अब तो सत्यम शुक्ला खुद ही सुनवाई के लिए तैयार है राज्य सूचना आयोग के समक्ष निबंधक महोदय

अब तो सत्यम शुक्ला खुद ही सुनवाई के लिए तैयार है राज्य सूचना आयोग के समक्ष निबंधक महोदय|निबंधक महोदय आपने द्वितीय अपील को कई बार वापस करके इतना नाराज किये की विद्यार्थी में जोश आ गया | योगी एम्. पी. सिंह का उद्देश्य यही है अब हमारी वानप्रस्थ अवस्था है इस देश के भ्रस्टाचार से लड़ते लड़ते पूरी अवस्था गुजर गई किन्तु पूर्ण विश्वास है की अलख एक दिन अवश्य पूर्णता को प्राप्त होगा | और ये झूठे इमानदार जो इमानदारी का चोगा ओढ़ कर पूरे देश को ही चाट जाना चाहते उनसे जरुर ये नवयुवक इस मात्रि भूमि भारत भूमि को मुक्त करेंगे और वही हमे पूर्ण स्वराज की ओर ले जायेगा | अभी हमारे स्वराज को भ्रस्टाचार रुपी दानव ने जकड़ रखा है |

Booked At Booked On Destination Pincode Tariff Article Type Delivery Location
Ganesh Ganj SO Mirzapur 19/05/2020 15:06:48 226001 36.00 Registered Parcel Lucknow GPO

Event Details For : CU075904645IN
Current Status : Item Received
Date Time Office Event
21/05/2020 10:33:28 Lucknow PH Item Received
20/05/2020 14:51:57 Mail Agency Allahabad RMS Item Dispatched
20/05/2020 14:22:08 Mail Agency Allahabad RMS Item Received
20/05/2020 12:53:55 Allahabad PH Item Dispatched
20/05/2020 12:53:06 Allahabad PH Item Bagged
20/05/2020 11:32:32 Allahabad PH Item Received
19/05/2020 15:24:18 Ganesh Ganj SO Mirzapur Item Dispatched
19/05/2020 15:23:00 Ganesh Ganj SO Mirzapur Item Bagged
19/05/2020 15:06:48 Ganesh Ganj SO Mirzapur Item Booked

To

Chief Information Commissioner/

companion commissioners

U.P. Information Commission
7/7A, RTI Bhawan,
Vibhuti Khand, Gomti Nagar
Lucknow, Uttar Pradesh

Subject-Certain objections were raised which were rectified by the appellant now again your subordinate has searched new clinching objections to create a stumbling block to seek remedy from state information commission, the government of Uttar Pradesh.

A new objection of the research officer-जनसूचना आवेदन ६ (१) एवं १९ (१) पर आवेदक का नाम अलग अलग है |

हर आवेदन पर हस्ताक्षर सत्यम शुक्ला का है अर्थात अपीलार्थी का है किन्तु यहा जो फर्स्ट अपील अटैच्ड है उसको मैंने स्कैन पहले कर लिया गया था उसको डिस्पैच करते समय सत्यम शुक्ला ने अपेलार्थी के स्थान पर किया था | महोदय सत्यम शुक्ल ने अपील किया था यही पर्याप्त है यदि आप सूचना दिलाने में उत्सुक होते तो | श्री मान जी जो आपने अपील चेक किया है उसमे क्या सत्यम शुक्ला के स्थान पर योगी एम पी सिंह ने  हस्ताक्षर किया है अर्थात नही किया है | इसलिए आप का यह कहना की अपील का सिग्नेचर अन्य का है गलत है | हर पेज पर योगी एम. पी. सिंह के हस्ताक्षर इस लिए है क्यों की क्यों की सत्यम शुक्ल अर्थात प्रार्थी को जानकारी न होने की वजह से यह सत्यम शुक्ल की ओर से योगी एम. पी. तैयार किया है वही मेरे अधिकृत प्रतिनिधि है| जो की उपरोक्त कवरिंग नोट से जिस पर आपके कमीशन का मुहर लगा हुआ है स्पस्ट है | ऐसे में चाहे सत्यम शुक्ला हस्ताक्षर करे या योगी एम. पी. सिंह  करे  प्रोसीडिंगस में कोई प्रभाव नही पड़ना चाहिए |जहा आप को सूचना दिलवाना चाहिए था वही आप सूचना न दिलवाने में ज्यादा मनोयोग दिखा रहे है | क्या यही कार्यशैली जवाबदेही और पारदर्शिता संबर्धन करेगी | जनसूचना अधिकार के उद्देश्य प्राप्त करना तो बहुत कठिन है किन्तु यदि अपनी साख बचाए रखे तो ब्यवस्था आगे तो बढ़ेगी |

 

श्री मान जी मनमाना नियम बना कर सूचनाओं को न देना कहा की इमानदारी है इस समय उत्तर प्रदेश सरकार किसी को कोई सूचना दे ही नही रही है |

श्री मान जी यदि आप श्री योगी एम. पी सिंह को नही चाहते है तो आप हमे ही सूचना उपलब्ध कराये क्योकि उद्देश्य तो दोनों से पूरा होगा सूचना तो हमे ही प्राप्त होगी |

श्री मान जी इस अपील के साथ प्रार्थी अपना पैन कार्ड और आधार कार्ड भी भेज रहा जिससे फिर आप के अधीनस्थ कोई और कारण खोज के प्राथी को पुनः अपील न वापस करे |

अपीलार्थी

तारीख -१९/०५/२०२०                 सत्यम शुक्ला  पुत्र सच्चिदानंद शुक्ला

ग्राम –नौगाँव पोस्ट –नदिनी जिला –मिर्ज़ापुर , उत्तर प्रदेश

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
5 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Beerbhadra Singh
6 months ago

Where is the corruption in the government machinery is not relevant for the government offices in the Government of Uttar Pradesh here relevant question is that where is not corruption in the government offices in the state of Uttar Pradesh? Because of the corruption in the government offices, concerned public authorities do not provide information to the information seekers which is the root cause of the problem that Public Information officers are not providing information to the information seekers and later on public authorities collude with the staffs of the the state information commission Uttar Pradesh and both hatch conspiracy to deprive information seeker of the information.

Bhoomika Singh
6 months ago

Right to Information act 2005 was brought up by the government of India to promote transparency and accountability in the the office of the public authority and for this purpose, transparency ombudsman Central information commission and state information commissions were appointed. But it is unfortunate, because of rampant corruption in the government machinery this transparency ombudsman is not working properly in this largest democracy in the world.

Arun Pratap Singh
6 months ago

It is reflection of rampant corruption in the office of state information commission, Government of Uttar Pradesh where arbitrarily matters are dealt concerned with the second appeal. On paper policies and schemes are implemented for deprived section of the society but actually such assistance is reaching to those who are rich quite obvious from the post. Right to Information Act 2005 also remained failed to overcome corruption from the government machinery. To search honest public functionaries in our government is like wild goose chase.Second appeal of the aggrieved student Satyam Shukla was returned repeatedly by the registrar of the state information commission, Government of Uttar Pradesh.

Preeti Singh
6 months ago

ये झूठे इमानदार जो इमानदारी का चोगा ओढ़ कर पूरे देश को ही चाट जाना चाहते उनसे जरुर ये नवयुवक इस मात्रि भूमि भारत भूमि को मुक्त करेंगे और वही हमे पूर्ण स्वराज की ओर ले जायेगा | अभी हमारे स्वराज को भ्रस्टाचार रुपी दानव ने जकड़ रखा है |
One should have firm resolve to achieve a holy objective and Sir you have firm resolve and patience like Himalayas so your ideals achieve pinnacle of glory. Board of technical education, Lucknow did not provide the copy of answer sheets because they knew that disclosure of information expose them in public.