मोदी सर प्रदेश में अभी भी नजराना शुकराना रुका नहीं है वल्कि गति में वृद्धि हुई है |

Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
मोदी सर प्रदेश में अभी भी नजराना शुकराना रुका नहीं है वल्कि गति में वृद्धि हुई है |
1 message
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 24 August 2019 at 12:14

To: pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, supremecourt <supremecourt@nic.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, cmup <cmup@up.nic.in>, hgovup@up.nic.in, csup@up.nic.in, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, lokayukta@hotmail.com, “sec. sic” <sec.sic@up.nic.in>, Anjali Anand Srivastava <secy-cic@nic.in>, rovaranasi@gmail.com, desecedu@gmail.com

श्री मान जी अगर सरकारी नौकरी पेशा को छोड़ दिया जाय तो कौन है इस देश में जो भ्रस्टाचार से त्रस्त नहीं है और भारत सरकार की किस कार्यालय खुले आम घुस नहीं लिया जाता है और यह कोई घूसखोरी का वकालत करता है तो वे सभी नौकरी पेशा के लोग है अर्थात सरकार के कर्मचारी है हां इसमें भी कुछ ईमानदार है लेकिन उन्हें ससपेंड कर दिया जाता झूठे आरोप लगा कर | श्री मान जी बड़ा कष्ट होता है जब जबरदस्ती घुस मांगा जाता है | श्री मान जी क्या मई पेशी देना चाहुगा लेकिन हर तारीख पर पेशी देना पड़ता है | पिछली बार जब दश रूपये दिया तो कहने लगे अब पेशी का २० रुपये हो गया है क्यों की महगाई बढ़ गई है इसलिए इस बार तो कोई बात नहीं अगली बार ध्यान दीजियेगा | श्री मान जी चाहे न्यायिक व्यवस्था हो या अर्धन्यायिक या फिर प्रशसनिक कार्य  हो कहा घुस नहीं मांगा जाता है | जब से बड़ी बात कोई उसे रोकना भी नहीं चाहता है अन्यथा सैकड़ो पत्र लिख कर जेनुइन कार्य भी न होता | पहले की सरकार यदि भ्रस्टाचार पर कार्यवाही नहीं करती थी तो चुप रहती थी किन्तु अब सीधे भ्रस्टाचारिओं को क्लीन चिट  दी जाती है और वह स्थित को और बह स्थित को और भी भयावह बना रही है | 
यह सच है हमारे प्रधान मंत्री जी हमेशा भ्रष्टाचार का विरोध किये और करते रहेंगे किन्तु भ्रस्टाचार रुपी दानव घटने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है | 
यदि हमारे कार्य व कार्यशैली ईमानदारी से परिपूर्ण हो तो हमे यह कहने की आवश्य्कता ही नहीं  हम ईमानदार है | श्री मान जी कोई बड़ा छोटा नहीं होता उसकी कृतियाँ ही उसे महान बनाती है और यदि जिम्मेदार लोकसेवक पारदर्शिता पूर्ण कार्यशैली अपनाए तो आज यह आराजकता क्यों | 
श्री मान जी मिड डे मील में नमक तो वर्षो से परोसा जा रहा है फिर आज यह हाय  टोबा क्यों | क्या ऐसा पहली बार हुआ है अर्थात हमेशा से होता  आ रहा है | ऐसा  इस लिए हो रहा है क्योकि इसका पोल भारतीय राष्ट्रीय  कांग्रेस की महासचिव  खोला है वाकायदा ट्वीट करके | 
श्री मान उत्तर प्रदेश सरकार  के शिक्षा विभाग में बहुत भ्रष्टाचार है और माध्यमिक शिक्षा परिषद् के क्षेत्रीय कार्यालय वाराणसी में एक लड़का अपनी  तिथि सुधरवाने हेतु सन २०१५  से ही परिषद् के उपरोक्त क्षेत्रीय कार्यालय का चक्कर लगा रहा है और अभी तक उसकी जन्म तिथि सुधारी  गयी खुद प्रार्थी द्वारा दो दर्जन  से भी ज्यादा प्रतिवेदन प्रस्तुत किये गए मुख्य मंत्री कार्यालय व अन्य के संज्ञान में प्रकरण है किन्तु इस लिए नहीं किया जा रहा है की  दरवाजे के पीछे  डीलिंग्स प्रभावित न  हो | फिर किस  भ्रष्टाचार पर रोक है जैसा  लोगो द्वारा दावा किया जा रहा है | 
श्री मान जी प्रदेश में भ्रष्टाचार रोकने के लिए सब से बड़ा संबैधानिक प्राधिकरण है लोक आयुक्त कार्यालय | श्री मान जी प्रार्थी द्वारा भी कुछ प्रत्यावेदन प्रस्तुत किये गए प्रदेश के भ्रष्टाचार विरोधी प्राधिकरण में किन्तु उसका प्रभाव निराशाजनक  ही रहा | 
This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness, and chaos in an arbitrary manner by making the mockery of law of land? This is the need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer in order to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray you, Hon’ble Sir.                                                         
Date-24/08/2019                            Yours sincerely
                                              Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911, Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar Pradesh, Pin code-231001

4 comments on मोदी सर प्रदेश में अभी भी नजराना शुकराना रुका नहीं है वल्कि गति में वृद्धि हुई है |

  1. श्री मान जी प्रदेश में भ्रष्टाचार रोकने के लिए सब से बड़ा संबैधानिक प्राधिकरण है लोक आयुक्त कार्यालय | श्री मान जी प्रार्थी द्वारा भी कुछ प्रत्यावेदन प्रस्तुत किये गए प्रदेश के भ्रष्टाचार विरोधी प्राधिकरण में किन्तु उसका प्रभाव निराशाजनक ही रहा |

  2. Undoubtedly it is reflection of the rampant corruption in the government machinery but it is unfortunate that few are beating drum of honesty instead of promoting honesty in the working. Poor illiterate public tolerating such incredible leaders.
    श्री मान उत्तर प्रदेश सरकार के शिक्षा विभाग में बहुत भ्रष्टाचार है और माध्यमिक शिक्षा परिषद् के क्षेत्रीय कार्यालय वाराणसी में एक लड़का अपनी तिथि सुधरवाने हेतु सन २०१५ से ही परिषद् के उपरोक्त क्षेत्रीय कार्यालय का चक्कर लगा रहा है और अभी तक उसकी जन्म तिथि सुधारी गयी खुद प्रार्थी द्वारा दो दर्जन से भी ज्यादा प्रतिवेदन प्रस्तुत किये गए मुख्य मंत्री कार्यालय व अन्य के संज्ञान में प्रकरण है किन्तु इस लिए नहीं किया जा रहा है की दरवाजे के पीछे डीलिंग्स प्रभावित न हो | फिर किस भ्रष्टाचार पर रोक है जैसा लोगो द्वारा दावा किया जा रहा है |

  3. Modi Sir posing itself that he is a great Crusader against the corruption but his acts are not showing like that. In a democracy post of the Prime Minister is supreme and man seated on the chair of prime minister if claiming to be honest and there may be rampant corruption in the government machinery then what can be expected and how anyone will believe that man seated on the chair is honest and the subordinates are indulge in the deep rooted corruption which means that if someone is claiming to be honest and seated on the chair of the Prime Minister then there will be honesty in the government machinery otherwise his claims are false and cannot be believed. Whether it is reflection of honesty that a student is wandering since 2015 in order to get the correction in the date of birth but still he could not succeed. There are several letters in which anti corruption ombudsman of the state is saying that you may provide the applications in accordance with setup Framework then I will take action against the corruption what is the setup, why anti-corruption ombudsman is not taking action when he has been appointed in order to remove the corruption from the society from the government machinery why is he silent on the issue of corruption on the flimsy ground by taking the recourse that concerned is not completing the formalities which is required to take action against the corruption what are formalities if there is corruption and corruption is taking place why is not taking action against corruption it means he is promoting the corruption in the name of procedural lacuna.

  4. अन्यथा सैकड़ो पत्र लिख कर जेनुइन कार्य भी नही होता है | पहले की सरकार यदि भ्रस्टाचार पर कार्यवाही नहीं करती थी तो चुप रहती थी किन्तु अब सीधे भ्रस्टाचारिओं को क्लीन चिट दी जाती है और वह स्थित को और भी भयावह बना रही है |
    यह सच है हमारे प्रधान मंत्री जी हमेशा भ्रष्टाचार का विरोध किये और करते रहेंगे किन्तु भ्रस्टाचार रुपी दानव घटने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है | अधिकारी अपने योग्यता का नाजायज फायदा उठा रहे है पढ़ा लिखा होने का फायदा उठायेगे ही |

Leave a Reply

%d bloggers like this: