क्या यह महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की तानाशाही रवैया और भ्रस्टाचार को नही दर्शाता

आवेदन का विवरण
 
शिकायत संख्या
40019717005776
आवेदक कर्ता का नाम:
Bajarangi Prasad
Mishra
आवेदक कर्ता का मोबाइल न०:
7388169368,7388169368
विषय:
Sir, Mrs Sunita Tripathi, principal of KBPG COLLEGE MIRZAPUR is
denied to talk and said that problem is concerned with the university so I
can do nothing and your help will be done by the clerk who deals university
Your applicant knows the certain applicants who filled up papers by writing
with hand but college didn’t make objection on it but when your applicant
opted for mathematics, they denied taking my application Whether it is
justifiable Honble Sir let you tell your applicant a solution by taking the
perusal of the attached documents and contents of grievance submitted by your
applicant With great respect to revered Sir, your applicant invites the kind
attention of the Hon’ble Sir to the following submissions as follows 1-It is
submitted before the Hon’ble Sir that there is no change in the status of
improvement application to your help desk Your applicant has submitted three
representations to help desk but it seems that they didn’t take the perusal
of contents of grievance 2-It is submitted before the Hon’ble Sir that it is
urgent need that correction option must be made available to students
otherwise because of little errors concerned are exploiting the students
which is not reflection of good administration but a mal-administration 3-It
is submitted before the Hon’ble Sir that following message is displaying on
the homepage of university website according to the Survey Conducted by INDIA
TODAY (28th June Issue), our University has been Ranked 13th All-India Level
Whether such problems being faced by students will not affect the rank of
university at all India level
श्री मान जी कृपया श्रेणी सुधार ऑनलाइन आवेदन का अवलोकन करे जिसमे गणित के स्थान पर भौतिक विज्ञानं गया है | श्री मान जी प्रार्थी गणित के प्रथम द्वितीय प्रश्न पत्र बहुत कम अंक पाया है इसलिए उसी में प्रार्थी आवेदन करना चाहता है और वह प्रार्थी के स्तर से इस समय संभव नही है| निस्संदेह प्रार्थी के भविष्य निर्माण में आपका सहयोग अपेक्षित है | श्री मान प्रार्थी का सहयोग करे जिसके लिए प्रार्थी सदैव श्री मान जी का आभारी रहेगा | आपका आज्ञाकारी बजरंगी प्रसाद मिश्र
नियत तिथि:
21 – Sep – 2017
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
प्राप्त अनुस्मारक
क्र..
अनुस्मारक
प्राप्त
दिनांक
1
 

श्री मान जी
प्रार्थी से निर्धारित शुल्क रूपये ५०० के स्थान पर रूपये ७०० श्रेणी सुधार शुल्क
के नाम पर वसूला गया और सुविधा के नाम पर यह तानाशाही है और ऐसी तानाशाही जो
प्रार्थी के भविष्य को बर्बाद करने पर तुली है प्रार्थी प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण
होने वाला छात्र है खुद प्रथम वर्ष में बिना श्रेणी सुधार के ६३ प्रतिशत है |

इस पत्र के साथ
प्रार्थी द्वारा कॉलेज में जमा यूनिवर्सिटी कॉपी व कॉलेज कॉपी तथा स्टूडेंट कॉपी
की स्कैन्ड प्रतिया है प्राचार्य द्वारा यूनिवर्सिटी को भेजे  पत्र का स्कैन्ड कॉपी लगी  है
| आप को सरकार तनख्वाह देती है हमारा भविष्य बनाने के लिए या तानाशाही रवैया
अपना कर चौपट करने के लिए
| अभी भी अपडेट के
नाम पर एरर मेसेज डिस्प्ले हो रहा है
| यह शायद आप भूल गये है की जिसके साथ अमानवीय अत्याचार होता है उसके साथ इश्वर
जरुर खड़े होते है और कभी यदि कोई जांच का आदेश कर दिया तो  सभी नपेगे
| हमारा भविष्य तो आप लोग बर्बाद करने पर ही तुले है और यह
अहंकार प्रभु का भोजन है
|क्या आप को नही
मालूम है की प्रार्थी दर्जनों पत्र लिख कर आप लोगो से क्या याचना कर रहा है
|कुलपति महोदय जिसके अन्दर मानवता होती है वे
किसी छात्र के भविष्य को अन्धकारमय नही बनाते है
| इमानदारी तो इसी बात में परिलक्षित होती है कुकुरमुत्ते की
तरह  ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज खुल
रहे है और शिक्षा का स्तर आसमान से जमीन पर पहुच गया है तथा परीक्षा में उपस्थित
छात्रो अनुपस्थित कर सौदेबाजी की जाती है
|श्री मान जी क्या महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ वाराणसी के कुलपति महोदय यह
बता सकते है की उनके स्टाफ ने क्या जांच किया क्योकि प्रार्थी द्वारा जमा
विश्वविद्यालय कॉपी
,कॉलेज कॉपी और
स्टूडेंट कॉपी सभी में भौतिक विज्ञानं काट कर गणित लिखा गया है और उसी में
प्रार्थी द्वारा हस्ताक्षर भी किया गया अर्थात प्रार्थी द्वारा गणित में प्रथम व
द्वितीय प्रश्न पत्र के लिए आवेदन श्रेणी सुधार वास्ते दिया गया
|

क्या
विश्वविद्यालय प्रशासन प्रार्थी के दर्जनों पत्रों के साथ प्राचार्य
405 –
K.B.P.G. COLLEGE, MIRZAPUR​
के पत्रों को भी
दरकिनार कर दिया
| क्या उप कुलपति
महोदय को हमारे इमानदार प्रधान मंत्री से थोडा भी भय नही लगता है यदि भय  है इतनी बड़ी आराजकता क्यों
|जनसुनवाई पोर्टल पर डाले गये आवेदनों को भी
महत्वहीन बना दिया गया
|भौतिक विज्ञानं
तो पहले से भरा था वह प्रार्थी द्वारा नही भरा गया
| प्रार्थी की गलती सिर्फ इतनी है की भौतिक विज्ञानं को बदल
कर गणित क्यों नही किया कितु साइंड कॉपी में हर जगह भौतिक विज्ञानं कट कर गणित भरा
गया है और उसके साथ प्रार्थी का सिगनेचर भी है अर्थात जो हाथ से भरा गया है वही
प्रार्थी का मूल आवेदन और ऑथेंटिक भी है
|

 

 
10 Sep 2017
फीडबैक :
 
फीडबैक की स्थिति:
 

आवेदन का संलग्नक

अग्रसारित विवरण

क्र..
सन्दर्भ का प्रकार
आदेश देने वाले अधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी को प्रेषित
आदेश
आख्या दिनांक
आख्या
नियत दिनांक
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन सन्दर्भ
22 – Aug – 2017
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी
 
 
लंबित
 
 

 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

क्या विश्वविद्यालय प्रशासन प्रार्थी के दर्जनों पत्रों के साथ प्राचार्य 405 – K.B.P.G. COLLEGE, MIRZAPUR​ के पत्रों को भी दरकिनार कर दिया | क्या उप कुलपति महोदय को हमारे इमानदार प्रधान मंत्री से थोडा भी भय नही लगता है यदि भय है इतनी बड़ी आराजकता क्यों |जनसुनवाई पोर्टल पर डाले गये आवेदनों को भी महत्वहीन बना दिया गया |भौतिक विज्ञानं तो पहले से भरा था वह प्रार्थी द्वारा नही भरा गया | प्रार्थी की गलती सिर्फ इतनी है की भौतिक विज्ञानं को बदल कर गणित क्यों नही किया कितु साइंड कॉपी में हर जगह भौतिक विज्ञानं कट कर गणित भरा गया है और उसके साथ प्रार्थी का सिगनेचर भी है अर्थात जो हाथ से भरा गया है वही प्रार्थी का मूल आवेदन और ऑथेंटिक भी है |

Preeti Singh
3 years ago

नियत तिथि: 21 – Sep – 2017
शिकायत की स्थिति: लम्बित
रिमाइंडर :
प्राप्त अनुस्मारक –
क्र.स. अनुस्मारक प्राप्त दिनांक
1 श्री मान जी प्रार्थी से निर्धारित शुल्क रूपये ५०० के स्थान पर रूपये ७०० श्रेणी सुधार शुल्क के नाम पर वसूला गया और सुविधा के नाम पर यह तानाशाही है और ऐसी तानाशाही जो प्रार्थी के भविष्य को बर्बाद करने पर तुली है प्रार्थी प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने वाला छात्र है खुद प्रथम वर्ष में बिना श्रेणी सुधार के ६३ प्रतिशत है | 10 Sep 2017
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन का संलग्नक
संलग्नक देखें
अग्रसारित विवरण-
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश आख्या दिनांक आख्या नियत दिनांक स्थिति आख्या रिपोर्ट
1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 22 – Aug – 2017 रजिस्ट्रार -महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी — लंबित