब संबंधितो ने खाता संख्या की माइनर त्रुटी दूर करने से इनकार कर
 दिया |जबकि १६-फ़रवरी-२०१८ को खुद जिला विद्यालय निरीक्षक से १२ हजार से भी अधिक छात्रो की डाटा २०
 फ़रवरी २०१८ तक शुद्ध करने को कहा और जो छात्र उनके समक्ष फरवरी के प्रथम वीक से खाता संख्या में एक
 जीरो शुद्ध करने हेतु चरण बंदन कर रहा था उसका शुद्ध नही किया गया केवल उन्ही का शुद्ध किया गया जिस
 दूध से मलाई निकली | जो पात्र नही थे उनको प्रथम वरीयता दी गयी क्यों की ग्रीस से उनकी फाइल जल्दी फिसल
 गई हमारे पास तो ग्रीस था ही नही इस लिए ज्यो का त्यों बनी रही | लाभ तो उनको दिया गया जिनके पिता सरकारी सर्विस में थे क्यों की उनके पास ग्रीस था | 
सेवा में
                       मुख्य मंत्री
                      उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ
विषय –शिकायत संख्या40019918010600 जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी ने आज दिनांक १०-०५-२०१८ को सुबह ११ बजे सुनवाई वास्ते प्राचार्य कन्हैया लाल बसंत लाल पोस्ट ग्रेजुएट कालेज मुसफ्फर गंज मिर्जापुर और प्रार्थी को प्रतिनिधि सहित बुलाया था किन्तु न तो खुद उपस्थित रही और न ही प्राचार्य उपस्थित हुई |
महोदय
            प्रार्थी द्वारा श्री मान जी का ध्यान निम्न बिन्दुओं पर सविनय आकृष्ट किया जाता है |
१-श्री मान जी जन सुनवाई पोर्टल की महिमा आप का कार्यालय कुछ इस प्रकार गुडगान करता है |
प्रिय महोदय
        
आपका ईमेल मुख्यमंत्री कार्यालय के आधिकारिक ईमेल पर प्राप्त हुआ है.  यदि आपका ईमेल जनशिकायत श्रेणी का है तो आपको

 सविनय अवगत कराना है कि मुख्यमंत्री कार्यालयउ०प्र० द्वारा जनता की शिकायतों को दर्ज किए जाने हेतु उ०प्र० सरकार का

 आधिकारिक ऑनलाइन पोर्टल जन-सुनवाई‘ विकसित किया गया है जिसका वेब एड्रेस नीचे दिया गया है –
http://jansunwai.up.nic.in/HomeH.html
आपसे निवेदन है कि अपनी शिकायतों के त्‍वरित निस्‍तारण हेतु जनसुनवाई पोर्टल का प्रयोग करें
ध‍न्‍यवाद।
मुख्‍यमंत्री कार्यालयउ०प्र० 

नोट- वेबसाइट या जनसुनवाई के मोबाइल app के माध्यम से ऑनलाइन दर्ज की गयी शिकायतों के निस्तारण की समीक्षा
 भी मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा गहनता से की जाती है |

२-श्री मान जी यदि वेबसाइट या जनसुनवाई के मोबाइल app के माध्यम से ऑनलाइन दर्ज की गयी शिकायतों के

 निस्तारण की समीक्षा भी मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा गहनता से की जाती है | तो आज डेट फिक्स करके मैडम क्यों

 आउट स्टेशन चली गई |३-श्री मान जी मै जानता हु की मैडम अपने प्रभाव के समक्ष जनसुवाई पोर्टल को तुच्छ समझती

 है किन्तु मेरा तो ख्याल करती क्यों की इतनी धुप में पैदल गुरु जी योगी एम्.पी. सिंह जी के साथ ऑफिस का चक्कर

 लगाया | श्री मान जी सर्प में जहर नही होता तो कम से कम फूक कर काम चलाता है किन्तु जनसुवाई पोर्टल की गरिमा

 इतनी गिर चुकी है की उसमे लगने वाली आख्या केवल सामान्य औपचारिकता बन कर रह गई है |४-श्री मान जी मामले

 की सुनवाई तो जिलाधिकारी महोदय को करनी चाहिए क्यों की नैसर्गिक न्याय का सिद्धांत इस बात का परमीसन नही

 देता की जिसके विरुद्ध आरोप हो वही मामले की सुनवाई करे | सारे आरोप या तो प्राचार्य के खिलाफ है या खुद मैडम

 के खिलाफ है |
                                      श्री मान जी जिलाधिकारी महोदय मामले की सुनवाई करे क्यों की मामला


 वित्तीय अमितता से जुडा है | सरकारी धन को रेवड़ी और टाफी की तरह नही बाटा जा सकता है |
   दिनांक -१०-०५-२०१८                                            शिवम वर्मा पुत्र श्री राजेंद्र प्रसाद वर्मा









आवेदन काविवरण
शिकायतसंख्या
40019918010600
आवेदक कर्ताका नाम:
शिवम वर्मा
आवेदक कर्ताका मोबाइलन०:
8687094297,8687094297
विषय:
श्री मान जी निम्नलिखित सन्दर्भ का परिशीलन करे जो प्रार्थी द्वारा दिनांक ११फ़रवरी –
२०१८ को डाटाशुद्ध करने हेतु प्रस्तुत किया गया | जनसुनवाई समन्वित शिकायत निवारण 
प्रणालीउत्तर प्रदेश सन्दर्भसंख्या-40019918002551 आवेदनकर्ता का विवरण नाम Shivam 
Verma पितापति का नाम Rajendra Prasad लिंग पुरुष मोबाइल नंबर-1 8687094297 
आख्या जिलाधिकारी 11 – Feb – 2018 जिला पिछडा वर्गकल्याण अधिकारी –मिर्ज़ापुर,
पिछड़ा वर्ग कल्यािण विभाग नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें आख्याअपलोड है 
12
– Feb – 2018 
आप ने सुधार से इनकार किया और मनमाना आख्या लगा कर शिकायत 
कानिस्तारण करा दिए जबकि आपको प्रार्थी के आवेदन को प्रधानाचार्य केबीपीजी मिर्ज़ापुर 
को भेजना चाहिएथा | दिनांक 19022018को फीडबैक– आदरणीय श्री मान जी निक लखनऊ 
डाटाकरेक्ट करने के लिए कह रहाहै और आदरणीय मुख्यमंत्री जी ने तो यहां तक कहे हैकी 
कोई छात्र शासकीय मदद से वंचित नही होनाचाहिए | और प्रार्थी उसी क्रम मेंआप के ऑफिस 
के चक्कर काट रहा है और श्री मान कोई भी त्रुटी जनपद स्तरपरही निस्तारित होती है  की
 उसका निस्तारण निक लखनऊ करती है | निकलखनऊ एक कंप्यूटरव्यवस्था है जो की 
एक निर्धारित फीड डाटा के अनुसार कामकरती है | श्री मान पिछडा वर्ग अधिकारीमिर्ज़ापुर
 से सविनय अनुरोध है की प्रार्थीकी पात्रता की मद्देनजर प्रार्थी को उसका अकाउंट करेक्ट 
कर सहीखाते मेंशासकीय सहायता उपलब्ध कराया जाय | जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान
 जी काआभारी रहेगा |दिनांक –१९फ़रवरी २०१८ प्रार्थी शिवम् वर्मा श्री मान जी शासन का 
पत्र डाटा शुद्ध करने वास्ते जिला पिछडावर्ग कल्याण अधिकारी को ही आया है और उनको 
चाहिए था की जो आवेदन उन्होंने  मई २०१८ को प्रार्थी सेलिया अगर १२फरवरी –२०१८ को
 ही ले लेती तो आज डाटा शुद्ध हो चूका होता और राम कुमार मौर्या से मेराआवेदन 
२६फरवरी –२०१८ को दिया गया फर्जी तरीके से दिखा कर शुद्ध करके अनुमोदन भी प्रदान
 करदिया गया | किसी भीसामान्य जाति या अनुसूचित जाति के छात्र का छात्रवृत्ति सम्बन्धी 
शिकायत कानिस्तारण समाजकल्याण अधिकारी ही कर सकते है |इसी प्रकार पिछड़े वर्ग के
 छात्र की छात्रवृत्ति सम्बन्धीप्रकरण कानिस्तारण जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी 
मिर्ज़ापुर ही करेंगेश्री मान जी जिला पिछड़ा वर्गकल्याणअधिकारी का पत्रांक २७६ पत्र दिनांक
 १६फ़रवरी –२०१८ दिव्या शुक्ला जी का जो की जिलाविद्यालयनिरीक्षक मिर्ज़ापुर को 
संबोधित है जिसके अनुसार उपरोक्त अधिकारी से १२७०८ संदिग्ध डाटावाले छात्रोकी सूची 
जिनका डाटा निक डॉट इन के कंप्यूटर द्वारा सस्पेक्ट पाया गया पुनर जांच करा केसत्यापन
 हेतुदिया गया अर्थात सत्यापन की जिम्मेदारी जिला विद्यालय निरीक्षक की थी |उपरोक्त 
कार्यसंपादन कीअंतिम तिथि २०फ़रवरी २०१८ तय की गई थी | श्री मान जी कृष्णावती निजी 
औद्योगिकसंसथान केप्रधानाचार्य दिनांक २६फ़रवरी२०१८ को समाज कल्याण अधिकारी 
मिर्ज़ापुर को संबोधित पत्रलिखा है नकी जिला विद्यालय निरीक्षक या आप को संबोधित 
अर्थात उनका पत्र अनुसूचित जाति यासामान्य जातिसे सम्बंधित था  की पिछड़ी जाति से 
|पत्र की स्कैन्ड कॉपी संलग्न है जिसका अवलोकन करे|श्री मान जीआप द्वारा तय समय 
सीमा भी समाप्त हो चूका था | समाज कल्याण अधिकारी को संबोधितपत्र जिसमेकही भी 
राम कुमार मौर्या का नाम नही है और नियमानुसार हो भी नही सकता क्या आप प्रार्थी को
गुमराहनही कर रहे है | श्री मान जी संलग्न संस्तुति प्रमाण पत्र में किसी दिनांक का जिक्र 
नही है एक जिलास्तरीयसमिति का निर्णय आपसी विचार मंथन के उपरांत होता है आप 
द्वारा प्रस्तुत दस्तावेज संगत नही हैऔरसंस्तुति प्रमाण पत्र में किसी भी अधिकारी का जैसे
 जिला विद्यालय निरीक्षक या जिला पिछड़ावर्गकल्याण अधिकारी का हस्ताक्षर नही है 
अर्थात विश्वसनीय नही है | कोई भी निर्णय वह भी समितिद्वारातिथि बिना नही हो सकती 
है क्यों की समिति के सदस्य निश्चित तिथि को उपस्थित हो कर ही निर्णयलेंगेऔर उस तिथि
 का जिक्र और समिति के सदस्यों का हस्ताक्षर होना चाहिए | श्री मान जी प्रार्थी के तरफ 
सेकोई शिथिलता नही बरती गई है यदि प्रार्थी द्वारा अनर्गल आरोप लगाये गये है तो 
नियमानुसार जांचअधिकारी नियुक्त करके दोनों पक्षों को को सुना जाय जिसमे मै अपने 
प्रतिनिधि श्री योगी एम् पी सिंह केमाध्यम से अपना पक्ष मजबूती के साथ रखूगा और दूध का 
दूध और पानी का पानी हो जाएगा और धमकियाप्रार्थी को भी दी जा रही है और आरोप 
प्रत्यारोप भी लगाये जा रहे है | श्री मान जी मैडम और मेरा पक्ष किसीभी निश्चित तिथि पे 
जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर द्वारा सुना जाय और नियमानुसार कार्यवाही किया जाय|
नियत तिथि:
20 – May – 2018
शिकायत कीस्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 10/05/2018को फीडबैक:- सेवा में मुख्य मंत्री उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ विषय –
शिकायतसंख्या-40019918010600 जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी ने आज दिनांक 
१००५२०१८ को सुबह ११बजे सुनवाई वास्ते प्राचार्य कन्हैया लाल बसंत लाल पोस्ट ग्रेजुएट 
कालेज मुसफ्फर गंज मिर्जापुर और प्रार्थीको प्रतिनिधि सहित बुलाया था किन्तु  तो खुद 
उपस्थित रही और  ही प्राचार्य उपस्थित हुई | महोदयप्रार्थी द्वारा श्री मान जी का ध्यान
 निम्न बिन्दुओं पर सविनय आकृष्ट किया जाता है | श्री मान जी जनसुनवाई पोर्टल की 
महिमा आप का कार्यालय कुछ इस प्रकार गुडगान करता है | प्रिय महोदयआपका 
ईमेलमुख्यमंत्री कार्यालय के आधिकारिक ईमेल पर प्राप्त हुआ हैयदि आपका ईमेल 
जनशिकायत श्रेणी का है तोआपको सविनय अवगत कराना है कि मुख्यमंत्री कार्यालय
उ०प्र० द्वारा जनता की शिकायतों को दर्ज किएजाने हेतु उ०प्र० सरकार का आधिकारिक 
ऑनलाइन पोर्टल ‘जनसुनवाई‘ विकसित किया गया है जिसकावेब एड्रेस नीचे दिया गया है 
– http://jansunwai.up.nic.in/HomeH.html आपसे निवेदन है कि अपनीशिकायतों के त्वरित
 निस्तािरण हेतु जनसुनवाई पोर्टल का प्रयोग करें धय्े वाद। मुख्यनमंत्री कार्यालय,उ०प्र० 
नोट– वेबसाइट या जनसुनवाई के मोबाइल app के माध्यम से ऑनलाइन दर्ज की गयी 
शिकायतों केनिस्तारण की समीक्षा भी मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा गहनता से की जाती है | 
श्री मान जी यदि वेबसाइटया जनसुनवाई के मोबाइल app के माध्यम से ऑनलाइन दर्ज
 की गयी शिकायतों के निस्तारण की समीक्षाभी मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा गहनता से की 
जाती है | तो आज डेट फिक्स करके मैडम क्यों आउट स्टेशनचली गई | श्री मान जी मै 
जानता हु की मैडम अपने प्रभाव के समक्ष जनसुवाई पोर्टल को तुच्छ समझती हैकिन्तु मेरा 
तो ख्याल करती क्यों की इतनी धुप में पैदल गुरु जी योगी एम्.पीसिंह जी के साथ ऑफिस 
काचक्कर लगाया | श्री मान जी सर्प में जहर नही होता तो कम से कम फूक कर काम चलाता
 है किन्तुजनसुवाई पोर्टल की गरिमा इतनी गिर चुकी है की उसमे लगने वाली आख्या केवल 
सामान्य औपचारिकताबन कर रह गई है | श्री मान जी मामले की सुनवाई तो जिलाधिकारी 
महोदय को करनी चाहिए क्यों कीनैसर्गिक न्याय का सिद्धांत इस बात का परमीसन नही
 देता की जिसके विरुद्ध आरोप हो वही मामले कीसुनवाई करे | सारे आरोप या तो प्राचार्य के 
खिलाफ है या खुद मैडम के खिलाफ है | श्री मान जी जिलाधिकारीमहोदय मामले की 
सुनवाई करे क्यों की मामला वित्तीय अमितता से जुडा है | सरकारी धन को रेवड़ी औरटाफी 
की तरह नही बाटा जा सकता है | दिनांक –१००५२०१८ शिवम वर्मा पुत्र श्री राजेंद्र प्रसाद 
वर्मा
फीडबैक कीस्थिति:
फीडबैक विचाराधीन
आवेदन का संलग्नक
संलग्नक देखें
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ 
काप्रकार
आदेश देने
वाले 
अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी 
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या 
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
05 – May – 2018
जिलाधिकारी
मिर्ज़ापुर,
08/05/2018
आख्‍या 
अपलोड है 
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
05 – May – 2018
जिला पिछडावर्ग 
कल्याणअधिकारी –
मिर्ज़ापुर,पिछड़ावर्ग 
कल्‍याणविभाग
नियमनुसार
आवश्यककार्यवाही
करें आख्‍या
अपलोड है 
08/05/2018
कृपयासंलग्नक
 केअनुसान
निस्तारितकरने 
का कष्टकरें
निस्तारित

 श्री मान मुख्यमंत्री महोदय प्रार्थी को न्याय दिलवाने की कृपा करे | और बीसों वर्सो से डटे मिर्जापुर के लोकल लोगो को जो कार्यालयों में तैनात और पर्याप्त धन संपत्ति अर्जित कर लिए है यहा से हटाये| करंट ट्रान्सफर पालिसी के अनुसार तीन वर्षो से एक ही डिस्ट्रिक्ट में डटे और सात वर्षो से मंडल में डटे सरकारी कर्मियों का तबादला अन्य डिस्ट्रिक्ट और मंडल में होना अनिवार्य है किन्तु कैबनेट की मंजूरी प्राप्त शासनादेश को दरकिनार कर अपने गृह जनपद में बीसों वर्सो से डटे हुए है |
                                                              This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that It can never be justified to overlook the rights of the citizenry by delivering services in an arbitrary manner by floating all set up norms. This is sheer mismanagement which is encouraging wrongdoers to reap the benefit of loopholes in the system and depriving poor citizens of the right to justice. Therefore it is need of the hour to take concrete steps in order to curb grown anarchy in the system. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.
                                                             Yours sincerely 
                                         Shivam Verma S/O Rajendra Prasad Mobile Number-8687094297
House no20, the resident of Girdhar Ka Chauraha, Ward-Chaubey tola, Mirzapur city, District-Mirzapur, Pincode-231001, Uttar Pradesh, India.


2 attachments — Download all attachments
Documents of Shivam Verma.docx
2956K View as HTML Download
Documents of Shivam Verma.pdf
339K View as HTML Download





0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

सर इस देश में कोई इमानदार हो गरीबी और गरीबो को समझता हो तो उसी को आवेदन प्रस्तुत किया जाय| जो
कम से कम सुने तो |सर नियम कुछ रह ही नही गया है हर जगह जबरदस्ती जब पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी
मिर्ज़ापुर ने खुद सुनियोजित तरीके से गलत कार्यो को अंजाम दिया है तो वे तो भागे गी ही प्रार्थी द्वारा प्रथम
एप्लीकेशन ११-फ़रवरी-२०१८ को दिया गया जब संबंधितो ने खाता संख्या की माइनर त्रुटी दूर करने से इनकार कर
दिया |जबकि १६-फ़रवरी-२०१८ को खुद जिला विद्यालय निरीक्षक से १२ हजार से भी अधिक छात्रो की डाटा २०
फ़रवरी २०१८ तक शुद्ध करने को कहा और जो छात्र उनके समक्ष फरवरी के प्रथम वीक से खाता संख्या में एक
जीरो शुद्ध करने हेतु चरण बंदन कर रहा था उसका शुद्ध नही किया गया केवल उन्ही का शुद्ध किया गया जिस
दूध से मलाई निकली | जो पात्र नही थे उनको प्रथम वरीयता दी गयी क्यों की ग्रीस से उनकी फाइल जल्दी फिसल
गई हमारे पास तो ग्रीस था ही नही इस लिए ज्यो का त्यों बनी रही | लाभ तो उनको दिया गया जिनके पिता सरकारी सर्विस में थे क्यों की उनके पास ग्रीस था |

Arun Pratap Singh
2 years ago

शिकायत संख्या-40019918010600 जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी ने आज दिनांक १०-०५-२०१८ को सुबह ११ बजे सुनवाई वास्ते प्राचार्य कन्हैया लाल बसंत लाल पोस्ट ग्रेजुएट कालेज मुसफ्फर गंज मिर्जापुर और प्रार्थी को प्रतिनिधि सहित बुलाया था किन्तु न तो खुद उपस्थित रही और न ही प्राचार्य उपस्थित हुई |Whether it is not reflection of the anarchy in the government machinery ipso facto obvious from the circumstantial evidences?