प्रार्थी जानना चाहता है जो कुछ भी पैसा ग्राम पंचायत के नाम पर आहरण है उसका लेखा पंचायत भवन पर अंकित क्यों नही किया

आवेदन का विवरण
शिकायत संख्या
40020017000684
आवेदक कर्ता का नाम:
Suraj
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
8858869171,8858869171
विषय:
विषयप्रधान द्वारा कभी कोई खुली बैठक आज तक नही बुलाई गई तथा कोई विकास नही कराया जा रहा है | कृपया मामले की जांच कराये और सरकारी धन का सदुपयोग सुनिश्चित
करे
| आरोप प्रधान द्वारा पद का दुरुपयोग और सरकारी धन का दुरपयोग गमन | ग्राम पंचायत मधका ,ग्राम करसोता , विकास खंड घोरावल ,पोस्टअमिलौधा , पिनकोड२३१२१० जनपद –सोनभद्र उत्तर प्रदेश | ग्राम प्रधान प्रेम नाथ महोदय श्री मान जी प्रार्थी सूरज पुत्र शिवकरन ग्राममधका ग्राम पंचायत –मधका पोस्टअमिलौधा , पिनकोड२३१२१० जनपद सोनभद्र उत्तर प्रदेश | का निवासी है अर्थात उपरोक्त ग्राम पंचायत का सदस्य है | प्रथम आरोप यह है की ग्राम पंचायत की आज तक कोई खुली बैठक नही आहूत की गयी है यदि कोई
रिकॉर्ड है तो प्रधान और सेक्रेटरी द्वारा बंद कमरे में की गयी होगी
| विकास खंड अधिकारी द्वारा प्रार्थी के शिकायतों को कोई तवज्जो नही दिया जाता है और न ही
कोई रिसीविंग दी जाती है
|
श्री मान जी वर्ष भर से ज्यादा हो गये खुद ग्राम प्रधान बताये की ग्राम में आज तक कोई पैसा नही आया क्यों की उनके
द्वारा आज तक कोई विकास कार्य नही कराया गया
| श्री मान जी प्रार्थी प्रधान जी की कार्यशैली से पूर्ण रूप से व्यथित है क्योकि प्रधान जैसे अपने दायित्वों से पूर्ण रूप से मुख मोड़ चके है | प्रार्थी जानना चाहता है की जो कुछ भी पैसा आहरण ग्राम पंचायत के नाम पर आहरण हुआ है उसका
लेखा पंचायत भवन पर अंकित क्यों नही किया जाता है
| क्या पंचायत
निधि सेक्रेटरी और ग्राम प्रधान की होती है
| कृपया प्रकरण की गंभीरता को समझे और उपयुक्त कार्यवाही करे | जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी का आभारी रहेगा | दिनांक १८०५२०१७ प्रार्थी सूरज
पुत्र शिवकरन
नियत तिथि:
02 – Jun – 2017
शिकायत की स्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
प्राप्त अनुस्मारक
क्र..
अनुस्मारक
प्राप्त
दिनांक
1
If public itself wants that Government Order must be strictly
pursued by concerned ,then why after eight months no officer made any step
forward in this direction
विषय शासनादेश संख्या -722016261133-3-2016-142016 दिनांक-07-अक्टूबर
-2016 पंचायती राज अनुभाग -3 जो की समस्त मंडलायुक्त उत्तर प्रदेश व समस्त जिलाधिकारी
उत्तर प्रदेश शासन को संबोधित है
| उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रो में निर्मित पंचायत भवनों पर विकास परक योजनाओं के कार्यकलापो को वाल पेंटिंग के
माध्यम से प्रदर्शित किए जाने के सम्बन्ध में
| Most revered Sir –Your applicant invites the kind
attention of Hon’ble Sir with due respect to following submissions as
follows It is submitted before the Hon’ble Sir that
शासनादेश संख्या -722016261133-3-2016-142016 दिनांक-07-अक्टूबर -2016
के अनुपालन में उपरोक्त दोनों अधिकारी साथ
ही जनपद का कोई भी अधिकारी जनपद में किसी भी पंचायत भवन पर कोई पेंटिंग कराई
हो तो हम अपने लगाए समस्त आरोप को वापस लेंगे
| हमारा किसी से व्यक्तिगत शत्रुता नही है | It is submitted before the Hon’ble Sir that जनता का पैसा है और सरकार तनख्वाह देती है की आप उसकी सुरक्षा करे | मै अपने संबिधान में वर्णित नागरिक कर्तव्यों का जैसा की आर्टिकल
५१ ए वर्णित का पालन कर लू यही बहुत है
| It is submitted before the Hon’ble Sir that श्री मान जी इतनी अच्छी तनख्वाह तो सरकार खुद दे रही है फिर
भी रहस्यमयी कार्यशैली
|
सहायक पंचायत विकास अधिकारी कहते है 1 उपरोक्त के सम्बन्ध में सादर अवगत कराना
है कि उक्त प्रकरण की जाॅच सहायक विकास अधिकारी
(पं0), घोरावल द्वारा ग्राम मधका में दिनंाक-04062017 को की गयी। शिकायतकर्ता को फोन पर सूचना दिये जाने के बावजूद उपस्थित नही हुए।
ग्रामवासियों द्वारा बताया गया कि शिकायतकर्ता सूरज मिर्जापुर में रहकर पढ़ता
है तथा उसके पिता शिवकरन ओबरा में अध्यापक हैं। पिछले माह अप्रैल में ही ग्राम
सभा की बैठक हुयी है। अतः शिकायतकर्ता की शिकायत जांच में सत्य नही पायी गयी।
अतः प्रकरण निस्तारित किया जाता है। श्री मान जी क्या इस प्रदेश में जांच
रिपोर्ट इसी प्रकार तैयार की जाती है जाॅच सहायक विकास अधिकारी
(पं0), की हर बात मनगढ़ंत है बहुत आश्चर्य की बात
है वह प्रधान की खुशामदी कर रहे है और सरकार के साथ गद्दारी कर रहे है
व्यक्तिगत स्वार्थो के चलते
| उपरोक्त जांच अधिकारी सिर्फ यह बताये की क्या संदर्भित शासनादेश का पालन ग्राम पंचायत में हुआ है या नही
| प्रार्थी की जन्म कुंडली बताने से अपने ऊपर के आरोप नही हटते और इस
रिपोर्ट से आरोप और पूखता हुआ है
| This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir
that how can it be justified to withhold public services arbitrarily
and promote anarchy, lawlessness and chaos in arbitrary manner by
making mockery of law of land There is need of hour to take harsh
steps against wrongdoer in order to win the confidence of citizenry
and strengthen the democratic values for  healthy and prosperous
democracy For this your applicant shall ever pray you Hon’ble Sir
                                   
                     Yours
sincerely
                                 
सूरज पुत्र शिवकरन ग्राममधका, ग्राम
पंचायत –
मधका, पोस्टअमिलौधा
पिनकोड२३१२१० जनपद सोनभद्र उत्तर प्रदेश
08 Jun 2017
फीडबैक :
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
नियत दिनांक
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
18 – May – 2017
जिलाधिकारीसोनभद्र,
08 – Jun – 2017
पत्र संख्‍या 457 दिनांक 07.06.2017
द्वारा आख्‍या प्राप्‍त। निस्‍तारित
निस्तारित
2
आख्या
जिलाधिकारी ( )
19 – May – 2017
जिला पंचायत राज अधिकारीसोनभद्र,पंचायती राज विभाग
आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें पत्र संख्‍या 457 दिनांक 07.06.2017 द्वारा आख्‍या प्राप्‍त।
निस्‍तारित
07 – Jun – 2017
उपरोक्त के सम्बन्ध में सादर अवगत कराना है कि उक्त
प्रकरण की जाॅच सहायक विकास अधिकारी
(पं0), घोरावल द्वारा ग्राम मधका में दिनंाक-04.06.2017 को की गयी। शिकायतकर्ता को फोन पर सूचना
दिये जाने के बावजूद उपस्थित नही हुए। ग्रामवासियों द्वारा बताया गया कि
शिकायतकर्ता सूरज मिर्जापुर में रहकर पढ़ता है तथा उसके पिता शिवकरन ओबरा में
अध्यापक हैं। पिछले माह अप्रैल में ही ग्राम सभा की बैठक हुयी है। अतः शिकायतकर्ता
की शिकायत जांच में सत्य नही पायी गयी। अतः प्रकरण निस्तारित किया जाता है।

6 comments on प्रार्थी जानना चाहता है जो कुछ भी पैसा ग्राम पंचायत के नाम पर आहरण है उसका लेखा पंचायत भवन पर अंकित क्यों नही किया

  1. If public itself wants that Government Order must be strictly pursued by concerned ,then why after eight months no officer made any step forward in this direction विषय –शासनादेश संख्या -722016261133-3-2016-142016 दिनांक-07-अक्टूबर -2016 पंचायती राज अनुभाग -3 जो की समस्त मंडलायुक्त उत्तर प्रदेश व समस्त जिलाधिकारी उत्तर प्रदेश शासन को संबोधित है | उद्देश्य –ग्रामीण क्षेत्रो में निर्मित पंचायत भवनों पर विकास परक योजनाओं के कार्यकलापो को वाल पेंटिंग के माध्यम से प्रदर्शित किए जाने के सम्बन्ध में |

  2. जांच अधिकारी ने रिपोर्ट को विकास खंड पर बैठे बैठे ही लगा दिया शिकायत करने वाले को नतो कोई सूचना दी गई और न कोई जांच ही की गई |
    उपरोक्त के सम्बन्ध में सादर अवगत कराना है कि उक्त प्रकरण की जाॅच सहायक विकास अधिकारी (पं0), घोरावल द्वारा ग्राम मधका में दिनंाक-04.06.2017 को की गयी। शिकायतकर्ता को फोन पर सूचना दिये जाने के बावजूद उपस्थित नही हुए। ग्रामवासियों द्वारा बताया गया कि शिकायतकर्ता सूरज मिर्जापुर में रहकर पढ़ता है तथा उसके पिता शिवकरन ओबरा में अध्यापक हैं। पिछले माह अप्रैल में ही ग्राम सभा की बैठक हुयी है। अतः शिकायतकर्ता की शिकायत जांच में सत्य नही पायी गयी। अतः प्रकरण निस्तारित किया जाता है।

  3. श्री मान जी क्या इस प्रदेश में जांच रिपोर्ट इसी प्रकार तैयार की जाती है जाॅच सहायक विकास अधिकारी (पं0), की हर बात मनगढ़ंत है बहुत आश्चर्य की बात है वह प्रधान की खुशामदी कर रहे है और सरकार के साथ गद्दारी कर रहे है व्यक्तिगत स्वार्थो के चलते | उपरोक्त जांच अधिकारी सिर्फ यह बताये की क्या संदर्भित शासनादेश का पालन ग्राम पंचायत में हुआ है या नही | प्रार्थी की जन्म कुंडली बताने से अपने ऊपर के आरोप नही हटते और इस रिपोर्ट से आरोप और पूखता हुआ है |

  4. जांच अधिकारी ने रिपोर्ट को विकास खंड पर बैठे बैठे ही लगा दिया शिकायत करने वाले को नतो कोई सूचना दी गई और न कोई जांच ही की गई |
    शिकायत सं0- 40020017005234, दिनांक – 28-11-2017को की गई थी।
    लेकिन इसकी कोई सूचना हमे नही दिया गया है और रिपोर्ट मे हमारी मौजुदगी दिखा दिया गया है। ऐसा क्यों किया गया है। श्री मान जी क्या इस प्रदेश में जांच रिपोर्ट इसी प्रकार तैयार की जाती है।

  5. जांच अधिकारी ने रिपोर्ट को विकास खंड पर बैठे बैठे ही लगा दिया शिकायत करने वाले को नतो कोई सूचना दी गई और न कोई जांच ही की गई |
    शिकायत सं0- 40020017005234, दिनांक – 28-11-2017को की गई थी।
    लेकिन इसकी कोई सूचना हमे नही दिया गया है और रिपोर्ट मे हमारी मौजुदगी दिखा दिया गया है। ऐसा क्यों किया गया है। श्री मान जी क्या इस प्रदेश में जांच रिपोर्ट इसी प्रकार तैयार की जाती है।

  6. जांच अधिकारी ने रिपोर्ट को विकास खंड पर बैठे बैठे ही लगा दिया शिकायत करने वाले को नतो कोई सूचना दी गई और न कोई जांच ही की गई |
    शिकायत सं0- 40020017005234, दिनांक – 28-11-2017को की गई थी।
    लेकिन इसकी कोई सूचना हमे नही दिया गया है और रिपोर्ट मे हमारी मौजुदगी दिखा दिया गया है। ऐसा क्यों किया गया है। श्री मान जी क्या इस प्रदेश में जांच रिपोर्ट इसी प्रकार तैयार की जाती है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: