Anarchy in the Mahatma Gandhi Kashi Vidyapith University Varanasi. Game with the future of students

आवेदन
का विवरण
शिकायत
संख्या
40019918033881
आवेदक कर्ता का
नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ता का
मोबाइल न०:
7379105911,7379105911
विषय:
फीडबैक की स्थिति: अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव द्वारा दिनाक 31/10/2018
को प्राप्त आख्या अनुमोदित कर दी
गयी है
Answer already
given no any answer required.
श्री मान जी उपरोक्त जवाब महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ स्टाफ द्वारा दिया जा रहा है | उपरोक्त आंग्ल वाक्य का
हिन्दी रूपांतरण है जवाब पहले ही दिया जा चुका कोई और
जवाब शेष नही है
| श्री मान जी
अब इनका जवाब देखे अवगत कराना है
विश्वविद्यालय से
सम्बद्ध महाविद्यालयों के माध्यम से व्यक्तिगत परीक्षार्थियो परीक्षा आवेदन पत्र अग्रसारित कराया जाता है
शिकायतकर्ता इंटरमीडिएट में लिए गये विषयों के आधार पर स्नातक स्तर पर
विषयों का
चयन करता है | इंटरमीडिएट
स्तर पर
केवल इतिहास विषय के
रूप में एक ही
विषय का
चयन किया जा सकता है | उच्च शिक्षा में आवेदन करने के
पूर्व विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की गाइड लाइन के
अनुसार किसी भी पाठ्यक्रम या संस्था में प्रवेश लेने के
पूर्व इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करने की जिम्मेदारी परीक्षार्थी की
होगी | हस्ताक्षरित सहायक कुलसचिव / नोडल कोऑर्डिनेटर डा
राकेश मिश्र दिनांक ०१
फ़रवरी २०१८ आख्या संलग्न है | उपरोक्त द्वारा ०३जनवरी २०१८ को
प्रस्तुत आख्या अवगत कराना है
की विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित विषय पुंज के द्वारा कोई भी
परीक्षार्थी बी. . में इतिहास प्राचीन इतिहास और
मध्यकालीन और
आधुनिक इतिहास में से
कोई एक
विषय का
ही चयन कर सकता है | श्री मान जी अब
प्रार्थी का
जवाब देखे श्री मान जी
रागिनी पाण्डेय का महाविद्यालय द्वारा अग्रसारित विश्वविद्यालय द्वारा स्वीकृत परीक्षा फॉर्म प्रत्यावेदन के
साथ संलग्न है | रागिनी पाण्डेय को बी.एस. सी. प्रथम वर्ष में जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और
रसायन विज्ञान दिया गया है जब
की रागिनी पाण्डेय इंटरमीडिएट में गणित की छात्रा थी और
उन्होंने कभी भी इंटरमीडिएट जीव विज्ञान और वनस्पति विज्ञान में उत्तीर्ण नही की है
| बहुत हास्यास्पद है
की महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ में योग्य स्टाफ का इस
कदर अकाल पड गया है की
आंग्ल भाषा में लिखे प्रत्यावेदनो की
विषय वस्तु तक नही समझ पाते है| भगवान भरोसे विश्वविद्यालय चला रहे है |
नियत तिथि:
08 – Dec – 2018
शिकायत की स्थिति:
लम्बित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
फीडबैक की स्थिति:
आवेदन
का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ
का प्रकार
आदेश
देने वाले अधिकारी
आदेश
दिनांक
अधिकारी
को प्रेषित
आदेश
आख्या
दिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या
रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइन
सन्दर्भ
23 – Nov – 2018
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी
अनमार्क
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com>
माननीय मुख्य न्यायाधीश महोदय से सादर अनुरोध है की निरीह बच्चो से कुलपति और रजिस्ट्रार द्वारा अपरोक्ष वसूला गया करोडो रूपया वापस कराया जाय क्योकि यह मूल अधिकारों का हनन है |
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh <yogimpsingh@gmail.com> 23 November 2018 at 22:18
To: supremecourt <supremecourt@nic.in>, cmup <cmup@up.nic.in>, hgovup@up.nic.in, csup@up.nic.in, uphrclko <uphrclko@yahoo.co.in>, vcmgkvp@gmail.com, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, REGISTRAR MGKVP <registrar.mgkvp@gmail.com>

फीडबैक की स्थिति: अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव द्वारा दिनाक 31/10/2018 को प्राप्त आख्या अनुमोदित कर दी गयी है
Answer already   given no any answer required.
श्री मान जी उपरोक्त जवाब महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ स्टाफ द्वारा दिया जा रहा है |
उपरोक्त आंग्ल वाक्य का हिन्दी रूपांतरण है -जवाब पहले ही दिया जा चुका कोई और जवाब शेष नही है |
श्री मान जी अब इनका जवाब देखे –
अवगत कराना है विश्वविद्यालय से सम्बद्ध महाविद्यालयों के माध्यम से व्यक्तिगत परीक्षार्थियो परीक्षा आवेदन पत्र अग्रसारित कराया जाता है शिकायतकर्ता इंटरमीडिएट में लिए गये विषयों के आधार पर स्नातक स्तर पर विषयों का चयन करता है | इंटरमीडिएट स्तर पर केवल इतिहास विषय के रूप में एक ही विषय का चयन किया जा सकता है | उच्च शिक्षा में आवेदन करने के पूर्व विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की गाइड लाइन के अनुसार किसी भी पाठ्यक्रम या संस्था में प्रवेश लेने के पूर्व इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करने की जिम्मेदारी परीक्षार्थी की होगी | हस्ताक्षरित सहायक कुलसचिव / नोडल कोऑर्डिनेटर डा राकेश मिश्र दिनांक ०१ फ़रवरी २०१८ आख्या संलग्न है |
उपरोक्त द्वारा ०३-जनवरी २०१८ को प्रस्तुत आख्या -अवगत कराना है की विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित विषय पुंज के द्वारा कोई भी परीक्षार्थी बी. ए. में इतिहास प्राचीन इतिहास और मध्यकालीन और आधुनिक इतिहास में से कोई एक विषय का ही चयन कर सकता है |
श्री मान जी अब प्रार्थी का जवाब देखे -श्री मान जी रागिनी पाण्डेय का महाविद्यालय द्वारा अग्रसारित व विश्वविद्यालय द्वारा स्वीकृत परीक्षा फॉर्म प्रत्यावेदन के साथ संलग्न है |
रागिनी पाण्डेय को बी.एस. सी. प्रथम वर्ष में जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और रसायन विज्ञान दिया गया है जब की रागिनी पाण्डेय इंटरमीडिएट में गणित की छात्रा थी और उन्होंने कभी भी इंटरमीडिएट जीव विज्ञान और  वनस्पति विज्ञान में उत्तीर्ण नही की है |
बहुत हास्यास्पद है की महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ में योग्य स्टाफ का इस कदर अकाल पड गया है की आंग्ल भाषा में लिखे प्रत्यावेदनो की विषय वस्तु तक नही समझ पाते है| भगवान भरोसे विश्वविद्यालय चला रहे है |
आवेदन काविवरण
शिकायतसंख्या
40019718007543
आवेदक कर्ताका नाम:
Yogi M P Singh
आवेदक कर्ताका मोबाइलन०:
7379105911,7379105911
विषय:
Subject Here fundamental question is that whether the fee charged from the student
 belonging to weaker and downtrodden section was refunded with the claim of the 
students if not how does the stand of staffs of MGKVP University Varanasi proves
 justified How much ridiculous that University staffs keep themselves safe by
 throwing out its accountability on the affiliated college and vice versa In the case 
of Bajarangi Prasad Mishra Concerned college K B P G Mirzapur requested MGKVP 
University Varanasi to rectify the subject papers filled by mistake but University 
didn’t do so which implies that there is no role of the college as quite obvious from 
the attached communication of Principal KBPG Mirzapur addressed to Controller 
of examination MGKVP University Varanasi dated 26 08 2017 which consequent 
remained null as report was made available to applicant by jansunwai portal Most
 revered Sir –Your applicant invites the kind attention of Hon’ble Sir with due
 respect to following submissions as follows 1 It is submitted before the Hon’ble 
Sir that If the student gets admission in undergraduate classes on the ground of 
the subjects taken at the Intermediate level then how the students belonging to
 science stream at the intermediate level are studying in arts faculty at the graduate
 level as their choices are entirely different from the choices at the intermediate 
level There would be millions of such students in the university MGKVP Varanasi
 itself To whom assistant registrar is making stupid through his nonsense oxymoron
 note making entire report absurd and contradictory At this juncture when more 
than half century communications has been exchanged with the accountable public
 functionaries the assistant registrar is throwing out its own mud on the affiliated 
college on the flimsy ground by taking help of a false concocted fictitious story
2 It is submitted before the Hon’ble Sir that aggrieved student Kuldeep Kumar 
Chaudhary belongs to science stream especially Maths group and in general 
students belonging to this group can take admission in Arts Commerce and 
Science faculty which is quite obvious from age old practice going on3 It is
 submitted before the Hon’ble Sir that शिकायत संख्या 40019717013293 आवेदक 
कर्ता का नाम Yogi M P Singh मेंविश्वविद्यालय के स्टाफ यह रिपोर्ट प्रस्तुत किया की 
परीक्षार्थी को प्रक्रिया से अवगत कराया जा चुका हैकिन्तु परीक्षार्थी के हलफनामे के बाद यह
 सिद्ध हो चुका है की विश्वविद्यालय स्टाफ की विश्वसनीयता शून्यहै जो कुछ भी गड़बड़ी है 
वह विश्वविद्यालय प्रशासन की रहस्यमयी डीलिंग्स की वजह से है उसके लिएप्रार्थी कही से भी 
जिम्मेदार नही है इसलिए परीक्षार्थी जो की दलित वर्ग से है फीस वापस करे और क्षतिपूर्ति
 प्रदान करे | This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how
 can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy 
lawlessness and chaos in an arbitrary manner by making the mockery of law of 
land This is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer in order 
to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy
 and prosperous democracy For this your applicant shall ever pray you Hon’ble Sir 
Yours sincerely Yogi M P Singh Mobile number 7379105911 Mohalla Surekapuram 
Jabalpur Road District Mirzapur Uttar Pradesh Pin code 231001
नियत तिथि:
06 – Apr – 2018
शिकायत कीस्थिति:
निस्तारित
रिमाइंडर :
फीडबैक :
दिनांक 09/10/2018को फीडबैक:- श्री मान जी यदि कोई ऐसा लोकसेवक जो मेरे प्रत्यावेदनो 
पर कार्यवाहीकरने में सक्षम हो सिर्फ १५ मिनट मेरी बात सुने और इमानदारी से उस पर 
कार्यवाही करे प्रार्थी शुल्कवापसी के लिए कभी भी नही कहेगा अन्यथा इस आराजकता से 
मृत्यु पर्यन्त संघर्ष जारी रहेगा |गोरे तोचले गये काले अभी भी बाकी है श्री मान जी प्रार्थी को
 जिन विषयो में एडमिट कार्ड जारी किया गया उनमेएग्जाम की व्यवस्था क्यों नही की गई जब 
की प्रार्थी के द्वारा ५० से भी ज्यादा आवेदन प्रार्थना पत्र भेजे गयेश्री मान जी प्रार्थी को धोखा 
दिया गया और उसके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया क्यों की प्रार्थीदलित वर्ग का है |
बहुत आश्चर्य है की वर्ष भर तक प्रार्थी के किसी भी शिकायत का जवाब तक नही दियागया यह 
है भ्रस्टाचार का आलम श्री मान जी प्रार्थी कर्ज ले कर फीस जमा किया था किन्तु प्रार्थी अब 
वहफीस वापस चाहता है यदि लेशमात्र भी इमानदारी है तो प्रार्थी का कम से कम शुल्क तो 
वापस कर दीजिए |श्री मान जी एडमिट कार्ड जारी करने वाला महात्मा गाँधी कशी विद्यापीठ 
का वह स्टाफ क्यों दोषीनही है जिसने एक ऐसा फॉर्म स्वीकार किया जो यूनिवर्सिटी द्वारा तय 
मानदंडो को पूरा नही कर रहा था |महात्मा गाँधी कशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय का वेबसाइट 
वह फॉर्म और एंट्रीज़ और पूर्व फील्ड एंट्रीज़उपलब्ध कराया जो इसके मानक को पूरा नही कर 
रहा था |जो वेबसाइट पर उपलब्ध थे स्टूडेंट ने उन्ही काचुनाव किया था श्री मान जी भरा 
हुआ फॉर्म मानक के अनुसार नही था तो फीस क्यों स्वीकार की गई जोकी विद्यार्थी द्वारा दो दिन 
पश्चात जमा की गई थी |
फीडबैक कीस्थिति:
अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव द्वारा दिनाक 31/10/2018 को प्राप्त आख्या 
अनुमोदित कर दीगयी है
आवेदन का संलग्नक
अग्रसारित विवरण
क्र..
सन्दर्भ काप्रकार
आदेश देने वालेअधिकारी
आदेश दिनांक
अधिकारी कोप्रेषित
आदेश
आख्यादिनांक
आख्या
स्थिति
आख्या रिपोर्ट
1
अंतरित
ऑनलाइनसन्दर्भ
07 – Mar – 2018
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधीकाशी
विद्यापीठवाराणसी
02/07/2018
Answer already given by university. If you are not satisfied please contact to University with relevant document.
C-श्रेणीकरण
2
आख्या
अपर मुख्यसचिव/प्रमुखसचिव/
सचिव(उच्‍च शिक्षाविभाग)
25 – Oct – 2018
रजिस्ट्रार महात्मा गाँधीकाशी
विद्यापीठ,वाराणसी
कृपया प्रकरण कागंभीरता से पुनःपरीक्षण 
करनियमानुसारकार्यवाही करते हुए15 दिवस 
मेंआख्या उपलब्धकराए जाने कीअपेक्षा की
 गईहै Answer already given no any answer required
31/10/2018
Answer already given no any answer required
निस्तारित

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mahesh Pratap Singh Yogi M P Singh

Here fundamental question is that whether the fee charged from the student
belonging to weaker and downtrodden section was refunded with the claim of the
students if not how does the stand of staffs of MGKVP University Varanasi proves
justified How much ridiculous that University staffs keep themselves safe by
throwing out its accountability on the affiliated college and vice versa In the case
of Bajarangi Prasad Mishra Concerned college K B P G Mirzapur requested MGKVP
University Varanasi to rectify the subject papers filled by mistake but University
didn’t do so which implies that there is no role of the college as quite obvious from
the attached communication of Principal KBPG Mirzapur addressed to Controller
of examination MGKVP University Varanasi dated 26 08 2017 which consequent
remained null as report was made available to applicant by jansunwai portal

Preeti Singh
1 year ago

Why feedback is not being considered seriously by the concerned accountable quite obvious from their working style?
फीडबैक : दिनांक 25/11/2018को फीडबैक:- श्री मान जी कुलदीप कुमार चौधरी ने व्यक्तिगत परीक्षा २०१४ हेतु आवेदन नही किया था उन्होंने ब्यक्तिगत परीक्षा २०१७ हेतु आवेदन किया था जब यह संभव था की विश्विद्यालय अपने तय मानको के अनुसार वेबसाइट पर फीडबैक देता जो करने में महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ पूर्ण रूप से फ़ैल रहा |आपकी रिपोर्ट -Please find attachment for Private Students Nirdesh of University श्री मान जी आपके इस २०१४ के दिशा निर्देश से यह पूर्ण रूप से सिद्ध हो चुका है की आप ने व्यक्तिगत परीक्षा २०१७ का आयोजन करते समय कोई भी दिश निर्देश जारी नही किया और आपका एक सूत्री कार्यक्रम रहा की कितना ज्यादा से ज्यादा शुल्क विद्यार्थियों से वसूल अपनी जेबे भरी जाय | अन्यथा ३००० रुपये शुल्क और २०० रुपये अग्रसारण शुल्क के अलावा आप विद्यार्थिओं की परेशानी पर भी ध्यान देते | श्री मान जी कुलपति महोदय आप अपने दिशा निर्देश में हिटलर की तरह आदेश कर रहे है की किसी भी त्रुटी के लिए विद्यार्थी खुद जिम्मेदार होगा किन्तु जो त्रुटि आप के स्टाफ द्वारा किया गया उसके लिए भी विद्यार्थी ही जिम्मेदार है | श्री मान जी रागिनी पाण्डेय का परिक्षा फॉर्म में विषय जो की नियमित छात्रा है महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ की जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और रसायन विज्ञान भरा गया जो की छात्रा द्वारा नही भरा गया है महाविद्यालय द्वारा विश्वविद्यालय से अनुमति के पश्चात भरा गया है | जिसको बदलने की इजाजत छात्र या छात्रा को नही है | अब मेरा महान कुलपति को और उनके रजिस्ट्रार को चुनौती है की वे पूरे भारत वर्ष में ऐसे एक छात्र का नाम बताये जो इंटर गणित वर्ग का हो और उसे स्नातक स्तर पर जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और रसायन विज्ञान दिया गया हो | यह सच है की आप लोगो ने दलित छात्र कुलदीप कुमार चौधरी भविष्य चौपट कर दिया क्यों की जिन विषयों में वह परीक्षा दिया है उसमे वह उत्तीर्ण हुआ है | कहने के लिए लोकतंत्र है किन्तु यहा हिटलर और मुसोलिनी से भी बड़े तानाशाह है | हे ईश्वर आप ही न्याय करे |
फीडबैक की स्थिति: फीडबैक प्राप्त

Mahesh Pratap Singh Yogi M. P. Singh

Whether it is not reflection of rampant corruption in the system that accountable public functionaries of the government instead of taking solid and strong action against wrongdoers posted in the Mahatma Gandhi Kashi Vidyapith Varanasi. Most important thing is that Hundreds of representations have been submitted by the aggrieved but concerned did not take any action.